Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

सज्जाद लोन


'सज्जाद लोन' - 24 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • जम्मू-कश्मीर: महबूबा मुफ्ती की बेटी ने ट्वीट कर लगाया नेताओं से बदसलूकी का आरोप तो पुलिस ने दिया यह जवाब

    जम्मू-कश्मीर: महबूबा मुफ्ती की बेटी ने ट्वीट कर लगाया नेताओं से बदसलूकी का आरोप तो पुलिस ने दिया यह जवाब

    पुलिस ने उन रिपोर्टों का खंडन किया है जिसमें कहा गया है कि जम्मू-कश्मीर के तीन नेताओं के साथ श्रीनगर के एक डिटेंशन सेंटर में स्थानांतरित करते समय बदसलूकी की गई. तीनों नेताओं सज्जाद लोन, शाह फैसल और वहीद पारा को शहर के सेंटूर होटल में हिरासत में लिया गया था और एमएलए हॉस्टल में ले जाया जा रहा था, क्योंकि कश्मीर में पड़ने वाली सर्दियों से निपटने के लिए वहां सुविधा का अभाव था.

  • कश्मीर: राज्य के 35 राजनेताओं का बदला ठिकाना, अब इस होटल में रहेंगे 'बंदी' नेता

    कश्मीर: राज्य के 35 राजनेताओं का बदला ठिकाना, अब इस होटल में रहेंगे 'बंदी' नेता

    श्रीनगर समेत कश्मीर घाटी में सर्द हवाएं चल रही हैं. इस महीने की शुरूआत में मौसम की पहली बर्फबारी हुई. वहीं नवनिर्मित केंद्र शासित प्रदेश का प्रशासन शीतकाल के लिए श्रीनगर से जम्मू स्थानांतरित हो गया है. इन राजनीतिक बंदियों में पीपुल्स कान्फ्रेंस के सज्जाद लोन, नेशनल कान्फ्रेंस के अली मोहम्मद सागर, पीडीपी के नईम अख्तर और पूर्व आईएएस अधिकारी शाह फैसल शामिल हैं.

  • Jammu Kashmir: आज रिहा होंगे हिरासत में लिये गये 3 नेता, शपथ पत्र पर करना होगा शांति बनाये रखने का वादा

    Jammu Kashmir: आज रिहा होंगे हिरासत में लिये गये 3 नेता, शपथ पत्र पर करना होगा शांति बनाये रखने का वादा

    जम्मू-कश्मीर प्रशासन राज्य का विशेष दर्जा पांच अगस्त को समाप्त किए जाने के बाद से हिरासत में लिये गये तीन नेताओं को गुरुवार को रिहा करेगा. अधिकारियों ने बुधवार रात यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि यावर मीर, नूर मोहम्मद और शोएब लोन को एक शपथ पत्र पर हस्ताक्षर करने समेत विभिन्न आधार पर रिहा किया जाएगा. मीर पीडीपी के राफियाबाद विधानसभा सीट से पूर्व विधायक रह चुके हैं, जबकि लोन ने कांग्रेस के टिकट से उत्तर कश्मीर से चुनाव लड़ा था जिसमें उन्हें हार का सामना करना पड़ा था. उन्होंने बाद में कांग्रेस छोड़ दी थी. उन्हें पीपुल्स कॉन्फ्रेंस प्रमुख सज्जाद लोन का करीबी माना जाता है.

  • महबूबा मुफ्ती की बेटी बोलीं- झूठ बोल रहे हैं गृहमंत्री अमित शाह, मेरी मां हिरासत में है, उनसे कोई संपर्क नहीं हो रहा

    महबूबा मुफ्ती की बेटी बोलीं- झूठ बोल रहे हैं गृहमंत्री अमित शाह, मेरी मां हिरासत में है, उनसे कोई संपर्क नहीं हो रहा

    इल्तजा ने कहा, 'दो दिन से उन्हें हिरासत में ले लिया गया है. यहां ऐसे हालात कर दिए गए हैं कि किसी को घर से बाहर नहीं निकलने दिया जा रहा है. यहां मास हाउसअरेस्ट किया गया है. मैं चाहती हूं कि मीडिया को पता चले कि यहां क्या हो रहा है, चल क्या रहा है? हमारे गृहमंत्री गलत बोल रहे हैं कि फारूक अब्दुल्ला और बाकी नेताओं को नजरबंद नहीं किया गया है. बिल्कुल नजरबंद किया गया है. सज्जाद लोन, इमरान अंसारी, मेरी मां और उमर अब्दुल्ला को हिरासत में लिया गया है.'

  • जम्मू कश्मीर में पर जारी कयासों के बीच एकजुट हुए राज्य के सभी नेता, कहा- 'विशेष दर्जे से छेड़छाड़ मंजूर नहीं' 

    जम्मू कश्मीर में पर जारी कयासों के बीच एकजुट हुए राज्य के सभी नेता, कहा- 'विशेष दर्जे से छेड़छाड़ मंजूर नहीं' 

    कश्मीर में असमंजस के बीच बीजेपी को छोड़कर बाकी सियासी पार्टियों के बीच सर्वदलीय बैठक हुई. सुरक्षा कारणों के चलते होटल में बैठक की इजाज़त नहीं दी गई थी. इसके बाद नेशनल कॉन्फ़्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला के घर सर्वदलीय बैठक हुई.

  • फारूक अब्दुल्ला का बड़ा आरोप: सज्जाद लोन के पिता लेकर आए 'घाटी में बंदूक'

    फारूक अब्दुल्ला का बड़ा आरोप: सज्जाद लोन के पिता लेकर आए 'घाटी में बंदूक'

    जम्मू कश्मीर की सियासत अब भी गरम है. विधानसभा भंग को लेकर जम्मू-कश्मीर में चल रहे सियासी घमासान के बीच अब पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला ने सज्जाद लोन के पिता, अब्दुल गनी लोन पर घाटी में आतंकवाद को लाने और बंदूक की संस्कृति विकसित करने का सनसनीखेज आरोप लगाया है. नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि सज्जाद लोन के पिता अब्दुल गनी लोन कश्मीर में बंदूक लाने के जिम्मेदार थे. आगे उन्होंने खुलासा किया कि हालांकि, उन्होंने सज्जाद लोन के पिता को यह विचार त्यागने का अनुरोध भी किया था, मगर वो नहीं माने.

  • जम्मू-कश्मीर: गवर्नर सत्यपाल मलिक को सता रहा है 'तबादले का डर', बोले- पता नहीं कितने दिन यहां हूं

    जम्मू-कश्मीर: गवर्नर सत्यपाल मलिक को सता रहा है 'तबादले का डर', बोले- पता नहीं कितने दिन यहां हूं

    राज्यपाल मलिक ने कहा, 'मैं कितने दिन यहां हूं, यह मेरे हाथ में नहीं हैं. मुझे नहीं पता कि मेरा कब तबादला कर दिया जाएगा. मुझे पद से नहीं हटाया जाएगा, लेकिन मेरे तबादले की आशंका है. जब तक मैं यहां हूं, मैं आप लोगों को भरोसा दिलाता हूं कि जब भी आप मुझे बुलाएंगे, मैं उन्हें (गिरधारी लाल डोगरा) श्रद्धांजलि देने के लिए आता रहूंगा.' सत्यपाल मलिक पिछले तीन महीने से जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल पद पर हैं.

  • सत्यपाल मलिक के 'इस फैसले' की महबूबा मुफ्ती और उमर अबदुल्ला ने की तारीफ, कही यह बात...

    सत्यपाल मलिक के 'इस फैसले' की महबूबा मुफ्ती और उमर अबदुल्ला ने की तारीफ, कही यह बात...

    जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Satya Pal Malik) ने कहा कि अगर वह दिल्ली की तरफ देखते तो उन्हें सज्जाद लोन को मुख्यमंत्री बनाना पड़ता और यह बेईमानी होती. राज्यपाल ने यह बयान शनिवार को ग्वालियर में दिया था, लेकिन अब इस पर सियासी हंगामा शुरू हो गया है. राज्य के दो पूर्व मुख्यमंत्रियों उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती ने राज्यपाल को केंद्र सरकार का आदेश न मानने के लिए बधाई दी है. लेकिन सत्यपाल मलिक का यह बयान केंद्र सरकार के लिए शर्मिंदगी का सबब बन गया है, क्योंकि उनके बयान से यही इशारा मिलता है कि केंद्र सिर्फ दो विधायक होने के बावजूद सज्जाद लोन को मुख्यमंत्री बनवाना चाहता था.

  • राज्यपाल की 'ईमानदारी'  

    राज्यपाल की 'ईमानदारी'  

    क्या केंद्र सरकार सज्जाद लोन को मुख्यमंत्री बनाने के लिए राज्यपाल सत्यपाल मलिक पर दबाव डाल रही थी? क्या केंद्र की ओर से राज्यपाल को कहा गया था कि या तो लोन मुख्यमंत्री बनेंगे या फिर विधानसभा भंग होगी? यह सवाल इसलिए क्योंकि खुद राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने ही कह डाला है कि अगर वे दिल्ली की तरफ देखते तो उन्हें सज्जाद लोन को मुख्यमंत्री बनाना पड़ता और यह बेईमानी होती.

  • फारूक अब्दुल्ला बोले, राज्य में हमारी सरकार बनती देख राज्यपाल ने दिल्ली के इशारे पर भंग की असेंबली

    फारूक अब्दुल्ला बोले, राज्य में हमारी सरकार बनती देख राज्यपाल ने दिल्ली के इशारे पर भंग की असेंबली

    फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि हम लोग उनसे (राज्यपाल से) बार-बार कह रहे थे कि असेंबली भंग कर दीजिये, ताकि हम जनता के पास जाएं. 5 महीने वो इंतजार करते रहे कि हो सकता है कि बीजेपी सज्जाद लोन के साथ बहुमत हासिल कर ले. लोगों को खरीद ले...चाहे वो कांग्रेस के हों, पीडीपी के या फिर नेशनल कांफ्रेंस के, लेकिन यह नहीं हो सका. जब इन्होंने देखा कि राज्य में एक हुकुमत बनने वाली है जिसमें बीजेपी नहीं होगी, तो दिल्ली से एक आदेश आया और असेंबली भंग कर दी. 

  • जम्मू-कश्मीर के गवर्नर सत्यपाल मलिक बोले- सज्जाद लोन को मौका देकर मैं बेईमानी नहीं कर सकता था

    जम्मू-कश्मीर के गवर्नर सत्यपाल मलिक बोले- सज्जाद लोन को मौका देकर मैं बेईमानी नहीं कर सकता था

    सत्यपाल मलिक ने कहा कि दोनों में से किसी के पास कोई लिस्ट नहीं थी. न तो महबूबा जी के पास कोई लिस्ट थी, जो उन्होंने पेश की हो और न ही सज्जाद लोन के पास कोई लिस्ट थी. सज्जाद लोन कह रहे थे कि मैंने आपको संपर्क किया. जब मैंने पूछा कहां संपर्क किया, तो उन्होंने कहा कि मैंने आपके पीए को वाट्सएप किया. मलिक ने चुटकी लेते हुए कहा, 'मुझे यह पता नहीं था कि वाट्सएप और ट्वीट से भी सरकारें बनती हैं'.

  • सज्जाद लोन का हमला, PDP और नेशनल कॉन्फ्रेंस ने जम्मू कश्मीर को जागीर समझ रखा है

    सज्जाद लोन का हमला, PDP और नेशनल कॉन्फ्रेंस ने जम्मू कश्मीर को जागीर समझ रखा है

    पीपुल्स कान्फ्रेंस के अध्यक्ष सज्जाद लोन (Sajad Lone) ने शुक्रवार को पीडीपी, कांग्रेस और नेशनल कान्फ्रेंस पर निशाना साधते हुए कहा कि उनके महागठबंधन बनाने का मकसद हमारी पार्टी के नेतृत्व वाले 'तीसरे मोर्चे' को सत्ता से बाहर रखना है.

  • जम्मू-कश्मीर: राजभवन की 'खराब' फैक्स मशीन ने टि्वटर को बनाया 'सियासी अखाड़ा', उमर अब्दुल्ला ने ली चुटकी

    जम्मू-कश्मीर: राजभवन की 'खराब' फैक्स मशीन ने टि्वटर को बनाया 'सियासी अखाड़ा', उमर अब्दुल्ला ने ली चुटकी

    मुफ्ती ने पहले राज्यपाल को फैक्स के जरिए दावा सौंपने की कोशिश की, लेकिन उनका फैक्स राजभवन तक नहीं पहुंच पाया. इसके बाद मुफ्ती ने वह लेटर ट्वीट करते हुए कहा, 'यह लेटर राजभवन फैक्स करने की कोशिश की गई. लेकिन हैरान करने वाली बात है कि राजभवन तक फैक्स नहीं पहुंचा. फिर राज्यपाल से फोन पर बात करने की कोशिश की. लेकिन फोन पर भी उनसे संपर्क नहीं हो पाया.' इस ट्वीट में राज्यपाल को टैग करते हुए उन्होंने कहा कि उम्मीद है कि आप इस पर संज्ञान लेंगे. इसके कुछ मिनट बाद ही इस पर चुटकी लेते हुए नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट किया, 'जम्मू-कश्मीर राजभवन में नई फैक्स मशीन की तुरंत जरूरत है.'

  • जम्मू-कश्मीर में क्यों और कैसे भंग हुई विधानसभा, जानें पूरे घटनाक्रम की 10 बड़ी बातें

    जम्मू-कश्मीर में क्यों और कैसे भंग हुई विधानसभा, जानें पूरे घटनाक्रम की 10 बड़ी बातें

    जम्मू-कश्मीर((Jammu and Kashmir ) में गठबंधन के जरिए सरकार बनाने के लिए दो पार्टियों की ओर से दावा ठोके जाने के बाद राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने बुधवार को विधानसभा ही भंग कर दिया. PDP नेता महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) ने विरोधी नेशनल कांफ्रेंस और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया तो उधर दो विधायकों वाली पीपुल्स कांफ्रेंस मुखिया सज्जाद लोन न (Sajad Lone) ने भी बीजेपी (BJP) और अन्य विधायकों के समर्थन की बात कहकर राज्यपाल के सामने दावेदारी कर दी. राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Satya Pal Malik) ने सरकार बनाने के लिए विधायकों की खरीद-फरोख्त की आशंका जताते हुए विधानसभा भंग कर दी. उन्होंने इस कार्रवाई के समर्थन में चार कारण भी गिनाए. ये कारण राजभवन की ओर से बकायदा लिखित रूप में जारी किए गए.

  • PDP और BJP समर्थित पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के सरकार बनाने के दावे के बाद राज्यपाल ने भंग की जम्मू कश्मीर विधानसभा

    PDP और BJP समर्थित पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के सरकार बनाने के दावे के बाद राज्यपाल ने भंग की जम्मू कश्मीर विधानसभा

    जम्मू-कश्मीर में पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) के बाद पीपुल्स कांफ्रेंस के लीडर सज्जाद लोन (Sajad Lone) ने भी सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया. इसके बाद राज्यपाल ने विधानसभा भंग कर दी.

  • जम्मू-कश्मीर के मंत्री सज्जाद लोन ने इस्तीफा दिया, महबूबा ने अभी नहीं किया मंजूर

    जम्मू-कश्मीर के मंत्री सज्जाद लोन ने इस्तीफा दिया, महबूबा ने अभी नहीं किया मंजूर

    अलगाववाद से मुख्यधारा की राजनीति में आए सज्जाद गनी लोन ने जम्मू-कश्मीर में बनी नई पीडीपी-बीजेपी सरकार के मंत्री के तौर पर शपथग्रहण के एक दिन बाद ही इस्तीफा दे दिया। उनके इस्तीफे पर अभी फैसला नहीं हुआ है, क्योंकि मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को बीजेपी की राय का इंतजार है।

  • बीजेपी से हम बंधे नहीं हैं... हम आज़ाद पंक्षी हैं : सज्जाद लोन

    बीजेपी से हम बंधे नहीं हैं... हम आज़ाद पंक्षी हैं : सज्जाद लोन

    कभी बीजेपी से नज़दीकी दिखाने वाले कश्मीरी नेता सज्जाद लोन अब बीजेपी के साथ अपने किसी रिश्ते से इनकार कर रहे हैं। दो सीट जीत कर आने वाले लोन किसी भी बनने वाली सरकार में अपनी अहमियत तलाश रहे हैं। सरकार में शामिल होने न होने का फैसला वे इसी आधार पर करेंगे।

  • मोदी की सभा में भीड़ बढ़ाने के लिए अपने समर्थक भेज रहे हैं सज्जाद लोन : उमर

    मोदी की सभा में भीड़ बढ़ाने के लिए अपने समर्थक भेज रहे हैं सज्जाद लोन : उमर

    जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा कि श्रीनगर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभा में पीपुल्स कांफ्रेंस के नेता तथा जम्मू एवं कश्मीर विधानसभा चुनाव में किस्मत आ रहे सज्जाद लोन ने 80 वाहनों में भरकर लोगों को भेजा है।

Advertisement