NDTV Khabar

Auto sector


'Auto sector' - 30 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • सात महीने में पहली बार मारुति की घरेलू बिक्री बढ़ी; महिंद्रा, टोयोटा का भी प्रदर्शन सुधरा

    सात महीने में पहली बार मारुति की घरेलू बिक्री बढ़ी; महिंद्रा, टोयोटा का भी प्रदर्शन सुधरा

    वाहन बाजार में सुस्ती के बीच त्योहारी मांग आने से मारुति सुजुकी, महिंद्रा एंड महिंद्रा और टोयोटा किर्लोस्कर समेत अन्य वाहन बनने वाली कंपनियों की बिक्री में अक्टूबर महीने में सुधार दिखा है. देश की सबसे बड़ी कार विनिर्माता कंपनी मारुति सुजुकी की इस साल अक्टूबर में घरेलू बाजार में थोक बिक्री 4.5 प्रतिशत बढ़कर 1,44,277 इकाई रही.

  • ऑटोमोबाइल सेक्टर में लगातार 11वें महीने रिकॉर्ड गिरावट दर्ज की गई

    ऑटोमोबाइल सेक्टर में लगातार 11वें महीने रिकॉर्ड गिरावट दर्ज की गई

    संकट से जूझ रहे ऑटोमोबाइल सेक्टर में गिरावट का दौर जारी है. सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मेन्युफैक्चरर्स ने सितम्बर के ताज़ा आंकड़े जारी करते हुए कहा कि ऑटो सेक्टर में प्रोडक्शन और बिक्री में लगातार 11वें महीने रिकॉर्ड गिरावट दर्ज़ की गई है. हालांकि नवरात्र के 10-12 दिनों में गाड़ियों की बिक्री में कुछ सुधार जरूर दर्ज हुआ है.

  • पेट्रोल-डीजल गाड़ियों के भविष्‍य को लेकर केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी का बड़ा बयान...

    पेट्रोल-डीजल गाड़ियों के भविष्‍य को लेकर केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी का बड़ा बयान...

    ऑटो सेक्‍टर में जारी मंदी के दौर और पेट्रोल-डीजल गाड़ि‍यों के भविष्‍य को लेकर जारी आशंकाओं के बीच सरकार का बड़ा बयान आया है जो ऑटो सेक्‍टर को कुछ हद तक राहत दे सकता है. निति आयोग ने प्रस्‍ताव किया था कि साल 2030 के बाद देश में केवल इलेक्‍ट्रिक वाहन ही बेचे जाएं.

  • अर्थव्यवस्था को मंदी से बचाने के लिए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के ये 12 फैसले क्या काफी हैं?

    अर्थव्यवस्था को मंदी से बचाने के लिए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के ये 12 फैसले क्या काफी हैं?

    देश की अर्थव्यवस्था को मंदी से बचाने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से कोशिशें जारी हैं. पिछले 2 महीने में वित्तमंत्री की ओर से देश को मंदी की ओर जाने से रोकने के लिए कई ऐलान किए गए हैं. आज हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कारपोरेट टैक्स घटाकर 30 फीसदी से 25.2 फीसदी कर दिया है. उनके इस ऐलान के बाद शेयर बाजार में तगड़ा उछाल आया और सेंसेक्स 1600 अंकों तक पहुंच गया है. गौरतलब है कि इस तिमाही में देश की विकास दर 5 फीसदी पर पहुंच गई है. इसके बाद से मोदी सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई. पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने इसे नोटबंदी और जल्दबाजी में लागू किए जीएसटी को वजह बताया. इसके साथ ही उन्होंने मोदी सरकार को कुछ कदम उठाने की सलाह दी. मंदी का सबसे कारण घरेलू बाजार में मांग की कमी है जिसमें ग्रामीण अर्थव्यवस्था सबसे ज्यादा प्रभावित है. इसका सबसे ज्यादा असर ऑटो सेक्टर पर दिखाई दे रहा है. वहीं मैन्यूफैक्चरिंग और कृषि के हालात भी ठीक नहीं है. सरकार इससे निपटने के लिए पिछले दो महीने में कई बड़े ऐलान कर चुकी है और कई फैसले भी वापस भी लिए हैं जो बजट के दौरान किए गए थे. हालांकि उसकी ओर से अंतरराष्ट्रीय बाजार में मंदी का असर भारत पर बताया जा रहा है. इससे पहले जो ऐलान किए गए थे उसका स्वागत भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (फिक्की) ने भी किया है और उम्मीद जताई कि इससे अर्थव्यवस्था में तेजी आएगी.

  • गोवा में आज GST काउंसिल की बैठक, क्या ऑटो सेक्टर को मंदी से उबारने के लिए कर सकती है टैक्स कटौती?

    गोवा में आज GST काउंसिल की बैठक, क्या ऑटो सेक्टर को मंदी से उबारने के लिए कर सकती है टैक्स कटौती?

    सवाल ये है कि क्या ऑटो सेक्टर (Auto Sector) को मंदी से उबारने के लिए जीएसटी काउंसिल टैक्स में कटौती कर सकती है. हालांकि बिहार के वित्त मंत्री सुशील कुमार मोदी इशारा कर चुके हैं कि काउंसिल का ऐसा कोई इरादा नहीं है. आज सुबह 10 बजे वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस भी करने वाली हैं.

  • GST Council Meeting: क्या ऑटो सेक्टर को मिलेगी राहत? GST काउंसिल की बैठक पर सबकी नजर 

    GST Council Meeting: क्या ऑटो सेक्टर को मिलेगी राहत? GST काउंसिल की बैठक पर सबकी नजर 

    GST Council Meeting: गोवा में शुक्रवार (20 सितंबर) को होने वाली जीएसटी काउंसिल (GST Council) की बैठक पर पूरी कार इंडस्ट्री की नज़र है.

  • पैसेंजर कारों में अप्रैल से अगस्त के बीच घटी मारुति की हिस्सेदारी, हुंदै, महिंद्रा को हुआ लाभ

    पैसेंजर कारों में अप्रैल से अगस्त के बीच घटी मारुति की हिस्सेदारी, हुंदै, महिंद्रा को हुआ लाभ

    वाहन बनाने वाली मारुति सुजुकी इंडिया और टाटा मोटर्स की यात्री वाहन खंड में घरेलू बाजार हिस्सेदारी इस साल अप्रैल-अगस्त में कम हुई है.

  • मैंने ऑटोमोबाइल निर्माताओं से कहा, कभी खुशी होती है, कभी गम होता है..... यही जीवन चक्र है : नितिन गडकरी

    मैंने ऑटोमोबाइल निर्माताओं  से कहा, कभी खुशी होती है, कभी गम होता है..... यही जीवन चक्र है : नितिन गडकरी

    केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने अर्थव्यवस्था में सुस्ती के दौर के बीच शनिवार को कहा कि उद्योगों को परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि मुश्किल समय गुजर जायेगा.  गडकरी ने विदर्भ उद्योग संघ के 65वें स्थापना दिवस पर यहां कहा, 'मुझे पता है कि उद्योग काफी कठिन दौर से गुजर रहे है. हम वृद्धि दर बढ़ाना चाहते हैं.' उन्होंने कहा कि हाल ही में वह ऑटोमोबाइल निर्माताओं से मिले थे और वे कुछ चिंतित थे. उन्होंने कहा, 'मैंने उनसे कहा, कभी खुशी होती है, कभी गम होता है. कभी आप सफल होते हैं और कभी आप असफल होते हैं. यही जीवन चक्र है.' वहीं दूसरी ओर  वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने सुस्त पड़ती अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिये शनिवार को बाजार प्रोत्साहन के उपायों की तीसरी किस्त की घोषणा की. इसमें रीयल एस्टेट तथा निर्यात क्षेत्रों को कुल मिला कर 70 हजार करोड़ रुपये से अधिक की वित्तीय मदद देने की योजनाएं शामिल हैं.

  • पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने मोदी सरकार पर बोला हमला,कहा- मंत्रियों के 'अटपटे' बयानों से अर्थव्यवस्था का कल्याण नहीं होगा

    पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने मोदी सरकार पर बोला हमला,कहा- मंत्रियों के 'अटपटे' बयानों से अर्थव्यवस्था का कल्याण नहीं होगा

    सिन्हा ने सवाल किया, 'अगर ओला-उबर जैसी कम्पनियों के चलते यात्री गाड़ियों की बिक्री में गिरावट आई, तो फिर दोपहिया वाहनों और ट्रकों की बिक्री में गिरावट क्यों आयी?' सिन्हा ने बीजेपी के दो अन्य मंत्रियों के बयानों का उल्लेख करते हुए तंज किया, 'बिहार के वित्त मंत्री (सुशील कुमार मोदी) कह रहे हैं कि सावन-भादो के चलते देश में मंदी का माहौल है.

  • लगातार 10वें महीने यात्री वाहनों की बिक्री घटी, 21 साल बाद देखने को मिली इतनी बड़ी गिरावट

    लगातार 10वें महीने यात्री वाहनों की बिक्री घटी, 21 साल बाद देखने को मिली इतनी बड़ी गिरावट

    भारतीय आटोमोबाइल विनिर्माता सोसायटी (सियाम) के सोमवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक अगस्त 2019 में घरेलू बाजार में कारों की बिक्री 41.09 प्रतिशत घटकर 1,15,957 कार रह गई जबकि एक साल पहले अगस्त में 1,96,847 कारें बिकी थी.

  • ऑटो सेक्टर में मंदी की वजह से सुजुकी मोटर्स ने टाला क्षमता विस्तार

    ऑटो सेक्टर में मंदी की वजह से सुजुकी मोटर्स ने टाला क्षमता विस्तार

    दोपहिया वाहनों की बिक्री में जारी नरमी तथा अप्रैल 2020 से भारत स्टेज छह के क्रियान्वयन के कारण सुजुकी मोटर इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने क्षमता विस्तार के लिये प्रस्तावित निवेश को फिलहाल टालने का निर्णय लिया है.

  • जीएसटी परिषद में ऑटो सेक्टर की मांग रखने को तैयार केंद्र : अनुराग ठाकुर

    जीएसटी परिषद में ऑटो सेक्टर की मांग रखने को तैयार केंद्र : अनुराग ठाकुर

    केंद्र सरकार ऑटोमोबाइल पर वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) घटाने के उद्योग के प्रस्ताव को जीएसटी परिषद में रखने के लिए तैयार है. वित्त एवं कॉरपोरेट मामलों के राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने यहां एसीएमए के वार्षिक सम्मेलन में कहा कि सरकार को जीएसटी दर 28 फीसदी से घटाकर 18 प्रतिशत करने के संबंध में विभिन्न घटकों से कई आग्रह प्राप्त हुए हैं, जिसमें ऑटोमोबाइल डीलर, ओईएम और कार विनिर्माता शामिल हैं.

  • ऑटो सेक्टर में छाई मंदी के बीच बोले नितिन गडकरी- पेट्रोल-डीजल से चलने वाले वाहनों को बंद करने का कोई इरादा नहीं

    ऑटो सेक्टर में छाई मंदी के बीच बोले नितिन गडकरी- पेट्रोल-डीजल से चलने वाले वाहनों को बंद करने का कोई इरादा नहीं

    ऑटो सेक्टर में छाई मंदी पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि नौकरी जाने की समस्या हमें पता है. हम भी मंदी का सामना कर रहे हैं. भारत एक उभरती अर्थव्यवस्था है जिसमें ऑटो सेक्टर ने बड़ी मात्रा में रोजगार दिया है. उन्होंने कहा कि यह गलतफहमी है कि सरकार पेट्रोल और डीजल वाहनों को बंद करने जा रही है. गडकरी ने कहा कि प्रदूषण कम करना हमारी प्राथमिकता है. दिल्ली में भी 20 फीसदी प्रदूषण कम हुआ है.  हमने ऑटो सेक्टर से इंजन बीएस4 से बीएस 6 में जाने के लिए कहा है और इस इंडस्ट्री से जुड़े लोग भी माने हैं. गडकरी ने कहा कि हम चाहते हैं कि आप फाइनेंस कंपनी के विकल्प के तौर पर आएं तो ऑटो सेक्टर में और तेजी आएगी. 

  • संकट से जूझ रहे ऑटोमोबाइल सेक्टर ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से की यह मांग

    संकट से जूझ रहे ऑटोमोबाइल सेक्टर ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से की यह मांग

    उद्योग संघ एसोचैम ने इस मांग का समर्थन करते हुए कहा है की टू-व्हीलर्स पर जीएसटी घटाकर 5% कर देना चाहिए.  उन्होंने कहा कि इस साल अगस्त में पिछले साल के मुकाबले पैसेंजर गाड़ियों की बिक्री करीब 30% घट गयी है. पिछले महीने वित्त मंत्री ने जो राहत का ऐलान किया उसका असर ज़मीन पर नहीं दिख रहा है लिहाजा सरकार को जीएसटी रेट 28% से घटाकर 18% करना चाहिए जिससे गाड़ियों पर कुल खर्च घटे और मांग बढे.

  • कारों के बाजार में तेज गिरावट का सिलसिला अगस्त में भी जारी: मारुति की बिक्री 33 प्रतिशत घटी

    कारों के बाजार में तेज गिरावट का सिलसिला अगस्त में भी जारी: मारुति की बिक्री 33 प्रतिशत घटी

    देश के वाहन उद्योग में गिरावट को सिलसिला जारी है और अगस्त में भी मारुति सुजुकी इंडिया, हुंदै, महिंद्रा एंड महिंद्रा, टाटा मोटर्स और होंडा सहित सभी प्रमुख वाहन निर्माताओं ने बिक्री में भारी गिरावट की सूचना दी है. देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया की बिक्री अगस्त महीने में 32.7 प्रतिशत घटकर 1,06,413 वाहन रह गई. इससे पिछले साल के समान महीने में कंपनी की बिक्री 1,58,189 इकाई रही थी.

  • मौजूदा आर्थिक मंदी 'अभूतपूर्व स्थिति', 70 साल में कभी ऐसा नहीं हुआ : नीति आयोग उपाध्यक्ष

    मौजूदा आर्थिक मंदी 'अभूतपूर्व स्थिति', 70 साल में कभी ऐसा नहीं हुआ : नीति आयोग उपाध्यक्ष

    देश के शीर्ष अर्थशास्त्री की यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है, जब देश की अर्थव्यवस्था पिछले पांच साल के दौरान वृद्धि की सबसे खराब गति को निहार रही है. राजीव कुमार ने कहा, "सरकार बिल्कुल समझती है कि समस्या वित्तीय क्षेत्र में है... तरलता (लिक्विडिटी) इस वक्त दिवालियापन में तब्दील हो रही है... इसलिए आपको इसे रोकना ही होगा..."

  • ऑटो के बाद अब टेक्सटाइल सेक्टर में मंदी की मार, बड़ी तादाद में गईं नौकरियां

    ऑटो के बाद अब टेक्सटाइल सेक्टर में मंदी की मार, बड़ी तादाद में गईं नौकरियां

    अंग्रेज़ी समाचारपत्र 'इंडियन एक्सप्रेस' में मंगलवार को आधे पेज का एक बड़ा-सा विज्ञापन छपा है, जिसमें नौकरियां खत्म होने के बाद फैक्टरी से बाहर आते लोगों का स्केच बनाया गया है. इसके नीचे बारीक आकार में लिखा है कि देश की एक-तिहाई धागा मिलें बंद हो चुकी हैं, और जो चल रही हैं, वे भारी घाटे में हैं. उनकी स्थिति ऐसी भी नहीं है कि वे भारतीय कपास ख़रीद सकें, सो, कपास की आगामी फ़सल का कोई ख़रीदार नहीं होगा. अनुमान है, 80,000 करोड़ रुपये का कपास उगने जा रहे है, सो, इसका असर कपास के किसानों पर भी होगा."

  • Ground Report: ऑटोमोबाइल सेक्टर की मंदी ने ले ली लाखों नौकरियां, फरीदाबाद और गुरुग्राम में हालत खस्ता

    Ground Report: ऑटोमोबाइल सेक्टर की मंदी ने ले ली लाखों नौकरियां, फरीदाबाद और गुरुग्राम में हालत खस्ता

    मंदी का सबसे ज्यादा असर पैसेंजर गड़ियों के बिक्री पर पड़ा है. जुलाई में करीब 31 प्रतिशत पैसेंजर गाड़ियों की बिक्री कम हुई है. पिछले साल जुलाई में कुल-मिलाकर 2,90,391 पैसेंजर गाड़ियां बिकी थीं. जबकि इस साल यह संख्या 2,00,790 रह गई है. सियाम के रिपोर्ट के हिसाब से जुलाई में हौंडा के पैसेंजर गाड़ियों की बिक्री लगभग 49 प्रतिशत कम हो गई