Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

सेवा क्षेत्र में सुधार


'सेवा क्षेत्र में सुधार' - 13 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • एप्पल का मुनाफा जून तिमाही में 13 प्रतिशत गिरकर 10 अरब डॉलर पर आया

    एप्पल का मुनाफा जून तिमाही में 13 प्रतिशत गिरकर 10 अरब डॉलर पर आया

    आईफोन लंबे समय तक कंपनी के लिये कमाई का मुख्य जरिया रहा है. हालांकि आईफोन से प्राप्त राजस्व 12 प्रतिशत गिरकर 26 अरब डॉलर पर आ गया. ऐसा अनुमान है कि कंपनी इस साल नया मॉडल पेश कर आईफोन की बिक्री में सुधार लाने की कोशिश कर सकती है. सेवा क्षेत्र से कंपनी का राजस्व पिछले साल की जून तिमाही के 10 अरब डॉलर की तुलना में बढ़कर 11.50 अरब डॉलर पर पहुंच गया. कंपनी ने कहा कि उसे सितंबर तिमाही में 61 अरब डॉलर से 64 अरब डॉलर के बीच राजस्व का अनुमान है.

  • सेंसेक्स, निफ्टी मामूली बढ़त के साथ बंद; बैंकिंग शेयरों में तेजी

    सेंसेक्स, निफ्टी मामूली बढ़त के साथ बंद; बैंकिंग शेयरों में तेजी

    बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स सूचकांक 22.77 अंक यानी 0.06 प्रतिशत की तेजी के साथ 39,839.25 अंक पर बंद हुआ. इसी प्रकार , नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 6.45 अंक यानी 0.05 प्रतिशत बढ़कर 11,916.75 अंक पर बंद हुआ. कारोबारियों ने कहा कि निवेशक 2019-20 का बजट पेश होने से पहले सतर्क रुख अपना रहे हैं और उन्हें मांग में सुधार और वृद्धि के लिए कदम उठाए जाने की उम्मीद है. निवेशकों ने सेवा क्षेत्र के आंकड़ों को लेकर भी सतर्क रुख अपनाया. 

  • अक्तूबर 2016 के बाद जुलाई महीने में सर्विस सेक्‍टर में हुई सबसे तेज वृद्धि: PMI

    अक्तूबर 2016 के बाद जुलाई महीने में सर्विस सेक्‍टर में हुई सबसे तेज वृद्धि: PMI

    निक्की इंडिया सर्विसेज बिजनेस एक्टिविटी इंडेक्स जून के 52.6 से बढ़कर जुलाई में 54.2 पर पहुंच गया है. आलोच्य माह के दौरान नये कारोबारों की वृद्धि जून 2017 के बाद सबसे अधिक रही है. पीएमआई सूचकांक का 50 से ऊपर होना वृद्धि का द्योतक है जबकि 50 से कम सूचकांक गिरावट का संकेत देता है. 

  • स्वास्थ्य सेवा की गुणवत्ता में सुधार के लिए वित्त आयोग ने विशेषज्ञ समूह बनाया

    स्वास्थ्य सेवा की गुणवत्ता में सुधार के लिए वित्त आयोग ने विशेषज्ञ समूह बनाया

    पंद्रहवें वित्त आयोग ने स्वास्थ्य क्षेत्र में एक विशेषज्ञ समूह का गठन किया है , जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनाए जाने वाले सर्वश्रेष्ठ व्यवहार की समीक्षा करेगा, ताकि देश में स्वास्थ्य सेवा लाभों को अधिकतम स्तर पर पहुंचाया जा सके. इस छह सदस्यीय समिति के संयोजक अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के निदेशक रंदीप गुलेरिया होंगे. 

  • भारत 2018 में सबसे तीव्र विकास दर वाली अर्थव्यवस्था : आईएमएफ

    भारत 2018 में सबसे तीव्र विकास दर वाली अर्थव्यवस्था : आईएमएफ

    अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने बुधवार को दोहराया कि भारत की अर्थव्यवस्था 2018 में दुनिया में सबसे तेजी से विकास करेगी. आईएमएफ ने 2018 में भारत की आर्थिक विकास 7.4 फीसदी और 2019 में 7.8 फीसदी रहने का अनुमान जताया है. एशिया और प्रशांत क्षेत्र के आर्थिक विकास की संभावनाओं पर आईएमएफ की रपट के मुताबिक, भारत में नोटबंदी और वस्तु एवं सेवा कर लागू होने के बाद अर्थव्यवस्था पर हुए क्षणिक असर के बाद सुधार का दौर जारी है. 

  • सेवा क्षेत्र की गतिविधियों में अप्रैल में सुधार, रोजगार सृजन सात वर्ष के उच्च स्तर पर

    सेवा क्षेत्र की गतिविधियों में अप्रैल में सुधार, रोजगार सृजन सात वर्ष के उच्च स्तर पर

    देश के सेवा क्षेत्र में अप्रैल महीने में सुधार जारी रहा. कारोबारी गतिविधियां बढ़ने और रोजगार सृजन के सात वर्ष से अधिक समय से उच्च स्तर पर बने रहने के चलते तेजी रही. एक मासिक सर्वेक्षण में यह बात कही गई. निक्केई इंडिया सर्विसेज बिजनेस एक्टिविटी इंडेक्स अप्रैल माह में 51.4 पर पहुंच गया जो मार्च में 50.3 पर था. नए कारोबारी ऑर्डरों में वृद्धि और मुद्रास्फीति दबाव कम होने से भी मांग में सुधार आया. यह सेवा क्षेत्र की कंपनियों के उत्पादन में तेजी को दर्शाता है. 

  • रोजगार सृजन सात वर्ष के उच्च स्तर पर : सर्वेक्षण

    रोजगार सृजन सात वर्ष के उच्च स्तर पर : सर्वेक्षण

    देश के सेवा क्षेत्र में अप्रैल महीने में सुधार जारी रहा. कारोबारी गतिविधियां बढ़ने और रोजगार सृजन के सात वर्ष से अधिक समय से उच्च स्तर पर बने रहने के चलते तेजी रही. एक मासिक सर्वेक्षण में यह बात कही गई. निक्केई इंडिया सर्विसेज बिजनेस एक्टिविटी इंडेक्स अप्रैल माह में 51.4 पर पहुंच गया जो मार्च में 50.3 पर था. नए कारोबारी ऑर्डरों में वृद्धि और मुद्रास्फीति दबाव कम होने से भी मांग में सुधार आया. यह सेवा क्षेत्र की कंपनियों के उत्पादन में तेजी को दर्शाता है. 

  • इस साल पहली छमाही में भारत की औसत वृद्धि दर 7.8 प्रतिशत रहेगी : रिपोर्ट

    इस साल पहली छमाही में भारत की औसत वृद्धि दर 7.8 प्रतिशत रहेगी : रिपोर्ट

    भारतीय अर्थव्यवस्था में चक्रीय सुधार दिखने की उम्मीद है. एक रिपोर्ट में कहा गया है कि निवेश और उपभोग में सुधार से इस साल की पहली छमाही में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की औसत वृद्धि दर 7.8 प्रतिशत रहेगी. जापान की वित्तीय सेवा क्षेत्र की कंपनी नोमूरा के अनुसार शुद्ध निर्यात की स्थिति खराब होने के बीच निवेश और उपभोग मांग में बढ़ोतरी से मुख्य रूप से वृद्धि दर को रफ्तार मिलेगी.

  • नये कारोबारी ऑर्डरों में वृद्धि के चलते सेवा क्षेत्र की गतिविधियां तीन महीने में सबसे तेज

    नये कारोबारी ऑर्डरों में वृद्धि के चलते सेवा क्षेत्र की गतिविधियां तीन महीने में सबसे तेज

    देश में सेवा क्षेत्र की गतिविधियों में साल के पहले महीने यानी जनवरी में तेजी बनी रही. एक मासिक सर्वेक्षण में कहा गया है कि नये कारोबारी ऑर्डरों में वृद्धि के चलते सेवा क्षेत्र की गतिविधियां तीन महीने में सबसे तेज रही. हालांकि दिसंबर से गतिविधियों और रोजगार में तेजी रहने के बावजूद यह संबंधित दीर्घावधि के सर्वे के औसत से कम है.

  • 2014-15 में आर्थिक वृद्धि 7.3 प्रतिशत, मैन्‍यूफैक्‍चरिंग व सेवा क्षेत्र के प्रदर्शन में सुधार

    2014-15 में आर्थिक वृद्धि 7.3 प्रतिशत, मैन्‍यूफैक्‍चरिंग व सेवा क्षेत्र के प्रदर्शन में सुधार

    मैन्‍यूफैक्‍चरिंग और सेवा क्षेत्र की गतिविधियों में सुधार आने से 2014-15 में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 7.3 प्रतिशत रही। केन्द्रीय सांख्यिकी संगठन (सीएसओ) के शुक्रवार को जारी आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है।

  • आर्थिक गतिविधियों में सुधार, पहली तिमाही में 5.7 फीसदी रही आर्थिक वृद्धि

    आर्थिक गतिविधियों में सुधार, पहली तिमाही में 5.7 फीसदी रही आर्थिक वृद्धि

    खनन, मैनुफैक्चरिंग और सेवा क्षेत्र के प्रदर्शन में सुधार से चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर उछलकर 5.7 प्रतिशत पर पहुंच गई। पिछले ढाई साल में दर्ज यह सबसे ज्यादा वृद्धि है।

  • भारत की वृद्धि दर 2014-15 में 5.5 प्रतिशत रहेगी : एडीबी

    उद्योग और सेवा क्षेत्र के प्रदर्शन में सुधार के साथ भारत के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर 2014-15 में 5.5 प्रतिशत हो सकती है।

  • ग्राहक सेवा पर ध्यान दें निजी क्षेत्र के बैंक : प्रणब

    वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने निजी क्षेत्र और विदेशी बैंकों के खिलाफ बढ़ती शिकायतों पर चिंता व्यक्त करते हुए इन बैंकों को ग्राहक सेवा में सुधार लाने को कहा।

Advertisement