NDTV Khabar

File Income Tax


'File Income Tax' - 71 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 31 दिसंबर तक 4.84 करोड़ से अधिक आईटीआर दाखिल

    वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 31 दिसंबर तक 4.84 करोड़ से अधिक आईटीआर दाखिल

    आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि वित्त वर्ष 2019-20 के लिए व्यक्तिगत आयकर रिटर्न दाखिल करने में कमी आई है, जबकि व्यवसायों तथा ट्रस्ट के रिटर्न बढ़े हैं. कुल 2.65 करोड़ आईटीआर-1 31 दिसंबर 2020 तक दाखिल हुए, जबकि इससे पिछले साल 31 अगस्त 2019 तक यह आंकड़ा 3.09 करोड़ था.

  • अगर आपकी इनकम टैक्सेबल नहीं है तो क्या आपको भरना चाहिए ITR? क्या हैं इसके फायदे?

    अगर आपकी इनकम टैक्सेबल नहीं है तो क्या आपको भरना चाहिए ITR? क्या हैं इसके फायदे?

    इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने में बस एक दिन का समय बचा है, ऐसे में अगर आप रिटर्न फाइल नहीं कर रहे हैं क्योंकि आपकी आय टैक्सेबल नहीं है तो एक बार इसके फायदे जरूर पढ़ लें.

  • अब भी नहीं भरा ITR तो देना होगा इतना जुर्माना, मिनटों में खुद ऐसे फाइल करें अपना इनकम टैक्स रिटर्न

    अब भी नहीं भरा ITR तो देना होगा इतना जुर्माना, मिनटों में खुद ऐसे फाइल करें अपना इनकम टैक्स रिटर्न

    ITR फाइल करने के लिए आपके पास आज और कल का दिन है, ऐसे में अगर आपने वक्त रहते आईटीआर फाइल नहीं किया तो आपको जुर्माना देना पड़ सकता है. ऐसे में आपके पास मिनटों में आईटीआर फाइल करने का विकल्प है, तो जानिए कैसे खुद ऑनलाइन फाइल कर सकते हैं आईटीआर.

  • वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 28 दिसंबर तक 4.37 करोड़ आईटीआर दाखिल हुए

    वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 28 दिसंबर तक 4.37 करोड़ आईटीआर दाखिल हुए

    व्यक्तिगत आयकर रिटर्न (आईटीआर) दाखिल करने की अंतिम तारीख 31 दिसंबर 2020 है और विभाग ने एकदम अंतिम समय का इंतजार किए बिना रिटर्न दाखिल करने के लिए कहा है, ताकि किसी परेशानी से बचा जा सके. 

  • चार दिन में 30 लाख से ज्यादा ITR फाइल, आयकर रिटर्न दाखिल करने वालों की तादाद तेजी से बढ़ी

    चार दिन में 30 लाख से ज्यादा ITR फाइल, आयकर रिटर्न दाखिल करने वालों की तादाद तेजी से बढ़ी

    आयकर रिटर्न जमा कराने की अंतिम तारीख 31 दिसंबर 2020 है, हालांकि जिन करदाताओं के खातों की ऑडिट की जरूरत है, वे 31 जनवरी 2021 तक रिटर्न जमा करा सकते हैं.

  • ITR भरने की आखिरी तारीख 31 दिसंबर, खुद से रिटर्न फाइल कर रहे हैं तो इन बातों का रखें खयाल

    ITR भरने की आखिरी तारीख 31 दिसंबर, खुद से रिटर्न फाइल कर रहे हैं तो इन बातों का रखें खयाल

    खुद से आप ई-फाइलिंग के जरिए अपना रिटर्न फाइल कर सकते हैं, बस आपको कुछ बातों का ध्यान रखना पड़ेगा, ताकि आप अपने फॉर्म में कुछ गलतियां न करें या फिर आपका फॉर्म अमान्य न घोषित हो जाए.

  • 31 दिसंबर तक ITR कर सकते हैं फाइल, 24 दिसंबर तक 3.97 करोड़ लोगों ने दाखिल किया

    31 दिसंबर तक ITR कर सकते हैं फाइल, 24 दिसंबर तक 3.97 करोड़ लोगों ने दाखिल किया

    विभाग ने कहा है कि 2.27 करोड़ करदाताओं ने आईटीआर-1 भरे हैं वहीं 85.20 लाख ने आईटीआर- 4, 46.78 लाख ने आईटीआर-3 और 28.74 ने आईटीआपर-2 भरे हैं. व्यक्तिगत करदाताओं के लिये वर्ष 2019- 20 रिटर्न आकलन वर्ष 2020- 21 में 31 दिसंबर 2020 तक का समय है.

  • कंपनी बदली है तो ITR फॉर्म में इन बातों का रखें खास ध्यान, 30 नवंबर आखिरी तारीख

    कंपनी बदली है तो ITR फॉर्म में इन बातों का रखें खास ध्यान, 30 नवंबर आखिरी तारीख

    Income Tax Return Filing : आकलन वर्ष (AY 2021) आयकर रिटर्न (ITR) भरने की अंतिम तारीख (30 नवंबर) नजदीक आ रही है. अक्सर वेतनभोगी कर्मचारी वित्तीय वर्ष के बीच में नौकरी बदलते हैं तो आयकर रिटर्न (आईटीआर) नहीं भरते हैं, लेकिन यह गलत है.

  • Income Tax Return : कोरोना काल में नौकरी छूट गई है तो भी आयकर रिटर्न भरना न भूलें, जानिए क्या हैं शर्तें

    Income Tax Return : कोरोना काल में नौकरी छूट गई है तो भी आयकर रिटर्न भरना न भूलें, जानिए क्या हैं शर्तें

    Income Tax Return Last Date : कोविड-19 (Covid-19 ) के दौर में लाखों लोग बेरोजगार हो गएया फिर आय कम हो गई. ऐसे में मन में आता है कि आयकर रिटर्न (ITR) भरना भी है कि नहीं. आयकर विशेषज्ञों का कहना है कि हम रिटर्न भरने की अनिवार्यता से बच नहीं सकते हैं

  • करदाताओं राहत : कोरोना के चलते बढ़ी ITR फाइल करने की तारीख

    करदाताओं राहत : कोरोना के चलते बढ़ी ITR फाइल करने की तारीख

    देश में कोरोना (Coronavirus) संकट के मद्देनजर करदाताओं को बड़ी राहत मिली है. केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) दाखिल करने की अंतिम तिथि बढ़ा दी है. आयकर विभाग की ओर से इसकी जानकारी दी गई है. विभाग ने कहा है कि कोरोना संकट को देखते हुए करदाताओं के लिए टैक्स भरने की अंतिम तिथि 31 जुलाई से बढ़ाकर 30 सितंबर की जा रही है.

  • मोटा लेन-देन करके नहीं भरा है ITR तो हो जाइए सावधान! इनकम टैक्स विभाग का ये है प्लान

    मोटा लेन-देन करके नहीं भरा है ITR तो हो जाइए सावधान! इनकम टैक्स विभाग का ये है प्लान

    आयकर विभाग सोमवार से एक ई-कैंपेन शुरू कर रहा है, जिसके तहत वो ऐसे लोगों को खुद सीधा कॉन्टैक्ट करेगा, जिन्होंने या तो मोटा लेन-देन करके इनकम टैक्स रिटर्न नहीं फाइल किया है फिर उनके रिटर्न में दिए गए किसी डिटेल में कोई गड़बड़ी या कमी रह गई है. 

  • सरकार ने ITR दाखिल करने की अंतिम तिथि बढ़ाई, यह होगी आखिरी तारीख

    सरकार ने ITR दाखिल करने की अंतिम तिथि बढ़ाई, यह होगी आखिरी तारीख

    सरकार ने वित्त वर्ष 2018-19 का आयकर विवरण (Income Tax Return) दाखिल करने की समयसीमा एक माह और बढ़ाकर 31 जुलाई 2020 की. 

  • Coronavirus: इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने सरकार को चेताया, 31 मार्च की समयसीमा बढ़ाने की मांग

    Coronavirus: इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने सरकार को चेताया, 31 मार्च की समयसीमा बढ़ाने की मांग

    आयकर विभाग के कर्मचारियों के दो प्रमुख संघों ने केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) को 31 मार्च की समयसीमा को लेकर चेताया है. इन संघों ने कहा है कि अगर सीबीडीटी समय सीमा नहीं बढ़ाता है तो यह आयकर विभाग के कर्मचारियों के स्वास्थ्य के साथ ‘‘भयंकर भूल’’ होगी. वहीं भारतीय राजस्व सेवा अधिकारियों के संगठन ने कहा है कि बोर्ड इस मामले को सक्रियता के साथ सरकार के समक्ष रख रहा है.

  • क्या 2019 में मिली शानदार जीत का तोहफा जनता को भी बजट में देगी मोदी सरकार?

    क्या 2019 में मिली शानदार जीत का तोहफा जनता को भी बजट में देगी मोदी सरकार?

    1 फरवरी को निर्मला सीतारमण बजट पेश करेंगी. लेकिन अर्थव्यवस्था के हालात बुरे हैं. उद्योग जगत गिरावट का सामना कर रहा है- खास कर ऑटो उद्योग. क्या बजट अर्थव्यवस्था को रफ्तार दे सकता है? जब बजट की तैयारी चल रही है, तब उसी वक़्त दिसंबर की तिमाही के मायूस करने वाले नतीजे आ रहे हैं. अब तक जिन 29 कंपनियों ने नतीजे घोषित किए हैं- उनमें 22 छोटी कंपनियां हैं- वहां आय बढ़ोतरी महज 7% रही है, बीते साल ये 8% थी. और शुद्ध मुनाफ़ा 1.3% घटा है. दिसंबर की तिमाही का हाल सितंबर की तिमाही जैसा ही लग रहा है जब कॉरपोरेट कमाई 14 तिमाहियों में पहली बार निगेटिव ग्रोथ दिखा रही थी. ये सब ऐसे समय हो रहा है जब उपभोक्ता महंगाई दर 5 साल में सबसे ज़्यादा है और विकास दर साढ़े छह साल में सबसे नीचे 4.5% है. सरकार निवेश बढ़ाने की बात कर रही है, लेकिन बजट अनुमानों तक पहुंचने के लिए टैक्स संग्रह बढ़ाना होगा. फिर सरकार के सामने दोहरी चुनौती है- बढ़ती महंगाई दर की और घटती विकास दर की.

  • सरकार ने आयकर रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि बढ़ाई, अब यह होगी आखिरी तारीख

    सरकार ने आयकर रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि बढ़ाई, अब यह होगी आखिरी तारीख

    वित्त मंत्रालय ने इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की तारीख को आगे बढ़ा दिया है. अब करदाता 31 अगस्त 2019 तक अपने रिटर्न फाइल कर सकेंगे. पहले यह तारीख 31 जुलाई थी. 1 महीने का समय मिल जाने से लोगों को अपना आईटीआर भरने में एक महीने का अतिरिक्त समय मिल गया है. यह फैसला केंद्र सरकार और सीबीडीटी यानी केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड द्वारा लिया गया है.

  • इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) कैसे फाइल करें - स्टेप बाई स्टेप गाइड

    इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) कैसे फाइल करें - स्टेप बाई स्टेप गाइड

    इनकम टैक्स रिटर्न, यानी आयकर रिटर्न (Income Tax Return) दाखिल करने, यानी फाइल करने के लिए अब कुछ ही दिन बचे हैं. वित्तवर्ष 2018-19 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने की आखिरी तारीख 31 अगस्त है. समय रहते इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने से सबसे बड़ा लाभ यह होता है कि अंतिम दिनों में जल्दबाज़ी में रिटर्न फाइल करते समय हो सकने वाली गड़बड़ियों और गलतियों की गुंजाइश खत्म हो जाती है. इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने का सबसे आसान तरीका है, ई-फाइलिंग, यानी इनकम टैक्स रिटर्न को ऑनलाइन फाइल करना, सो आइए, जानते हैं ई-फाइलिंग का तरीका.

  • बजट 2019 : प्रचंड बहुमत पाने वाली मोदी सरकार ने आपको क्या दिया, 10 प्वाइंट्स में जानें

    बजट 2019 :  प्रचंड बहुमत पाने वाली मोदी सरकार ने आपको क्या दिया, 10 प्वाइंट्स में जानें

    'गांव, गरीब और किसान' तथा प्रत्येक नागरिक के जीवन को ‘‘अधिक सरल’’ बनाने के लक्ष्य के साथ पेश किए गये नरेन्द्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के पहले आम बजट में अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए मीडिया, विमानन, बीमा और एकल ब्रांड खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) के नियमों को उदार करने का प्रस्ताव किया गया है. बजट में बुनियादी आर्थिक और सामाजिक ढांच के विस्तार, पेंशन और वीमा योजाओं को आम लोगों की पहुंच के दायरे में ले जाने के विभिन्न प्रस्ताव किए गए है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा शुक्रवार को लोकसभा में पेश किए गए वित्त वर्ष 2019-20 के अपने बजट भाषण में कहा कि हालिया चुनाव में एक आकर्षक और मजबूत भारत की उम्मीदें लहरा रही थीं और लोगों ने एक ऐसी सरकार को चुना जिसने काम कर के दिखाया. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) ने अपने पहले कार्यकाल में ‘न्यू इंडिया’ के लिए काम शुरू कर दिया था. अब इन कार्यों की रफ्तार बढ़ाई जाएगी और आगे चलकर लालफीताशाही को और कम किया जाएगा. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने पहले कार्यकाल में काम को पूरा कर के दिखाया. आम चुनाव में मतदाताओं ने काम करने वाली सरकार के पक्ष में मत दिया.

  • कमलनाथ के सहयोगियों पर छापा : दुबई में प्रॉपर्टी, कई राजनेता शक के घेरे में, पर्दे के पीछे की 10 बड़ी बातें

    कमलनाथ के सहयोगियों पर छापा : दुबई में प्रॉपर्टी, कई राजनेता शक के घेरे में, पर्दे के पीछे की 10 बड़ी बातें

    मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के पूर्व ओएसडी प्रवीण कक्कड़, सलाहकार राजेंद्र मिगलानी समेत कुछ और क़रीबियों पर आयकर विभाग का शिकंजा कस गया है. दिल्ली में राजेन्द्र मिगलानी के घर के अब भी चल रही है. कई जगहों पर आयकर विभाग की छापेमारी 30 घंटे से ज्यादा समय से चल रही है. छापे के दौरान आयकर विभाग को इलेक्शन बांड खरीदे जाने के दस्तावेज मिले हैं. दस्तावेज में लिखा है इलेक्शन बांड-200 छापे में अनेक डायरियां और कंम्प्यूटर पर पिछले कुछ महीनों का हिसाब भी मिला है.  इन  दस्तावेजों में दुबई में भी एक प्राप्रर्टी खरीदे जाने का जिक्र  है. फर्जी शेल कंपनियो के जरिए 250 करोड़ रुपये से ज्यादा काला धन सफेद किए जाने का शक जताया जा रहा है. माना जा रहा है कि जांच में कई बड़े नेता फंस सकते हैं.  भोपाल में छापेमारी के दौरान दौरान आयकर विभाग की टीम के साथ गए सीआरपीएफ जवानों की पुलिस से नोक-झोंक हो गई. छापेमारी वाली जगह के बाहर सीआरपीएफ जवानों के साथ पुलिस की गरमा-गरमी हो गई. काफ़ी देर तक ये हंगामा चलता रहा. वहीं इंदौर में एसएसपी रुचि वर्धन मिश्र को आयकर विभाग के छापे के दौरान नहीं जाने दिया गया. वहीं चुनाव आयोग ने राजस्व सचिव को एक चिट्ठी लिख कर कहा है कि जितनी भी इंर्फ़ोसमेंट एजेंसी वित्त मंत्रालय के तहत, राजस्व विभाग के आदेश पर काम करतीं हैं वो चुनाव से पहले लागू मॉडल कोड ऑफ कंडक्ट के दौरान किसी भी प्रकार के कदम उठाते वक्त इस बात का ख्याल रखें कि वो कदम पूरी तरह से निष्पक्ष हो. ये भी कहा गया है कि अगर इन एजेंसियों की कार्रवाई चुनाव के लिए अवैध पैसे के इस्तेमाल से जुड़ी हों तो इसकी पूरी जानकारी मुख्य चुनाव आयुक्त को भी दी जाए.

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com