Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

लोकसभा चुनाव 2019


'लोकसभा चुनाव 2019' - more than 1000 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • राज्यसभा चुनाव से पहले शिवसेना में असंतोष, प्रियंका चतुर्वेदी की उम्मीदवारी का इस वरिष्ठ नेता ने किया विरोध...

    राज्यसभा चुनाव से पहले शिवसेना में असंतोष, प्रियंका चतुर्वेदी की उम्मीदवारी का इस वरिष्ठ नेता ने किया विरोध...

    चतुर्वेदी कांग्रेस छोड़ कर अप्रैल 2019 में शिवसेना में शामिल हुई थी. उस वक्त शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा था कि शिवसेना कार्यकर्ता को चतुर्वेदी के रूप में एक अच्छी बहन मिल गई है. शिवसेना नेता खैरे ने कहा कि वह दो दशक तक सांसद रहे हैं. चार बार सांसद रहे और पिछले लोकसभा चुनाव में औरंगाबाद सीट पर एआईएमआईएम के इम्तियाज जलील से पराजित हुए खैरे ने कहा, ‘‘राज्यसभा के लिए मेरी उम्मीदवारी मराठवाड़ा क्षेत्र की मांग थी और यदि मुझे उम्मीदवार बनाया जाता तो पार्टी को इस क्षेत्र में कहीं अधिक मजबूती मिलती.’’

  • BJP नेता व एक्ट्रेस जयाप्रदा के खिलाफ गैर जमानती वारंट, अगली सुनवाई 20 अप्रैल को

    BJP नेता व एक्ट्रेस जयाप्रदा के खिलाफ गैर जमानती वारंट, अगली सुनवाई 20 अप्रैल को

    दिग्गज अभिनेता और भाजपा नेता जयाप्रदा के खिलाफ रामपुर की एक अदालत ने 2019 के आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन मामले में गैर जमानती वारंट जारी किया है. इसकी अगली सुनवाई 20 अप्रैल को है. सुनवाई के दौरान जयाप्रदा गैर हाजिर रहने पर कोर्ट ने वारंट जारी किया. बताते चले कि लोकसभा चुनाव में रामपुर संसदीय सीट से बीजेपी की प्रत्याशी जयाप्रदा थीं. उसी दौरान उनपर आदर्श आचार संहिता का केस दर्ज हुआ था.

  • लोकसभा चुनाव में बुरी हार की याद के साथ ही कांग्रेस को उम्मीद भी दे गया साल 2019

    लोकसभा चुनाव में बुरी हार की याद के साथ ही कांग्रेस को उम्मीद भी दे गया साल 2019

    लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त और राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद 2019 के पहले छह महीने कांग्रेस के लिए बहुत ही मुश्किल भरे रहे, लेकिन साल के अंत में महाराष्ट्र और झारखंड में भाजपा की सरकार नहीं बनने से देश की सबसे पुरानी पार्टी के भीतर भविष्य में बेहतर करने की एक उम्मीद जगी है. इसी साल सोनिया गांधी ने पार्टी के अंतरिम अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभाली तो प्रियंका गांधी ने बतौर महासचिव अपनी सक्रिय राजनीति का आगाज किया.

  • Flashback 2019: बनते-बिगड़ते सियासी समीकरणों का साल, सत्ता के लिए मची रही उथल-पुथल

    Flashback 2019: बनते-बिगड़ते सियासी समीकरणों का साल, सत्ता के लिए मची रही उथल-पुथल

    2019 भारी राजनीतिक उथल-पुथल और बनते-बिगड़ते राजनीतिक समीकरणों के लिए याद किया जाएगा. इस साल PM के नेतृत्व में NDA ने लोकसभा चुनाव में अपार सफलता हासिल की, लेकिन इसके बाद राजनीतिक समीकरण बदल गए.

  • पुलवामा, ऑपरेशन बालाकोट, राष्ट्रवाद और लोकसभा चुनाव : अलविदा 2019

    पुलवामा, ऑपरेशन बालाकोट, राष्ट्रवाद और लोकसभा चुनाव : अलविदा 2019

    साल 2018 में बीजेपी लगातार कई उपचुनाव हार गई चुकी थी. राजस्थान की दो और उत्तर प्रदेश की गोरखपुर, फूलपुर जैसी सीटों के चुनाव परिणाम अगले साल यानी 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव बीजेपी के लिए खतरे के संकेत दे रहे थे.

  • अमित शाह 1.0 ही तय कर रहा है मोदी 2.0 का भाग्य

    अमित शाह 1.0 ही तय कर रहा है मोदी 2.0 का भाग्य

    झारखंड की 14 में से 12 लोकसभा सीटें जीत लेने के सिर्फ सात ही महीने बाद BJP को राज्य में बेहद ज़ोरदार झटका लगा है.

  • सिकुड़ता भगवा जनाधार, 1 साल के अंदर बीजेपी के हाथ से निकल गए 7 राज्य

    सिकुड़ता भगवा जनाधार, 1 साल के अंदर बीजेपी के हाथ से निकल गए 7 राज्य

    बीते साल दिसंबर से इस साल दिसंबर तक बीजेपी को 6 राज्यों के विधानसभा चुनाव में कामयाबी नहीं मिली है. हालांकि इस दौरान पार्टी ने लोकसभा चुनाव में 303 सीटें हासिल कर प्रचंड बहुमत के साथ सरकार बनाई है.

  • झारखंड में BJP की हार से क्यों खुश न हों नीतीश कुमार, आखिर वह सही साबित हुए

    झारखंड में BJP की हार से क्यों खुश न हों नीतीश कुमार, आखिर वह सही साबित हुए

    झारखंड में बीजेपी की सरकार चली गई और इस परिणाम से  बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी खुश हो सकते हैं और इसमें ख़ुश होने के कई कारण हैं. सबसे पहले नीतीश कुमार को अब इस बात का विश्वास हैं कि बीजेपी अपने सहयोगियों से ढंग से बर्ताव करेगी. नीतीश लोकसभा चुनाव के बाद उस घटनाक्रम को अभी तक नहीं भूले हैं जिसमें केंद्रीय मंत्रिमंडल में अनुपातिक प्रतिनिधित्व की मांग को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कैसे ठुकराया दिया था.

  • पीएम मोदी सरकार के छह महीने के कामकाज की करेंगे समीक्षा, इन मंत्रालयों पर रहेगी खासतौर पर नजर

    पीएम मोदी सरकार के छह महीने के कामकाज की करेंगे समीक्षा, इन मंत्रालयों पर रहेगी खासतौर पर नजर

    शनिवार को होने वाली बैठक का महत्व इसलिये भी है, क्योंकि इसमें राज्य मंत्रियों के साथ स्वतंत्र प्रभार वाले मंत्री भी हिस्सा ले रहे हैं. गौरतलब है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा नीत सरकार बड़े जनादेश के साथ सत्ता में आई और नवंबर में उसके छह महीने पूरे हुए हैं.

  • रानू मंडल के मेकअप से लेकर हेमा मालिनी के चुनावी स्टंट तक, देखें 2019 की Top 10 Viral Photos

    रानू मंडल के मेकअप से लेकर हेमा मालिनी के चुनावी स्टंट तक, देखें 2019 की Top 10 Viral Photos

    रानू मंडल के मेकअप वाली तस्वीर से लेकर हेमा मालिनी के लोकसभा चुनाव के दौरान फसल काटने वाली तस्वीर काफी वायरल हुई थी. इसके अलावा और भी बहुत सी तस्वीरें साल 2019 में काफी वायरल हुईं थी.

  • Google Trends 2019: गूगल में छाया लोकसभा चुनाव, चंद्रयान 2, कबीर सिंह और विश्‍व कप का जलवा, देखें पूरी लिस्‍ट

    Google Trends 2019: गूगल में छाया लोकसभा चुनाव, चंद्रयान 2, कबीर सिंह और विश्‍व कप का जलवा, देखें पूरी लिस्‍ट

    Google Search का इस्तेमाल दुनियाभर के लोग करते हैं. गूगल ने 2019 में सबसे ज्यादा सर्च किए गए टॉपिक्स की लिस्ट जारी कर दी है. भारत में इस साल सबसे ज्यादा क्रिकेट वर्ल्ड कप (Cricket World Cup) सर्च किया गया.

  • पीएम नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव जीतने पर किया था ऐसा ट्वीट, बना 2019 का 'गोल्डन ट्वीट'

    पीएम नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव जीतने पर किया था ऐसा ट्वीट, बना 2019 का 'गोल्डन ट्वीट'

    इस वर्ष आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) की शानदार सफलता को लेकर किया गया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ट्वीट 2019 का सबसे ज्यादा रिट्वीट और पसंद किया जाने वाला ट्वीट है, जो इसे भारत में 'गोल्डन ट्वीट' बनाता है.

  • अनाधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने के लिए पेश किया गया विधेयक ‘बहुत बड़ा धोखा’: AAP

    अनाधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने के लिए पेश किया गया विधेयक ‘बहुत बड़ा धोखा’: AAP

    उल्लेखनीय है कि दिल्ली की अनधिकृत कालोनियों में रहने वाले लोगों को सम्पत्ति का मालिकाना हक प्रदान करने के लिए कानूनी ढांचा प्रदान करने के मकसद से लाया गया एक विधेयक मंगलवार को लोकसभा में पेश किया गया. बता दें, आवास एवं शहरी विकास मंत्री मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने निचले सदन में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली (अप्राधिकृत कालोनी निवासी संपत्ति अधिकार मान्यता) विधेयक 2019 पेश किया.

  • मजबूत विपक्ष के सामने रघुवर दास के विकास कार्य - किसे मिलेगी सफलता?

    मजबूत विपक्ष के सामने रघुवर दास के विकास कार्य - किसे मिलेगी सफलता?

    लोकसभा चुनावों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके विकास कार्यो पर देश की जनता ने भरोसा जताया, जिसके कारण बीजेपी ने पहली बार 300 सीटों के आंकड़े को पार किया. लोकसभा के बाद हुए महाराष्ट्र और हरियाणा के चुनावों में बीजेपी को आसानी से अपनी जीत का भरोसा था, क्योंकि 4 महीने पहले ही हुए चुनावों में बीजेपी ने प्रचड जीत हासिल की थी, लेकिन विधानसभा चुनावों के आएं परिणामों ने भाजपा नेतृत्व को सोचने पर मजबूर कर दिया, क्योंकि इन चुनावों में ना तो विकास की बात पर जनता ने वोट दिया और ना ही धारा 370  के नाम पर वोट मिला.

  • झारखंड : नौकरशाह से नेता बने कांग्रेस के रामेश्वर उरांव राष्ट्रपति से पा चुके हैं पुलिस मेडल

    झारखंड : नौकरशाह से नेता बने कांग्रेस के रामेश्वर उरांव राष्ट्रपति से पा चुके हैं पुलिस मेडल

    झारखंड में नौकरशाह से नेता बने रामेश्वर उरांव कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष हैं. झारखंड में मौजूदा विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के प्रदर्शन का दारोमदार इस दिग्गज नेता के कंधों पर है. पिछले लोकसभा चुनाव में टिकट से वंचित रहे 72 वर्षीय रामेश्वर उरांव अब विधानसभा चुनाव में भाग्य आजमाएंगे. कांग्रेस ने इस बार उन्हें लोहरदगा विधानसभा क्षेत्र से चुनाव मैदान में उतारा है. यहां पर उनका मुकाबला बीजेपी के सुखदेव भगत और झारखंड विकास मोर्चा के पवन तिग्गा से है.

  • बाबूलाल मरांडी : सभी 81 सीटों पर अपना दम दिखा रहे हैं झारखंड के पहले मुख्यमंत्री

    बाबूलाल मरांडी : सभी 81 सीटों पर अपना दम दिखा रहे हैं झारखंड के पहले मुख्यमंत्री

    1999 के लोकसभा चुनाव में भी उन्होंने शिबू सोरेने की पत्नी रूपी सोरेन को दुमका लोकसभा सीट से चुनाव में हराया था जिसके बाद उन्हें केंद्र के अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में मंत्री बनाया गया था.  2000 में राज्य अलग होने के बाद 28 महीने तक बाबूलाव मरांडी राज्य के मुख्यमंत्री रहे. सहयोगी दलों के विरोध के बाद उन्हें अपने पद को छोड़ना पड़ा था.

  • लोकसभा चुनाव 2019 के परिणामों के आंकड़ों में गड़बड़ियां, मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंचा

    लोकसभा चुनाव 2019 के परिणामों के आंकड़ों में गड़बड़ियां, मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंचा

    लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) में इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (EVM) के इस्तेमाल का मामला फिर सुप्रीम कोर्ट में पहुंच गया है. एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल करके मांग की है कि चुनाव आयोग को निर्देश दिया जाए कि वह किसी भी चुनाव के अंतिम फैसले की घोषणा से पहले वोट डेटा का वास्तविक और सटीक सामंजस्य स्थापित करे. याचिकाकर्ता ने 2019 के लोकसभा चुनाव परिणामों से संबंधित आंकड़ों में सामने आईं ऐसी सभी गड़बड़ियों की जांच की भी मांग की है.

  • राफेल पर SC के फैसले के बाद स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी पर साधा निशाना, कहा- उम्मीद है कि अब...

    राफेल पर SC के फैसले के बाद स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी पर साधा निशाना, कहा- उम्मीद है कि अब...

    ईरानी ने ट्वीट कर कोर्ट के आए फैसले का हवाला देते हुए लिखा है."सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने एक बार फिर राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी व सरकार के दृढ़ संकल्प की पुष्टि की है.

Advertisement