NDTV Khabar

Indian Economy


'Indian Economy' - 634 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • PM नरेंद्र मोदी बोले, 'उम्‍मीद से कहीं ज्‍यादा तेजी से पटरी पर लौट रही है भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था'

    PM नरेंद्र मोदी बोले, 'उम्‍मीद से कहीं ज्‍यादा तेजी से पटरी पर लौट रही है भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था'

    पीएम मोदी ने कहा, ‘‘याद रखिये, हम अभी महामारी से नहीं उबरे हैं. इसके बावजूद अर्थव्यवस्था ने तेजी प्राप्त करने की क्षमता दिखायी है. इसका एक बहुत बड़ा कारण हमारे लोगों की शक्ति और जुझारूपन है.’’भारत के 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था के लक्ष्य के बारे में प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘हमारी सरकार का लक्ष्य हासिल करने का रिकार्ड अच्छा है.’’

  • IMF का अनुमान, '2020 में भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में आएगी 10.3% की गिरावट लेकिन 2021 में आएगा जबर्दस्‍त उछाल'

    IMF का अनुमान, '2020 में भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में आएगी 10.3% की गिरावट लेकिन 2021 में आएगा जबर्दस्‍त उछाल'

    India economic growth: आईएमएफ की रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘अर्थव्यवस्‍था के 2020 में 10.3 प्रतिशत घटने का अनुमान है जबकि 2021 में इसमें 8.8 प्रतिशत वृद्धि के साथ बड़ा उछाल आयेगा.’’ इससे पहले 2019 में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 4.2 प्रतिशत रही.पिछले सप्ताह विश्व बैंक ने कहा कि भारत की जीडीपी इस वित्त वर्ष में 9.6 प्रतिशत घटेगी.

  • RBI गवर्नर का अनुमान, जीडीपी में 9.5 प्रतिशत की गिरावट आने की आशंका

    RBI गवर्नर का अनुमान, जीडीपी में 9.5 प्रतिशत की गिरावट आने की आशंका

    भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) कोरोना (Coronavirus) के असर से धीरे-धीरे उबर रही है और चौथी तिमाही आते-आते आर्थिक विकास दर निगेटिव से पॉजिटिव हो सकती है. आरबीआई (RBI) गवर्नर ने शुक्रवार को पहली बार ये दावा किया. कोरोना के कहर का अर्थव्यवस्था पर इस साल कितना असर पड़ेगा? इस अहम सवाल पर आरबीआई गवर्नर ने शुक्रवार को पहली बार देश के सामने अपना आकलन रखा. मॉनीटरी पालिसी समिति के फैसलों का ऐलान करते हुए उन्होंने कहा कि 2020-21 में जीडीपी (GDSP) विकास दर (Growth Rate)  -9.5% रहने का अनुमान है.

  • आर्थिक रुझानों ने फैसलों में आम सहमति नहीं होने के मिथक को दूर कर दिया : सरकारी सूत्र

    आर्थिक रुझानों ने फैसलों में आम सहमति नहीं होने के मिथक को दूर कर दिया : सरकारी सूत्र

    भारत ने पिछले 24 घंटों में 81,484 नए कोरोनोवायरस मामले सामने आए. शुक्रवार को कुल आंकड़ा 64 लाख के निशान के पास था और 1,095 मौतों की सूचना इसी अवधि में दी गई थी. देश में अब 63,94,068 मामले हैं. इसमें से 9.4 लाख एक्टिव मामले हैं. 

  • Covid-19 महामारी के बीच 2020 में भारतीय अर्थव्यवस्था में 5.9 प्रतिशत की कमी का अनुमान: संरा

    Covid-19 महामारी के बीच 2020 में भारतीय अर्थव्यवस्था में 5.9 प्रतिशत की कमी का अनुमान: संरा

    संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि कोविड-19 महामारी के प्रकोप के चलते भारतीय अर्थव्यवस्था में 2020 के दौरान 5.9 प्रतिशत की कमी आने का अनुमान है और चेतावनी दी गई कि वृद्धि अगले साल भी पटरी पर लौट सकती है, लेकिन संकुचन के चलते स्थाई रूप से आय में कमी होने की आशंका है. अंकटाड की ‘व्यापार एवं विकास रिपोर्ट 2020’ में मंगलवार को कहा गया कि वैश्विक अर्थव्यवस्था गहरी मंदी का सामना कर रही है और महामारी पर अभी तक काबू नहीं पाया जा सका है, व्यापार और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (अंकटाड) की इस रिपोर्ट में अनुमान जताया गया है कि इस साल वैश्विक अर्थव्यवस्था में 4.3 प्रतिशत की कमी होगी. 

  • COVID-19 सहित अन्य कारणों से वर्ष 2020-21 की प्रथम तिमाही में GDP में 23.9 प्रतिशत गिरावट : सरकार

    COVID-19 सहित अन्य कारणों से वर्ष 2020-21 की प्रथम तिमाही में GDP में 23.9 प्रतिशत गिरावट : सरकार

    सरकार ने मंगलवार को बताया कि स्थिर कीमतों (2011 -12) पर सकल घरेलू उत्पाद में कोविड-19 सहित विभिन्न कारकों के कारण वर्ष 2021-21 की प्रथम तिमाही के दौरान 23.9 प्रतिशत की कमी हुई है.

  • ADB का अनुमान, 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था में आएगी 9 प्रतिशत की गिरावट

    ADB का अनुमान, 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था में आएगी 9 प्रतिशत की गिरावट

    एशियाई विकास बैंक (एडीबी) ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था में नौ प्रतिशत की गिरावट का अनुमान लगाया है. एडीबी की ओर से मंगलवार को जारी एशियाई विकास परिदृश्य (एडीओ)-2020 अपडेट में कहा गया है कि भारत में कोरोना वायरस की वजह से आर्थिक गतिविधियां बुरी तरह प्रभावित हुई हैं. इसका असर उपभोक्ता धारणा पर भी पड़ा है, जिससे चालू वित्त वर्ष में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में नौ प्रतिशत की गिरावट आएगी. हालांकि, एडीबी का अनुमान है कि अगले वित्त वर्ष 2021-22 में भारतीय अर्थव्यवस्था में बड़ा उछाल आएगा. 

  • मूडीज का चालू वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था में 11.5 प्रतिशत गिरावट का अनुमान

    मूडीज का चालू वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था में 11.5 प्रतिशत गिरावट का अनुमान

    मूडीज ने कहा कि उसका अनुमान है कि 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था में 11.5 प्रतिशत की गिरावट आएगी.मूडीज ने कहा है कि हालांकि अगले वित्त वर्ष 2021-22 में भारतीय अर्थव्यवस्था 10.6 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज करेगी.

  • Chetan Bhagat ने अर्थव्यवस्था को लेकर कसा तंज, बोले- केवल 5% भारतीयों को छोड़कर बाकि लोग...

    Chetan Bhagat ने अर्थव्यवस्था को लेकर कसा तंज, बोले- केवल 5% भारतीयों को छोड़कर बाकि लोग...

    मशहूर लेखक चेतन भगत (Chetan Bhagat) इन दिनों सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं. चेतन भगत अपनी किताबों के साथ-साथ अपने बेबाक विचारों के लिए भी खूब जाने जाते हैं. समसामयिक मुद्दों पर चेतन भगत बेबाकी से अपनी राय भी पेश करते हैं.

  • अक्टूबर-दिसंबर की तिमाही में जीडीपी में सुधार देखने को मिलेगा : फिच

    अक्टूबर-दिसंबर की तिमाही में जीडीपी में सुधार देखने को मिलेगा : फिच

    फिच रेटिंग्स ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था में 10.5 प्रतिशत की भारी गिरावट का अनुमान लगाया है. चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) में भारत के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 23.9 प्रतिशत की गिरावट आई है. यह दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में गिरावट के सबसे ऊंचे आंकड़ों में से है. कोरोना वायरस महामारी की वजह से देश में सख्त लॉकडाउन लगाया गया था.

  • फिच का 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था में 10.5 प्रतिशत की गिरावट का अनुमान

    फिच का 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था में 10.5 प्रतिशत की गिरावट का अनुमान

    फिच रेटिंग्स ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था में 10.5 प्रतिशत की भारी गिरावट का अनुमान लगाया है. चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) में भारत के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 23.9 प्रतिशत की गिरावट आई है. यह दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में गिरावट के सबसे ऊंचे आंकड़ों में से है. कोरोना वायरस महामारी की वजह से देश में सख्त लॉकडाउन लगाया गया था. इसे अर्थव्यवस्था में गिरावट की एक बड़ी वजह माना जा रहा है. 

  • सेवा क्षेत्र की गतिविधियों में अगस्त में सुधार: मासिक सर्वेक्षण

    सेवा क्षेत्र की गतिविधियों में अगस्त में सुधार: मासिक सर्वेक्षण

    मौसमी रूप से समायोजित ‘भारत सेवा कारोबार गतिविधि सूचकांक’ अगस्त में बढ़कर 41.8 पर पहुंच गया. यह सूचकांक जुलाई में 34.2 था. यह मार्च में कोरोना वायरस महामारी के फैलाव के बाद सबसे अधिक है.

  • क्या कड़े निर्णय के चक्कर में देश को गर्त में पहुंचा दिया PM मोदी ने?

    क्या कड़े निर्णय के चक्कर में देश को गर्त में पहुंचा दिया PM मोदी ने?

    नोटबंदी और तालाबंदी ये दो ऐसे निर्णय हैं जिन्हें कड़े निर्णय की श्रेणी में रखा गया. दोनों निर्णयों ने अर्थव्यवस्था को लंबे समय के लिए बर्बाद कर दिया. आर्थिक तबाही से त्रस्त लोग क्या यह सवाल पूछ पाएँगे कि जब आप तालाबंदी जैसे कड़े निर्णय लेने जा रहे थे तब आपकी मेज़ पर किस तरह के विकल्प और जानकारियाँ रखी गईं थीं.

  • Rahul Gandhi ने गिनाईं 'मोदी निर्मित आपदाएं' तो बॉलीवुड डायरेक्टर बोले- और एक बहुत ही कमजोर विपक्ष...

    Rahul Gandhi ने गिनाईं 'मोदी निर्मित आपदाएं' तो बॉलीवुड डायरेक्टर बोले- और एक बहुत ही कमजोर विपक्ष...

    कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने पीएम पर निशाना साधते हुए लिखा था, 'देश 'मोदी मेड डिजास्टर्स' के चलते कराह रहा है:

  • आसान शब्दों में समझें, क्या होती है GDP, कैसे दर्ज की जाती है गिरावट और बढ़ोतरी

    आसान शब्दों में समझें, क्या होती है GDP, कैसे दर्ज की जाती है गिरावट और बढ़ोतरी

    सोमवार को जारी आधिकारिक आंकड़े के अनुसार चालू वित्त वर्ष 2020-21 में अप्रैल-जून के दौरान अथर्व्यवस्था (Indian Economy) में 23.9 प्रतिशत की अब तक की सबसे बड़ी तिमाही गिरावट आयी है. आइए, हम आपको आसान शब्दों में समझाते हैं कि क्या होती है GDP और कैसे दर्ज की जाती है गिरावट और बढ़ोतरी.

  • GST कंपनसेशन को लेकर गैर-बीजेपी शासित राज्यों ने की बैठक, केंद्र के प्रस्ताव को किया खारिज

    GST कंपनसेशन को लेकर गैर-बीजेपी शासित राज्यों ने की बैठक, केंद्र के प्रस्ताव को किया खारिज

    कोविड क्वार्टर यानी इस साल अप्रैल से जून के बीच 3 महीनों में भारतीय अर्थव्यवस्था 23 फीसदी से भी ज्यादा सिकुड़ गयी. सोमवार को जारी जीडीपी के ताज़ा आकड़ों को जारी करते हुए सांख्यिकी मंत्रालय ने इसका खुलासा किया. इस बड़ी आर्थिक गिरावट की वजह से भारत सरकार के राजस्व की कमाई काफी गिर गयी है.

  • पहली तिमाही की GDP -23.9%, मोदी जी आपका कोई विकल्प नहीं

    पहली तिमाही की GDP -23.9%, मोदी जी आपका कोई विकल्प नहीं

    सावधान हो जाएं. आर्थिक निर्णय सोच समझ कर लें. बल्कि अब यही ठीक रहेगा कि सुशांत सिंह राजपूत का ही कवरेज देखते रहिए. यह बर्बादी की ऐसी सतह है जहां से आप अब बेरोज़गारी के प्रश्नों पर विचार कर कुछ नहीं हासिल कर सकते.

  • मुख्य आर्थिक सलाहकार ने कहा - GDP में पहली तिमाही की गिरावट उम्मीद के अनुरूप

    मुख्य आर्थिक सलाहकार ने कहा - GDP में पहली तिमाही की गिरावट उम्मीद के अनुरूप

    राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय ने पहली तिमाही के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के आंकड़े सोमवार को जारी किए. इन आंकड़ों में जीडीपी में भारी गिरावट दिखी है.

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com