NDTV Khabar

Bihar vidhan sabha election


'Bihar vidhan sabha election' - 7 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • बहुत बड़ी चुनौती लेकर आया 2020, कहीं इन तीनों चेहरों के बीच पिस न जाए लालू प्रसाद यादव की पार्टी RJD

    बहुत बड़ी चुनौती लेकर आया 2020, कहीं इन तीनों चेहरों के बीच पिस न जाए लालू प्रसाद यादव की पार्टी RJD

    बिहार में साल 2020 जहां बीजेपी-जेडीयू गठबंधन, नीतीश कुमार का राजनीतिक भविष्य तय होना है तो वहीं मुख्य विपक्षी दल आरजेडी के लिए भी किसी अग्निपरीक्षा से कम साबित नहीं होने वाला है. साल 2015 में जब आरजेडी ने नीतीश की पार्टी के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था तो बीजेपी उस समय मोदी लहर पर सवार थी. लेकिन बिहार में आरजेडी और जेडीयू के वोटबैंक ने मिलकर बीजेपी को हरा दिया था. इसमें गठबंधन में कांग्रेस भी शामिल और इसे उस चुनाव में महागठबंधन कहा गया था.

  • Jharkhand: महागठबंधन की जीत पर RJD नेता तेजप्रताप यादव बोले- लिखकर रख लीजिए...

    Jharkhand: महागठबंधन की जीत पर RJD नेता तेजप्रताप यादव बोले- लिखकर रख लीजिए...

    राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजप्रताप यादव ने ट्वीट कर के बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर बोला हमला.

  • एनडीए को हराने के लिए RJD नेता रघुवंश प्रसाद ने दिया सभी दलों के विलय का सुझाव

    एनडीए को हराने के लिए RJD नेता रघुवंश प्रसाद ने दिया सभी दलों के विलय का सुझाव

    बिहार में लोकसभा चुनाव के दौरान करारी हार का सामना कर चुके विपक्षी दल आने वाले विधानसभा चुनाव में एनडीए को हराने की रणनीति पर मंथन कर रहे हैं. इसी कड़ी में राष्ट्रीय जनता दल के वयोवृद्ध नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह ने सभी विपक्षी दलों का विलय करने का एक बार फिर सुझाव दिया. रघुवंश प्रसाद ने शुक्रवार को दोबारा कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) का मुकाबला करने के लिए सभी क्षेत्रीय विपक्षी पार्टियों का महागठबंधन में विलय करना चाहिए.

  • बिहार में नीतीश कुमार और बीजेपी आखिर क्यों बने एक दूसरे की मजबूरी?

    बिहार में नीतीश कुमार और बीजेपी आखिर क्यों बने एक दूसरे की मजबूरी?

    बुधवार का दिन बिहार के मुख्य मंत्री नीतीश कुमार के राजनीतिक जीवन में हाल के कुछ महीनो में सबसे सुखद रहा होगा. इसलिए नहीं कि उनके नेतृत्व पर बिहार एनडीए के दो वरिष्ठ नेता , सुशील मोदी और राजविलास पासवान ने बयान दिया है कि नीतीश कुमार कप्तान हैं और उन्हीं की कप्तानी में अगले साल विधानसभा चुनाव लड़ेंगे या नीतीश चेहरा हैं और चेहरा रहेंगे जैसे बयान दिए बल्कि नीतीश कुमार के कट्टर आलोचक रहे आरजेडी नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने माना कि बीजेपी को हराने के लिए महगठबंधन में नीतीश कुमार वापस आएं तो उनका स्वागत है.

  • बिहार चुनाव को लेकर जेडीयू का नया नारा, 'क्यूं करें विचार, ठीके तो है नीतीश कुमार'

    बिहार चुनाव को लेकर जेडीयू का नया नारा, 'क्यूं करें विचार, ठीके तो है नीतीश कुमार'

    साल 2015 में बिहार में जिस नारे के दम पर नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनाव जीता था इस बार उसमें थोड़ा सा बदलाव किया गया है. पिछली बार नारा था, 'बिहार में बहार है, नीतीशे कुमार है' इस नारे को गढ़ने में चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर का दिमाग़ था. लेकिन जो नया बदलाव किया गया है इसमें प्रशांत किशोर का कोई हाथ नहीं है. लेकिन साल 2020 में होने वाले चुनाव को लेकर जो नारा गढ़ा गया है वह है, 'क्यूं करें विचार, ठीके तो है नीतीश कुमार'. अब देखने वाली बात यह होगी कि बदली परिस्थितियों में नारे कितना काम करते हैं. लगातार तीन बार मुख्यमंत्री बन चुके नीतीश कुमार ने पिछला चुनाव आरजेडी+जेडीयू+कांग्रेस को मिलाकर महागठबंधन के बैनर तले लड़ा था. जिसमें इन तीन पार्टियों का वोटबैंक बीजेपी पर भारी पड़ गया था. नीतीश कुमार इससे पहले एनडीए में थे लेकिन नरेंद्र मोदी  को पीएम पद का चेहरा बनाए जाने पर वह नाराज हो गए और बीजेपी से नाता तोड़ लिया. 

  • दो बहनों के सिर जुड़े थे आपस में... उनका एक वोट होगा या दोनों ने अलग-अलग वोट दिया? जानिए

    दो बहनों के सिर जुड़े थे आपस में... उनका एक वोट होगा या दोनों ने अलग-अलग वोट दिया? जानिए

    Elections 2019: ये कहानी है बिहार (Bihar) के पटना (Patna) के दीघा विधानसभा क्षेत्र (Digha Vidhan Sabha constituency) की. जहां जुड़वा बहन सबा और फ़राह के सिर जुड़े हैं. आइए जानते हैं कैसे दोनों ने मतदान का फर्ज निभाया.

  • Bhabua Assembly By Election Result 2018: भभुआ की सीट पर बीजेपी ने जीत रखी बरकरार, कांग्रेस की हार

    Bhabua Assembly By Election Result 2018: भभुआ की सीट पर बीजेपी ने जीत रखी बरकरार, कांग्रेस की हार

    बिहार में भभुआ विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव के आज परिणाम सामने आएंगे. भभुआ विधानसभा उपचुनाव के वोटों की गिनती सुबह आठ बजे से शुरू होगी. 11 मार्च को हुए मतदान में भभुआ सीट पर 48 फीसदी लोगों ने अपने मतों का प्रयोग किया था. भभुआ सीट पर राजद गठबंधन की ओर से कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार उतारा है. भाजपा ने जहां अपने दिवंगत विधायक आनंद भूषण पांडेय की पत्नी रिंकी रानी पांडेय को उतारा है, तो वहीं कांग्रेस ने शंभू पटेल को अपना उम्मीदवार बनाया है. अब देखना होगा कि भाजाप और कांग्रेस में कौन इस सीट को जीतने में कामयाब हो पाता है. 

Advertisement