NDTV Khabar

Aaj Ki Taja Khabaren


'Aaj Ki Taja Khabaren' - 23 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • दिल्ली से मुरैना के लिए पैदल निकले शख्स की 200 किलोमीटर चलने के बाद हार्ट अटैक से मौत, परिवार में हैं मां, पत्नी और तीन बच्चे

    दिल्ली से मुरैना के लिए पैदल निकले शख्स की 200 किलोमीटर चलने के बाद हार्ट अटैक से मौत, परिवार में हैं मां, पत्नी और तीन बच्चे

    लॉकडाउन के दौरान दिल्ली से पैदल मुरैना के बड़फरा गांव के लिए निकले 39 साल के युवक की आगरा के सिकंदरा थाने में मौत हो गई. युवक शुक्रवार की शाम 3 बजे अपने साथियों के साथ निकला था. शाम 6 बजे उसने अंबाह में ब्याही अपनी बहन पिंकी को फोन करके कहा कि मैं फरीदाबाद आ गया हूं और जल्द ही घर पहुंच जाऊंगा.

  • Coronavirus : दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर पर हजारों की संख्या मजदूर, पुलिस ने दिया बसों के इंतजाम का आश्वासन

    Coronavirus : दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर पर हजारों की संख्या मजदूर, पुलिस ने दिया बसों के इंतजाम का आश्वासन

    दिल्ली ग़ाज़ियाबाद बॉर्डर पर हजारों की संख्या में मज़दूर बैठे हुए हैं,यूपी पुलिस ने इन्हें रोका हुआ है. इनसे कहा गया है कि इनके लिए बसों की व्यवस्था की जा रही है और खाना भी आएगा. गौरतलब है कि 21 दिनों के लॉकडाउन के बाद पूरे देश में दिहाड़ी मजदूर और कामकागों और छोटी कंपनियों में काम करने वाले कर्मचारियों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है. हालात ये हैं कि हजारों की संख्या में लोग अपने घरों की ओर पैदल भी जा रहे हैं.

  • Coronavirus: रविवार को 'जनता कर्फ्यू', शाम 5 बजे घरों में बजानी है थाली, घंटी, कोरोना वायरस पर PM मोदी की 10 बड़ी बातें

    Coronavirus: रविवार को 'जनता कर्फ्यू', शाम 5 बजे घरों में बजानी है थाली, घंटी, कोरोना वायरस पर PM मोदी की 10 बड़ी बातें

    कोरोना वायरस पर पीएम मोदी ने देश को संबोधित करते हुए सभी से अपील की है इस बीमारी को हल्के में लेने की भूल न करें. उन्होंने कहा यह भी इस बीमारी का अभी तक कोई इलाज नहीं है. लेकिन घबराने की जरूरत नही है. इसका एक ही उपाय है 'संकल्प और संयम'. उन्होंने देश की जनता से अपील करते हुए कहा, 'अभी तक मैंने आपसे जो कुछ भी मांगा है उसे दिया है. इस बार हम से कुछ हफ्ते और दिन मांग रहे हैं. उन्होंने कहा कि 22 मार्च यानी रविवार को पूरे देश में 'जनता कर्फ्यू' लागू रहेगा. सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक कोई घरों से बाहर न निकले. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जो लोग जरूरी सेवाओं में हैं वही बाहर आ सकते हैं. उन्होंने कहा कि नागरिक होने के नाते हमारा यह आत्मसंयम इसके अनुभव आने वाले चुनौतियों के लिए तैयार करेंगे. इसके लिए उन्होंने राज्य सरकारों से भी अपील की है. माना जा रहा है प्रधानमंत्री मोदी उस चेन को तोड़ना चाहते हैं जिससे इस बीमारी को लेवल-3 तक फैलने से रोका जा सके.

  • कमलनाथ सरकार के फ्लोर टेस्ट का मामला : सुप्रीम कोर्ट में आज किसका पलड़ा रहा भारी, 10 बड़ी बातें

    कमलनाथ सरकार के फ्लोर टेस्ट का मामला : सुप्रीम कोर्ट में आज किसका पलड़ा रहा भारी,  10 बड़ी बातें

    सुप्रीम कोर्ट ने मध्य प्रदेश कांग्रेस के बागी विधायकों से न्यायाधीशों के चैंबर में मुलाकात करने की पेशकश बुधवार को ठुकराते हुये टिप्पणी की कि विधानसभा जाना या नहीं जाना उनपर (विधायकों) निर्भर है, लेकिन उन्हें बंधक बनाकर नहीं रखा जा सकता. न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ और न्यायमूर्ति हेमंत गुप्ता की पीठ ने कांग्रेस के 22 बागी विधायकों के इस्तीफे की वजह से मध्य प्रदेश में उत्पन्न राजनीतिक संकट को लेकर दायर याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान यह टिप्पणी की और कहा कि वह विधानसभा द्वारा यह निर्णय करने के बीच में नहीं पड़ेगी कि किसके पास सदन का विश्वास है लेकिन उसे यह सुनिश्चित करना है कि ये 16 विधायक स्वतंत्र रूप से अपने अधिकार का इस्तेमाल करें. पीठ ने इन विधायकों का चैंबर में मुलाकात करने की पेशकश यह कहते हुये ठुकरा दी कि ऐसा करना उचित नहीं होगा. यही नहीं, पीठ ने रजिस्ट्रार जनरल को भी इन बागी विधायकों से मुलाकात के लिये भेजने से इनकार कर दिया. पीठ ने इसके साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा के नौ विधायकों के साथ ही मध्य प्रदेश कांग्रेस विधायक दल की याचिकाओं पर सुनवाई गुरुवार को सवेरे साढ़े दस बजे तक के लिये स्थगित कर दी.

  • मध्य प्रदेश : क्या कमलनाथ सरकार को बचा सकता है हरीश रावत का दांव...?

    मध्य प्रदेश : क्या कमलनाथ सरकार को बचा सकता है हरीश रावत का दांव...?

    मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार को बचाने के लिए कांग्रेस के नेता हर संभव कोशिश कर रहे हैं. राज्यपाल लालजी टंडन के दो बार कहने के बावजूद भी फ्लोर टेस्ट नहीं किया गया है. विधानसभा स्पीकर ने कोरोना वायरस के चलते इस कार्यवाही को 26 मार्च तक स्थगित कर दिया है. बीजेपी इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है. मंगलवार को हुई सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने सीएम कमलनाथ और विधानसभा सचिव को नोटिस जारी किया है और साथ ही कहा है कि नोटिस की कॉपी बागी विधायकों तक भी पहुंचा दिया जाए.

  • मध्य प्रदेश : 26 मार्च तक सरकार को कोई छू भी नहीं सकता? CM कमलनाथ के काम आया कोरोना वायरस

    मध्य प्रदेश : 26 मार्च तक सरकार को कोई छू भी नहीं सकता? CM कमलनाथ के काम आया कोरोना वायरस

    मध्य प्रदेश विधानसभा कोरोना वायरस को देखते हुए 26 मार्च तक स्थगित कर दी गई है. इस बात के संकेत पहले ही विधानसभा स्पीकर की ओर से दिए जा रहे थे. हालांकि राज्यपाल लालजी टंडन ने स्पीकर से कहा था कि 16 मार्च को फ्लोर टेस्ट करा लिया जाए. लेकिन जब सोमवार को विधानसभा की कार्यसूची में इसका जिक्र नहीं था. दरअसल 26 सीएम कमलनाथ की पूरी कोशिश की थी कि किसी तरह से फ्लोर टेस्ट को टाल दिया जाए ताकि नाराज विधायकों मनाया जा सके.

  • भारत में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या हुई 109, केरल में 22, महाराष्ट्र में 32 और उत्तर प्रदेश में 11

    भारत में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या हुई 109, केरल में 22, महाराष्ट्र में 32 और उत्तर प्रदेश में 11

    भारत में कोरोना वायरस के मरीजों का आंकड़ा 109 पहुंच गया है. 109 मामलों में 90 भारतीय नागरिक और 17 विदेशी नागरिक हैं.  सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र से हैं जहां पर 32 मामले सामने आ चुके हैं. जबकि केरल में इसकी संख्या 22 पहुंच गई है. इसके अलावा उत्तर प्रदेश में 11, दिल्ली में 7, कर्नाटक में 6, तेलंगाना में 3, लद्दाख में 3, राजस्थान में 2 जम्मू कश्मीर में 2 तमिलनाडु,पंजाब और आंध्र प्रदेश में 1-1 मामले सामने आए हैं.  

  • राजस्थान : सचिन पायलट का बयान क्या सोनिया और राहुल गांधी के लिए है नसीहत?

    राजस्थान : सचिन पायलट का बयान क्या सोनिया और राहुल गांधी के लिए है नसीहत?

    मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया जैसे बड़े नेता को गंवा चुकी कांग्रेस के लिए अभी एक बड़ी चुनौती बनी हुई है. राजस्थान में विधानसभा चुनाव से पहले और बाद में जो घटनाक्रम हुए. वे मध्य प्रदेश से बिलकुल मिलते जुलते हैं. राजस्थान में कांग्रेस को दोबारा सत्ता में लाने के लिए सचिन पायलट की कड़ी मेहनत का ही परिणाम था. प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी संभालते ही सचिन पायलट ने कई मुद्दों पर सरकार को सड़क पर घेरा.

  • क्या कोरोना वायरस (Coronavirus) होने का मतलब है जान का खतरा? जानिए एम्स के निदेशक ने क्या कहा

    क्या कोरोना वायरस (Coronavirus) होने का मतलब है जान का खतरा? जानिए एम्स के निदेशक ने क्या कहा

    कोरोना वायरस के दिल्ली में दस्तक देने और इसे लेकर देशभर में बढ़ती दहशत के बीच दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के निदेशक डा. रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि कोरोना से घबराने या दहशत में आने की कोई जरूरत नहीं है.  उनका कहना है कि सावधानी बरतने से ही इसकी चपेट में आने से बचा जा सकता है.  यह पूछे जाने पर कि क्या कोरोना वायरस के खतरे के मुकाबले इससे लोगों में दहशत ज्यादा है? डा . गुलेरिया ने कहा, 'कोरोना से भयभीत होने की बिल्कुल जरूरत नहीं है क्योंकि इसमें मौत का खतरा महज दो से तीन प्रतिशत ही है. हां, यह सही है कि इसके मामले अचानक अधिक संख्या में सामने आने के कारण दहशत फैल गई.

  • दिल्ली हिंसा पर संसद में हंगामे के चलते मोदी सरकार ने लिया अब 'गिलोटिन' का फैसला

    दिल्ली हिंसा पर संसद में हंगामे के चलते मोदी सरकार ने लिया अब 'गिलोटिन' का फैसला

    दिल्ली हिंसा को लेकर संसद में जारी हंगामे को देखते हुए मोदी सरकार ने बजट सत्र में सभी मंत्रालयों को अनुदान मांगों को पारित करने के लिए 'गिलोटिन' का फैसला किया है.  यह फैसला सरकारें पहले भी करती रही हैं. सरकार को तीन अप्रैल से पहले बजट पारित कराना है. 16 मार्च को लोकसभा में गिलोटिन होगा

  • दिल्ली में हुई हिंसा से नाराज अभिनेत्री ने बीजेपी छोड़ने का किया ऐलान, भेजा इस्तीफा

    दिल्ली में हुई हिंसा से नाराज अभिनेत्री ने बीजेपी छोड़ने का किया ऐलान, भेजा इस्तीफा

    दिल्ली में हुई हिंसा से नाराज बांग्ला फिल्मों की लोकप्रिय अभिनेत्री सुभद्र मुखर्जी ने बीजेपी छोड़ने का ऐलान कर दिया है. सुभद्रा मुखर्जी ने साल 2013 में बीजेपी ज्वाइन की थी. सुभद्र ने अपना इस्तीफा बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष को इस्तीफा भेज दिया है.

  • अजगर के मुंह से कुछ निकला ऐसा कि लड़की हो गई खुश, लेकिन कमजोर दिल वाले न देखें ये Video

    अजगर के मुंह से कुछ निकला ऐसा कि लड़की हो गई खुश, लेकिन कमजोर दिल वाले न देखें ये Video

    आस्ट्रेलिया में एक अजगर ने तौलिए को निगल लिया. इससे उसकी जान जा सकती थी लेकिन वहां पर जीव-जंतु विशेषज्ञों ने उसको बचाने के लिए एक विशेष टॉर्च को पेट में डालकर उसके मुंह के जरिए तौलिए खींच लिया. इस पूरी प्रक्रिया के वीडियो को भारतीय वन सेवा के अधिकारी प्रवीण कासवान ने शेयर किया है. साथ ही उन्होंने एक मैसेज भी लिखा है जिसमें उन्होंने लिखा, ' प्लास्टिक और कूड़ा कचरा दूसरे जीवों के साथ ऐसा सलूक कर रहा है. उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि कमजोर दिल वाले इस वीडियो को न देखें. बात करें इस तौलिया निकालने की इस प्रक्रिया की तो आप देख सकते हैं कि एक महिला वेटेनरी ने अजगर का मुंह पकड़ रखा है. दूसरे हाथ से एक चिमटी और कैमरे के जरिए तौलिया निकालने की कोशिश की जा रही है.   

  • डीसीपी सर बेहोश पड़े थे...कांस्टेबल रतनलाल भी साथ में थे, सामने हथियारों के साथ भीड़,सोचा फायरिंग कर दूं : IPS अनुज कुमार

    डीसीपी सर बेहोश पड़े थे...कांस्टेबल रतनलाल भी साथ में थे, सामने हथियारों के साथ भीड़,सोचा फायरिंग कर दूं : IPS अनुज कुमार

    दिल्ली के गोकलपुरी में तैनात एसीपी आईपीएस अनुज कुमार भी घायल हैं और अभी अस्पताल में भर्ती हैं. इनके साथ तैनात हेड कांस्टेबल रतनलाल हिंसा के दौरान मौत हो गई थी. शाहदरा के डीसीपी अमित शर्मा की भी इन्होंने ही बचाया था. अमित शर्मा भी इस समय गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती हैं. अनुज ने NDTV से बातचीत में बताया, '24 तारीख की सुबह मैं डीसीपी शाहदरा सर और मेरा पूरा ऑफिस स्टाफ और दो कंपनी फ़ोर्स के साथ चाँदबाग मज़ार के पास हमारी पोजिशन थी, एक दिन पहले जो काफी सारे लोग वज़ीराबाद रोड पर सड़क की एक तरफ इकठ्ठा हो गए थे,हमें निर्देश ये थे कि सड़क पर कोई न बैठे ,क्लीन रहे, वहां पास में ही एक प्रोटेस्ट साइट चल रही थी. वहां 35-40 दिनों से प्रोटेस्ट हो रहा था. हमारा उद्देश्य यही था कि ट्रैफिक का आवागमन बना रहे क्योंकि वज़ीराबाद रोड आगे भूपरा बॉर्डर और ग़ाज़ियाबाद रोड को जोड़ती है. काफी ज्यादा ट्रैफिक मूवमेंट होता है वहां. 

  • दिल्ली हिंसा : फायरिंग के लिए देसी कट्टे कहां से आए? इन अहम सवालों के जवाब क्या मिल पाएंगे

    दिल्ली हिंसा : फायरिंग के लिए देसी कट्टे कहां से आए? इन अहम सवालों के जवाब क्या मिल पाएंगे

    उत्तर-पूर्वी दिल्ली में जो हिंसा हुई उसमें पुलिस लगातार सवालों के घेर में रही है. या तो वो थी नहीं अगर कहीं थी भी तो मूक-दर्शक बनी रही. अब सवाल ये भी उठ रहा है कि दिल्ली में इतने बड़े पैमाने पर जो हिंसा हुई उसकी वजह क्या थी, वो लोग कौन थे जिन्होंने दिल्ली को  लहुलुहान किया. इन सवालों पर एक तरफ़ उत्तर पूवी दिल्ली के स्थानीय लोग बताते हैं कि हथियारबंद भीड़ बाहर से आई थी तो दूसरी तरफ़ क्राइम ब्रांच के 90 अफ़सरों की SIT इसकी जांच कर रही है जिसको इसके पीछे स्थानीय अपराधियों की भूमिका लगती है और जिनकी धरपकड़ जारी है

  • दिल्ली : हिंसा के दौरान मकान में आग लगने से दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर है परिवार

    दिल्ली : हिंसा के दौरान मकान में आग लगने से दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर है परिवार

    उत्तर पूर्वी दिल्ली के दंगाग्रस्त इलाकों में हिंसा में किसी की जान गई, किसी का कोई अपना हमेशा के लिए चला गया, किसी का रोजगार छिना तो कोई बेघर हो गया. यहां खौफजदा लोगों की अपनी-अपनी आप बीती है और उन्हीं में से गोकलपुरी का एक  परिवार है जिसके सिर से उस समय छत उठ गई और वह दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर हो गया जब उनकी आवासीय इमारत में भूतल पर बनी कुछ दुकानों में दंगाइयों ने आग लगा दी.

  • दिल्ली हिंसा : कौन है जाफराबाद में पुलिसकर्मी पर पिस्टल तानने वाला शाहरुख

    दिल्ली हिंसा : कौन है जाफराबाद में पुलिसकर्मी पर पिस्टल तानने वाला शाहरुख

    दिल्ली के उत्तर-पूर्व इलाके में हुई हिंसा में दंगों में स्थानीय अपराधियों की बड़ी भूमिका रही है. ऐसे कई लोगों की पहचान भी की जा चुकी है और कई गिरफ्तार भी किये गए हैं. अपराधियों के यहां से अवैध हथियार और कारतूस भी बरामद हो रहे हैं जिनका जमकर इस्तेमाल हुआ. अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 80 से ज्यादा लोग गोली लगने से घायल हुए हैं.

  • 'जब दिल्ली जल रही थी गृहमंत्री कहां थे?' शिवसेना ने 'सामना' के जरिए कहीं ये 7 बड़ी बातें

    'जब दिल्ली जल रही थी गृहमंत्री कहां थे?' शिवसेना ने 'सामना' के जरिए कहीं ये 7 बड़ी बातें

    दिल्ली में हिंसा को लेकर शिवसेना ने मुखपत्र सामना के जरिए केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा है. गौरतलब है कि दिल्ली हिंसा में मरने वालों की तादाद लगातार बढ़ती रही है. अब तक 39 लोगों की जान जा चुकी है और 200 से ज़्यादा घायल हैं. हालात पहले से ज़रूर बेहतर हैं लेकिन तनाव अभी भी बन हुआ है. क्राइम ब्रांच की दो टीमें मिलकर हिंसा की जांच करेगी. एक टीम का ज़िम्मा डीसीपी जॉय तिर्की, तो दूसरी का ज़िम्मा डीसीपी राजेश देव को दिया गया है.  अब तक 48 FIR दर्ज हुई हैं, एक हज़ार CCTV फुटेज की जांच हो रही है.  पुलिस ने अब तक 514 संदिग्धों से पूछताछ की है.   वहीं गृह मंत्रालय ने आज दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाकों में धारा 144 में 10 घंटे की छूट देने की बात की है. गृहमंत्री अमित शाह ने लोगों से शांति की अपील की है और कहा है कि वो अफ़वाहों पर भरोसा न करें.

  • दिल्ली हिंसा: यूपी से लाए गए देसी कट्टों का हुआ इस्तेमाल, वाट्सएप ग्रुप से दंगाइयों को बताई जा रही थी लोकेशन

    दिल्ली हिंसा: यूपी से लाए गए देसी कट्टों का हुआ इस्तेमाल, वाट्सएप ग्रुप से दंगाइयों को बताई जा रही थी लोकेशन

    दिल्ली हिंसा मामले में अब तक हुई जांच में पाया गया है कि दोनों समुदायों में कुछ वाट्सऐप ग्रुप बनाए गए थे. इनमें वीडियो डाल कर लोगों को भड़काया गया और भड़काऊ मैसेज फॉरवर्ड किए गए थे. इसके अलावा पथराव किस इलाके में करना है इसको भी इन ग्रुप के जरिए बताया जा रहा था.

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com