NDTV Khabar

Assembly polls 2014


'Assembly polls 2014' - 409 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • Maharashtra, Haryana Election 2019: हरियाणा में शाम छह बजे तक 65 और महाराष्ट्र में 60 फीसदी मतदान हुआ

    Maharashtra, Haryana Election 2019: हरियाणा में शाम छह बजे तक 65 और महाराष्ट्र में 60 फीसदी मतदान हुआ

    हरियाणा और महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के लिये सोमवार को हुये मतदान में शाम छह बजे तक हरियाणा में 65 प्रतिशत और महाराष्ट्र में 60.5 प्रतिशत मतदान हुआ. चुनाव आयोग के आंकड़ों के अनुसार हरियाणा में 2014 में हुये विधानसभा चुनाव में 76.54 प्रतिशत मतदान की तुलना में इस चुनाव में शाम छह बजे मतदान खत्म होने तक 65 प्रतिशत मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर चुके थे. वहीं महाराष्ट्र में पिछले विधानसभा चुनाव में हुये 63.08 प्रतिशत मतदान की तुलना में इस बार शाम छह बजे तक 60.5 प्रतिशत मतदान हुआ.

  • Haryana Election 2019: इन 10 Simple Steps में समझें कैसे डालें अपना वोट

    Haryana Election 2019: इन 10 Simple Steps में समझें कैसे डालें अपना वोट

    Election in Haryana 2019: साल 2014 में भाजपा ने 90 सीटों में से 47 सीटों पर जीत हासिल की थी. वहीं, कांग्रेस मात्र 15 सीटों पर सिमट कर रह गई थी. इनेलो के हिस्से में 19 सीटें गई थीं. इस बार 1169 उम्मीदवार चुनावी मैदान में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं.

  • येवला विधानसभा सीट : 15 साल से यहां NCP का कब्जा, क्या शिवसेना कर सकती है वापसी...?

    येवला विधानसभा सीट : 15 साल से यहां NCP का कब्जा, क्या शिवसेना कर सकती है वापसी...?

    उन्होंने इस सीट पर 2004 में शिवसेना के नेता पाटिल कल्याणराव जयावंतराव को हराया था, जिसके बाद से अब तक छगन भुजबल ही इस सीट पर विजेता रहे हैं. उन्होंने यहां पर साल 2004, 2009 और 2014 में लगातार जीत के हैट्रिक मारी थी. अब एक बार फिर छगन भुजबल ने शुक्रवार को नासिक जिले में येवला सीट से नामांकन दाखिल किया.

  • देवेंद्र फडणवीस : क्या फिर महाराष्ट्र की जनता का जीत पाएंगे विश्वास...?

    देवेंद्र फडणवीस : क्या फिर महाराष्ट्र की जनता का जीत पाएंगे विश्वास...?

    भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेता फडणवीस ने 31 अक्टूबर 2014 को मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में मुख्यमंत्री पद का शपथग्रहण किया था. वह 44 वर्ष की अवस्था में राज्य के दूसरे सबसे छोटे मुख्यमंत्री बने थे. वह बौद्धिक कौशल और ईमानदारी के लिए जाने जाते हैं. उन्हें 2002-03 में राष्ट्रमंडल संसदीय संघ द्वारा सर्वश्रेष्ठ संसदीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.

  • आदित्य ठाकरे : पहली बार चुनाव मैदान में ठाकरे परिवार का कोई भी सदस्य, जानें उनके जीवन से जुड़ी खास बातें

    आदित्य ठाकरे : पहली बार चुनाव मैदान में ठाकरे परिवार का कोई भी सदस्य, जानें उनके जीवन से जुड़ी खास बातें

    दिवंगत बाल ठाकरे द्वारा 1966 में शिवसेना की स्थापना किए जाने के बाद से ठाकरे परिवार से किसी भी सदस्य ने कोई चुनाव नहीं लड़ा है या वे किसी भी संवैधानिक पद पर नहीं रहे हैं. युवा शिवसेना अध्यक्ष आदित्य ठाकरे ने गुरुवार को वर्ली विधानसभा क्षेत्र से अपना नामांकन दाख़िल कर दिया. वर्ली को शिवसेना की सबसे सुरक्षित विधानसभा सीटों में से एक समझा जाता है, इसलिए आदित्य की उम्मीदवारी को अंतिम रूप दिया गया है. उद्धव के चचेरे भाई और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) प्रमुख राज ठाकरे ने 2014 में राज्य में हुए विधानसभा चुनाव लड़ने की अपनी इच्छा जताई थी. हालांकि उन्होंने बाद में अपना मन बदल लिया था.

  • महाराष्ट्र के CM देवेंद्र फडणवीस को SC से बड़ा झटका: चुनावी हलफनामे में जानकारी छिपाने के मामले में HC का फैसला रद्द, चलेगा ट्रायल

    महाराष्ट्र के CM देवेंद्र फडणवीस को SC से बड़ा झटका: चुनावी हलफनामे में जानकारी छिपाने के मामले में HC का फैसला रद्द, चलेगा ट्रायल

    फडणवीस पर 2014 के चुनावी हलफनामे में दो आपराधिक केसों की जानकारी छिपाने का आरोप है. ये दोनों केस नागपुर के हैं. इनमें एक मानहानि और दूसरा ठगी का है. वकील सतीश उके ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर आरोप लगाया था कि 2014 के चुनाव का नामांकन दाखिल करते समय में फडणवीस ने झूठा हलफनामा दायर किया था. हालांकि इससे पहले बॉम्बे हाईकोर्ट ने याचिका खारिज कर दी थी और कहा था कि याचिका में तथ्यों की कमी है.

  • यमुनानगर विधानसभा सीट : घनश्याम अरोड़ा के लिए जीत दोहरा पाना कितना मुश्किल

    यमुनानगर विधानसभा सीट : घनश्याम अरोड़ा के लिए जीत दोहरा पाना कितना मुश्किल

    2014 के विधानसभा चुनावों में घनश्याम दास ने इनेलो के दिलबाग सिंह को मात दी थी. उन्होंने 28 हजार से भी ज्यादा वोटों से जीत दर्ज की थी. यमुनानगर विधानसभा सीट का गठन 1967 में हुआ था. पहली बार के चुनावों में इस सीट पर कांग्रेस के बी दयाल विधायक बने. इस सीट पर घनश्याम अरोड़ा एक बार फिर बीजेपी की तरफ से अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं. 

  • सतारा विधानसभा सीट : NCP के गढ़ में क्या होगी BJP-शिवसेना गठबंधन की रणनीति

    सतारा विधानसभा सीट : NCP के गढ़ में क्या होगी BJP-शिवसेना गठबंधन की रणनीति

    साल 2004 से इस सीट पर एनसीपी के नेता शिवेन्द्रसिंह अभयसिंह भोसले विधायक रहे. वह भी 2004, 2009 और 2014 के विधानसभा चुनाव जीत चुके हैं. शानदार मौसम के लिए मशहूर सतारा में एनसीपी की इस पकड़ को देखते हुए विरोधी शिवेंद्रसिंह के खिलाफ खास रणनीति की तैयारी कर रहे हैं. 2014 के विधानसभा चुनावों में शिवेंद्रसिंह ने बीजेपी के दीपक साहेबरा को 47 हजार से ज्यादा वोटों से हराया था.

  • झज्जर विधानसभा सीट : क्या हुड्डा के लिए चुनौती बन पाएगी BJP...?

    झज्जर विधानसभा सीट : क्या हुड्डा के लिए चुनौती बन पाएगी BJP...?

    साल 2014 में बीजेपी का बोलबाला पूरे देश में नजर आ रहा था, उस दौर में भी कांग्रेस अपनी इस सीट को बचाने में कामयाब रही थी. साल 2014 के हरियाणा विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के गीता भुक्कल ने इस सीट पर जीत दर्ज की थी. उन्हें 51697 वोट मिले थे. दूसरे पायदान पर साधुराम थे, जो पहले इनेलो में थे लेकिन अब बीजेपी में शामिल हो चुके हैं. 

  • हरियाणा विधानसभा चुनाव : मनोहर लाल खट्टर के सामने चुनौतियां या राह आसान

    हरियाणा विधानसभा चुनाव : मनोहर लाल खट्टर के सामने चुनौतियां या राह आसान

    हरियाणा में विधानसभा चुनाव का ऐलान हो चुका है. 90 सीटों वाली हरियाणा विधानसभा के चुनाव के लिए 21 अक्टूबर को मतदान होगा और नतीजे 24 अक्टूबर को आएंगे. साल 2014 में 'मोदी लहर' पर सवार होकर 47 सीटें जीतकर बीजेपी ने राज्य में पहली बार अपने दम पर सरकार बनाई थी और कांग्रेस को 15 सीटें मिली थीं. आईएनएलडी को इस चुनाव में 19 सीटें मिली थीं. बाकी सीटे निर्दलीय प्रत्याशियों और स्थानीय पार्टियों ने जीती थीं.

  • 2019 में लोकसभा चुनाव जीतने के लिए अब कांग्रेस को संभाल कर रखने होंगे 65 'कदम'

    2019 में लोकसभा चुनाव जीतने के लिए अब कांग्रेस को संभाल कर रखने होंगे 65 'कदम'

    कई सालों के बाद कांग्रेस को खुशी नसीब हुई है. उसके आज तीन-तीन मुख्यमंत्रियों का शपथग्रहण है. छत्तीसगढ़ में रविवार को भूपेश बघेल को सीएम बनाने का ऐलान किया है. इस फैसले कांग्रेस ने एक तीर से दो शिकार किए हैं. बघेल ओबीस समुदाय से आते हैं.

  • बीजेपी नेता ने PM मोदी को 2014 के मेनिफेस्टो की दिलाई याद, कहा- ये 11 चीजें होतीं तो नहीं हारते चुनाव

    बीजेपी नेता ने PM मोदी को 2014 के मेनिफेस्टो की दिलाई याद, कहा- ये 11 चीजें होतीं तो नहीं हारते चुनाव

    बीजेपी नेता और सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता अश्वनी उपाध्याय (Ashwini Upadhyay)  ने राज्यों में हार पर पीएम मोदी( PM Modi) को एक ट्वीट किया है. जिसमें उनसे बीजेपी के मूल एजेंडे पर चलने की मांग करते हुए हार के कारणों की ओर से संकेत किया है.

  • Telangana Vidhan Sabha Chunav Result 2018: अकेले दम पर PM मोदी, राहुल, सीएम नायडू और ओवैसी को धो डाला इस शख्स ने, 10 बातें

    Telangana Vidhan Sabha Chunav Result 2018: अकेले दम पर PM मोदी, राहुल, सीएम नायडू और ओवैसी को धो डाला इस शख्स ने, 10 बातें

    कांग्रेस के साधारण कार्यकर्ता के रूप में लगभग गुमनामी में सियासी सफर की शुरूआत से तेलंगाना गौरव का चेहरा बनने तक के. चंद्रशेखर राव ने राजनीति की तेज लहरों पर बड़े सधे अंदाज में अपनी चुनावी नैया पार की है. उन्होंने कांग्रेस को झुकने पर मजबूर करके अलग तेलंगाना राज्य के गठन में सफलता भी हासिल की. अलग तेलंगाना राज्य के दशकों पुराने एकमात्र स्वप्न को साकार करने के लिए बनी तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) की मंगलवार को घोषित परिणामों में जबरदस्त जीत के बाद केसीआर के नाम से लोकप्रिय के. चंद्रशेखर राव (64) ने देश के सबसे नये राज्य का सबसे ऊंचे कद वाला नेता होने का अपना दावा बरकरार रखा है. जून 2014 में तेलंगाना के गठन के बाद से हुए पहले विधानसभा चुनाव में मिली यह सफलता उनके लिए राष्ट्रीय राजनीति में बड़ी भूमिका निभाने की उनकी आकांक्षा को मूर्त रूप देने में अत्यंत महत्वपूर्ण साबित हो सकती है.

  • तेलंगाना: रुझानों में TRS बहुमत से आगे, KCR ने किया सूपड़ा साफ, बेटी बोलीं- जीत को लेकर कभी संदेह नहीं था

    तेलंगाना: रुझानों में TRS बहुमत से आगे, KCR ने किया सूपड़ा साफ, बेटी बोलीं- जीत को लेकर कभी संदेह नहीं था

    रुझानों से ऐसा लगता है कि लोगों ने कांग्रेस और तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) के गठबंधन को ठुकरा दिया है. कांग्रेस के कई शीर्ष नेता अपने निर्वाचन क्षेत्रों में पीछे चल रहे हैं, जबकि टीडीपी, तेलंगाना जन समिति (टीजेएस) और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (सीपीआई) किसी भी सीट पर आगे नहीं हैं. ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) तीन सीटों पर आगे है. टीआरएस की रुझानों में बढ़त से पार्टी में जश्न का माहौल है. इस पर टीआरएस प्रमुख और मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव की बेटी के. कविता ने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि पार्टी बहुमत के साथ सत्ता में बनी रहेगी. लोकसभा सांसद कविता ने कहा कि राज्य में पिछले साढ़े चार सालों में टीआरएस सरकार ने सभी मोर्चो पर अच्छा काम किया है. बता दें, टीआरएस ने 2014 में 63 सीटें जीती थीं जबकि कांग्रेस 21 सीटें ही जीत पाई थी.

  • क्या राहुल को मिलेगा फायदा? अकेले गुजरात में पीएम मोदी ने की थीं 34 रैलियां और पांच राज्यों में महज 32

    क्या राहुल को मिलेगा फायदा? अकेले गुजरात में पीएम मोदी ने की थीं 34 रैलियां और पांच राज्यों में महज 32

    लोकसभा चुनाव 2019 से पहले सेमीफाइनल माने जा रहे पांच राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनाव के परिणाम को जानने की बेसब्री न सिर्फ राजनीतिक पार्टियों को है, बल्कि आम लोगों में भी है. मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में वोटिंग का दौर खत्म है और वहां के उम्मीदवारों की किस्मत ईवीएम मशीनों में कैद है, हालांकि, अभी भी दो राज्यों मसलन, राज्सथान और तेलंगाना में वोटिंग होना है, जहां 7 दिसंबर को वोट जाले जाएंगे. 2019 से पहले सेमीफाइनल के तौर पर देखे जाने वाले इस चुनाव के लिए कांग्रेस और बीजेपी में कांटे की टक्कर है. 2014 के बाद मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से कमोबेश लगातार हार का मुंह देख रही कांग्रेस के लिए जीत की पटरी पर लौटने का वक्त है, तो वहीं बीजेपी जीत का लय कायम रखना चाहती है. इन पांच राज्यों के लिए राहुल गांधी और पीएम मोदी ने पूरी ताकत झोंकी और अपनी-अपनी पार्टियों के पक्ष में वोट जुटाने के लिए जमकर रैलियां कीं. पांचों राज्यों के विधानसभा चुनाव में हुई रैलियों पर नजर डालें तो पीएम मोदी ने करीब 32 रैलियां की हैं, वहीं राहुल गांधी ने 77 जनसभाओं को संबोधित किया है. 

  • मध्य प्रदेश चुनाव: आखिर क्यों पीएम मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को बताया झूठा?

    मध्य प्रदेश चुनाव: आखिर क्यों पीएम मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को बताया झूठा?

    रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि नेहरू-गांधी की चार पीढ़ियों ने इस देश पर राज किया है, लेकिन इस दौरान उन्होंने गरीबों को सिर्फ धोखा दिया है. पीएम ने कहा कि इंदिरा जी ने नारा दिया था गरीबी हटाएंगे लेकिन क्या आज तक गरीबी हटी. उन्होंने कहा कि बैंकों के राष्ट्रीयकरण के बाद भी 2014 तक देश के आधी जनसंख्या के पास उनका बैंक खाता नहीं था. क्या राष्ट्रीयकरण गरीबों के नाम पर एक फर्जीवाड़ा नहीं है? गौरतलब है कि मध्यप्रदेश चुनाव के दौरान पीएम मोदी ने कई बार कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधा.

  • केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल का दावा, 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को मिल सकती हैं 297 से 303 सीटें

    केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल का दावा,  2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को मिल सकती हैं 297 से 303 सीटें

    केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने दावा किया है कि उनके एक सर्वेक्षण के मुताबिक 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा 297 से 303 सीटें जीतेगी. इस सर्वेक्षण के लिए देश भर में 5.4 लाख से अधिक लोगों की प्रतिक्रिया ली गई.

  • तेलंगाना: CM के. चंद्रशेखर राव की संपत्ति चार साल में 5.5 करोड़ रुपए बढ़ी, पर नहीं है खुद की कार

    तेलंगाना: CM के. चंद्रशेखर राव की संपत्ति चार साल में 5.5 करोड़ रुपए बढ़ी, पर नहीं है खुद की कार

    राव की कुल चल और अचल संपत्ति की कीमत अभी 22.61 करोड़ रुपए है, जबकि साल 2014 में उन्होंने अपनी संपत्ति 15.95 करोड़ रुपए की बताई थी. इस दौरान राव की देनदारी साल 2014 के 7.87 करोड़ रुपए से बढ़कर साल 2018 में 8.89 करोड़ रुपए हो गई है. इसके अलावा राव ने साल 2014 के आम चुनाव के दौरान हलफनामे में बताया था कि उनके पास 37.70 एकड़ कृषि भूमि है जो 2018 में बढ़कर 54.24 एकड़ हो गई है.