NDTV Khabar

लोकसभा चुनाव 2019


'लोकसभा चुनाव 2019' - more than 1000 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • एलजेपी NDA में रहेगी या नहीं ये फैसला बीजेपी को करना है : नीतीश कुमार

    एलजेपी NDA में रहेगी या नहीं ये फैसला बीजेपी को करना है : नीतीश कुमार

    उपेंद्र कुशवाहा के सम्बंध में पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ननीतीश कुमार ने कहा की एनडीए में 2014 से जो बीजेपी के पार्टनर रहे हैं, उन पर फैसला भारतीय जनता पार्टी को करना है. नीतीश कुमार ने कहा है कि 2019 के लोकसभा चुनाव के पहले जो बीजेपी का साथ छोड़ कर चले गए और जो रह गए दोनों के ऊपर बीजेपी को ही फैसला करना है.

  • बिहार चुनाव: नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार के सामने तेजस्वी यादव की हैं ये पांच चुनौतियां

    बिहार चुनाव: नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार के सामने तेजस्वी यादव की हैं ये पांच चुनौतियां

    1980 के बाद यह पहला विधानसभा चुनाव होगा जब राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव शारीरिक तौर पर इसमें शामिल नहीं होंगे. यानी लोकसभा चुनाव 2019 की तरह ये विधान सभा चुनाव भी बगैर लालू के लड़ा जाएगा.

  • Bihar Election 2020: पूरब के 'लेनिनग्राद' में बदलते समीकरणों के बीच अब 'साख' दांव पर

    Bihar Election 2020: पूरब के 'लेनिनग्राद' में बदलते समीकरणों के बीच अब 'साख' दांव पर

    लोकसभा चुनाव 2019 में बिहार की बेगूसराय सीट पर पूरे देश की नजरें थीं. यहां से बीजेपी के फायर ब्रांड नेता और अपने बयानों के लिए मशहूर गिरिराज सिंह का मुकाबला वामपंथी राजनीति के इस समय पोस्टर ब्बॉय और सीपीआई के उम्मीदवार कन्हैया कुमार से था. लेकिन बाजी आखिरकार गिरिराज सिंह के ही हाथ लगी और कन्हैया कुमार को हार का सामना करना पड़ा. यह सीट अपने आप में कई ऐतिहासिक और राजनीतिक नामकरणों को लिए भी मशहूर है. बेगूसराय को पूरब का लेनिनग्राद भी कहा जाता है. 2019 के चुनाव से पहले ही कन्हैया के भाषण सोशल मीडिया पर खूब देखे जा रहे थे. बिहार की राजनीति में एक युवा नेता का उभार एक समय तो तेजस्वी यादव के लिए भी बड़ा खतरा बनते देखा गया. कहा तो यह भी जाता है कि कन्हैया कुमार को हराने के लिए ही आरजेडी ने तनवीर हसन को लोकसभा चुनाव में उतार दिया था. हालांकि आरजेडी का कहना था साल 2014 में तनवीर हसन सिर्फ 60 हजार वोटों से हारे थे इसलिए कार्यकर्ताओं के मनोबल के लिए उनको चुनाव में उतारा गया है. फिलहाल इस सच्चाई से नकारा नहीं जा सकता है कि इसका फायदा गिरिराज सिंह को ही मिला था. 

  • 2024 के चुनाव में शायद राहुल गांधी न करें कांग्रेस का नेतृत्व, पत्र लिखने वालों में से एक नेता ने कहा  

    2024 के चुनाव में शायद राहुल गांधी न करें कांग्रेस का नेतृत्व, पत्र लिखने वालों में से एक नेता ने कहा  

    नाम सार्वजनिक नहीं करने की शर्त पर कांग्रेस नेता ने कहा, "हम यह कहने की स्थिति में नहीं हैं कि राहुल गांधी पार्टी का नेतृत्व कर पाएंगे और 2024 में 400 सीटें हासिल करने में हमारी मदद करेंगे. हमें इस बात का एहसास होना चाहिए कि 2014 और 2019 के लोकसभा चुनावों में पार्टी को जरूरत की मुताबिक सीटें नहीं मिल पाई हैं." 

  • जम्मू-कश्मीर : पूरा हुआ पक्के घर का सपना, 12000 लोगों को मिली किश्त

    जम्मू-कश्मीर : पूरा हुआ पक्के घर का सपना,  12000 लोगों को मिली किश्त

    जम्मू-कश्मीर के रजौरी जिलो में 12000 लोगों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 50 हजार रुपये की पहली किश्त मिली है. इस राशि को उन्हें घर बनाने में इस्तेमाल करना है. रजौरी जिले के असिस्टेंट डेवलपमेंट कमिश्नर (ग्रामीण) एसके खजूरिया ने कहा है कि यह गरीबों के लिए बड़ी राहत है. इस राशि की मदद से वह पक्के मकान में सुरक्षित रह सकेंगे. गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार की 2022 तक सबको घर मुहैया कराने की योजना है. इस योजना का बीजेपी ने लोकसभा चुनाव 2019 के लोकसभा चुनाव में जमकर प्रचार किया था और मिली जीत में इस योजना का भी बड़ा हाथ मानती है.  

  • Rajya Sabha Election: जिन्हें जिताने के लिए राहुल गांधी ने किया था 27 मंदिरों में दर्शन, वही अब गुजरात में कांग्रेस छोड़ रहे हैं

    Rajya Sabha Election: जिन्हें जिताने के लिए राहुल गांधी ने किया था 27 मंदिरों में दर्शन, वही अब गुजरात में कांग्रेस छोड़ रहे हैं

    Gujarat Rajya Sabha Polls :  राज्यसभा चुनाव से पहले गुजरात में कांग्रेस को झटके पर झटका लगा रहा है इसी हफ्ते तीन विधायक पार्टी छोड़कर जा चुके हैं. राज्यसभा चुनाव के ऐलान के बाद से अब तक 5 विधायक पार्टी छोड़कर जा चुके हैं. वहीं  अब तक कुल 8 विधायक पार्टी छोड़कर जा चुके हैं. गुजरात कांग्रेस के लिए इसलिए भी अहम है जहां से पार्टी ने विधानसभा चुनाव में हार के बाद भी लोकसभा चुनाव 2019 जीतने का सपना देखना शुरू कर दिया था.दरअसल गुजरात विधानसभा चुनाव जिसमें राहुल गांधी पहली बार पीएम मोदी के सामने टक्कर देते दिखाई दे रहे थे.

  • महाराष्ट्र में होने जा रहे इस महत्वपूर्ण चुनाव के लिए बीजेपी की लिस्ट में नहीं है पंकजा मुंडे का नाम

    महाराष्ट्र में होने जा रहे इस महत्वपूर्ण चुनाव के लिए बीजेपी की लिस्ट में नहीं है पंकजा मुंडे का नाम

    महाराष्ट्र विधान परिषद के लिए 21 मई को होने वाले चुनाव के लिए बीजेपी उम्मीदवारों की सूची में महाराष्ट्र बीजेपी के वरिष्ठ नेता पंकजा मुंडे और एकनाथ खडसे का नाम नहीं है. 2019 लोकसभा चुनाव से ठीक पहले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी छोड़कर बीजेपी में आने वाले  रणजीत सिंह मोहिते का नाम उन चार लोगों में शामिल है जिन्हें बीजेपी का उम्मीदवार बनाया गया है. गौरतलब है कि पंकजा मुंडे पिछले साल अक्टूबर में हुए विधानसभा चुनाव में अपने भाई धनंजय मुंडे, जो कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के टिकट से चुनाव लड़े थे, से चुनाव हार गई थी. जिसके बाद से पंकजा ने अपनी ही पार्टी के भीतर और विशेषकर महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से किनारा किया हुआ है.

  • राज्यसभा चुनाव से पहले शिवसेना में असंतोष, प्रियंका चतुर्वेदी की उम्मीदवारी का इस वरिष्ठ नेता ने किया विरोध...

    राज्यसभा चुनाव से पहले शिवसेना में असंतोष, प्रियंका चतुर्वेदी की उम्मीदवारी का इस वरिष्ठ नेता ने किया विरोध...

    चतुर्वेदी कांग्रेस छोड़ कर अप्रैल 2019 में शिवसेना में शामिल हुई थी. उस वक्त शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा था कि शिवसेना कार्यकर्ता को चतुर्वेदी के रूप में एक अच्छी बहन मिल गई है. शिवसेना नेता खैरे ने कहा कि वह दो दशक तक सांसद रहे हैं. चार बार सांसद रहे और पिछले लोकसभा चुनाव में औरंगाबाद सीट पर एआईएमआईएम के इम्तियाज जलील से पराजित हुए खैरे ने कहा, ‘‘राज्यसभा के लिए मेरी उम्मीदवारी मराठवाड़ा क्षेत्र की मांग थी और यदि मुझे उम्मीदवार बनाया जाता तो पार्टी को इस क्षेत्र में कहीं अधिक मजबूती मिलती.’’

  • BJP नेता व एक्ट्रेस जयाप्रदा के खिलाफ गैर जमानती वारंट, अगली सुनवाई 20 अप्रैल को

    BJP नेता व एक्ट्रेस जयाप्रदा के खिलाफ गैर जमानती वारंट, अगली सुनवाई 20 अप्रैल को

    दिग्गज अभिनेता और भाजपा नेता जयाप्रदा के खिलाफ रामपुर की एक अदालत ने 2019 के आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन मामले में गैर जमानती वारंट जारी किया है. इसकी अगली सुनवाई 20 अप्रैल को है. सुनवाई के दौरान जयाप्रदा गैर हाजिर रहने पर कोर्ट ने वारंट जारी किया. बताते चले कि लोकसभा चुनाव में रामपुर संसदीय सीट से बीजेपी की प्रत्याशी जयाप्रदा थीं. उसी दौरान उनपर आदर्श आचार संहिता का केस दर्ज हुआ था.

  • लोकसभा चुनाव में बुरी हार की याद के साथ ही कांग्रेस को उम्मीद भी दे गया साल 2019

    लोकसभा चुनाव में बुरी हार की याद के साथ ही कांग्रेस को उम्मीद भी दे गया साल 2019

    लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त और राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद 2019 के पहले छह महीने कांग्रेस के लिए बहुत ही मुश्किल भरे रहे, लेकिन साल के अंत में महाराष्ट्र और झारखंड में भाजपा की सरकार नहीं बनने से देश की सबसे पुरानी पार्टी के भीतर भविष्य में बेहतर करने की एक उम्मीद जगी है. इसी साल सोनिया गांधी ने पार्टी के अंतरिम अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभाली तो प्रियंका गांधी ने बतौर महासचिव अपनी सक्रिय राजनीति का आगाज किया.

  • Flashback 2019: बनते-बिगड़ते सियासी समीकरणों का साल, सत्ता के लिए मची रही उथल-पुथल

    Flashback 2019: बनते-बिगड़ते सियासी समीकरणों का साल, सत्ता के लिए मची रही उथल-पुथल

    2019 भारी राजनीतिक उथल-पुथल और बनते-बिगड़ते राजनीतिक समीकरणों के लिए याद किया जाएगा. इस साल PM के नेतृत्व में NDA ने लोकसभा चुनाव में अपार सफलता हासिल की, लेकिन इसके बाद राजनीतिक समीकरण बदल गए.

  • पुलवामा, ऑपरेशन बालाकोट, राष्ट्रवाद और लोकसभा चुनाव : अलविदा 2019

    पुलवामा, ऑपरेशन बालाकोट, राष्ट्रवाद और लोकसभा चुनाव : अलविदा 2019

    साल 2018 में बीजेपी लगातार कई उपचुनाव हार गई चुकी थी. राजस्थान की दो और उत्तर प्रदेश की गोरखपुर, फूलपुर जैसी सीटों के चुनाव परिणाम अगले साल यानी 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव बीजेपी के लिए खतरे के संकेत दे रहे थे.

  • अमित शाह 1.0 ही तय कर रहा है मोदी 2.0 का भाग्य

    अमित शाह 1.0 ही तय कर रहा है मोदी 2.0 का भाग्य

    झारखंड की 14 में से 12 लोकसभा सीटें जीत लेने के सिर्फ सात ही महीने बाद BJP को राज्य में बेहद ज़ोरदार झटका लगा है.

  • सिकुड़ता भगवा जनाधार, 1 साल के अंदर बीजेपी के हाथ से निकल गए 7 राज्य

    सिकुड़ता भगवा जनाधार, 1 साल के अंदर बीजेपी के हाथ से निकल गए 7 राज्य

    बीते साल दिसंबर से इस साल दिसंबर तक बीजेपी को 6 राज्यों के विधानसभा चुनाव में कामयाबी नहीं मिली है. हालांकि इस दौरान पार्टी ने लोकसभा चुनाव में 303 सीटें हासिल कर प्रचंड बहुमत के साथ सरकार बनाई है.

  • झारखंड में BJP की हार से क्यों खुश न हों नीतीश कुमार, आखिर वह सही साबित हुए

    झारखंड में BJP की हार से क्यों खुश न हों नीतीश कुमार, आखिर वह सही साबित हुए

    झारखंड में बीजेपी की सरकार चली गई और इस परिणाम से  बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी खुश हो सकते हैं और इसमें ख़ुश होने के कई कारण हैं. सबसे पहले नीतीश कुमार को अब इस बात का विश्वास हैं कि बीजेपी अपने सहयोगियों से ढंग से बर्ताव करेगी. नीतीश लोकसभा चुनाव के बाद उस घटनाक्रम को अभी तक नहीं भूले हैं जिसमें केंद्रीय मंत्रिमंडल में अनुपातिक प्रतिनिधित्व की मांग को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कैसे ठुकराया दिया था.

  • पीएम मोदी सरकार के छह महीने के कामकाज की करेंगे समीक्षा, इन मंत्रालयों पर रहेगी खासतौर पर नजर

    पीएम मोदी सरकार के छह महीने के कामकाज की करेंगे समीक्षा, इन मंत्रालयों पर रहेगी खासतौर पर नजर

    शनिवार को होने वाली बैठक का महत्व इसलिये भी है, क्योंकि इसमें राज्य मंत्रियों के साथ स्वतंत्र प्रभार वाले मंत्री भी हिस्सा ले रहे हैं. गौरतलब है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा नीत सरकार बड़े जनादेश के साथ सत्ता में आई और नवंबर में उसके छह महीने पूरे हुए हैं.

  • रानू मंडल के मेकअप से लेकर हेमा मालिनी के चुनावी स्टंट तक, देखें 2019 की Top 10 Viral Photos

    रानू मंडल के मेकअप से लेकर हेमा मालिनी के चुनावी स्टंट तक, देखें 2019 की Top 10 Viral Photos

    रानू मंडल के मेकअप वाली तस्वीर से लेकर हेमा मालिनी के लोकसभा चुनाव के दौरान फसल काटने वाली तस्वीर काफी वायरल हुई थी. इसके अलावा और भी बहुत सी तस्वीरें साल 2019 में काफी वायरल हुईं थी.

  • Google Trends 2019: गूगल में छाया लोकसभा चुनाव, चंद्रयान 2, कबीर सिंह और विश्‍व कप का जलवा, देखें पूरी लिस्‍ट

    Google Trends 2019: गूगल में छाया लोकसभा चुनाव, चंद्रयान 2, कबीर सिंह और विश्‍व कप का जलवा, देखें पूरी लिस्‍ट

    Google Search का इस्तेमाल दुनियाभर के लोग करते हैं. गूगल ने 2019 में सबसे ज्यादा सर्च किए गए टॉपिक्स की लिस्ट जारी कर दी है. भारत में इस साल सबसे ज्यादा क्रिकेट वर्ल्ड कप (Cricket World Cup) सर्च किया गया.

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com