NDTV Khabar

विकास दर


'विकास दर' - 447 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • वित्त वर्ष 2020-21 में GDP में 7.7% की गिरावट का अनुमान, पिछले वर्ष 4.2% रही थी वृद्धि दर: सरकारी आंकड़े

    वित्त वर्ष 2020-21 में GDP में 7.7% की गिरावट का अनुमान, पिछले वर्ष 4.2% रही थी वृद्धि दर: सरकारी आंकड़े

    चालू वित्त वर्ष 2020-21 में समग्र विकास दर (GDP) में 7.7 प्रतिशत की गिरावट आने का अनुमान है. इससे पिछले वित्त वर्ष 2019-20 में आर्थिक वृद्धि दर 4.2 प्रतिशत दर्ज की गई थी. सरकारी आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है.

  • जम्मू-कश्मीर के कठुआ में आत्मनिर्भर बनने के लिए ‘फुलकारी’ कढ़ाई सीख रहीं महिलाएं

    जम्मू-कश्मीर के कठुआ में आत्मनिर्भर बनने के लिए ‘फुलकारी’ कढ़ाई सीख रहीं महिलाएं

    जम्मू कश्मीर के कठुआ में महिलाएं सरकारी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (ITI) द्वारा किए जा रहे कौशल विकास प्रशिक्षण के तहत ‘फुलकारी’ की कढ़ाई और सिलाई का काम सीख आत्मनिर्भर बन रही हैं. यहां दाखिला लेने वाले लोगों को मुफ्त प्रशिक्षण और प्रशिक्षण अवधि के दौरान 2000 रुपये मासिक की दर से वजीफा प्रदान किया जाता है.

  • GDP में 7.5 फीसदी की गिरावट, अर्थव्यवस्था में सुधार, लेकिन देश तकनीकी मंदी की चपेट में

    GDP में 7.5 फीसदी की गिरावट, अर्थव्यवस्था में सुधार, लेकिन देश तकनीकी मंदी की चपेट में

    GDP Quarter Results :अर्थव्यवस्था में थोड़े सुधार के बावजूद पूरे वित्तीय वर्ष में आर्थिक विकास दर -8.7 फीसदी (GDP Growth Rate) रहने का अनुमान है, जो चार दशकों से ज्यादा के वक्त में सबसे बुरा आर्थिक प्रदर्शन होगा.

  • मोदी सरकार का रिपोर्ट कार्ड : देश कोरोना से मौत में आगे, विकास दर में पीछे: राहुल गांधी

    मोदी सरकार का रिपोर्ट कार्ड : देश कोरोना से मौत में आगे, विकास दर में पीछे: राहुल गांधी

    कांग्रेस नेता ने जो आंकड़े साझा किए उसके मुताबिक, चीन, बांग्लादेश, इंडोनेशिया, पाकिस्तान और कई अन्य एशियाई देशों के मुकाबले भारत में कोरोना वायरस के कारण प्रति 10 लाख आबादी पर मरने वालों की संख्या ज्यादा है. इन आंकड़ों में यह भी दर्शाया गया है कि जीडीपी वृद्धि दर के मामले में भारत इन देशों से पीछे है.

  • मंदी की चेतावनी के बाद सरकार ने अर्थव्‍यवस्‍था में सुधार के लिए उठाए कदम, 10 बातें..

    मंदी की चेतावनी के बाद सरकार ने अर्थव्‍यवस्‍था में सुधार के लिए उठाए कदम, 10 बातें..

    सरकार ने गुरुवार को मैन्‍युफेक्‍चरिंग सेक्‍टर को बेहतर करने और रोजगार के निर्माण के लिए नए उपायों की घोषणा की है. रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) की ओर से एक और तिमाही में मंदी का अनुमान लगाए जाने के बाद सरकार की ओर से यह कदम उठाए गए हैं. कोरोना महामारी के कारण देश की इकोनॉमी को बड़ा झटका लगा है और अप्रैल से जून की तिमाही में विकास दर में 23.9 फीसदी तक गिरावट आई है.

  • देश में पहली बार मंदी की मार, मोदी ने देश की ताकत को कमजोरी में बदल दिया :राहुल गांधी

    देश में पहली बार मंदी की मार, मोदी ने देश की ताकत को कमजोरी में बदल दिया :राहुल गांधी

    RBI के अनुमानों के मुताबिक, वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में आर्थिक विकास दर (GDP Growth) नकारात्मक रही है. जीडीपी दर दूसरी तिमाही में -8.6% सिकुड़ गई है

  • आंकड़ों की अनदेखी मत करिए: चीन के GDP के डेटा में सुधार लेकिन भारत के लिए 'खतरे की घंटी'..

    आंकड़ों की अनदेखी मत करिए: चीन के GDP के डेटा में सुधार लेकिन भारत के लिए 'खतरे की घंटी'..

    केंद्रीय वित्‍त मंत्रालय के पूर्व मुख्‍य आर्थिक सलाहकार कौशिक बसु सरकार के लिए चेतावनी जारी करते हुए कहते हैं, 'कुछ साल पहले किसी ने यह नहीं सोचा था कि भारत की अर्थव्‍यवस्‍था ऐसी अवस्‍था में होगी. इसके एक हिस्‍सा कोविड-19 के कारण है लेकिन केवल एक हिस्‍सा. आंकड़ों को अनदेखी मत कीजिए. गलतियां होती है, इसे स्‍वीकार करते हुए सुधारात्‍मक उपाय करिए. देश में मौजूद प्रतिभा और विशेषज्ञता का इस्‍तेमाल कीजिए. '

  • चीन की विकास दर तीसरी तिमाही में 4.9% रही, महामारी के पहले का स्तर छूने के करीब

    चीन की विकास दर तीसरी तिमाही में 4.9% रही, महामारी के पहले का स्तर छूने के करीब

    China GDP Growth Rate : चीन के नेशनल ब्यूरो ऑफ स्टैटिस्टिक्स का कहना है कि जुलाई-सितंबर तिमाही की विकास दर 4.9 फीसदी रही है, जो अनुमान से थोड़ा कम है.

  • Jio ने बनाया रिकॉर्ड, 40 करोड़ ग्राहक जोड़ने वाली देश की पहली टेलीकॉम कंपनी बनी

    Jio ने बनाया रिकॉर्ड, 40 करोड़ ग्राहक जोड़ने वाली देश की पहली टेलीकॉम कंपनी बनी

    भारत में कुल वायरलेस सब्सक्राइबर्स की संख्या जून में 114 करोड़ थी, जो कि जुलाई के अंत तक बढ़कर 114.4 करोड़ हो गई है, इस लिहाज़ से मासिक विकास दर 0.30 प्रतिशत दर्ज की गई है।

  • RBI गवर्नर का अनुमान, जीडीपी में 9.5 प्रतिशत की गिरावट आने की आशंका

    RBI गवर्नर का अनुमान, जीडीपी में 9.5 प्रतिशत की गिरावट आने की आशंका

    भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) कोरोना (Coronavirus) के असर से धीरे-धीरे उबर रही है और चौथी तिमाही आते-आते आर्थिक विकास दर निगेटिव से पॉजिटिव हो सकती है. आरबीआई (RBI) गवर्नर ने शुक्रवार को पहली बार ये दावा किया. कोरोना के कहर का अर्थव्यवस्था पर इस साल कितना असर पड़ेगा? इस अहम सवाल पर आरबीआई गवर्नर ने शुक्रवार को पहली बार देश के सामने अपना आकलन रखा. मॉनीटरी पालिसी समिति के फैसलों का ऐलान करते हुए उन्होंने कहा कि 2020-21 में जीडीपी (GDSP) विकास दर (Growth Rate)  -9.5% रहने का अनुमान है.

  • कांग्रेस का सरकार पर वार - हर रोज़ 38 बेरोज़गार, 116 किसान खुदकुशी कर रहे, PM सो कैसे पाते हैं...?

    कांग्रेस का सरकार पर वार - हर रोज़ 38 बेरोज़गार, 116 किसान खुदकुशी कर रहे, PM सो कैसे पाते हैं...?

    कांग्रेस नेता ने कहा कि कोरोनो के हालात दिन प्रतिदिन बिगड़ते जा रहे हैं. अस्पताल के बेड खत्म हो चुके हैं.  कृषि केन्द्रों पर मरीजों को भर्ती किया जा रहा है जहां कोई डाक्टर और इलाज नहीं. लगता है मोदी सरकार ने कोरोना मरीजों को आत्मनिर्भर छोड़ दिया है.

  • कांग्रेस ने कहा- RBI ने माना कि 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज से अर्थव्यवस्था को कोई फायदा नहीं हुआ

    कांग्रेस ने कहा- RBI ने माना कि 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज से अर्थव्यवस्था को कोई फायदा नहीं हुआ

    कांग्रेस ने भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जीडीपी विकास दर के नकारात्मक रहने की आशंका जताने के बाद बृहस्पतिवार को दावा किया कि देश के केंद्रीय बैंक ने भी मान लिया कि 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज से अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने में कोई फयदा नहीं हुआ.

  • कोविड-19 महामारी के कारण आर्थिक हालात सुधरने में अभी लगेगा लंबा समय

    कोविड-19 महामारी के कारण आर्थिक हालात सुधरने में अभी लगेगा लंबा समय

    वित्‍तीय वर्ष 2020-21 में जीडीपी की विकास दर भी नेगेटिव रहने का अनुमान है. "आरबीआई गवर्नर ने आगाह किया कि देश मेँ बढ़ते कोरोना के मामलों का असर अर्थव्यवस्था में सुधारों की रफ़्तार पर भी पड़ रहा है. कोविड-19 महामारी की वजह से हालत सुधरने मेँ अभी लंबा वक्त लग सकता है. 

  • 2020 में भारत की अर्थव्यवस्था में 4.5 फीसदी की 'ऐतिहासिक' गिरावट देखी जाएगी : IMF

    2020 में भारत की अर्थव्यवस्था में 4.5 फीसदी की 'ऐतिहासिक' गिरावट देखी जाएगी : IMF

    अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने बुधवार को इस साल भारतीय अर्थव्यवस्था में 4.5 फीसदी तक की गिरावट आने का अनुमान जताया है. जो कि अपने आप में एक ऐतिहासिक गिरावट हो सकती है. कोरोना के चलते ठप्प पड़ी सभी आर्थिक गतिविधियों के मद्देनजर यह अनुमान लगाया गया है. हालांकि संगठन का कहना है कि 2021 में भारत की अर्थव्यवस्था वापसी करेगी और 6 फीसदी की विकास दर दर्ज की जाएगी.

  • भारतीय अर्थव्यवस्था के 2020-21 में चार प्रतिशत संकुचित होने का अनुमान : ADB

    भारतीय अर्थव्यवस्था के 2020-21 में चार प्रतिशत संकुचित होने का अनुमान : ADB

    ‘विकासशील एशिया’ से आशय ADB के 40 से अधिक सदस्य देशों के समूह से है. रपट में कहा गया है कि हांगकांग, कोरिया गणराज्य, सिंगापुर और ताइपेई जैसी नई औद्योगिक अर्थव्यवस्था को छोड़कर ‘विकासशील एशिया’ के चालू वर्ष में 0.4 प्रतिशत की दर से और 2021 में 6.6 प्रतिशत की दर से वृद्धि करने का अनुमान है.

  • 11 साल के निचले स्तर पर पहुंची भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर, 2019-20 में GDP दर 4.2% हुई

    11 साल के निचले स्तर पर पहुंची भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर, 2019-20 में GDP दर 4.2% हुई

    कोरोनावायरस महामारी और इसके चलते लगाए गए लॉकडाउन का असर भारतीय अर्थव्यवस्था पर साफ दिख रहा है. सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार जनवरी-मार्च तिमाही में देश की विकास दर यान सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की दर गिरकर 3.1 फीसदी हो गई है.

  • World Thyroid Day 2020: क्या देर तक काम करने से हो सकता है Hypothyroidism?

    World Thyroid Day 2020: क्या देर तक काम करने से हो सकता है Hypothyroidism?

    World Thyoid Day 2020: लंबे समय तक काम करना, बावजूद काम करने वालों सामाजिक आर्थिक स्थिति या लिंग के, लोगों को अंडरएक्टिव थायरॉयड ग्रंथि के लक्षणों के विकास का खतरा होता है. यह देखा गया कि जो लोग सप्ताह में 53-83 घंटे काम करते थे, वे सप्ताह में 36-42 घंटे काम करने वालों की तुलना में दोगुनी दर से हाइपोथायरायडिज्म विकसित करते थे.

  • Lockdown 3.0: रेड जोन में तमाम प्रतिबंधों के बावजूद इन चीजों की होगी इजाजत...

    Lockdown 3.0: रेड जोन में तमाम प्रतिबंधों के बावजूद इन चीजों की होगी इजाजत...

    Coronavirus lockdown Updates: भारत में कोरोना वायरस संक्रमण को काबू करने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन की अवधि बढ़ाकर 17 मई तक कर दी गई है और इस दौरान आम लोगों के लिए हवाई यात्रा, ट्रेनों और अंतरराज्यीय बस यात्राओं पर पूरी तरह प्रतिबंध रहेगा. इसके अलावा, इस अवधि में शैक्षणिक संस्थान, थियेटर, मॉल, होटल और बार भी बंद रहेंगे. सरकार ने शुक्रवार को इस संबंध में घोषणा की. हालांकि इस अवधि में उन क्षेत्रों के भीतर लोगों की आवाजाही और विभिन्न व्यापारिक गतिविधियों के लिए कुछ छूट दी गई है जहां कोविड-19 के सीमित मामले या कोई मामला नहीं है. बंद का प्रथम चरण 25 मार्च से 14 अप्रैल तक था, जिसे बाद में बढ़ा कर (15 अप्रैल से) तीन मई तक (दूसरा चरण) किया गया था. बंद को दो और सप्ताह के लिए बढ़ाने का फैसला ऐसे समय में लिया गया है, जब विभिन्न राज्यों में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं. देशभर में 35,000 से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं जिनमें से 1,100 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. हालांकि कुछ विशेषज्ञों ने चेताया है कि यह बंद देश की अर्थव्यस्था पर बहुत बुरा असर डाल रहा है. कई रेटिंग एजेंसियों ने मौजूदा वित्त वर्ष में देश की आर्थिक विकास दर में तेज गिरावट का अंदेशा जताया है. लॉकडाउन के तीसरे चरण में भी पहले की तरह रेड जोन इलाकों में प्रतिबंध जारी रहेंगे लेकिन इस बार रेड जोन में भी कुछ चीजों की इजाजत शर्तों के साथ दी गई है.

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com