NDTV Khabar

Amit Shah


'Amit Shah' - more than 1000 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • Farmer Protest Update: किसान नेताओं और सरकार के बीच बातचीत बेनतीजा, 3 दिसंबर को होगा वार्ता का अगला दौर

    Farmer Protest Update: किसान नेताओं और सरकार के बीच बातचीत बेनतीजा, 3 दिसंबर को होगा वार्ता का अगला दौर

    Farmer Protest Update: किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए केंद्र सरकार ने उन्हें बिना शर्त बातचीत के लिए आमंत्रण भेजा था, बैठक के लिए दोपहर 3 बजे किसान नेता विज्ञान भवन पहुंचे. इस मीटिंग में 35 किसान नेता पहुंंचे हैं. इस बैठक से पहले किसानों के मुद्दों को लेकर बीजेपी के वरिष्ठ नेता पार्टी अध्य्यक्ष जेपी नड्डा के घर पर मंथन करने के लिए जुटे थे.गौरतलब है कि लाखों किसान दिल्ली की सीमा पर पिछले पांच दिनों से धरने पर हैं. केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ उनका यह धरना आज छठवें दिन में प्रवेश कर गया है. इन कानूनों के बारे में किसानों को आशंका है कि इससे न्यूनतम समर्थन मूल्य समाप्त हो जाएगा. 

  • रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह किसानों के साथ बातचीत की अगुवाई करेंगे: सूत्र- 10 बड़ी बातें

    रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह किसानों के साथ बातचीत की अगुवाई करेंगे: सूत्र- 10 बड़ी बातें

    Farmer Protest: किसान अपनी मांगों को लेकर सड़कों पर डटे हुए हैं. केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों के नेताओं को कोविड-19 महामारी एवं सर्दी का हवाला देते हुये तीन दिसंबर की जगह मंगलवार यानी कि आज बातचीत के लिये आमंत्रित किया है. गौरतलब है कि लाखों किसान दिल्ली की सीमा पर पिछले पांच दिनों से धरने पर हैं. केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ उनका यह धरना आज छठवें दिन में प्रवेश कर गया है. इन कानूनों के बारे में किसानों को आशंका है कि इससे न्यूनतम समर्थन मूल्य समाप्त हो जाएगा. केंद्रीय कृषि मंत्री कोरोना वायरस महामारी और सर्दी को ध्यान में रखते हुये हमने किसान यूनियनों के नेताओं को तीन दिसंबर की बैठक से पहले ही चर्चा के ​लिये आने का न्यौता दिया है.’’ उन्होंने बताया कि अब यह बैठक एक दिसंबर को राष्ट्रीय राजधानी के विज्ञान भवन में दोपहर बाद तीन बजे बुलायी गयी है. उन्होंने बताया कि 13 नवंबर को हुई बैठक में शामिल सभी किसान नेताओं को इस बार भी आमंत्रित किया गया है.

  • केंद्र ने किसानों को मंगलवार को वार्ता के लिए बुलाया, ठंड और कोरोना का दिया हवाला

    केंद्र ने किसानों को मंगलवार को वार्ता के लिए बुलाया, ठंड और कोरोना का दिया हवाला

    केंद्रीय कृष‍ि मंत्री नरेंद्र तोमर ने कोरोना और ठंड का जिक्र करते हुए किसान संगठनों को मंगलवार दोपहर 3 बजे बातचीत के लिए बुलाया है. बता दें कि दिल्ली की दो सीमाओं पर धरने पर बैठे किसानों का समर्थन करने के लिए पंजाब से और भी किसान दिल्ली के लिए निकल पड़े हैं.

  • दिल्ली: आंदोलनकारियों ने मोदी सरकार से कहा, किसानों के मन की बात सुनो

    दिल्ली: आंदोलनकारियों ने मोदी सरकार से कहा, किसानों के मन की बात सुनो

    दिल्ली में सिंधू बार्डर पर जमे आंदोलनकारी किसानों ने केंद्र सरकार से कहा है कि किसानों के मन की बात सुनो. उन्होंने कहा है कि वे सरकार से फोन पर बातचीत नहीं करेंगे.  यह किसी एक राज्य के किसानों का आंदोलन नहीं है. प्रदर्शनकारियों ने कहा कि वे डटे रहेंगे और आगे बढ़ेंगे. आज इन किसानों से दिल्ली के पुलिस कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव ने मुलाकात की.

  • एनडीए के सहयोगी दल ने दी धमकी, कृषि कानून वापस लो, नहीं तो नाता तोड़ लेंगे

    एनडीए के सहयोगी दल ने दी धमकी, कृषि कानून वापस लो, नहीं तो नाता तोड़ लेंगे

    राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (RLP) के संयोजक और सांसद हनुमान बेनीवाल ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखा है. उन्होंने मोदी सरकार से तीनों कृषि कानून वापस लेने की मांग की है. उन्होंने कानून वापस न लेने पर एनडीए छोड़ने की धमकी भी दी है. केंद्र में सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) की घटक राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (RLP) ने केंद्र सरकार से हाल में लागू कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की है. पार्टी ने कहा है कि अगर इस मामले में त्वरित कार्रवाई नहीं की गई तो वह एनडीए का सहयोगी दल बने रहने पर पुनर्विचार करेगी.

  • उम्‍मीद है PM मोदी के आर्थिक उपायों से अगले क्‍वार्टर में सकारात्‍मक रहेगी GDP : अमित शाह

    उम्‍मीद है PM मोदी के आर्थिक उपायों से अगले क्‍वार्टर में सकारात्‍मक रहेगी GDP : अमित शाह

    शाह ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्रभाई ने कोविड-19 महामारी (COVID-19 pandemic) के दौरान के समय का इस्तेमाल नीति तैयार करने के लिए किया है. उन्होंने इसके अर्थव्यवस्था पर दीर्घावधि के प्रभाव का विशेष ध्यान रखा है.’’

  • किसान आंदोलन : दिल्ली ब्लॉक करने की किसानों की धमकी के बाद अमित शाह की बैठक; पढ़ें बड़ी बातें

    किसान आंदोलन : दिल्ली ब्लॉक करने की किसानों की धमकी के बाद अमित शाह की बैठक; पढ़ें बड़ी बातें

    पिछले चार दिनों से दिल्ली कूच करने की कोशिश कर रहे किसान अपने आंदोलन को लेकर अडिग हैं. किसानों के 'दिल्ली चलो' आंदोलन के तहत हजारों की तादाद में किसान दिल्ली की कई सीमाओं पर जमे हुए हैं और दिल्ली में प्रवेश कर रामलीला ग्राउंड पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं, जहां उन्हें केंद्र की मोदी सरकार के किसान कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करना है, लेकिन हरियाणा की सरकार और दिल्ली पुलिस की तरफ से उन्हें रोके जाने की खूब कोशिशें की जा रही हैं. किसानों ने गृहमंत्री अमित शाह की सशर्त बात करने की पेशकश भी ठुकरा दी है, जिसके बाद शाह ने बीजेपी के अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ रविवार देर रात बैठक की है.

  • किसान आंदोलन को लेकर BJP अध्यक्ष नड्डा के घर हुई अहम बैठक, अमित शाह, राजनाथ व तोमर रहे मौजूद : सूत्र

    किसान आंदोलन को लेकर BJP अध्यक्ष नड्डा के घर हुई अहम बैठक, अमित शाह, राजनाथ व तोमर रहे मौजूद : सूत्र

    Farmer's Protest March: सूत्रों के मुताबिक, बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मौजूद थे. इस बैठक में किसान आंदोलन को लेकर चर्चा हुई और सारे हालात की समीक्षा की गई. यह बैठक करीब दो घंटे तक चली.

  • किसानों को सोशल डिस्टेंसिंग का पाठ, अमित शाह खुद कर रहे रोड शो : AAP

    किसानों को सोशल डिस्टेंसिंग का पाठ, अमित शाह खुद कर रहे रोड शो : AAP

    आम आदमी पार्टी (AAP) के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने किसानों के सामने शर्त रखी है कि बुराड़ी आकर बैठिए तो बात करेंगे. दिल्ली में कानून व्यवस्था की कोई भी बात होती है, तो उसके लिए गृह मंत्री जिम्मेदार हैं. लेकिन देश के गृह मंत्री हैदराबाद जाकर निगम चुनाव के लिए प्रचार कर रहे हैं. देश की राजधानी के इतने गम्भीर हालात को छोड़कर वे हैदराबाद में चुनाव प्रचार कर रहे हैं. 

  • किसान आंदोलन : अमित शाह पर जमकर बरसे 'आप' के सांसद संजय सिंह

    किसान आंदोलन : अमित शाह पर जमकर बरसे 'आप' के सांसद संजय सिंह

    आम आदमी पार्टी (AAP) के वरिष्ठ नेता संजय सिंह (Sanjay Singh) आज किसानों की समस्याएं और उनके आंदोलन को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) पर जमकर बरसे. उन्होंने कहा कि किसान जहां भी आंदोलन (Farmers Movement) करना चाहते हैं, वहां उन्हें जगह देनी चाहिए. उन्होंने कहा कि कोरोना का बहाना मत बनाइए. आपके लिए दिल्ली में कोरोना है, लेकिन हैदराबाद में आप जुलूस निकाल रहे हैं. जब देश की राजधानी की सीमा पर लाखों किसान इकट्ठे हों, ऐसे समय मे कैसे कोई गृह मंत्री निगम के चुनाव प्रचार में हैदराबाद जा सकता है? उन्होंने कहा कि आज एक किसान की मौत भी हो गई. ऐसा असंवेदनशील और किसानों की समस्याओ से बेपरवाह गृह मंत्री इस देश ने पहली बार देखा है. 

  • किसानों ने क्यों ठुकराई केंद्र से वार्ता की पेशकश, जानिए 10 बड़ी बातें

    किसानों ने क्यों ठुकराई केंद्र से वार्ता की पेशकश, जानिए 10 बड़ी बातें

    Farmers Protest March: कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलित किसान संगठनों ने शर्तों के साथ बातचीत की केंद्र सरकार की पेशकश ठुकरा दी है. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की ओर से वार्ता का न्योता दिया गया था, जिसमें 3 दिसंबर से पहले बातचीत के लिए किसानों को दिल्ली-हरियाणा के बॉर्डर से हटकर बुराड़ी के निरंकारी ग्राउंड जाने को कहा गया था. इसको लेकर किसान संगठनों ने रविवार सुबह बैठक की. बैठक के बाद किसान नेताओं ने कहा कि सरकार को बिना किसी शर्त के खुले दिल से बातचीत का आमंत्रण देना चाहिए. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी रविवार को मन की बात कार्यक्रम में कृषि कानूनों का समर्थन किया था. उन्होंने कहा था कि इन कानूनों ने किसानों के लिए संभावनाओं और अवसरों के लिए नए द्वार खोल दिए हैं.

  • हैदराबाद निकाय चुनाव क्यों है बीजेपी के लिए इतना खास? क्यों उतार रही दिग्गजों की फौज? 

    हैदराबाद निकाय चुनाव क्यों है बीजेपी के लिए इतना खास? क्यों उतार रही दिग्गजों की फौज? 

    GHMC Polls 2020: ग्रेटर हैदराबाद की 10 विधानसभा सीटों में से 7 पर 50% से ज्यादा आबादी मुसलमानों की है. इन पर  AIMIM का कब्जा है. उधर, हालिया दुब्बका उपचुनाव में टीआरएस को हराकर जीत दर्ज करने वाली बीजेपी GHMC चुनाव में जीत दर्ज कर दक्षिण में स्थानीय स्तर पर संगठन का विस्तार करना चाहती है.

  • हैदराबाद पहुंचे अमित शाह ने KCR और ओवैसी पर साधा निशाना, पूछा- क्यों करते हैं गुप्त समझौते?

    हैदराबाद पहुंचे अमित शाह ने KCR और ओवैसी पर साधा निशाना, पूछा- क्यों करते हैं गुप्त समझौते?

    ओवैसी की पार्टी और टीआरएस के बीच गुप्त समझौते की बात करते हुए शाह प्रेस कॉन्फ्रेंस में मुख्यमंत्री राव से सवाल पूछा कि मजलिस (AIMIM) के साथ आप जो समझौता करते हो, उससे हमें कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन गुपचुप समझौता क्यों करते हैं? खुलकर साथ जाना चाहिए. दोनों नेताओं को इसका जवाब देना चाहिए. 

  • किसान आंदोलन पर बोले सत्येंद्र जैन- कोई खुशी से दिल्ली नहीं आया, सबको आवाज रखने का हक

    किसान आंदोलन पर बोले सत्येंद्र जैन- कोई खुशी से दिल्ली नहीं आया, सबको आवाज रखने का हक

    दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendra Jain) ने किसान आंदोलन (Farmers Protest) का समर्थन किया है. आंदोलन पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) के बयान पर जैन ने कहा, 'इसमें कोई कंडीशन थोड़ी लगनी चाहिए कि कब बात करेगी सरकार. बात तुरंत करनी चाहिए. कंडीशन वाली बात थोड़ी है. हमारे देश के किसान हैं, हमारे अन्नदाता हैं, उनसे तुरंत बात करनी चाहिए और जहां वो चाहें उन्हें बैठने देना चाहिए.'

  • कृषि कानून के विरोध में डटे किसानों ने खारिज किया गृह मंत्री अमित शाह का प्रस्ताव, बोले कोई शर्त मंजूर नहीं

    कृषि कानून के विरोध में डटे किसानों ने खारिज किया गृह मंत्री अमित शाह का प्रस्ताव, बोले कोई शर्त मंजूर नहीं

    Farmers Protest Delhi :अमित शाह (Amit Shah) ने एक वीडियो जारी कर आंदोलित किसानों को 3 दिसंबर को बातचीत का न्योता दिया था. शाह ने कहा था कि अगर किसान उससे पहले वार्ता करना चाहते हैं तो उन्हें दिल्ली-हरियाणा सीमा पर मोर्चेबंदी छोड़कर बुराड़ी के निरंकारी ग्राउंड पर जाना होगा.

  • अमित शाह के हैदराबाद दौरे से पहले बोले तेलंगाना के CM, विभाजनकारी ताकतें तबाही मचाने में जुटीं 

    अमित शाह के हैदराबाद दौरे से पहले बोले तेलंगाना के CM, विभाजनकारी ताकतें तबाही मचाने में जुटीं 

    मुख्यमंत्री की "विभाजकारी ताकतों" वाली टिप्पणी ऐसे समय आई है जब कुछ देर बाद गृह मंत्री अमित शाह चुनाव संबंधी कार्यक्रमों के लिए हैदराबाद पहुंचने वाले हैं. राव ने हैदराबाद के लाल बहादुर शास्त्री स्टेडियम में अपनी पार्टी तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) का प्रचार करते हुए यह बात कही. ग्रेटर हैदराबाद नगर निकाय चुनाव (GHMC) में मतदान 1 दिसंबर को होना है. 

  • 'केंद्र को शर्तों संग नहीं, खुले दिल से आगे आना चाहिए', कृषि कानून के विरोध में किसान नेता

    'केंद्र को शर्तों संग नहीं, खुले दिल से आगे आना चाहिए', कृषि कानून के विरोध में किसान नेता

    केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने शनिवार को किसानों से अपील की है कि वह बुराड़ी स्थित निरंकारी मैदान जाकर एकत्रित हों. अगर किसान वहां जाते हैं तो सरकार 3 दिसंबर से पहले भी उनसे बातचीत के लिए तैयार है. किसानों की हर समस्या और मांग पर विचार करने के लिए सरकार तैयार है. गृह मंत्री के इस बयान के बाद किसान नेताओं ने कहा कि सरकार को खुले दिल से किसानों के लिए आगे आना चाहिए न कि शर्तों के साथ.

  • गृह मंत्री के न्योते के बाद किसान संगठनों ने बैठक बुलाई, अगले कदम पर कर सकते हैं फैसला

    गृह मंत्री के न्योते के बाद किसान संगठनों ने बैठक बुलाई, अगले कदम पर कर सकते हैं फैसला

    केंद्र सरकार के कृषि कानूनों (Farm Laws) का विरोध कर रहे किसान अभी भी दिल्ली (Delhi) की सीमाओं के आसपास अब भी बड़ी संख्या में मौजूद हैं. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) के वार्ता के न्योते के बाद किसान संगठन (Farmers Union) महत्वपूर्ण बैठक करने वाले हैं, जिसमें अगले कदम का फैसला होगा. हालांकि ज्यादातर किसान संगठन विरोध प्रदर्शन के लिए बुराड़ी मैदान जाने को तैयार नहीं है. पंजाब किसान यूनियन के अध्यक्ष रुल्दू सिंह ने कहा कि जब विरोध प्रदर्शन का स्थान रामलीला मैदान तय हैं तो बुराड़ी क्यों जाएं. सिंह ने कहा कि तीनों कृषि कानूनों के अलावा किसान बिजली संशोधन बिल 2020 को भी वापस लेने की मांग करेंगे. अगर सरकार कृषि कानूनों को वापस नहीं लेती है तो उसे एमएसपी पर गारंटी का कानून लाना होगा.

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com