NDTV Khabar

Auto News in Hindi


'Auto' - 780 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • मौजूदा आर्थिक मंदी 'अभूतपूर्व स्थिति', 70 साल में कभी ऐसा नहीं हुआ : नीति आयोग उपाध्यक्ष

    मौजूदा आर्थिक मंदी 'अभूतपूर्व स्थिति', 70 साल में कभी ऐसा नहीं हुआ : नीति आयोग उपाध्यक्ष

    देश के शीर्ष अर्थशास्त्री की यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है, जब देश की अर्थव्यवस्था पिछले पांच साल के दौरान वृद्धि की सबसे खराब गति को निहार रही है. राजीव कुमार ने कहा, "सरकार बिल्कुल समझती है कि समस्या वित्तीय क्षेत्र में है... तरलता (लिक्विडिटी) इस वक्त दिवालियापन में तब्दील हो रही है... इसलिए आपको इसे रोकना ही होगा..."

  • ऑटो के बाद अब टेक्सटाइल सेक्टर में मंदी की मार, बड़ी तादाद में गईं नौकरियां

    ऑटो के बाद अब टेक्सटाइल सेक्टर में मंदी की मार, बड़ी तादाद में गईं नौकरियां

    अंग्रेज़ी समाचारपत्र 'इंडियन एक्सप्रेस' में मंगलवार को आधे पेज का एक बड़ा-सा विज्ञापन छपा है, जिसमें नौकरियां खत्म होने के बाद फैक्टरी से बाहर आते लोगों का स्केच बनाया गया है. इसके नीचे बारीक आकार में लिखा है कि देश की एक-तिहाई धागा मिलें बंद हो चुकी हैं, और जो चल रही हैं, वे भारी घाटे में हैं. उनकी स्थिति ऐसी भी नहीं है कि वे भारतीय कपास ख़रीद सकें, सो, कपास की आगामी फ़सल का कोई ख़रीदार नहीं होगा. अनुमान है, 80,000 करोड़ रुपये का कपास उगने जा रहे है, सो, इसका असर कपास के किसानों पर भी होगा."

  • मुसाफिरों को 'ना' कहने वाले 918 ऑटो चालकों का लाइसेंस रद्द

    मुसाफिरों को 'ना' कहने वाले 918 ऑटो चालकों का लाइसेंस रद्द

    परिवहन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अभी तक जाली दस्तावेज जमा करने जैसे अपराधों पर लाइसेंस रद्द होते थे लेकिन मुसाफिरों को कहीं ले जाने से मना करने पर ऐसा कदम पहली बार उठाया गया है. उन्होंने कहा कि परिवहन आयुक्त शेखर चन्ने ने हाल ही में एक मुहिम चलाई जिसमें बीते कुछ महीनों में मुंबई और ठाणे में 918 ऑटो रिक्शा चालकों के लाइसेंस वापस ले लिए गए. 

  • Ground Report: ऑटोमोबाइल सेक्टर की मंदी ने ले ली लाखों नौकरियां, फरीदाबाद और गुरुग्राम में हालत खस्ता

    Ground Report: ऑटोमोबाइल सेक्टर की मंदी ने ले ली लाखों नौकरियां, फरीदाबाद और गुरुग्राम में हालत खस्ता

    मंदी का सबसे ज्यादा असर पैसेंजर गड़ियों के बिक्री पर पड़ा है. जुलाई में करीब 31 प्रतिशत पैसेंजर गाड़ियों की बिक्री कम हुई है. पिछले साल जुलाई में कुल-मिलाकर 2,90,391 पैसेंजर गाड़ियां बिकी थीं. जबकि इस साल यह संख्या 2,00,790 रह गई है. सियाम के रिपोर्ट के हिसाब से जुलाई में हौंडा के पैसेंजर गाड़ियों की बिक्री लगभग 49 प्रतिशत कम हो गई

  • ऑटोमोबाइल सेक्‍टर में संकट गहराया, 10 लाख नौकरियों पर मंडराया खतरा

    ऑटोमोबाइल सेक्‍टर में संकट गहराया, 10 लाख नौकरियों पर मंडराया खतरा

    ऑटो सेक्टर अपने सबसे मुश्किल दौर से गुज़र रहा है. हर तरह की गाड़ियों की बिक्री घटी है. लगातार आठवें महीने गाड़ियों की बिक्री गिरी है. अब पहली बार सियाम- यानी सोसाइटी ऑफ़ इंडियन ऑटमोबाइल मैन्युफ़ैक्चरर्स ने आधिकारिक तौर पर माना है कि करीब साढ़े तीन लाख अस्थायी और कैजुअल नौकरियां जा चुकी हैं. यही नहीं, दस लाख लोगों की नौकरी ख़तरे में है.

  • अर्थव्यवस्था की रफ़्तार में आई गिरावट से निपटने के लिए उद्योगों ने मांगा एक लाख करोड़ का पैकेज

    अर्थव्यवस्था की रफ़्तार में आई गिरावट से निपटने के लिए उद्योगों ने मांगा एक लाख करोड़ का पैकेज

    अर्थव्यवस्था की रफ़्तार में आई गिरावट देखते हुए उद्योग संघ एसोचैम ने स्टिमुलस पैकेज की मांग की है. उधर पीएम की आर्थिक सलाहकार काउंसिल के अध्यक्ष बिबेक देबराय ने सरकार के सामने इकोनॉमिक रिवाइवल के लिए एक नया रोडमैप पेश किया है.

  • बेरोज़गारी के मुद्दे का हल कब तक निकलेगा?

    बेरोज़गारी के मुद्दे का हल कब तक निकलेगा?

    बरोज़गारी का सवाल अजीब होता है. न चुनाव में होता है और न चुनाव के बाद होता है. सरकारी सेक्टर की नौकरियों की परीक्षाओं का हाल विकराल है. मध्यप्रेश, बिहार, यूपी से रोज़ किसी न किसी परीक्षा के नौजवानों के मेसेज आते रहते हैं. इनकी संख्या लाखों में है फिर भी सरकारों को फर्क नहीं पड़ता. किसी परीक्षा में इंतज़ार की अवधि सात महीने है तो किसी परीक्षा में 3 साल.

  • Viral Video: यात्रियों से खचाखच भरा था ऑटो, पुलिस ने रोका तो अंदर से निकले इतने यात्री

    Viral Video: यात्रियों से खचाखच भरा था ऑटो, पुलिस ने रोका तो अंदर से निकले इतने यात्री

    तेलांगाना के एक ऑटो में से इतने यात्री निकले कि पुलिस भी देखकर हैरान रह गई. इस वीडियो को करीमनगर के पुलिस कमिश्नर ने शेयर किया है.

  • ऑटोमोबाइल उद्योग में मंदी की मार का असर ऑटो एंसिलरी सेक्टर पर भी

    ऑटोमोबाइल उद्योग में मंदी की मार का असर ऑटो एंसिलरी सेक्टर पर भी

    दुनिया भर में ऑटोमोबाइल उद्योग में जारी सुस्ती की मार देश के ऑटो एंसिलरी सेक्टर भी पड़ा है. उद्योग संगठन की मानें तो घरेलू और वैश्विक मंदी के साथ-साथ सरकारी नीति की अनिश्चितता और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में चीन की आक्रामक चाल से भारत ऑटो एंसिलरी सेक्टर प्रभावित है.  ऑटोमोटिव कंपोनेंट मैन्युफैक्चर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एसीएमए) के एक शीर्ष अधिकारी ने बताया कि भारत की एंसिलरी इंडस्ट्री 57 अरब डॉलर की है जिस पर सुस्ती की जबरदस्त मार पड़ी है. उन्होंने कहा कि अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वार से भारत में कारोबार बढ़ना चाहिए लेकिन अब तक ऐसा नहीं हो पाया. एसीएमए के प्रेसिडेंट राम वेंकटरमानी ने आईएएनएस से कहा, "भारतीय ऑटो कंपोनेंट उद्योग देश में वाहन विनिर्माताओं की बिक्री, रिप्लेसमेंट और निर्यात की तिपाई पर निर्भर है. सभी सेगमेंट पर दबाव देखा जा रहा है." उन्होंने कहा, "घरेलू ओईएम (ओरिजनल इक्विपमेंट मैन्युफैक्चर्स) मार्केट और सभी वाहन विनिर्माता भारी दबाव में है. पिछले 10-12 महीनों से उनकी बिक्री घटती जा रही है."

  • सबसे बुरे दौर से गुजर रहा है भारतीय ऑटो सेक्टर, 4 महीने में चली गईं 3.5 लाख नौकरियां

    सबसे बुरे दौर से गुजर रहा है भारतीय ऑटो सेक्टर, 4 महीने में चली गईं 3.5 लाख नौकरियां

    ऑटो सेक्टर में मंदी रुख बरकरार है. ऐसे कई स्रोतों से जानकारी मिली है कि कारों और मोटरसाइकिलों की बिक्री में कमी से ऑटो सेक्टर में बड़े पैमाने पर नौकरी में कटौती हो रही है. कई कंपनियां अपने कारखानों को बंद करने के लिए मजबूर हैं.

  • प्रेग्नेंट महिला को अस्पताल पहुंचाने के लिए ड्राइवर ने प्लेटफॉर्म पर दौड़ाया ऑटो, देखते रह गए लोग

    प्रेग्नेंट महिला को अस्पताल पहुंचाने के लिए ड्राइवर ने प्लेटफॉर्म पर दौड़ाया ऑटो, देखते रह गए लोग

    मुंबई के एक ऑटो रिक्शा ड्राइवर ने ऐसा किया जिसकी हर जगह उनकी तारीफ हो रही है. ड्राइवर ने एक गर्भवती महिला को समय पर अस्पताल पहुंचाया. 

  • वाहन उद्योग की चाल हुई सुस्त, जुलाई की बिक्री में भारी गिरावट

    वाहन उद्योग की चाल हुई सुस्त, जुलाई की बिक्री में भारी गिरावट

    वाहन उद्योग क्षेत्र में मंदी का रुख बरकरार है. देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी समेत हुंदै, महिंद्रा, होंडा कार्स और टोयोटा किर्लोस्कर मोटर्स जैसी प्रमुख वाहन कंपनियों की बिक्री में जुलाई में दहाई अंक की गिरावट दर्ज की गयी है.

  • वाहन कलपुर्जा उद्योग में 10 लाख नौकरियां जाने का अंदेशा, कई जगह छंटनी शुरू

    वाहन कलपुर्जा उद्योग में 10 लाख नौकरियां जाने का अंदेशा, कई जगह छंटनी शुरू

    वाहन कलपुर्जा उद्योग से बड़ी संख्या में नौकरियां जा सकती हैं. यह दावा वाहन कलपुर्जा विनिर्माताओं के अखिल भारतीय संगठन एक्मा ने किया है.

  • गुरुग्राम: नाइट क्लब में पार्टी करने गई अफ्रीकी महिला का ऑटो ड्राइवर ने किया यौन उत्पीड़न

    गुरुग्राम: नाइट क्लब में पार्टी करने गई अफ्रीकी महिला का ऑटो ड्राइवर ने किया यौन उत्पीड़न

    हरियाणा के गुरुग्राम में दो लोगों को एक अफ्रीकी महिला का कथित तौर पर यौन उत्पीड़न करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि यह घटना गुरुवार रात शीतला कालोनी में हुई. गुड़गांव पुलिस के पीआरओ सुभाष बुकन ने बताया कि महिला सहारा मॉल में एक नाइट क्लब में पार्टी के लिए गई थी.

  • ऑटोमोबाइल सेक्टर में मंदी, गाड़ियों की बिक्री में आई गिरावट

    ऑटोमोबाइल सेक्टर में मंदी, गाड़ियों की बिक्री में आई गिरावट

    अर्थव्यवस्था में मंदी का सबसे ज्यादा असर ऑटोमोबाइल सेक्टर पर पड़ा है. गाड़ियों की बिक्री घटती जा रही है. मंदी का असर हर तरह की गाड़ियों की बिक्री और प्रोडक्शन पर पड़ा है साथ ही जॉब लॉस का खतरा मंडराने लगा है. अब ऑटो सेक्टर ने सरकार से स्टिमुलस पैकेज की मांग की है. इस तिमाही में कारों की बिक्री 23 फ़ीसदी से ज़्यादा घट गई है.

  • वाहन उद्योग में लंबे समय से चल रहा नरमी का दौर जून में भी रही जारी

    वाहन उद्योग में लंबे समय से चल रहा नरमी का दौर जून में भी रही जारी

    वाहन उद्योग में लंबे समय से चल रहा नरमी का दौर जून में भी जारी रहा. ग्राहकों की कमजोर धारणा के चलते प्रमुख वाहन विनिर्माता कंपनियों मारुति सुजुकी, हुंदै, टाटा मोटर्स और टोयोटा के यात्री वाहनों की बिक्री में गिरावट का सिलसिला जून में भी बरकरार रहा. हालांकि, पिछले महीने महिंद्रा एंड महिंद्रा के घरेलू यात्री वाहनों की बिक्री में चार प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गयी. देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया की घरेलू बिक्री जून माह में 15.3 प्रतिशत घटकर 1,14,861 वाहन रही जो इससे पिछले साल इसी अवधि में 1,35,662 वाहन थी.

  • Budget 2019: एसोचैम ने बजट में की राहत पैकेज की मांग

    Budget 2019: एसोचैम ने बजट में की राहत पैकेज की मांग

    बजट से पहले उद्योग जगत ने रियायत के लिए दबाव बढ़ा दिया है. उसका कहना है, सरकार कारपोरेट टैक्स कम करे, बैंकों को पैसा मुहैया कराए और बेरोज़गारी पर क़ाबू पाने के लिए ज़रूरी निवेश करे. 5 जुलाई के बजट पर उद्योगों की नजर है. वो चाहते हैं कि डूबे हुए क़र्ज़ के संकट और करीब 9 फ़ीसदी के एनपीए से जूझ रहे बैंकों को सरकार पैसा मुहैया कराए ताकि वह उद्योगों तक आए.

  • स्लोडाउन से जूझते ट्रांसपोर्ट सेक्टर की मांग, जीएसटी रेट में कटौती की जाए

    स्लोडाउन से जूझते ट्रांसपोर्ट सेक्टर की मांग, जीएसटी रेट में कटौती की जाए

    स्लोडाउन से जूझ रहे मोटर ट्रांसपोर्ट सेक्टर की मांग है कि जीएसटी रेट में कटौती की जाए. साथ ही कॉर्पोरेट टैक्स में कटौती की भी मांग है. छोटे-मझौले उद्योगों को आसान शर्तों पर नया निवेश करने के लिए क्रेडिट देने की भी मांग है. इस साल के बजट को लेकर हर तरह के उद्योग की अपनी विशलिस्ट है. एनडीटीवी से बातचीत में हीरो इन्टरप्राइज़ेस के प्रमुख सुनील कांत मुंजाल ने कहा कि मोटर ट्रांसपोर्ट सेक्टर में मंदी से निपटने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन को जीएसटी दरों में कटौती पर विचार करना चाहिए

12345»

Advertisement

 

Auto फोटो

Auto वीडियो

Auto से जुड़े अन्य वीडियो »