NDTV Khabar

Bmc elections 2017


'Bmc elections 2017' - 35 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • मुंबई : वोट चोरी हो गए, कोर्ट पता लगाए कहां गए? 600 लोगों ने दिया हलफनामा

    मुंबई : वोट चोरी हो गए, कोर्ट पता लगाए कहां गए? 600 लोगों ने दिया हलफनामा

    ईवीएम में गड़बड़ी को लेकर कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों ने मोर्चा खोल दिया है, ऐसे में मुंबई के वकोला इलाके में 600 लोगों ने बाकायदा जनहित याचिका दायर की है. हलफनामा देकर कहा है कि उन सबने अपने पसंदीदा निर्दलीय उम्मीदवार को वोट किया लेकिन कई के वोट उसे मिले ही नहीं. 600 लोगों की शिकायत है, कह रहे हैं कि वोट चोरी हो गए, अदालत दखल दे. बाकायदा हलफनाम देकर बॉम्बे हाईकोर्ट को बताया है कि बीएमसी चुनावों में उन्होंने जिस उम्मीदवार को वोट दिया उसे इनका वोट नहीं मिला.

  • 19 फीसदी बीएमसी पार्षदों के खिलाफ क्रिमिनल केस, सबसे ज्‍यादा दागी शिवसेना से : रिपोर्ट

    19 फीसदी बीएमसी पार्षदों के खिलाफ क्रिमिनल केस, सबसे ज्‍यादा दागी शिवसेना से : रिपोर्ट

    हाल में सम्पन्न हुए बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) चुनावों में जीत दर्ज करने वाले कम से कम 43 विजेता आपराधिक मामलों का सामना कर रहे हैं.

  • मुंबई : बीएमसी में शिवसेना को भाजपा के समर्थन की जरूरत नहीं

    मुंबई : बीएमसी में शिवसेना को भाजपा के समर्थन की जरूरत नहीं

    शिवसेना नेता अनिल देसाई ने बुधवार को कहा कि उनकी पार्टी को मुंबई के मेयर पद के लिए आठ मार्च को होने वाले चुनाव में भाजपा के समर्थन की जरूरत नहीं है.

  • मुंबई : डॉक्टर ने इंस्पेक्टर जोगावत से कहा, ऑपरेशन के बाद शोभा-डे को कहना ... थैंक्यू!

    मुंबई : डॉक्टर ने इंस्पेक्टर जोगावत से कहा,  ऑपरेशन के बाद शोभा-डे को कहना ... थैंक्यू!

    मुंबई से किया गया एक ट्वीट, मध्यप्रदेश के नीमच में पदस्थ इंस्पेक्टर के लिए अच्छी खबर लेकर आया है. लेखिका शोभा डे ने भले ही पुलिस की खिंचाई करने के लिए तस्वीर ट्वीट की हो लेकिन उससे इंस्पेक्टर दौलतराम जोगावत के मोटापे की बीमारी दूर हो सकती है जिससे वे सालों से जूझ रहे थे.

  • कांग्रेस-NCP के लोगों को भरकर CM ने बीजेपी को ही कांग्रेस बना दिया: शिवसेना

    कांग्रेस-NCP के लोगों को भरकर CM ने बीजेपी को ही कांग्रेस बना दिया: शिवसेना

    बीएमसी चुनाव के बाद शिवसेना लगातार बीजेपी पर हमले बोल रही है. आज फिर अपने मुखपत्र सामना के संपादकीय में शिवसेना ने बीजेपी को आड़े हाथों लिया है.

  • BMC : कांग्रेस को शिवसेना का साथ 'नापसंद' है, गठबंधन को लेकर रहस्य कायम

    BMC : कांग्रेस को शिवसेना का साथ 'नापसंद' है, गठबंधन को लेकर रहस्य कायम

    मुम्बई नगर निकाय में सत्ता के लिए गठबंधन को लेकर रहस्य बरकरार है. कांग्रेस ने जहां शिवसेना का समर्थन करने से इनकार किया है वहीं शिवसेना ने कहा कि इसने पार्टी से संपर्क नहीं किया. दूसरी तरफ भाजपा ने कांग्रेस का समर्थन लेने से इनकार किया है.

  • बीएमसी चुनाव : भाजपा के ‘गुब्बारे’ में क्या उतनी हवा है, जितनी दिखायी जा रही है - शिवसेना

    बीएमसी चुनाव : भाजपा के ‘गुब्बारे’ में क्या उतनी हवा है, जितनी दिखायी जा रही है - शिवसेना

    महाराष्ट्र के निकाय चुनाव में भाजपा की सफलता पर अपना आक्रामक रुख बरकरार रखते हुए शिवसेना ने चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन को हल्का करने का प्रयास करते हुए संदेह जताया कि इसमें क्या उतनी वास्तविकता है जितनी दिखायी जा रही है. शिवसेना ने कहा, ‘भाजपा की सफलता का गुब्बारा बढ़ा चढ़ाकर दिखाया जा रहा है. यह बहस का विषय है कि क्या गुब्बारे में उतनी हवा है जितनी दिखायी जा रही है.’

  • BMC elections 2017: पार्षदों के समर्थन को लेकर शिवसेना-बीजेपी का एकसमान दावा

    BMC elections 2017: पार्षदों के समर्थन को लेकर शिवसेना-बीजेपी का एकसमान दावा

    बीएमसी (BMC) के मेयर पद की दौड़ में आगे बढ़ने के लिए शिवसेना और बीजेपी ने जोर लगा दिया है. गौरतलब है कि दोनों दलों ने एकसमान 4 निर्दलीय पार्षद अपने साथ होने का दावा किया है. बीएमसी चुनाव में शिवसेना को 84 सीट मिली हैं. जबकि बीजेपी को 82. चुनावी नतीजों के बाद दोनों दलों ने दावा किया कि मेयर उन्हीं का होना चाहिए. लेकिन, आंकड़ों के हिसाब से देखे तो बिना समर्थन ये न बीजेपी के लिए मुमकिन है न शिवसेना के लिए. 227 सीटों के सदन में बिना समर्थन अपना मेयर चुनने के लिए सर्वाधिक 114 वोटों की जरूरत होती है, जो की शिवसेना और बीजेपी में से किसी के पास नहीं.

  • BMC Elections 2017 : शिवसेना की इस चाल से बढ़ी बीजेपी की टेंशन, बहुमत की ओर बढ़ाए तीन कदम

    BMC Elections 2017 : शिवसेना की इस चाल से बढ़ी बीजेपी की टेंशन, बहुमत की ओर बढ़ाए तीन कदम

    बीएमसी चुनाव के त्रिशंकु नतीजों के एक दिन बाद तीन निर्दलीय पार्षद शिवसेना में शामिल हो गये, जिसके बाद पार्टी का आंकड़ा 87 तक पहुंच गया. ये तीनों पार्षद पार्टी से बगावत करके निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनावी मैदान में उतरे थे.

  • BMC चुनाव : धर्म नहीं, भाषा और क्षेत्र के आधार पर बंट गए मुंबई के वोटर

    BMC चुनाव : धर्म नहीं, भाषा और क्षेत्र के आधार पर बंट गए मुंबई के वोटर

    चुनावों में मतों का ध्रुवीकरण विचारधारा या धर्म केंद्रित ही नहीं होता यह भाषाई आधार पर भी हो सकता है. बृहन्मुंबई महानगरपालिका चुनाव के परिणाम यही संकेत दे रहे हैं. ध्रुवीकरण को आम तौर पर दक्षिणपंथी धर्म आधारित राजनीति से जोड़ा जाता है. बीएमसी चुनाव में भगवा दल शिवसेना और भाजपा आमने-सामने थे. इसके नतीजों से पता चलता है कि दोनों दलों के मतदाताओं के बीच भाषा के आधार पर ध्रुवीकरण हुआ है. इस चुनाव में 227 सीटों में से शिवसेना ने 84 और भाजपा ने 82 जीती हैं.

  • बीएमसी चुनाव परिणाम 2017 : ...तो आज मुंबई में कांग्रेस को ये दिन नहीं देखना पड़ता

    बीएमसी चुनाव परिणाम 2017 : ...तो आज मुंबई में कांग्रेस को ये दिन नहीं देखना पड़ता

    कहावत है कि दो के झगड़े में तीसरे का फायदा होता है, लेकिन मुंबई बीएमसी चुनाव में शिवसेना और बीजेपी ने इसे गलत साबित कर दिया है और इसे गलत साबित करने में उस कांग्रेस का बड़ा हाथ है, जिसे इस झगडे़ का फायदा उठाना चाहिए था.

  • बीएमसी चुनाव परिणाम 2017: शिवसेना भवन के बाहर बदलता रहा माहौल, नेताओं के तेवर भी पड़े नरम

    बीएमसी चुनाव परिणाम 2017: शिवसेना भवन के बाहर बदलता रहा माहौल, नेताओं के तेवर भी पड़े नरम

    23 फरवरी की सुबह शिवसेना भवन पर कई सारे रंग लेकर आई. बीएमसी चुनाव के नतीजों के रुझान सुबह से शिवसेना के हक़ में जा रहे थे. जिस तेज़ी से शिवसेना को बढ़त मिल रही थी पार्टी के प्रमुख नेताओं और शिवसैनिकों को पूरा भरोसा था कि जीत उन्हीं की होगी और वो भी सीटों के बड़े अन्तर से जीत होगी.

  • बीएमसी चुनाव परिणाम 2017 - शिवसेना 84, भाजपा 82, मुंबई में रहा बेहद करीबी मुकाबला

    बीएमसी चुनाव परिणाम 2017 - शिवसेना 84, भाजपा 82, मुंबई में रहा बेहद करीबी मुकाबला

    शिवसेना 84, बीजेपी 81. मुंबई की बृहन्मुंबई महानगरपालिका के चुनावों में बीजेपी शिवसेना से सिर्फ तीन सीटों से पीछे रही. इसके साथ ही पार्टी ने महाराष्‍ट्र के निगम चुनावों में नौ में से आठ प्रमुख नगरपालिकाओं में भी जीत दर्ज की है. राज्‍य के भाजपा के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, जिन्‍होंने चुनावों में पार्टी का नेतृत्व किया है, स्पष्ट रूप से मैन ऑफ द मैच हैं.

  • बीएमसी चुनाव परिणाम 2017: कांटे की टक्कर में विजेता बनकर उभरे मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस

    बीएमसी चुनाव परिणाम 2017: कांटे की टक्कर में विजेता बनकर उभरे मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस

    बीजेपी ने शिवसेना से अलग होकर बीते दो दशक में पहली बार अपने दम पर महाराष्ट्र में नगर निगम के चुनाव लड़कर अपनी ताकत में जबर्दस्त इजाफा किया है. बीएमसी में बीजेपी ने पिछली बार की तुलना में अपनी संख्या दो गुनी से ज्यादा कर ली.

  • BMC चुनाव 2017: बीएमसी पर कब्‍जे के लिए आखिर क्‍यों मचती है हर दल में होड़, जानिए वजहें...

    BMC चुनाव 2017: बीएमसी पर कब्‍जे के लिए आखिर क्‍यों मचती है हर दल में होड़, जानिए वजहें...

    देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में बृहन्‍मुंबई म्‍युनिसिपल कारपोरेशन (बीएमसी) का चुनाव महज निकाय चुनाव भर ही नहीं है. आखिर कोई तो वजह है जिसकी वजह से हर दल इन चुनावों को जीतना चाहता है और संभवतया इसीलिए यह चुनाव राष्‍ट्रीय सुर्खियों का विषय बनता है. इसमें दिलचस्‍पी का आकलन इसी आधार पर किया जा सकता है कि बीएमसी समेत 10 म्‍युनिसिपल कारपोरेशन की 5,777 सीटों के लिए 21,620 प्रत्‍याशियों उम्‍मीदवार मैदान में थे. हालांकि सभी का ध्‍यान बीएमसी पर है. इसकी सबसे बड़ी वजह इसका विशाल बजट है जोकि किसी भी निकाय बॉडी से ज्‍यादा और यहां तक कि कई राज्‍यों से ज्‍यादा है.

  • महाराष्ट्र निकाय चुनाव नतीजे: मंत्री पद से पंकजा मुंडे का इस्तीफा, सीएम फडणवीस ने किया नामंजूर

    महाराष्ट्र निकाय चुनाव नतीजे: मंत्री पद से पंकजा मुंडे का इस्तीफा, सीएम फडणवीस ने किया नामंजूर

    महाराष्ट्र निकाय चुनावों के नतीजे आने के बाद इस्तीफों का सिलसिला शुरू हो गया है. अपने क्षेत्र बीड जिले से पार्टी के खराब प्रदर्शन के बाद फडणवीस सरकार में मंत्री और बीजेपी नेता पंकजा मुंडे ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है.  निकाय चुनाव नतीजो में परली की सभी 6 सीटें एनसीपी ने जीत ली है. इससे पहले के निगम चुनाव में 6 में से 5 बीजेपी के खाते में आई थी. बीड जिले में परली एक म्यूनिसिपल काउंसिल है. 

  • बीएमसी चुनाव नतीजे आलोचकों के मुंह पर करारा तमाचा: मुंबई में शानदार प्रदर्शन पर बीजेपी

    बीएमसी चुनाव नतीजे आलोचकों के मुंह पर करारा तमाचा: मुंबई में शानदार प्रदर्शन पर बीजेपी

    बीएमसी चुनाव नतीजों के रुझानों में भारी बढ़त पाने के बाद शिवसेना ने जश्न मनाना शुरू कर दिया है. वहीं, बीजेपी दूसरे नंबर की पार्टी बनकर उभरी है. बीजेपी का कहना है कि उसके पास भी जश्न मनाने की बड़ी वजह है. पिछले दो दशकों से शहर में शिव सेना की जूनियर पार्टनर बीजेपी इस बार अलग होकर चुनाव लड़ी है. पार्टी का कहना है कि उसने अपने शानदार प्रदर्शन से अपने आलोचकों को करारा जवाब दिया है. 

  • महाराष्ट्र निकाय चुनाव 2017 - बढ़त की ओर शिवसेना के पास क्या हो सकते हैं विकल्प.. एक नजर डालें

    महाराष्ट्र निकाय चुनाव 2017 - बढ़त की ओर शिवसेना के पास क्या हो सकते हैं विकल्प.. एक नजर डालें

    महाराष्ट्र में बीएमसी समेत 10 महानगरपालिकाओं की 3,210 सीटों के रुझान और नतीजे आ रहे हैं. दो दशकों में पहली बार है कि बीजेपी और शिवशेना अलग-अलग चुनाव लड़ रही हैं. इसलिए कहा जा रहा है कि शिवसेना-बीजेपी दोनों की ही साख दांव पर है.

Advertisement