NDTV Khabar

70 years of independence


'70 years of independence' - 10 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • भारत को गढ़ने वाले सात जननायक

    भारत को गढ़ने वाले सात जननायक

    आजादी से पहले स्वतंत्रता संग्राम और स्वतंत्र भारत में राष्ट्र निर्माण की चुनौती को पूरा करने में वेसै तो देश के सैकड़ों नेताओं ने अपना योगदान दिया लेकिन कुछ नेता ऐसे हुए जो न होते तो शायद भारत आज ऐसा नहीं होता जेसा कि आज है. स्वतंत्रता से पहले के गुलाम और पिछड़े भारत को आज के विकसित लोकतंत्र में रूपांतरित करने वाले इन नेताओं में महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू, सरदार वल्लभभाई पटेल, इंदिरा गांधी, जयप्रकाश नारायण, राममनोहर लोहिया और अटलबिहारी वाजपेयी के नाम सबसे ऊपर आते हैं. ये वे नेता हैं जो जनता की आशाओं पर खरे उतरे और जिन्होंने देश को मजबूत नेतृत्व दिया.

  • 75 शैक्षणिक संस्थानों को सरकार की एडवाइजरी, न्यू इंडिया मंथन में छात्र इंडिया 2022 पर विचार करें

    75 शैक्षणिक संस्थानों को सरकार की एडवाइजरी, न्यू इंडिया मंथन में छात्र इंडिया 2022 पर विचार करें

    मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने 75 शैक्षणिक संस्थानों में मंथन कार्यक्रम और ये इंडिया का टाइम है कंसर्ट करने को कहा है और इस बारे में एक एडवायजरी जारी की गई है. इस एडवाइजरी के मुताबिक आज़ादी के 70 साल और भारत छोड़ो आंदोलन के 75 साल पूरे पर कार्यक्रम करने को कहा गया है.

  • टीम इंडिया के साथ ही शाहिद अफरीदी ने भी दी भारत को 71वें स्वतंत्रता दिवस की बधाई

    टीम इंडिया के साथ ही शाहिद अफरीदी ने भी दी भारत को 71वें स्वतंत्रता दिवस की बधाई

    पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी ने ट्वीट कर भारत को 71वें स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी. अफरीदी ने अपने ट्वीट में लिखा कि हम अपना पड़ोसी बदल नहीं सकते तो शांति, सहनशीलता और प्यार से रहना चाहिए. अफरीदी ने इस ट्वीट के साथ हैशटैग #HopeNotOut का भी इस्तेमाल किया है.

  • नोटबंदी के बाद से ईमानदारी की प्रवृत्ति को बढ़ावा मिला है: देश के नाम संबोधन में राष्‍ट्रपति कोविंद

    नोटबंदी के बाद से ईमानदारी की प्रवृत्ति को बढ़ावा मिला है: देश के नाम संबोधन में राष्‍ट्रपति कोविंद

    राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 71वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर सोमवार को राष्ट्र को संबोधित किया. कोविंद का राष्ट्र के नाम यह पहला संबोधन है.

  • स्‍वतंत्रता से लेकर आज तक की भारत की विकास यात्रा

    स्‍वतंत्रता से लेकर आज तक की भारत की विकास यात्रा

    अब इन दोनों देशों को आजाद हुए सात दशक हो चले हैं और भारत विकास के कई पड़ाव पार कर चुका है. इसमें भारत ने बैलगाड़ी से लेकर एयर इंडिया तक का सफर तय किया है.

  • खेल जगत में इन 7 खिलाड़‍ियों ने किया तिरंगा बुलंद

    खेल जगत में इन 7 खिलाड़‍ियों ने किया तिरंगा बुलंद

    बैडमिंटन, कुश्‍ती, टेनिस शतरंज और बॉक्सिंग जैसे खेलों में देश के खिलाड़ि‍यों ने अपने प्रदर्शन से देश को गौरवान्वित किया है. यह सही है कि देश में अन्‍य खेलों के मुकाबले क्रिकेट को बहुत ज्‍यादा अहमियत दी जाती है लेकिन क्रिकेट से इतर कई खिलाड़ि‍यों ने अपने प्रदर्शन से खेलप्रेमियों का दिल पर राज किया है.

  • ओलिंपिक में भारत ने इन उपलब्धियों के जरिये दिखाई ताकत

    ओलिंपिक में भारत ने इन उपलब्धियों के जरिये दिखाई ताकत

    खेलों के महाकुंभ ओलिंपिक खेलों में भारत का अब तक का प्रदर्शन बहुत अच्‍छा नहीं रहा है. हॉकी की टीम स्‍पर्धा को छोड़ दें तो भारत के पास व्‍यक्तिगत स्‍पर्धा का केवल एक स्‍वर्ण है. यह स्‍वर्ण अभिनव बिंद्रा ने 2008 के बीजिंग ओलिंपिक निशानेबाजी इवेंट में जीता था. कई वर्षों तक भारतीय दल के ओलिंपिक खेलों में जाने और बिना पदक या एकाध पदक के साथ आने का सिलसिला चलता रहा.

  • क्रिकेट की इन कामयाबियों ने हर देशवासी को किया खुश

    क्रिकेट की इन कामयाबियों ने हर देशवासी को किया खुश

    क्रिकेट के खेल ने देशवासियों को अनगिनत खुशियां उपलब्‍ध कराई हैं. जब भारतीय टीम अच्‍छा प्रदर्शन करते हुए जीतती है और मैदान पर तिरंगा लहराता है तो हर क्रिकेटप्रेमी का सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है. क्रिकेट का खेल भारत में इतना लोकप्रिय है कि एक तरह से इसने यहां धर्म का रूप ले लिया है. सवा अरब की आबादी वाले देश में क्रिकेट को लेकर गजब की दीवानगी है.

  • इन क्रिकेटरों के प्रदर्शन ने दिया देश को झूमने का मौका

    इन क्रिकेटरों के प्रदर्शन ने दिया देश को झूमने का मौका

    आजादी के बाद के सात दशक में देश में क्रिकेट ने लंबा सफर किया है. 15 अगस्‍त 1947 को देश को आजादी मिली थी. यह वह दौर था जब मुल्‍क में क्रिकेट धीरे-धीरे अपनी पैठ बना रहा था. क्रिकेट के खेल में उस समय भारतीय क्रिकेट टीम को बहुत गंभीरता से नहीं लिया जाता था. यहां तक कि ऑस्‍ट्रेलिया और इंग्‍लैंड जैसे स्‍थापित देश भी भारत के खिलाफ टेस्‍ट सीरीज खेलने में कोई खास रुचि नहीं लेते थे.

  • आजादी के 70 साल: हार्पर कोलिंस इंडिया ने पेश की इन खास किताबों की सीरीज...

    आजादी के 70 साल: हार्पर कोलिंस इंडिया ने पेश की इन खास किताबों की सीरीज...

    समकालीन प्रासंगिकता के मुद्दे और उन विचारों एवं आदर्शों का जिक्र है और जिनसे देश की अंतरात्मा जागी और इसकी राजव्यवस्था को आकार दिया.