NDTV Khabar

Bahujan samaj party


'Bahujan samaj party' - 103 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • BSP के 6 विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने पर बोलीं मायावती- गैर भरोसेमंद और धोखेबाज है कांग्रेस

    BSP के 6 विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने पर बोलीं मायावती- गैर भरोसेमंद और धोखेबाज है कांग्रेस

    राजस्थान में बहुजन समाजवादी पार्टी के सभी छह विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए हैं. इसे नगर निकाय और पंचायत चुनावों से पहले राज्य की अशोक गहलोत सरकार के लिए बड़ी राजनीतिक सफलता के रूप में देखा जा रहा है. बसपा के छह विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष सी पी जोशी को सोमवार देर रात एक पत्र सौंपा. विधायकों ने बिना शर्त कांग्रेस में शामिल होने की बात कही है.

  • कांग्रेस में शामिल हुए इस पार्टी के 6 विधायक, 10 साल पहले भी अशोक गहलोत कर चुके हैं ये कारनामा

    कांग्रेस में शामिल हुए इस पार्टी के 6 विधायक, 10 साल पहले भी अशोक गहलोत कर चुके हैं ये कारनामा

    बसपा के छह विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष सी पी जोशी को सोमवार देर रात एक पत्र सौंपा. विधायकों ने बिना शर्त कांग्रेस में शामिल होने की बात कही है. राज्य में बसपा के छह विधायक राजेंद्र सिंह गुढ़ा (उदयपुर वाटी), जोगेंद्र सिंह अवाना (नदबई), वाजिब अली (नगर), लाखन सिंह (करौली), संदीप कुमार (तिजारा) और दीपचंद खेरिया (किशनगढ़ बास) है.

  • मायावती के भाई पर आयकर विभाग का शिकंजा, 400 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त

    मायावती के भाई पर आयकर विभाग का शिकंजा, 400 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त

    लोकसभा चुनाव के बाद बसपा (BSP) प्रमुख मायावती (Mayawati) ने पार्टी नेताओं के साथ बैठक कर कई बड़ी घोषणाएं की थी. मायावती ने अपने भाई आनंद कुमार (Anand Kumar) को बसपा का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया था, वहीं भतीजे आकाश आनंद (Akash Anand) को नेशनल कॉर्डिनेटर की जिम्मेदारी दी थी.

  • विधानसभा उपचुनाव: SP को मुस्लिम वोट बैंक संजोने की चिंता, मायावती के अलग होने के बाद अखिलेश की बढ़ी चुनौती

    विधानसभा उपचुनाव: SP को मुस्लिम वोट बैंक संजोने की चिंता, मायावती के अलग होने के बाद अखिलेश की बढ़ी चुनौती

    सूत्र बताते हैं कि प्रदेश की जिन 12 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं, उनमें से केवल एक रामपुर ही सपा के कब्जे में है. ऐसे में रामपुर पर कब्जा बरकरार रखने के साथ समाजवादी अन्य सीटों पर भी बेहतर प्रदर्शन चाहती है. इसके सपा मुखिया अखिलेश यादव विदेश से लौटने के बाद लगातार कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर रहे हैं. उपचुनाव के लिए सीटवार समीक्षा भी कर रहे हैं.

  • गठबंधन टूटने के बाद सपा का पलटवार: जनता जानती है बसपा की असलियत, उपचुनाव में सिखायेगी सबक

    गठबंधन टूटने के बाद सपा का पलटवार: जनता जानती है बसपा की असलियत, उपचुनाव में सिखायेगी सबक

    मायावती ने पिछले दिनों बसपा की एक बैठक में सपा से गठबंधन को नुकसानदेह बताते हुए इसे खत्म कर दिया था और भविष्य में सभी चुनाव अपने बलबूते लड़ने का एलान किया था. बता दें, हाल में हुए लोकसभा चुनाव में प्रदेश के 11 विधायक सांसद बन गये हैं. इनमें से आठ विधायक भाजपा और एक-एक विधायक सपा और बसपा के हैं. इन सीटों में रामपुर, टूंडला, इगलास, गंगोह, जलालपुर, जैदपुर, बलहा, लखनऊ कैंट, गोविंद नगर, प्रतापगढ़ और मानिकपुर शामिल हैं. इन सीटों पर उपचुनाव होना है. हालांकि उसकी तारीख अभी घोषित नहीं हुई है.

  • मायावती ने कहा- रिश्‍ता वही, गठबंधन नहीं; विधानसभा उपचुनाव अपने दम पर

    मायावती ने कहा- रिश्‍ता वही, गठबंधन नहीं; विधानसभा उपचुनाव अपने दम पर

    मायावती ने कहा कि समीक्षा बैठक में जो बात निकलकर सामने आई उस पर हमें सोचने को मजबूर होना पड़ा. इसके बाद से यह साफ हो गया कि उत्‍तर प्रदेश में अब बसपा और सपा के बीच का गठबंधन खत्‍म हो गया है. मायावती ने मंगलवार को प्रेस कांफ्रेंस कर इसकी पुष्टि भी कर दी. हालांकि मायावती ने साफ कहा कि अखिलेश यादव से हमारे रिश्‍ते हमेशा बने रहेंगे. अखिलेश यादव और डिम्‍पल यादव ने मुझे बहुत इज्‍जत दी है और मैंने भी उन लोगों को परिवार की तरह माना है.

  • मायावती ने दोबारा अखिलेश से हाथ मिलाने के दिए संकेत, पर उसके लिए रखी एक शर्त

    मायावती ने दोबारा अखिलेश से हाथ मिलाने के दिए संकेत, पर उसके लिए रखी एक शर्त

    अखिलेश यादव के साथ दोबारा से हाथ मिलाने का संकेत देते हुए मावायती ने कहा, 'सपा और बसपा स्थाई तौर पर अलग-अलग नहीं हुए हैं. यदि हम भविष्य में महसूस करते हैं कि सपा प्रमुख अपने राजनीतिक कार्य में सफल होते हैं, तो हम फिर से एक साथ काम करेंगे. लेकिन अगर वह सफल नहीं होते हैं, तो हमारे लिए अलग से काम करना अच्छा रहेगा. इसलिए हमने अकेले उपचुनाव लड़ने का फैसला किया है."

  • मध्यप्रदेश की डगमगाती कमलनाथ सरकार को बीएसपी ने दी राहत

    मध्यप्रदेश की डगमगाती कमलनाथ सरकार को बीएसपी ने दी राहत

    मध्यप्रदेश में कमलनाथ की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार को एक बड़ी राहत मिली जब बहुजन समाज पार्टी ने बुधवार को राज्य सरकार को अपना बाहरी समर्थन जारी रखने की घोषणा की.

  • मिठाई के डिब्बे में लेकर आए पिस्तौल, दफ्तर में बैठे BSP नेता और उनके भांजे को गोली से उड़ाया

    मिठाई के डिब्बे में लेकर आए पिस्तौल, दफ्तर में बैठे BSP नेता और उनके भांजे को गोली से उड़ाया

    पुलिस के मुताबिक उनमे से एक लड़का बाहर रुक गया, जबकि दो लड़के हाथ में मिठाई का डिब्बा लिए अंदर ऑफिस में प्रवेश किये. उन्होंने हाजी एहसान से नाम पूछकर डिब्बे में से पिस्तौल निकाला और गोली चला दी, इस पर भांजे ने रोकना चाहा तो हमलावरों ने उसे भी गोली मार दी और तीनों मौके से फरार हो गये. पुलिस ने बताया कि इस हमले में दोनों की मौत हो गयी. पुलिस क्षेत्राधिकारी महेश कुमार का कहना है कि अभी कोई दुश्मनी सामने नहीं आयी है, हत्यारों की तलाश के लिए टीम गठित की गयी है.

  • BSP विधायक का दावा: BJP ने दिया मंत्री पद और 50-60 करोड़ रुपये का ऑफर, कमलनाथ सरकार से समर्थन वापस लेने के लिए कहा

    BSP विधायक का दावा: BJP ने दिया मंत्री पद और 50-60 करोड़ रुपये का ऑफर, कमलनाथ सरकार से समर्थन वापस लेने के लिए कहा

    लोकसभा चुनाव में मध्य प्रदेश में उनकी पार्टी की हार के लिए पथरिया विधानसभा क्षेत्र से विधायक रामबाई ने ईवीएम पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा, 'यह सब ईवीएम की गड़बड़ है. राजनीति में आने के बाद मैंने महसूस किया कि यह बहुत खराब चीज है.' इसके साथ ही उन्होंने योग गुरु रामदेव के उस बयान का भी समर्थन किया कि देश की आबादी रोकने के लिए परिवार के तीसरे बच्चे से वोट करने का अधिकारी छीन लेना चाहिए. उन्होंने कहा, 'मैं उनके बयान से सहमत हूं. ना केवल वोट का अधिकार, बल्कि सबी तरह की सरकारी सुविधाएं छीन लेनी चाहिए.' गौरतलब है कि मध्य प्रदेश में बसपा कांग्रेस के साथ गठबंधन में है. प्रदेश में रामबाई सहित बसपा के दो विधायक हैं और उन्होंने कमलनाथ सरकार को समर्थन दे रखा है.

  • मायावती का हमला: BSP प्रमुख के पास जो कुछ है वह समाज ने दिया, पर PM मोदी की विरासत देश पर काला धब्बा

    मायावती का हमला: BSP प्रमुख के पास जो कुछ है वह समाज ने दिया, पर PM मोदी की विरासत देश पर काला धब्बा

    उन्होंने कहा कि जनहित और देशहित के मामले में बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुत फिट हैं और इनकी तुलना में मोदी बहुत ज्यादा अनफिट हैं. मायावती ने बुधवार को कहा 'मैं चार बार उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री रही हूं लेकिन मेरी विरासत बेहद पाक-साफ तथा विकासपूर्ण रही है. कानून व्यवस्था के मामले में आज भी लोग बसपा सरकार के कार्यकाल की तारीफ करते हुये थकते नहीं है. जबकि मोदी मुझसे ज्यादा समय तक गुजरात के मुख्यमंत्री जरूर रहे हैं लेकिन उनकी विरासत न सिर्फ उन पर बल्कि भाजपा तथा देश के इतिहास पर एक बोझ और काला धब्बा है.'

  • SP-BSP गठबंधन पर आदित्यनाथ का हमला, कहा- नंदी बाबा सपा की सभाओं में पूछते हैं कसाइयों के मित्र कहां हैं?

    SP-BSP गठबंधन पर आदित्यनाथ का हमला, कहा- नंदी बाबा सपा की सभाओं में पूछते हैं कसाइयों के मित्र कहां हैं?

    लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections 2019) के छह चरण पूरे हो चुके हैं. 7वें और अंतिम चरण से पहले सभी पार्टियां पूरे दमखम से प्रचार में जुटी हुई हैं. आखिरी चरण में कुल 59 सीटों पर मतदान होने हैं. नतीजे 23 मई को आएंगे. इन सबके बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी लगातार जारी है. इसी कड़ी में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने सोमवार को कुशीनगर में सपा-बसपा गठबंधन (SP-BSP Alliance) पर जमकर हमला बोला. हाल ही में कन्नौज में सपा-बसपा गठबंधन की रैली में सांड घुसने की घटना का जिक्र करते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि नंदी बाबा भी सपा की सभा में पूछते हैं कि कसाइयों के मित्र कहां हैं, उन्हें ठीक कर देता हूं?

  • SP सांसद धर्मेंद्र यादव बोले- अखिलेश, मायावती जिसे चाहेंगे, वही बनेगा अगला PM, यूपी में दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू पाएगी BJP

    SP सांसद धर्मेंद्र यादव बोले- अखिलेश, मायावती जिसे चाहेंगे, वही बनेगा अगला PM, यूपी में दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू पाएगी BJP

    बदायूं से सांसद धर्मेंद्र यादव ने कहा, 'उत्तर प्रदेश की जनता व्यापक समर्थन देने जा रही है. बड़ी जिम्मेदारी से कहना चाहता हूं कि हमारे गठबंधन के सहयोग के बिना कोई प्रधानमंत्री बनने वाला नहीं है.' उन्होंने यह भी दावा किया कि भाजपा उत्तर प्रदेश में दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू पाएगी. धर्मेंद्र यादव ने मोदी सरकार पर दलितों एवं पिछड़ों के आरक्षण को निशाना बनाने का आरोप लगाते हुए कहा, 'सरकार बनने के बाद सबसे पहले हम लोग जाति आधारित जनगणना के आंकड़ों को सामने रखकर पूरी तस्वीर साफ करेंगे कि कितने एससी हैं, कितने एसटी हैं और कितने ओबीसी हैं?'

  • जब चुनावी रैली में बसपा के कार्यकर्ता ने समाजवादी पार्टी समर्थक को किया 'किस'...देखें - VIDEO

    जब चुनावी रैली में बसपा के कार्यकर्ता ने समाजवादी पार्टी समर्थक को किया 'किस'...देखें - VIDEO

    कई दशकों तक एक-दूसरे के प्रतिदंद्वी रहे दल बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी अब उत्तर प्रदेश में गठबंधन करके लोकसभा चुनाव एक साथ लड़ रहे हैं. इतना ही नहीं, दोनों पार्टियों के नेता संयुक्त रैलियां भी कर रहे हैं. यूपी में सपा-बसपा की संयुक्त रैली के दौरान जब एनडीटीवी ने एक बसपा कार्यकर्ता से पूछा कि गठबंधन ठीक चल रहा है? तो बसपा समर्थक ने सपा कार्यकर्ता को 'किस' करके प्यार जता दिया.

  • महागठबंधन की रैली में कन्नौज पहुंचीं मायावती तो डिंपल यादव ने पैर छूकर लिया आशीर्वाद

    महागठबंधन की रैली में कन्नौज पहुंचीं मायावती तो डिंपल यादव ने पैर छूकर लिया आशीर्वाद

    कन्नौज में समाजवादी-बहुजन समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल महागठबंधन की रैली के दौरान अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव ने मायावती के पैर छूकर उनका आशीर्वाद लिया.

  • मायावती ने गाजीपुर से माफिया मुख्तार अंसारी के भाई और अंबेडकर नगर से राकेश पांडे के बेटे को दिया टिकट

    मायावती ने गाजीपुर से माफिया मुख्तार अंसारी के भाई और अंबेडकर नगर से राकेश पांडे के बेटे को दिया टिकट

    इससे पहले शुक्रवार को पार्टी ने पांच उम्मीदवारों के नामों का ऐलान किया था. पिछली लिस्ट में बीकानेर से भैराराम मेघवाल, चुरू से हरि सिंह चाहर, सीकर से सीतादेवी, जयपुर ग्रामीण से विरेंद्र सिंह विधूड़़ी और करौली धौलपुर से रामकुमार बैरवा को टिकट दी गई थी.

  • BSP ने पांच और उम्मीदवारों का किया ऐलान, देखें किसे मिला कहां से टिकट

    BSP ने पांच और उम्मीदवारों का किया ऐलान, देखें किसे मिला कहां से टिकट

    लोकसभा चुनाव के प्रथम चरण में उत्तर प्रदेश की आठ सीटों के लिए चुनाव प्रचार मंगलवार शाम पांच बजे बंद हो जाएगा. सहारनपुर, कैराना, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, मेरठ, बागपत, गाजियाबाद और गौतमबुद्धनगर की संसदीय सीटों के लिए 96 प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहें हैं.

  • BSP-SP-RLD की संयुक्त रैली में दिखे चंद्रशेखर आजाद के पोस्टर्स, मायावती ने बताया था BJP की B टीम

    BSP-SP-RLD की संयुक्त रैली में दिखे चंद्रशेखर आजाद के पोस्टर्स, मायावती ने बताया था BJP की B टीम

    मायावती ने भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर पर दलित वोट बांटकर भाजपा को फायदा पहुंचाने का आरोप लगाया था. साथ ही उन्होंने भाजपा को सत्ता से हटाने के लिए एकजुट रहने की अपील भी की थी.