NDTV Khabar

Blog


'Blog' - more than 1000 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • दुनिया में कोरोना संक्रमण को लेकर क्या-क्या हो रहा है

    दुनिया में कोरोना संक्रमण को लेकर क्या-क्या हो रहा है

    कोरोना वायरस से संबंधित किसी भी रिपोर्ट में संक्रमित लोगों और मरने वालों की संख्या लगातार बदल रही है. इसका ध्यान रखें. इन खबरों को पढ़ते हुए आतंकित नहीं होना है. बल्कि सतर्क रहने का प्रण मज़बूत करना है. आपकी सतर्कता ही जान बचाएगी. 

  • भारत में कोरोना मरीज़ कम हैं या भारत टेस्ट ही नहीं कर पा रहा है?

    भारत में कोरोना मरीज़ कम हैं या भारत टेस्ट ही नहीं कर पा रहा है?

    29 फरवरी को भारत में कोरोना संक्रमण के 3 मामले थे. 30 मार्च तक यह संख्या 1,251 हो गई. 30 मार्च को 227 नए मामले सामने आए. अभी तक 24 घंटे के भीतर इतनी संख्या कभी नहीं बढ़ी थी. क्या भारत में कोरोना का संक्रमण कम हुआ है या भारत टेस्ट कम कर रहा है? क्यों कम टेस्ट कर रहा है? क्या भारत के पास टेस्ट किट नहीं हैं? संक्रमण के बारे में जानने का यही तरीका है कि टेस्ट हो जाए. जांच रिपोर्ट आ जाए.

  • तबाह होती ये भीड़ क्या तबाही मचाएगी!

    तबाह होती ये भीड़ क्या तबाही मचाएगी!

    ये दिल्ली है मेरी जान! दिल्ली है दिलवालों की! इस शहर में न तो जान दिखती है और न ही कोई दिलवाला, अगर ऐसा होता तो कोरोना के खतरे के बीच लोग यूं शहर छोड़कर नहीं भागते. एक हिंदी फिल्म 'अलग अलग' का वो गाना याद आता है 'गिला मौत से नहीं है मुझे ज़िंदगी ने मारा.' अपने मासूम बच्चों को गोद लिए, कंधों और सिर पर भारी भरकम बैग लिए हवाई चप्पल पहने जो मज़दूर घर जाने के लिए कई दिन भूखे रहकर कई किलोमीटर की दूरी तय कर चुके हैं, उनके लिए शायद ज़िंदगी मौत से भी बदतर है.

  • कोरोना की त्रासदी में फंसा आम आदमी

    कोरोना की त्रासदी में फंसा आम आदमी

    कोरोना के कहर से बचने के लिये हम सबकी जिंदगी घर की चारदीवारियों में कैद हो गई है. लेकिन नींद कोसों दूर है. अलग तरह की बेचैनी और छटपटाहट है. दिल्ली से भागलपुर तक जिस किसी से बात हो रही है वो यही कह रहा है कि ऐसा नहीं होना चाहिए. सबको अंदर से झकझोर दिया है. मुद्दे की बात करूं तो सबसे पहले तीन तस्वीरें आपके सामने रखना चाहूंगा. मुंबईवासी के जिगर के टुकड़े  ब्रिटेन में कोरोना की वजह से फंस गये तो उसे लाने के लिये उसके परिवार ने विशेष विमान भेज दिया. खर्च आया मात्र 90 लाख. ऐसे ही जब वुहान, इटली, ईरान और मलेशिया जैसे देशों में सैकड़ों लोग कोरोना की वजह से फंस गये तो सरकार विशेष यात्री विमान भेजकर उनको सुरक्षित वापस ले आई.

  • एक दिन में बढ़ गए कोरोना के 10,000 मामले, आखिर क्यों पिछड़ गया अमरीका लड़ाई में?

    एक दिन में बढ़ गए कोरोना के 10,000 मामले, आखिर क्यों पिछड़ गया अमरीका लड़ाई में?

    अमरीका में एक दिन में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज़ों की संख्या 10,000 बढ़ गई है. इस छलांग से अमरीका चीन और इटली से भी आगे निकल गया है. अमरीका में संक्रमित मरीज़ों की संख्या 85,500 हो गई है. चीन में 81,782 मामले सामने आ चुके हैं और इटली में 80,589 मामले. चीन में 81,000 मामलों में से 74,000 ठीक हो चुके हैं. लेकिन अमरीका में करीब 86,000 केस में से 800 के आस-पास ही ठीक हुए हैं. ध्यान रखिएगा कि संक्रमित मरीज़ों की संख्या दुनिया भर में पल पल बदल रही है.

  • मोदी सरकार के 1.7 लाख करोड़ के पैकेज को समझे बगैर पैकेजिंग में लग गया मीडिया

    मोदी सरकार के 1.7 लाख करोड़ के पैकेज को समझे बगैर पैकेजिंग में लग गया मीडिया

    बहुत से लोग निराश हैं कि वित्त मंत्री ने EMI को लेकर राहत नहीं दी. किरायेदारों के लिए कुछ नहीं कहा. छोटे बिजनेस के लिए लिए गए बैंक लोन पर रोक नहीं लगाई. कई लोगों ने कर्मशियल गाड़ियां लोन पर ली हैं, उनकी किश्त का क्या होगा? उम्मीद कीजिए कि वित्त मंत्री इस बारे में कोई फैसला लेंगे. सोनिया गांधी ने इस बारे में सरकार को लिखा है. आप फैसलों की प्रक्रिया देखिए. सब कुछ धीरे धीरे आ रहा है. देर से आ रहा है. सब्र कीजिए. क्या पता आपको भी राहत मिल जाए..

  • संकट में भी अपराजेय सरकारी डॉक्टर और निजी अस्पतालों की खुलती पोल

    संकट में भी अपराजेय सरकारी डॉक्टर और निजी अस्पतालों की खुलती पोल

    कोरोना से आज दुनियाभर में सरकारी एजेंसियां ही मुकाबला कर रही हैं, कहीं भी कोई भी निजी संगठन योगदान देता नज़र नहीं आ रहा है. यही हाल अपने देश में भी है. कोरोना संक्रमण की पहचान से लेकर उपचार की बात हो या संदिग्ध मरीजों को अलग-थलग रखने की, हमेशा सेना और अर्द्धसैनिक बल ही सामने आए.

  • घर ही नहीं रहेगा तो रहेगा किस घर में...डरा है मिडिल क्लास 5 तारीख को जाने वाली EMI से

    घर ही नहीं रहेगा तो रहेगा किस घर में...डरा है मिडिल क्लास 5 तारीख को जाने वाली EMI से

    भारत का मध्यमवर्ग बहुत परेशान है. 24 मार्च को प्रधानमंत्री का भाषण ख़त्म होने से पहले दुकान पर पहुंच गया. 21 दिनों के लिए जब सामान जुटाकर रास्ते में था तो ध्यान आया कि जिस कार से घर जा रहे हैं उसकी किश्त कैसे जमा होगी? इसी चिन्ता में जब फ्लैट में पहुंचा तो पसीने छूटने लग गए. सही बात भी है. जिस घर में सामान भर रहे थे वो घर तो लोन पर है. घर का लोन कैसे चुकाएंगे? इस वक्त जब घर में रहना ही एकमात्र उपाय है. घर में शांति से तभी रहेगा जब EMI की चिन्ता दूर होगी. 

  • जब लखनऊ पुलिस रात भर मुसाफिरों को घर पहुंचाती रही

    जब लखनऊ पुलिस रात भर मुसाफिरों को घर पहुंचाती रही

    लखनऊ के चौधरी चरण सिंह इंटरनेशनल एयरपोर्ट ने ऐसा नजारा पहले कभी देखा न था. मंगलवार आधी रात से देश की सारी डोमेस्टिक फ्लाइट्स बंद होने का एलान था. ऐसे में कल रात 8 बजे के बाद एक-एक कर 6 फ्लाइट्स गोआ,मुम्बई,चंडीगढ़,दिल्ली से लैंड कीं. यूं तो आखिरी फ्लाइट दिल्ली से 12 बजे आनी थी लेकिन वो सवा बजे रात को आई. लेकिन लखनऊ में तीन दिन से लॉकडाउन होने की वजह से मुसाफिरों के लिए न तो कोई टैक्सी थी और न ही लखनऊ में रहने वाला कोई शख्स अपने घर से कोई गाड़ी मंगवा सकता था.

  • क्या 16 फीसदी बुजुर्गों के बारे में सोचना बंद कर देगा अमेरिका? 

    क्या 16 फीसदी बुजुर्गों के बारे में सोचना बंद कर देगा अमेरिका? 

    ट्रंप ने कहा की जब अर्थव्यवस्था लुढ़क जाएगी तब लोग आत्महत्या करने लगेंगे और यह संख्या कोरोना से मरे हुए संख्या से ज्यादा होगी. अगर ट्रंप लॉकडाउन हटाने का निर्णय लेते हैं तो क्या होगा?

  • 17 जवानों की शहादत और वो आखि़री निवाला ...

    17 जवानों की शहादत और वो आखि़री निवाला ...

    कैसा है ये इलाका बस अंदाज़ लगाएं कि इस इलाके में नक्सली फिर पहुंचे जिंदा कारतूस, कारतूस के खाली खोखे और जवानों के बचे हुए सामान उठाने. अमूमन नक्सली घटना को अंजाम देकर वहां से दूर निकल जाते हैं लेकिन यहां घटना के तीसरे दिन फिर से नक्सलियों की उपस्थिति ने सभी को चौंका दिया. '

  • क्या केजरीवाल सरकार के ऐलान की सूचना मज़दूरों तक पहुंच गई है, वह कैसे इस योजना का लाभ लेंगे?

    क्या केजरीवाल सरकार के ऐलान की सूचना मज़दूरों तक पहुंच गई है, वह कैसे इस योजना का लाभ लेंगे?

    मुख्यमंत्री केजरीवाल लगातार इस बात पर ज़ोर दे रहे हैं कि दिहाड़ी मज़दूरों की आजीविका पर गहरा असर पड़ा है। शनिवार को उन्होंने कहा था कि दिल्ली में 72 लाख लोग राशन से अनाज लेते हैं। अगले महीने इन्हें 50 प्रतिशत अतिरिक्त अनाज मिलेगा और मुफ्त मिलेगा। यही नहीं दिल्ली सरकार ने 8.5 लाख वृद्ध, विधवा और विकलांग पेंशनरों की पेंशन दुगनी कर दी है।

  • 21 दिनों के लिए पूरा भारत लॉकडाउन, दूसरा रास्ता नहीं था

    21 दिनों के लिए पूरा भारत लॉकडाउन, दूसरा रास्ता नहीं था

    आज प्रधानमंत्री ने वेंटिलेटर, प्रोटेक्टिव गियर और टेस्ट किट की बात की/ इसके लिए 15000 करोड़ का एलान किया है, आज 24 मार्च है. मैं अपने ही पेज पर कबसे वेंटिलेटर की बात कर रहा था. तब लोग कह रहे थे कि निगेटिव हूँ. गाली देने वाले जाकर देखें कि वो कितना ज़रूरी पोस्ट है. आप ऐसा ईको-सिस्टम न बनाएँ कि लोग ज़रूरी बात कहने से डर जाएँ. 

  • रवीश कुमार की कोरोना वायरस को लेकर बिहार के लोगों से अपील

    रवीश कुमार की कोरोना वायरस को लेकर बिहार के लोगों से अपील

    मंदिर मस्जिद के बंद करने से लोगों में यह सूचना तेज़ी से फैलती है कि क्यों बंद किया गया है. कोरोना के कारण बंद किया गया है ताकि लोग एक दूसरे के क़रीब न आएँ. इससे जागरूकता फैलती है.

  • जनता कर्फ्यू के बाद का सोमवार, शहर के होने की उम्मीद नज़र आ रही है

    जनता कर्फ्यू के बाद का सोमवार, शहर के होने की उम्मीद नज़र आ रही है

    आज सोमवार है. रविवार सा लग रहा है. बहुत कुछ ख़ाली. थोड़ा-थोड़ा भरा-भरा. जनता कर्फ्यू की तरह पूरा ख़ाली नहीं. एक रिक्शावाला आता दिख रहा है. सवारी की तलाश में बहुत दूर से आ रहा है. बहुत दूर अभी जाएगा.

  • ब्रिटेन ने 30,000, जर्मनी ने 10,000 वेंटिलेटर का आर्डर दिया, भारत में क्या तैयारी है वेंटिलेटर की?

    ब्रिटेन ने 30,000, जर्मनी ने 10,000 वेंटिलेटर का आर्डर दिया, भारत में क्या तैयारी है वेंटिलेटर की?

    ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ने वहां की कई इंजीनियरिंग कंपनियों से टेलिफोन पर बात की है, उनसे पूछा है कि क्या दो हफ्ते में 15 से 20 हज़ार वेंटिलेटर का इंतज़ाम हो सकता है? मीडिया में अलग-अलग आंकड़े हैं. अगले महीने तक 30,000 वेंटिलेटर के प्रबंध कर लेने का लक्ष्य रखा गया है. कंपनियों के पास इस वक्त वेंटिलेटर बनाने की इतनी क्षमता नहीं है क्योंकि यूरोप के अन्य देश भी वेंटिलेटर बनाने का आर्डर दे रहे हैं और सभी को जल्दी चाहिए.

  • विदेश से आकर जो भी छिपे बैठे हैं, बाहर आएं, खुद बताएं डरे नहीं

    विदेश से आकर जो भी छिपे बैठे हैं, बाहर आएं, खुद बताएं डरे नहीं

    बाली, इंडोनेशिया से एक भारतीय जोड़ा आया. उसे शम्शबाद एयरपोर्ट पर 14 दिनों के लिए क्वारेंटिन में रखा गया. दोनों वहां से भाग गए. उसके बाद बंगलुरू-हज़रत निज़ामुद्दीन ट्रेन में सवार हो गए जो दिल्ली जा रही थी. टिकट कंडक्टर की नज़र उनके सामान पर पड़ी और शक हुआ. पुलिस बुलाई गई और दोनों पकड़े गए. रेलवे ने 12 ऐसे संदिग्ध यात्रियों की पहचान की है जिन्होंने अलग अलग समय में यात्राएं की हैं. जो संक्रमित पाए गए हैं.

  • कोरोना से कैसे लड़ रहा है 20 करोड़ की आबादी वाला यूपी और 4 करोड़ की आबादी वाला केरल

    कोरोना से कैसे लड़ रहा है 20 करोड़ की आबादी वाला यूपी और 4 करोड़ की आबादी वाला केरल

    केरल में 25 डाक्टरों और 40 हेल्थ वर्कर को क्वारेंटिन किया गया है, अन्य राज्यों की तुलना में केरल में ज्यादा टेस्ट किए जा रहे हैं. लेकिन केरल के बारे में भी जानकारी नहीं मिली कि एक दिन में कितने सैंपल टेस्ट करने की क्षमता है और कितने टेस्ट किट हैं. 

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com