NDTV Khabar

Congress News


'Congress News' - more than 1000 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • राजस्थान कांग्रेस के लिए बड़ा दिन, MLA बैठक के बीच BSP MLAs की याचिका पर कोर्ट में सुनवाई - 10 बड़ी बातें

    राजस्थान कांग्रेस के लिए बड़ा दिन, MLA बैठक के बीच BSP MLAs की याचिका पर कोर्ट में सुनवाई - 10 बड़ी बातें

    राजस्थान कांग्रेस (Rajasthan Congress) के लिए गुरुवार का दिन काफी बड़ा है. महीने भर चली सियासी उठापटक के बाद मामला शांत हो गया है और शुक्रवार को कांग्रेस-बीजेपी दोनों विधायकों की बैठक कर रहे हैं. शुक्रवार से राजस्थान विधानसभा सत्र की शुरुआत हो रही है, ऐसे में अशोक गहलोत को विश्वास मत पेश करना पड़ सकता है. इसके अलावा गहलोत की चिंता में सुप्रीम कोर्ट और राजस्थान हाईकोर्ट में आज होने वाली एक सुनवाई भी शामिल होगी. सुप्रीम कोर्ट और राजस्थान हाईकोर्ट में आज कांग्रेस में बीएसपी विधायकों के विलय पर (BSP MLAs merger in congress) सुनवाई होनी है. इस मामले इस विलय को अवैध घोषित किए जाने की मांग वाली याचिका डाली गई है. अगर आज फैसला आता है और गहलोत को अपने समर्थन के छह विधायकों से हाथ धोना पड़ सकता है.

  • कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी का निधन, प्रियंका गांधी वाड्रा ने बताया पार्टी का 'समर्पित योद्धा'

    कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी का निधन, प्रियंका गांधी वाड्रा ने बताया पार्टी का 'समर्पित योद्धा'

    राजीव त्‍यागी की तबीयत अचानक खराब हो गई थी. त्‍यागी के निधन की जानकारी कांग्रेस की ओर से एक ट्वीट करके दी. इसमें कहा गया, 'राजीव त्यागी के आकस्मिक निधन से हमें गहरा दुख हुआ है. एक पक्‍के कांग्रेस और देशभक्‍त... दुख की इस घड़ी में हमारे विचार और प्रार्थनाएं उनके परिवार के साथ हैं.'

  • जैसलमेर से जयपुर लौटते कांग्रेस MLAs ने बस में जमकर गाए गीत - देखें VIDEO

    जैसलमेर से जयपुर लौटते कांग्रेस MLAs ने बस में जमकर गाए गीत - देखें VIDEO

    जैसलमेर के होटल सूर्यागढ़ में ठहरे कांग्रेस के विधायक बुधवार को जयपुर लौट रहे हैं. इन विधायकों का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें वो बस में गाने गाते नजर आ रहे हैं. ये विधायक बस से जैसलमेर एयरपोर्ट जा रहे थे, जहां से उन्हें जयपुर के लिए फ्लाइट लेनी थी. 

  • सचिन पायलट की 'घर वापसी' पर बोले अशोक गहलोत- विधायकों की नाराजगी स्वाभाविक है

    सचिन पायलट की 'घर वापसी' पर बोले अशोक गहलोत- विधायकों की नाराजगी स्वाभाविक है

    राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सचिन पायलट व अन्य बागी विधायकों की वापसी को लेकर कांग्रेस विधायकों में नाराजगी की ओर इशारा करते हुए बुधवार को कहा कि 'उनकी नाराजगी स्वाभाविक है, लेकिन मैने इन विधायकों को समझाया है. उन्होंने उम्मीद जताई कि अब सब मिलकर राज्य के विकास के लिए काम करेंगे.'

  • NDTV से सचिन पायलट: मैं हमेशा अशोक गहलोत का सम्मान करता रहा हूं, उनसे मुस्करा के मिलूंगा

    NDTV से सचिन पायलट: मैं हमेशा अशोक गहलोत का सम्मान करता रहा हूं, उनसे मुस्करा के मिलूंगा

    राजस्थान (Rajasthan) के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने सचिन पायलट (Sachin Pilot) को निकम्मा और नकारा कहा था. इस पर सचिन पायलट का कहना है कि ''मुझे तकलीफ है कि मुझे निक्कमा, नकारा कहा गया. मैं काफ़ी आहत था. एक व्यक्ति के तौर पर मुझे बहुत दुख हुआ. पर मेरी परवरिश में मुझे हमेशा बड़ों का सम्मान करना सिखाया गया और मैं सम्मान करता रहूंगा. गहलोत जी मुझसे बहुत बड़े हैं.''  सचिन पायलट ने मंगलवार को NDTV से खास बातचीत में एक सवाल के जवाब में यह बात कही. 

  • जयपुर पहुंचे सचिन पायलट, कहा - पार्टी के भीतर अपनी बातों को उठाना विद्रोह नहीं, कोई मांग नहीं की

    जयपुर पहुंचे सचिन पायलट, कहा - पार्टी के भीतर अपनी बातों को उठाना विद्रोह नहीं, कोई मांग नहीं की

    जयपुर पहुंचे सचिन पायलट ने आज कहा कि पार्टी के भीतर अपनी बातों को उठाना विद्रोह नहीं, कोई मांग नहीं की. सचिन पायलट (Sachin Pilot) ने कहा कि मेरे बारे में जो शब्दावली का इस्तेमाल किया गया उसे सुनकर मुझे दुख भी हुआ और तक़लीफ़ भी हुई. राजनीति में शालीनता ज़रूरी है. ख़ून का घंट पीना पड़ता है.  पर इसका मतलब ये नहीं कि हम इंसान नहीं हैं. पायलट ने कहा कि कल हमारी कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल और प्रियंका जी से मुलाक़ात हुई थी. चर्चा निर्णायक और सार्थक रही. पुलिस के केस, निलंबन, कोर्ट कचहरी हुई जो मुझे लगा सकारात्मक नहीं है. हमने पहले दिन जाकर बोला था कि हम अपनी बात पार्टी के सामने रखना चाहते हैं. हमने या हमारे विधायकों ने पार्टी और पार्टी आलाकमान के ख़िलाफ़ कुछ नहीं कहा. 

  • महीनेभर बाद राजस्थान लौट रहे हैं पायलट, 'आसान घर वापसी' से नाराज गहलोत गए जैसलमेर

    महीनेभर बाद राजस्थान लौट रहे हैं पायलट, 'आसान घर वापसी' से नाराज गहलोत गए जैसलमेर

    ठीक महीने भर बाद प्रदेश लौट रहे पायलट के साथ बहुत बड़ा बदलाव हो चुका है. अब न तो वो डिप्टी सीएम हैं, न ही उनके पास राजस्थान कांग्रेस के चीफ का पद है. वहीं इस समझौते से अशोक गहलोत बहुत खुश नहीं हैं.

  • क्या नंबर न होने की वजह से BJP ने आपको डंप किया - NDTV के सवाल पर सचिन पायलट ने दिया यह जवाब

    क्या नंबर न होने की वजह से BJP ने आपको डंप किया - NDTV के सवाल पर सचिन पायलट ने दिया यह जवाब

    अपनी वापसी के सवाल पर उन्होंने कहा कि पिछले 6.5 साल से पार्टी के अध्यक्ष पद पर रहकर काम करने का मौका मिला. इस दौरान हमनें बहुत मेहनत करके पार्टी को एक मुकाम दिलाया. पायलट ने कहा कि सरकार बनाने में जिन लोगों का योगदान रहा है उनके मान सम्मान को लेकर मैंने पार्टी आलाकमान के सामने कुछ बात रखीं. उन्होंने एक स्पेस की मांग करते हुए हमने जो वादे किए थे, उसे कैसे पूरा किया जाए इस पर चर्चा हुआ है, उन्होंने बताया कि मुझे खुशी है कि मेरी बातों का आलाकमान ने संज्ञान लिया है और इसके निराकरण के लिए रोडमैप तैयार किया है, मुझे विश्वास है कि इसका समाधान जल्द ही होगा.

  • कांग्रेस को बड़ा झटका, एक साथ 6 विधायकों ने दिया इस्तीफा

    कांग्रेस को बड़ा झटका, एक साथ 6 विधायकों ने दिया इस्तीफा

    मणिपुर जहां सोमवार को सीएम एन बीरेन सिंह की अगुवाई में चल रही बीजेपी सरकार को खतरा दिख रहा था. वहीं एक बड़े उलटफेर में विपक्षी दल कांग्रेस ने आज एक साथ अपने 6 विधायक गवां दिए हैं.. ये 6 विधायक उन्हीं 8 में से हैं जो सोमवार को हुए विश्वास मत के दौरान पार्टी के व्हिप का उल्लंघन कर सदन से नदारद रहे हैं. इन सभी 6 विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष को अपना इस्तीफा सौंप दिया है.

  • राजस्थान : सचिन पायलट की वापसी के बाद कांग्रेस के लिए फिर बड़ी मुश्किल!

    राजस्थान : सचिन पायलट की वापसी के बाद कांग्रेस के लिए फिर बड़ी मुश्किल!

    दिल्ली में सचिन पायलट की राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से मुलाकात के बाद उनकी कांग्रेस से नाराजगी दूर हो गई है. पार्टी उनकी बगावत को शांत कर राहत की सांस ले पाती कि इससे पहले राजस्थान से एक और खबर आ गई है. अब अशोक गहलोत के खेमे के विधायक जो इस समय जैसलमेर के होटल में हैं, इस नए घटनाक्रम से नाराज हो गए हैं. दरअसल रविवार को हुई कांग्रेस विधायकों की बैठक में सीएम अशोक गहलोत के करीबी और कैबिनेट मंत्री ने कहा था कि अब बागी विधायकों की वापसी वे नहीं चाहते हैं.

  • सचिन पायलट ने कहा, 'मुद्दे वैचारिक थे और उन्हें उठाना जरूरी था'

    सचिन पायलट ने कहा, 'मुद्दे वैचारिक थे और उन्हें उठाना जरूरी था'

    सचिन पायलट (Sachin Pilot) ने कहा है कि 'मुद्दे वैचारिक थे और उन्हें उठाना जरूरी था.' राजस्थान (Rajasthan) में सचिन पायलट की बगावत और राज्य सरकार पर मंडराते संकट के बादल छंटने लगे हैं. आज राहुल गांधी (Rahul Gandhi) से मुलाकात के बाद सचिन पायलट बगावत का रास्ता त्यागकर सुलह के रास्ते पर चल पड़े हैं.

  • राजस्थान में सचिन पायलट की 'घर वापसी' के पीछे पूर्व सीएम वसुंधरा राजे फैक्टर

    राजस्थान में सचिन पायलट की 'घर वापसी' के पीछे पूर्व सीएम वसुंधरा राजे फैक्टर

    Rajasthan Crisis: कांग्रेस (Congress) में सचिन पायलट (Sachin Pilot) के विद्रोह और इससे उपजे संकट के हालात एक महीने तक बने रहे. इसके पीछे राजस्थान में भाजपा (BJP) की वास्तविकता और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया (Vasundhara Raje Scindia) की अहम भूमिका थी. राजस्थान विधानसभा में शक्ति परीक्षण की संभावना से ठीक चार दिन पहले सचिन पायलट की राहुल गांधी के साथ मुलाकात ने सुलह के लिए मंच तैयार कर दिया.

  • राजस्थान : क्या सचिन पायलट कांग्रेस की वो शर्त मान गए, इसलिए मिले राहुल-प्रियंका से

    राजस्थान :  क्या सचिन पायलट कांग्रेस की वो शर्त मान गए, इसलिए मिले राहुल-प्रियंका से

    राजस्थान में जहां एक ओर सीएम अशोक गहलोत जैसलमेर में कांग्रेस विधायकों को लड़ाई जीतने का आवश्वासन दे रहे हैं तो दूसरी ओर सचिन पायलट ने कांग्रेस नेता राहुल और प्रियंका गांधी से मुलाकात की है. दिल्ली में हुई इस मुलाकात अपने आप में दिलचस्प है क्योंकि इससे पार्टी आलाकमान की ओर से उनको मनाने के लिए कई बार कोशिशें हुई लेकिन सचिन पायलट अशोक गहलोत को राजस्थान के सीएम पद से हटाने से कम की शर्त पर किसी तरह पीछे नहीं हटना चाहते थे. हालांकि सचिन पायलट ने साथ में ये भी ऐलान किया कि वह बीजेपी में नहीं शामिल हो रहे हैं.

  • गहलोत के लिए मुसीबत : BSP MLAs के कांग्रेस में विलय के खिलाफ अर्ज़ी पर सुनवाई करेगा SC

    गहलोत के लिए मुसीबत : BSP MLAs के कांग्रेस में विलय के खिलाफ अर्ज़ी पर सुनवाई करेगा SC

    राजस्थान (Rajasthan) में बहुजन समाज पार्टी (BSP) के टिकट पर जीते और कांग्रेस (Congress) में विलय कर चुके 6 विधायकों को लेकर दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) सुनवाई करेगा. जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस बीआर गवई और जस्टिस कृष्णा मुरारी की बेंच इस मामले की सुनवाई करेगी. विधायकों ने उनके कांग्रेस में जाने के याचिका पर फैसला आने तक उन्हें सदन में भाग ना लेने का आदेश देने की मांग की है.

  • राजस्थान : अंतिम दौर की लड़ाई, विधायकों के बीच सेनापति की तरह बोले CM अशोक गहलोत

    राजस्थान : अंतिम दौर की लड़ाई,  विधायकों के बीच सेनापति की तरह बोले CM अशोक गहलोत

    सूत्रों के हवाले से खबर मिल रही है कि सचिन पायलट और बागी विधायक में कुछ लोग गांधी परिवार से मिलने की योजना बना रहे हैं और कहा जा रहा है कि इस मुलाकात में कड़वाहट मिटने की कोशिश की जाएगी. हालांकि इस बात से सचिन पायलट का खेमा मुकर रहा है और साफ कहना है कि उनका मुख्य लक्ष्य अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री के पद से हटाना है.  उधर राजस्थान में सरकार बचाने की कोशिश में जुटे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की लड़ाई अब अंतिम पड़ाव की ओर पहुंच गई है. 14 अगस्त को विधानसभा सत्र बुलाया गया है जहां विश्वास मत की तैयारी है. लेकिन इससे पहले विधायकों को तोड़ने की आशंका भी जताई जा रही है.

  • राजस्थान: गहलोत खेमे की महिला विधायकों ने मेहंदी के साथ मनाया कजरी तीज का त्योहार, देखें Photos

    राजस्थान: गहलोत खेमे की महिला विधायकों ने मेहंदी के साथ मनाया कजरी तीज का त्योहार, देखें Photos

    मुख्य रूप से विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए कजरी तीज का व्रत रखती हैं. इस दौरान कई महिलाएं निर्जल रहकर उपवास करती हैं. वहीं कुंवारी लड़कियां अच्छा पति प्राप्त करने की कामना के साथ इस व्रत को रखती हैं.

  • जो नारा प्रियंका गांधी ने लगाया, उसे अयोध्या में PM मोदी ने भी दोहराया! बड़े बदलाव के हैं संकेत?

    जो नारा प्रियंका गांधी ने लगाया, उसे अयोध्या में PM मोदी ने भी दोहराया! बड़े बदलाव के हैं संकेत?

    अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन के साथ ही इस बात के भी संकेत मिल रहे हैं कि देश में अब कुछ राजनीतिक पार्टियों को छोड़ दिया जाए तो कांग्रेस सहित, सपा, बीएसपी राम नाम का जप जपने में पीछे नहीं दिखना चाहती हैं. सबसे बड़ी बात कांग्रेस भी इस अब राम के नाम पर चूकना नहीं चाहती है. राम मंदिर आंदोलन ने जहां बीजेपी को सबसे बड़ा दल बनाया तो कांग्रेस दूसरी ओर रसातल में जाती दिखाई दी. दरअसल इसके पीछे कांग्रेस का कन्फ्यूजन भी बड़ी वजह थी. लेकिन यहां एक बार और ध्यान देने की है कि जब अयोध्या में साल 1986 में उस समय मंदिर का ताला खोला गया तो केंद्र में राजीव गांधी की अगुवाई में कांग्रेस की ही सरकार थी. इसके बाद 6 दिसंबर 1992 की घटना के समय भी केंद्र में पीवी नरसिम्हाराव की अगुवाई में कांग्रेस की सरकार थी. लेकिन इन दो घटनाओं के बीच कांग्रेस हमेशा दोराहे पर खड़ी नजर आई. इसका नतीजा ये हुआ है कि बीजेपी के अलावा उत्तर प्रदेश में सपा और बीएसपी जैसी पार्टियों का उभार हुआ और कांग्रेस पूरी तरह से साफ हो गई.

  • अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन पर बोले असदुद्दीन ओवैसी - बाबरी मस्जिद थी, है, और रहेगी

    अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन पर बोले असदुद्दीन ओवैसी - बाबरी मस्जिद थी, है, और रहेगी

    अयोध्या में बुधवार को हो रहे भूमि पूजन के अवसर पर लोकसभा सांसद और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख असदुद्दीन औवेसी ने बाबरी मस्जिद को याद किया है. उन्होंने एक ट्वीट में लिखा कि 'बाबरी मस्जिद थी, है और रहेगी.'

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com