NDTV Khabar

Shramik special train


'Shramik special train' - 27 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • Shramik Special Train में महिला ने दिया बच्चे को जन्म, Photo हो रही है वायरल

    Shramik Special Train में महिला ने दिया बच्चे को जन्म, Photo हो रही है वायरल

    महिला ने श्रमिक स्पेशल ट्रेन में एक बच्चे को जन्म दिया है. आपको बता दें कि इस महिला और उसके बच्चे की फोटो रेल मंत्री पीयूष गोयल ने अपने ट्विटर हैंडल से शेयर किया. प्राइमिया न्यूज के मुताबिक इस महिला का नाम सायरा फातिमा है.

  • श्रमिक स्पेशल ट्रेन में तीन दर्जन शिशुओं का जन्म, किसी का नाम करुणा तो किसी का नाम लॉकडाउन यादव

    श्रमिक स्पेशल ट्रेन में तीन दर्जन शिशुओं का जन्म, किसी का नाम करुणा तो किसी का नाम लॉकडाउन यादव

    करुणा के पिता राजेंद्र यादव से जब पूछा गया कि उनके बच्चे के नाम पर ‘कोरोना’ या ‘कोरोनावायरस’ का क्या असर है तो उन्होंने कहा, “सेवा भाव” और ‘‘दया”. उन्होंने छत्तीसगढ़ के धरमपुरा में अपने गांव से फोन पर बताया, “लोगों ने मुझसे उसका नाम बीमारी पर रखने को कहा. मैं उसका नाम कोरोना पर कैसे रख सकता हूं जब इसने इतने लोगों की जान ले ली और जीवन बर्बाद कर दिए?”

  • श्रमिक स्पेशल ट्रेन में होगा जन्म, तो भारतीय रेलवे देगा नवजातों को तोहफा

    श्रमिक स्पेशल ट्रेन में होगा जन्म, तो भारतीय रेलवे देगा नवजातों को तोहफा

    देश में कोरोनावायरस लॉकडाउन (Coronavirus Lockdown) की वजह से फंसे हुए लोगों के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेनें (Shramik Special Trains) चलाई जा रही हैं. भारतीय रेलवे अब इन ट्रेनों में जन्म लेने वाले बच्चों को तोहफा देगा. दरअसल देशभर के अलग-अलग हिस्सों में यह खबरें मिली थीं कि स्पेशल ट्रेनों में कई बच्चों का जन्म भी हुआ है. रेलवे इसे शकुन मानते हुए अब उन सभी बच्चों को गिफ्ट देने की तैयारी कर रहा है.

  • ट्रेनें चालू होते ही सिर्फ टिकट लिए लाइन में खड़े नजर आए प्रवासी मजदूर

    ट्रेनें चालू होते ही सिर्फ टिकट लिए लाइन में खड़े नजर आए प्रवासी मजदूर

    सोमवार से सीमित संख्या में ट्रेन सेवाओं की शुरुआत कर दी गई. कई प्रवासियों ने तो जैसे-तैसे अपने पड़ोसियों और दोस्तों से उधार लेकर टिकट खरीदा और ट्रेन के इंतजार में लंबी कतार में खड़े हो गए. इस सबके बीच प्रवासी कोरोनावायरस से बेखौफ हो चले हैं. कई प्रवासी तो ऐसे थे जिनकी मार्च से रोजी रोटी छिन गई और उनकी जेब में एक रुपया तक नहीं था. प्रवासियों ने बताया कि उन्हें मजबूरन उधार लेकर टिकट खरीदने पड़े. प्रवासी श्रमिकों ने बताया कि उन्हें श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में बैठने के लिए सीट तक नहीं मिल रही है जो कि सरकार पिछले महीने से चला रही है.

  • श्रमिक स्पेशल ट्रेन (Shramik Special Trains) : अब तक 80 लोगों की हो चुकी है मौत

    श्रमिक स्पेशल ट्रेन (Shramik Special Trains) : अब तक 80 लोगों की हो चुकी है मौत

    कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए गए लॉकडाउन के बाद प्रवासी मजदूर अपने घरों की ओर वापस लौटने लगे. सरकार पर दबाव बढ़ा तो रेल मंत्रालय ने उनको पहुंचाने के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाने शुरू कीं. लेकिन इन ट्रेनों में भी प्रवासी मजदूरों की समस्याएं कम नहीं हुई हैं. मिले आंकड़ों की मानें तो श्रमिक स्पेशल में अब तक 80 लोगों की मौत हो चुकी है. ये मौतें  9 से 27 मई के बीच हुई हैं. 

  • झांसी पहुंची श्रमिक एक्सप्रेस के टॉयलेट में मिला प्रवासी मजदूर का शव, जेब से मिले 28 हजार रुपये

    झांसी पहुंची श्रमिक एक्सप्रेस के टॉयलेट में मिला प्रवासी मजदूर का शव, जेब से मिले 28 हजार रुपये

    शव के पास मिले कागजात से मृतक की पहचान उत्तर प्रदेश के बस्ती निवासी मोहन लाल शर्मा के रूप में हुई है. शर्मा मुंबई में दिहाड़ी मजदूरी करता था. वह खुद से मुंबई से झांसी पहुंचा था, जहां प्रशासन ने प्रवासी मजदूरों को रोक लिया था. 23 मई को इन प्रवासी मजदूरों को गोरखपुर जाने वाली ट्रेन में बिठा दिया गया था.

  • संकट में प्रवासी मजदूर: भूख-प्यास से बेहाल मां की स्टेशन पर ही मौत, जगाने की कोशिश करता रहा बच्चा

    संकट में प्रवासी मजदूर: भूख-प्यास से बेहाल मां की स्टेशन पर ही मौत, जगाने की कोशिश करता रहा बच्चा

    दिल्ली और गुजरात से अपने गांव के लिए ट्रेन से चले एक महिला प्रवासी और एक ढाई साल के बच्चे की मुजफ्फरपुर स्टेशन पर पहुंचने के साथ ही मौत हो गई. भीषण गर्मी के बीच ट्रेन में खाना-पानी नही मिलने के कारण बच्चे की तबियत खराब हो गई थी.

  • भारतीय रेलवे (Indian Railway) का दावा- 3,276 'श्रमिक स्पेशल ट्रेनों' से करीब 42 लाख प्रवासी मजदूरों को पहुंचाया गया

    भारतीय रेलवे (Indian Railway) का दावा-  3,276 'श्रमिक स्पेशल ट्रेनों' से करीब 42 लाख प्रवासी मजदूरों को पहुंचाया गया

    भारतीय रेलवे ने एक मई से 3,276 ‘श्रमिक स्पेशल’ ट्रेनों से करीब 42 लाख प्रवासी मजदूरों को उनके गंतव्य स्थानों तक पहुंचाया है. आधिकारिक डेटा के मुताबिक कुल 2,875 ट्रेनों को रद्द किया गया जबकि 401 चलाई जा रही हैं.  शीर्ष पांच राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों जहां से अधिकतम ट्रेनें चलाई गई हैं वे गुजरात (897), महाराष्ट्र (590), पंजाब (358), उत्तर प्रदेश (232) और दिल्ली (200) हैं.  जिन पांच राज्यों जहां से अधिकतम ट्रेनें रद्द की गई हैं वे उत्तर प्रदेश (1,428), बिहार (1,178), झारखंड (164), ओडिशा (128) और मध्य प्रदेश (120) हैं.  श्रमिक स्पेशल ट्रेंने मुख्यत: राज्यों के अनुरोध पर चलाई जा रही हैं जो प्रवासी मजदूरों को उनके गृह राज्यों तक भेजना चाहते हैं.

  • 'रात के 12 बज चुके हैं, हमारे पास महाराष्ट्र सरकार से कल की 125 ट्रेनों की डिटेल्स और पैसेंजर लिस्टें नहीं आई हैं'

    'रात के 12 बज चुके हैं, हमारे पास महाराष्ट्र सरकार से कल की 125 ट्रेनों की डिटेल्स और पैसेंजर लिस्टें नहीं आई हैं'

    रेल मंत्री पीयूष गोयल ने लिखा, 'रात के 12 बज चुके हैं और 5 घंटे बाद भी हमारे पास महाराष्ट्र सरकार से कल की 125 ट्रेनों की डिटेल्स और पैसेंजर लिस्टें नहीं आयी हैं. मैंने अधिकारियों को आदेश दिया है फिर भी प्रतीक्षा करें और तैयारियां जारी रखें.'

  • महिला को ट्रेन में हुई प्रसव पीड़ा तो तुरंत पहुंची डॉक्टर और फिर... देखें Photos

    महिला को ट्रेन में हुई प्रसव पीड़ा तो तुरंत पहुंची डॉक्टर और फिर... देखें Photos

    भारतीय रेलवे द्वारा किए गए एक ट्वीट के मुताबिक, ''महिला श्रमिक स्पेशल ट्रेन में थी और आगरा स्टेशन पर रेलवे डॉक्टर को एक महिला यात्री के प्रसव पीड़ा की सूचना मिली. इसके तुरंत बाद ही डॉक्टर पुल्किता ने तुरंत गाड़ी में पहुंचकर ट्रेन में ही महिला की सुरक्षित डिलीवरी करवाई. डिलीवरी के बाद मां और बच्चा दोनों पूरी तरह से स्वस्थ और सुरक्षित हैं''. 

  • 36 लाख प्रवासी श्रमिकों को घर पहुंचाने के लिए रेलवे बनाया ये खास प्लान

    36 लाख प्रवासी श्रमिकों को घर पहुंचाने के लिए रेलवे बनाया ये खास प्लान

    जब रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष से एक जून से चलने वाली स्पेशल ट्रेनों के किराए के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि रेलवे लॉकडाउन से पहले का सामान्य किराया ही वसूल रहा है. उन्होंने दोहराया कि श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के खर्च का 85 फीसद हिस्सा केंद्र वहन करता है जबकि राज्य भाड़े के रूप में बस 15 फीसद का भुगतान कर रहे हैं.

  • यूपी में अब तक पहुंची 1018 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें, साढ़े 13 लाख से ज्यादा प्रवासी लौटे घर

    यूपी में अब तक पहुंची 1018 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें, साढ़े 13 लाख से ज्यादा प्रवासी लौटे घर

    अपर मुख्य सचिव ने बताया कि वाराणसी में एक की जगह दो स्टेशन कर दिये गये हैं ... कैण्ट एवं मडुआडीह. प्रदेश में ऐसे 52 रेलवे स्टेशन हैं, जहां ट्रेनें लायी जा रही हैं. पहली बार पीलीभीत जिले में भी एक ट्रेन लायी गयी है. अवस्थी ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार प्रवासी श्रमिकों और कामगारों को उनके गृह प्रदेश लाने की व्यवस्था नि:शुल्क कर रही है. उत्तर प्रदेश की ट्रेनों में किसी को कोई शुल्क नहीं देना है.

  • पश्चिम बंगाल को महाचक्रवात अम्फान से नुकसान, सीएम ममता बनर्जी ने केंद्र से 26 मई तक श्रमिक स्पेशल ट्रेनें न भेजने को कहा

    पश्चिम बंगाल को महाचक्रवात अम्फान से नुकसान, सीएम ममता बनर्जी ने केंद्र से 26 मई तक श्रमिक स्पेशल ट्रेनें न भेजने को कहा

    पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रेल मंत्रालय से चक्रवात ‘अम्फान’ के मद्देनजर 26 मई तक राज्य में श्रमिक स्पेशल ट्रेनें नहीं भेजने को कहा है. पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव राजीव सिन्हा की तरफ से रेलवे बोर्ड के प्रमुख वी के यादव को 22 मई को लिखे गए पत्र में कहा गया कि राज्य 20 और 21 मई को महा चक्रवात ‘अम्फान’ से बुरी तरह प्रभावित हुआ है जिससे अवसंरचना को अत्यंत नुकसान हुआ है.

  • श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का हाल : 10-10 घंटे तक आउटर पर सिग्नल नहीं, दिया जा रहा बासी खाना, शौचालय में पानी तक नहीं

    श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का हाल : 10-10 घंटे तक आउटर पर सिग्नल नहीं, दिया जा रहा बासी खाना, शौचालय में पानी तक नहीं

    जिन प्रवासी मजदूर श्रमिक ट्रेनों में बैठकर अपने पूर्वी यूपी और बिहार अपने घर आ रहे हैं रास्ते में उनकी भी दुदर्शा हो रही है. एक तो ट्रेनें देरी से चल रही हैं और न रास्ते में उनको खाना दिया जा रहा है, न डिब्बों की साफ-सफाई हो रही है. कुछ मजदूरों ने ट्रेनें रोके जाने पर रास्ते में प्रदर्शन भी किया है.  इसी तरह आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम से श्रमिक ट्रेनों में बैठकर आए मजदूरों का गुस्सा उस समय फूट पड़ा जब उनकी ट्रेन को दीन दयाल उपाध्याय स्टेशन के आउटर सिंग्नल पर 10 घंटे तक रोके रखा गया. गुस्साए मजदूरों ने रेलवे ट्रैक पर बिहार के सीएम नीतीश कुमार के खिलाफ नारेबाजी की. इस ट्रेन में सवार एक यात्री ने धीरेन राय ने बताया कि वह रात में ये रेल रात में 11 बजे आ गई थी. तब से लेकर इसे 10 घंटे तक रोककर रखा गया है. उन्होंने बताया कि उनसे इस ट्रेन के लिए 1500 रुपये भी वसूले गए हैं. 

  • मुंबई में पर्यटकों की तस्वीर खींचकर गुजारा करता था शख्स, श्रमिक ट्रेन से घर जाते वक्त कोरोना की वजह से थम गई सांसें

    मुंबई में पर्यटकों की तस्वीर खींचकर गुजारा करता था शख्स, श्रमिक ट्रेन से घर जाते वक्त कोरोना की वजह से थम गई सांसें

    मूल रूप से अयोध्या का रहने वाला परिवार जिसके सदस्य मुंबई में गेटवे ऑफ इंडिया पर पर्यटकों की तस्वीर खींचकर गुजर बसर करते हैं. उनपर कोरोना और लॉकडाउन का कहर इस कदर टूटा है कि दो जनों की मौत हो चुकी है और पूरा परिवार बिखर गया है. लॉकडाउन की वजह से बेरोजगार हो चुके विनोद उपाध्याय अपनी पत्नी जानती उपाध्याय और भतीजे विकास पांडे के साथ 11 मई को श्रमिक स्पेशल से गांव जाने की जुगत में लग गए.

  • PPE किट पहनकर घर जाने वाले मजदूरों से कर रहा था ठगी, एक ट्रेन टिकट के ले रहा था इतने रुपये 

    PPE किट पहनकर घर जाने वाले मजदूरों से कर रहा था ठगी, एक ट्रेन टिकट के ले रहा था इतने रुपये 

    पुलिस ने आरोपी से पीपीई किट भी बरामद कर लिया है. आरोपी के खिलाफ IPC की धारा 170(लोक सेवक का प्रतिरूपण), धारा 420 (धोखाधड़ी), धारा 167 (अशुद्ध दस्तावेज) एवं धारा 468 (छल के प्रयोजन से कूटरचना) के तहत मामला दर्ज किया गया है और विस्तृत जांच जारी है. उन्होंने कहा कि वह भोपाल के गोविन्दपुरा इलाके स्थित रचना नगर कालोनी का रहने वाला है.

  • श्रमिक स्‍पेशल ट्रेन से जा रही महिला को हुआ प्रसव दर्द, बेटी को जन्‍म दिया..

    श्रमिक स्‍पेशल ट्रेन से जा रही महिला को हुआ प्रसव दर्द, बेटी को जन्‍म दिया..

    धरमपुरा, मुंगेली की रहने वाली 23 वर्ष की ईश्‍वरी यादव 17 मई को ट्रेन से भोपाल से बिलासपुर जा रही थीं, इस दौरान उन्‍हें प्रसव दर्द शुरू हो गया और बाद में उन्‍होंने बेटी को जन्‍म दिया. इसी क्रम में एक श्रमिक स्‍पेशल ट्रेन से कानपुर जा रहीं रजनी निषाद ने भी बेबी बॉय को जन्‍म दिया.  

  • मुंबई : श्रमिक स्पेशल ट्रेन का मिला टिकट, बिहार के कटिहार-समस्तीपुर और किशनगंज जाने को तैयार प्रवासी मजदूर

    मुंबई : श्रमिक स्पेशल ट्रेन का मिला टिकट, बिहार के कटिहार-समस्तीपुर और किशनगंज जाने को तैयार प्रवासी मजदूर

    मुंबई के छात्रपति शिवाजी टर्मिनस स्टेशन पर बिहार के कटिहार, समस्तीपुर और किशनगंज जाने वाले प्रवासियों की लंबी लाइन लगी है. ये सभी वो प्रवासी मजदूर हैं जिनको श्रमिक स्पेशल ट्रेन में बैठने का टिकट मिल चुका है. गौरतलब है कि श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का किराया अब मजदूरों से नहीं लिया जा रहा है.

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com