NDTV Khabar

Bmi


'Bmi' - 11 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • क्या है मोटापा, किन-किन बीमारियों का होता है खतरा, क्या हैं बचाव के उपाय...

    क्या है मोटापा, किन-किन बीमारियों का होता है खतरा, क्या हैं बचाव के उपाय...

    क्या है मोटापा (What Is Obesity or Obesity Definition): ओबेसिटी या मोटापा ऐसी स्थिति है, जिसमें व्यक्ति का वजन इतना ज्यादा हो जाता है कि इसका बुरा असर उसकी सेहत पर पड़ने लगता है. जब व्यक्ति जरूरत से ज्यादा कैलरी का सेवन करता है तो यह अतिरिक्त कैलरी फैट के रूप में शरीर में जमा होने लगती है.

  • बच्चों में अस्थमा की वजह बन सकती है हाई बीएमआई, रखें ध्यान

    बच्चों में अस्थमा की वजह बन सकती है हाई बीएमआई, रखें ध्यान

    शोधकर्ताओं ने शोध प्रक्रिया में 10 साल तक के 4,435 बच्चों को शामिल किया था. इस दौरान उनके जन्म से पहले तीन साल तक उनके वजन और लंबाई पर नजर रखी गई.

  • मोटापे से युवाओं में 17 साल की आयु में भी हो सकता है दिल के रोगों का खतरा

    मोटापे से युवाओं में 17 साल की आयु में भी हो सकता है दिल के रोगों का खतरा

    सामान्य से ज्यादा बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की वजह से अधेड़ और इससे अधिक की आयु में दिल के रोगों का खतरा रहता है.

  • दिल का दौरा मापने के लिए बीएमआई अहम

    दिल का दौरा मापने के लिए बीएमआई अहम

    कुछ खास खतरे किसी इंसान में दिल के दौरे का कारण बनते हैं. इनमें से कुछ खतरे हमारे काबू से बाहर हैं और वे रोके नहीं जा सकते. लेकिन कुछ ऐसी चीजें हैं, जिन्हें रोका जा सकता है. इनमें से एक है बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) जो भविष्य में दिल का दौरा पड़ने में अहम भूमिका निभाता है. बीएमआई मोटापे के स्तर की जांच के लिए सबसे व्यावहारिक तरीका है. इसे कद और वजन से इस प्रकार मापा जाता है.

  • प्रेग्नेंसी के दौरान वज़न बढ़ने से हो सकती है समय पूर्व संतान

    प्रेग्नेंसी के दौरान वज़न बढ़ने से हो सकती है समय पूर्व संतान

    गर्भधारण के बीच महिलाओं में असामान्यताएं, प्रेग्नेंसी से पहले मां का बीएमआई (बॉडी मांस इडेक्स), इसके चलते वज़न बढ़ना, इन सभी चीज़ों से समय से पूर्व संतान होने का खतरा रहता है। एक नए शोध से यह बात सामने आई है।

  • ज़्यादा वेट वाले जुड़वा बच्चे को हो सकता है टाइप-2 डायबिटीज़ का खतरा

    ज़्यादा वेट वाले जुड़वा बच्चे को हो सकता है टाइप-2 डायबिटीज़ का खतरा

    एक जैसे दिखाई देने वाले जुड़वा बच्चे, जिनका बॉडी मांस इंडेक्स (बीएमआई) ज़्यादा होता है, उन्हें दिल का दौरा या मृत्यु का खतरा ज़्यादा नहीं होता। लेकिन हां, उन्हें टाइप-2 डायबिटीज़ का खतरा ज़रूर रहता है।

  • बैरिएट्रिक सर्जरी है डायबिटीज़ का सही इलाज

    बैरिएट्रिक सर्जरी है डायबिटीज़ का सही इलाज

    नए दिशा-निर्देशों के मुताबिक, कुछ विशेष श्रेणी के टाइप-2 डायबिटीज़ से पीड़ित व्यक्तियों में वज़न कम करने वाली बैरिएट्रिक सर्जरी की जा सकती है। इसमें उन लोगों को भी शामिल किया जा सकता है, जो बहुत मोटे नहीं हैं, पर परंपरागत चिकित्सा का उन पर कुछ ख़ास असर नहीं होगा।

  • जी हां, इस सर्जरी को कराने से खत्म हो सकेगी टाइप-2 डायबिटीज़ की समस्या

    जी हां, इस सर्जरी को कराने से खत्म हो सकेगी टाइप-2 डायबिटीज़ की समस्या

    दिल्ली में रहने वालीं 46 साल की हाउसवाइफ अंशु जैन, डायबिटीज़ की मरीज थीं। तब उनका वजन 127.5 किलो था। लेकिन 18 महीने के अंदर उन्होंने अपना वज़न 39.5 किलोग्राम तक कम कर डायबिटीज़ की समस्या को भी खत्म किया, आइए जानें कैसे...

  • नए साल में ऐसे कर सकते हैं पेट का मोटापा कम!

    नए साल में ऐसे कर सकते हैं पेट का मोटापा कम!

    मोटापे को जानने का नया और सही तरीका है, बॉडी फैट को नापना। ख़ासतौर पर पेट और कमर के चारों ओर फैट का मौजूद होना। पुरुष, जिनके पेट की चौड़ाई 90 सेंटीमीटर और महिलाएं, जिनके पेट की चौड़ाई 80 सेंटीमीटर से ज़्यादा है, उन्हें मोटापे की परेशानी है।

  • नए साल में ऐसे कर सकते हैं पेट का मोटापा कम!

    नए साल में ऐसे कर सकते हैं पेट का मोटापा कम!

    मोटापे को जानने का नया और सही तरीका है, बॉडी फैट को नापना। ख़ासतौर पर पेट और कमर के चारों ओर फैट का मौजूद होना। पुरुष, जिनके पेट की चौड़ाई 90 सेंटीमीटर और महिलाएं, जिनके पेट की चौड़ाई 80 सेंटीमीटर से ज़्यादा है, उन्हें मोटापे की परेशानी है।

  • चॉकलेट के कई फायदे तो आप जानते होंगे, ये जानकर दंग रह जाएंगे आप

    चॉकलेट के कई फायदे तो आप जानते होंगे, ये जानकर दंग रह जाएंगे आप

    कोको से बनी चॉकलेट लंबे समय तक दक्षिणी अमेरिका के मूल निवासियों में भगवान के भोजन 'फूड्स ऑफ द गॉड' के रूप में जानी जाती रही है। अपने गुणों और स्वाद की वजह से यह 100 साल पहले से ही स्वादिष्ट पेय और चॉकलेट बार के रूप में प्रसिद्ध रही है।