NDTV Khabar

श्रीहरिकोटा


'श्रीहरिकोटा' - 92 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • 22 जुलाई का इतिहास : चंद्रयान-2 आज ही के दिन हुआ था लॉन्च, वैज्ञानिकों के लिए है खास दिन

    22 जुलाई का इतिहास : चंद्रयान-2 आज ही के दिन हुआ था लॉन्च, वैज्ञानिकों के लिए है खास दिन

    अंतरिक्ष की गहराइयों और चांद-तारों की चाल पर नजर रखने वालों के लिए पिछले वर्ष 22 जुलाई दिन इतिहास में एक बड़ी घटना के साथ दर्ज है. दरअसल 2019 को आज ही के दिन चंद्रमा के अनछुए पहलुओं का पता लगाने के लिए चंद्रयान-2 को श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (एसडीएससी) से शान के साथ रवाना किया गया. इसे ‘बाहुबली’ नाम के सबसे ताकतवर और विशाल राकेट जीएसएलवी-मार्क ।।। के जरिए प्रक्षेपित किया गया. इसे देश के अंतरिक्ष इतिहास की एक बड़ी उपलब्धि के तौर पर देखा गया.

  • ISRO ने भारत के ‘कार्टोसैट-3’ और अमेरिका के 13 अन्य छोटे उपग्रहों को किया लॉन्च

    ISRO ने भारत के ‘कार्टोसैट-3’ और अमेरिका के 13 अन्य छोटे उपग्रहों को किया लॉन्च

    ISRO Launch Today: यह कार्टोसैट श्रृंखला का नौवां उपग्रह है जिसे यहां से 120 किलोमीटर दूर श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के द्वितीय लांच पैड से प्रक्षेपित किया गया.

  • NEWS FLASH: सुबह 9 बजकर 28 मिनट पर उड़ान भरेगा PSLV-C47

    NEWS FLASH: सुबह 9 बजकर 28 मिनट पर उड़ान भरेगा PSLV-C47

    देश-दुनिया की राजनीति, खेल एवं मनोरंजन जगत से जुड़े समाचार इसी एक पेज पर जानें...

  • Chandrayaan 2: अंतरिक्ष में भारत की लंबी छलांग पर कुमार विश्वास ने किया ट्वीट, कहा- विजय का रथ सुपथ पर बढ़ रहा है...

    Chandrayaan 2: अंतरिक्ष में भारत की लंबी छलांग पर कुमार विश्वास ने किया ट्वीट, कहा- विजय का रथ सुपथ पर बढ़ रहा है...

    चंद्रयान-2 मंगलवार सुबह चंद्रमा की कक्षा में स्थापित हो गया. चंद्रयान-2 (Chandrayaan 2) आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित प्रक्षेपण केंद्र से 22 जुलाई को प्रक्षेपित किया गया था. यदि यह अभियान सफल रहा तो रूस, अमेरिका और चीन के बाद भारत चंद्रमा की सतह पर रोवर पहुंचाने वाला चौथा देश बन जाएगा. लगभग 30 दिनों की यात्रा के बाद चंद्रयान 2 चांद की कक्षा में स्थापित हुआ है. 

  • भारत के सपनों को पंख लगाते हुए चंद्रमा की ओर बढ़ रहा है 'चंद्रयान-2'

    भारत के सपनों को पंख लगाते हुए चंद्रमा की ओर बढ़ रहा है 'चंद्रयान-2'

    अंतरिक्ष एजेंसी ने बताया है कि उसने भारतीय समयानुसार बुधवार तड़के दो बजकर 21 मिनट पर अभियान प्रक्रिया 'ट्रांस लूनर इंसर्शन' (टीएलआई) को अंजाम दिया. इसके बाद चंद्रयान-2 सफलतापूर्वक 'लूनर ट्रांसफर ट्राजेक्टरी' में प्रवेश कर गया. चंद्रयान-2 के 20 अगस्त को चंद्रमा की कक्षा में पहुंचने और सात सितंबर को इसके चंद्र सतह पर उतरने की उम्मीद है. 

  • PM मोदी ने 'मन की बात' में चंद्रयान-2 और जल संरक्षण पर की बात, 10 बड़ी बातें

    PM मोदी ने 'मन की बात' में चंद्रयान-2 और जल संरक्षण पर की बात, 10 बड़ी बातें

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल की दूसरी 'मन की बात' रविवार को की. पीएम मोदी ने मन की बात कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि त्योहारों पर लगने वाले मेलों के जरिए जल संरक्षण के प्रति जागरुकता फैलाई जाए. प्रधानमंत्री मोदी ने मॉस्को में आयोजित ‘वर्ल्ड चिल्ड्रंस विनर्स गेम्स’ में पदक जीतने वाले भारतीयों को दी बधाई. साथ ही प्रधानमंत्री ने चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) के सफल प्रक्षेपण का जिक्र करते हुए स्कूली छात्रों के लिए क्विज प्रतियोगिता आयोजित किए जाने की घोषणा की जिसके विजेता को सात सितंबर को श्रीहरिकोटा में चंद्रयान 2 की लैंडिंग के क्षण का साक्षी बनने का मौका मिलेगा. पीएम ने इसके साथ ही कहा, आप सबको यह जानकर भी बहुत खुशी होगी की उत्तर पूर्व का खूबसूरत राज्य मेघालय देश का पहला ऐसा राज्य बना गया है, जिसने अपनी जल नीति तैयार की है. मैं वहां की सरकार को बधाई देता हूं.

  • चंद्रयान-2 के सफल प्रक्षेपण के बाद बोले ISRO प्रमुख- चंद्रमा की ओर भारत की ऐतिहासिक यात्रा की यह शुरुआत

    चंद्रयान-2 के सफल प्रक्षेपण के बाद बोले ISRO प्रमुख- चंद्रमा की ओर भारत की ऐतिहासिक यात्रा की यह शुरुआत

    चंद्रयान-2 (Chandrayaan 2) का सोमवार को श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से सफलता पूर्वक प्रक्षेपण किया गया. चंद्रयान-2 के प्रक्षेपण के बाद इसरो (ISRO) प्रमुख के. सिवन (K Sivan) ने मिशन के सफल होने की घोषणा की और 15 जुलाई को आई तकनीकी खामी को लेकर कहा कि हम फिर से अपने रास्ते पर आ गए. उन्होंने कहा कि यह चंद्रमा की ओर भारत की ऐतिहासिक यात्रा की शुरुआत है.

  • Chandrayaan-2 Launch: चंद्रयान-2 हुआ लांच, सोशल मीडिया पर कुछ यूं आया रिएक्शन

    Chandrayaan-2 Launch: चंद्रयान-2 हुआ लांच, सोशल मीडिया पर कुछ यूं आया रिएक्शन

    Chandrayaan-2 Launch: चांद पर भारत के दूसरे मिशन चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) को आज श्रीहरिकोटा से सबसे शक्तिशाली रॉकेट जीएसएलवी-मार्क III-एम1 (GSLV Mark III-M1) के जरिए लांच किया गया. भारत ने एक बार फिर इतिहास रच दिया है. 

  • चंद्रयान 2 से क्या मिलेगा भारत को, क्या होंगे तीन सबसे बड़े फायदे...

    चंद्रयान 2 से क्या मिलेगा भारत को, क्या होंगे तीन सबसे बड़े फायदे...

    पृथ्वी के एकमात्र प्राकृतिक उपग्रह चंद्रमा, यानी चांद पर भारत अपना दूसरा महत्वाकांक्षी मिशन 'चंद्रयान-2' आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में अपने सबसे शक्तिशाली रॉकेट लॉन्चर - GSLV Mk III - के ज़रिये प्रक्षेपित कर दिया गया है. 'चंद्रयान-2' चांद पर पानी की मौजूदगी तलाशने के अलावा भविष्य में यहां मनुष्य के रहने की संभावना भी तलाशेगा.

  • ISRO आज दोपहर लॉन्च करेगा चंद्रयान-2, मिशन पर खर्च हुआ है 978 करोड़ रुपये, जानें- 8 बड़ी बातें

    ISRO आज दोपहर लॉन्च करेगा चंद्रयान-2, मिशन पर खर्च हुआ है 978 करोड़ रुपये, जानें- 8 बड़ी बातें

    चांद पर भारत के दूसरे महत्वाकांक्षी मिशन चंद्रयान-2 को सोमवार को श्रीहरिकोटा से सबसे शक्तिशाली रॉकेट जीएसएलवी-मार्क III-एम1 के जरिए प्रक्षेपित किया जायेगा. चेन्नई से लगभग 100 किलोमीटर दूर सतीश धवन अंतरिक्ष केन्द्र में दूसरे लांच पैड से चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण अपराह्न दो बजकर 43 मिनट पर किया जायेगा. इस मिशन की लागत 978 करोड़ रुपये है. एक सप्ताह पहले तकनीकी गड़बड़ी आने के बाद चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण रोक दिया गया था. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के वैज्ञानिकों ने 15 जुलाई को मिशन के प्रक्षेपण से 56 मिनट 24 सेकंड पहले मिशन नियंत्रण कक्ष से घोषणा के बाद रात 1.55 बजे इसे रोक दिया था. कई दिग्गज वैज्ञानिकों ने इस कदम के लिए इसरो की प्रशंसा भी की थी. उनका कहना था कि जल्दबाजी में कदम उठाने से बड़ा हादसा हो सकता था.

  • चंद्रयान-2 प्रक्षेपण की उल्टी गिनती शुरू, कल 2.43 बजे होगी लॉन्चिंग

    चंद्रयान-2 प्रक्षेपण की उल्टी गिनती शुरू, कल 2.43 बजे होगी लॉन्चिंग

    भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष के. सिवन ने रविवार को बताया कि आज शाम 6.43 बजे से चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है. इस दौरान रॉकेट और अंतरिक्ष यान प्रणाली की जांच की जाएगी और रॉकेट के इंजन को शक्ति प्रदान करने के लिए ईंधन भरा जाएगा. और 22 जुलाई को दोपहर 2 बजकर 43 मिनट पर इसकी लॉन्चिंग होगी.

  • ISRO अब 22 जुलाई को लॉन्च करेगा चंद्रयान-2, पहले तकनीकी खामी की वजह से टाली गई थी लॉन्चिंग

    ISRO अब 22 जुलाई को लॉन्च करेगा चंद्रयान-2, पहले तकनीकी खामी की वजह से टाली गई थी लॉन्चिंग

    इसरो अब 22 जुलाई को चंद्रयान-2 लॉन्च करेगा. 15 जुलाई को तकनीकी खामी की वजह से इसकी लॉन्चिंग टाल दी गई थी. इसके रॉकेट सिस्टम में कुछ खामी बताई गई थी. अब इसे श्रीहरिकोटा से 22 जुलाई को दोपहर 2.43 बजे लॉन्च किया जाएगा.

  • Chandrayaan 2: बस कुछ समय बाद भारत लॉन्च करेगा 'चंद्रयान-2', पढ़ें- इस मिशन से जुड़ी 10 खास बातें

    Chandrayaan 2: बस कुछ समय बाद भारत लॉन्च करेगा 'चंद्रयान-2', पढ़ें- इस मिशन से जुड़ी 10 खास बातें

    Chandrayaan 2 Launch: दुनिया के सामने अपना लोहा मनवाने और अंतरिक्ष में लंबी छलांग लगाने के मकसद से भारत सोमवार को दूसरे चंद्र मिशन 'चंद्रयान-2' का प्रक्षेपण करने जा रहा है. इसे बाहुबली नाम के सबसे ताकतवर रॉकेट जीएसएलवी-एमके तृतीय यान से भेजा जाएगा. 'चंद्रयान-2' चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में उतरेगा जहां अभी तक कोई देश नहीं पहुंच पाया है. इससे चांद के बारे में समझ सुधारने में मदद मिलेगी जिससे ऐसी नयी खोज होंगी जिनका भारत और पूरी मानवता को लाभ मिलेगा. तीन चरणों का 3,850 किलोग्राम वजनी यह अंतरिक्ष यान ऑर्बिटर, लैंडर और रोवर के साथ यहां सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (एसडीएससी) से सुबह दो बजकर 51 मिनट पर आकाश की ओर उड़ान भरेगा. 

  • चंद्रयान-2 का काउंटडाउन शुरू, सोमवार तड़के श्रीहरिकोटा से होगा रवाना

    चंद्रयान-2 का काउंटडाउन शुरू, सोमवार तड़के श्रीहरिकोटा से होगा रवाना

    इसरो ने पूर्व में कहा था कि चंद्र अभियान के तीनों मॉड्यूल- ऑर्बिटर, लैंडर (विक्रम) और रोवर (प्रज्ञान)- प्रक्षेपण के लिये तैयार किये जा रहे हैं और लैंडर के सितंबर की शुरुआत में चंद्रमा की सतह को छूने की उम्मीद है.

  • जहां नहीं पहुंच पाया दुनिया का कोई देश,चांद के उस हिस्से पर उतरेगा भारत का चंद्रयान-2

    जहां नहीं पहुंच पाया दुनिया का कोई देश,चांद के उस हिस्से पर उतरेगा भारत का चंद्रयान-2

    भारत का चंद्रयान -2 मिशन श्रीहरिकोटा से प्रक्षेपण होने के बाद चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के करीब लैंडिग करेगा. इस जगह पर इससे पहले किसी भी देश का कोई यान नहीं पहुंचा है.

  • सबसे शक्तिशाली स्वदेशी रॉकेट 'बाहुबली' की तस्वीरें सामने आईं, ऊंचाई जानकर हो जाएंगे हैरान

    सबसे शक्तिशाली स्वदेशी रॉकेट 'बाहुबली' की तस्वीरें सामने आईं, ऊंचाई जानकर हो जाएंगे हैरान

    भारत की चांद की यात्रा की शुरुआत जल्द ही होने वाली है. इस दिशा में पहले कदम के रूप में रॉकेट बाहुबली की लॉन्चिंग 15 जुलाई को होने वाली है. श्रीहरिकोटा से लॉन्चिंग होगी और इस मौके पर वहां राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी मौजूद रहेंगे.

  • चंद्रयान 2 की तस्वीरें सामने आईं, अगले हफ्ते श्रीहरिकोटा से होगा प्रक्षेपण

    चंद्रयान 2 की तस्वीरें सामने आईं, अगले हफ्ते श्रीहरिकोटा से होगा प्रक्षेपण

    चंद्रयान 2 सैटेलाइट की पहली तस्वीर सामने आ गई है. यह पृथ्वी से चंद्रमा की ओर श्रीहरिकोटा से 15 जुलाई को लगभग आधी रात को रवाना होगा. इसका वजन 3.8 टन है और यह एक हजार करोड़ का मिशन है. जीएसएलवी मार्क-3 रॉकेट इसे लेकर अंतरिक्ष में जाएगा. प्रक्षेपण के बाद उपग्रह 'चंद्रयान 2' को कई हफ्ते लगेंगे, और फिर वह चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर सॉफ्ट लैंडिंग करेगा.

  • 'चंद्रयान 2' की पहली झलक: आठ हाथियों के वज़न वाला 'चंद्रयान-2' उतरेगा चांद के अनदेखे हिस्से पर

    'चंद्रयान 2' की पहली झलक: आठ हाथियों के वज़न वाला 'चंद्रयान-2' उतरेगा चांद के अनदेखे हिस्से पर

    अपनी पृथ्वी के चंद्रमा की ओर भारत का दूसरा मिशन 'चंद्रयान 2' श्रीहरिकोटा से 15 जुलाई को लगभग आधी रात को रवाना होगा. इस वक्त ISRO 3.8 टन वज़न वाले उपग्रह को अंतिम रूप दे रहा है, जिस पर देश का 600 करोड़ रुपये से ज़्यादा खर्च हुआ है. प्रक्षेपण के बाद उपग्रह 'चंद्रयान 2' को कई हफ्ते लगेंगे, और फिर वह चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर सॉफ्ट लैंडिंग करेगा. गौरतलब है कि यह चंद्रमा का वह हिस्सा है, जहां आज तक दुनिया का कोई भी अंतरिक्ष यान नहीं उतरा है. NDTV के साइंस एडिटर पल्लव बागला से खास बातचीत में ISRO के असिस्टेंट साइंटिफिक सेक्रेटरी विवेक सिंह ने कहा कि यह भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी का अब तक का सबसे जटिल मिशन है, जिस पर 1,000 करोड़ रुपये से कम खर्च हुआ है.

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com