NDTV Khabar

Bsp sp alliance


'Bsp sp alliance' - 82 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • Exclusive: गठबंधन से अलग होने के बाद मायावती का अखिलेश पर बड़ा हमला, चुनाव में मिली हार के कई कारण भी गिनाए

    Exclusive: गठबंधन से अलग होने के बाद मायावती का अखिलेश पर बड़ा हमला, चुनाव में मिली हार के कई कारण भी गिनाए

    लोकसभा चुनावों (Lok Sabha Election) के लिए उत्तर प्रदेश में किया गया सपा-बसपा का गठबंधन (SP-BSP Alliance) सफल नहीं होने के बाद मायावती (Mayawati) ने हाल ही में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh yadav) से दूरी बना ली थी. इसके बाद उन्होंने गठबंधन भी तोड़ने का ऐलान कर दिया था. अब मायावती (Mayawati) ने एक बार फिर अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) पर जमकर हमला बोला है.

  • अकेला हाथी किसका साथी...

    अकेला हाथी किसका साथी...

    मायावती ने एकला चलो रे का एलान कर दिया है मतलब उत्तर प्रदेश में जो 11 उपचुनाव होन वाले हैं उसमें बीएसपी अपने उम्मीदवार खड़े करेगी मगर जो तर्क मायावती ने दिए उसकी जांच पड़ताल करनी जरूरी है. मायावती ने कहा कि उनके एकला चलो रे के पीछे वजह है कि समाजवादी पार्टी के वोट बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवारों को नहीं मिले.

  • मायावती ने कहा- रिश्‍ता वही, गठबंधन नहीं; विधानसभा उपचुनाव अपने दम पर

    मायावती ने कहा- रिश्‍ता वही, गठबंधन नहीं; विधानसभा उपचुनाव अपने दम पर

    मायावती ने कहा कि समीक्षा बैठक में जो बात निकलकर सामने आई उस पर हमें सोचने को मजबूर होना पड़ा. इसके बाद से यह साफ हो गया कि उत्‍तर प्रदेश में अब बसपा और सपा के बीच का गठबंधन खत्‍म हो गया है. मायावती ने मंगलवार को प्रेस कांफ्रेंस कर इसकी पुष्टि भी कर दी. हालांकि मायावती ने साफ कहा कि अखिलेश यादव से हमारे रिश्‍ते हमेशा बने रहेंगे. अखिलेश यादव और डिम्‍पल यादव ने मुझे बहुत इज्‍जत दी है और मैंने भी उन लोगों को परिवार की तरह माना है.

  • अखिलेश-डिंपल से रिश्तों पर बोलीं मायावती- सारे मतभेद भूलकर मैंने भी उन्हें परिवार माना

    अखिलेश-डिंपल से रिश्तों पर बोलीं मायावती- सारे मतभेद भूलकर मैंने भी उन्हें परिवार माना

    बसपा सुप्रीमो ने कहा कि हमारे ये रिश्ते केवल अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए नहीं बने हैं, बल्कि ये रिश्ते आगे भी हर सुख दुख की घड़ी में  हमेशा ऐसे ही बने रहेंगे.

  • मायावती ने दोबारा अखिलेश से हाथ मिलाने के दिए संकेत, पर उसके लिए रखी एक शर्त

    मायावती ने दोबारा अखिलेश से हाथ मिलाने के दिए संकेत, पर उसके लिए रखी एक शर्त

    अखिलेश यादव के साथ दोबारा से हाथ मिलाने का संकेत देते हुए मावायती ने कहा, 'सपा और बसपा स्थाई तौर पर अलग-अलग नहीं हुए हैं. यदि हम भविष्य में महसूस करते हैं कि सपा प्रमुख अपने राजनीतिक कार्य में सफल होते हैं, तो हम फिर से एक साथ काम करेंगे. लेकिन अगर वह सफल नहीं होते हैं, तो हमारे लिए अलग से काम करना अच्छा रहेगा. इसलिए हमने अकेले उपचुनाव लड़ने का फैसला किया है."

  • SP-BSP गठबंधन टूटने की खबरों पर BJP का तंज, यूपी के डिप्टी सीएम ने कही यह बात...

    SP-BSP गठबंधन टूटने की खबरों पर BJP का तंज, यूपी के डिप्टी सीएम ने कही यह बात...

    यूपी में बना महागठबंधन लोकसभा चुनावों में अपने लक्ष्य पाने में नाकाम रहा और उसके बाद अब वह टूटता नज़र आ रहा है. इसके लेकर बीजेपी ने तंज कसा है. मायावती (Mayawati) के फैसले के बाद प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने तंज कसते हुए कहा, 'चुनाव के पहले जो गठबंधन हुआ था हार के बाद आज वह अंतिम सांसे, अंतिम हिचकियां ले रहा है, एक तरह से वह वेंटिलेटर पर है, कभी भी, वेंटिलेटर पर जो हिचकियां है वह और बढ़ सकती है.'

  • SP-BSP गठबंधन में दरार के बीच मायावती का बड़ा बयान- अखिलेश तो डिंपल को भी नहीं जीत दिला पाए, क्योंकि...

    SP-BSP गठबंधन में दरार के बीच मायावती का बड़ा बयान- अखिलेश तो डिंपल को भी नहीं जीत दिला पाए, क्योंकि...

    मायावती (Mayawati) ने टिप्पणी की कि अखिलेश अपनी पत्नी डिंपल यादव (Dimple Yadav) तक को नहीं जिता पाए. बता दें कि डिंपल यादव ने कन्नौज से चुनाव लड़ा था और बीजेपी (BJP) से हार गईं.

  • यूपी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भविष्यवाणी 100% सच साबित हुई, जानिये PM ने क्या कहा था? 10 बातें...

    यूपी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भविष्यवाणी 100% सच साबित हुई, जानिये PM ने क्या कहा था? 10 बातें...

    यूपी में बना महागठबंधन (Mahagathbandhan) पहले लोकसभा चुनावों (Lok Sabha Elections) में अपने लक्ष्य पाने में नाकाम रहा और उसके बाद अब वह टूटता नज़र आ रहा है. पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के साथ-साथ कई नेताओं ने बुआ-बबुआ की जोड़ी को चुनाव परिणाम के बाद टूटने की बात कही थी. बता दें कि दिल्ली में कार्यकर्ताओं के साथ एक बैठक में मायावती (Mayawati) ने साफ कर दिया कि विधानसभा की 11 सीटों पर होने वाले उपचुनावों में BSP अकेले लड़ेगी. वैसे ये भी एक नया चलन है, क्योंकि बीएसपी (BSP) आम तौर पर उपचुनाव लड़ने से अब तक परहेज करती रही है, लेकिन आज की बैठक में मायावती ने जो कुछ कहा, उससे साफ है कि वो नई राजनीतिक लड़ाई लड़ने की तैयारी कर रही हैं और गठबंधन उनके लिए अप्रासंगिक हो रहा है. बता दें कि लोकसभा चुनाव से पहले 12 जनवरी को उत्तर प्रदेश की राजनीति के दो कट्टर प्रतिद्वंद्वी समाजवादी पार्टी (SP) और बहुजन समाज पार्टी (BSP) ने मिलकर आम चुनाव लड़ने का ऐतिहासिक फैसला लिया था, लेकिन चुनाव में इस गठबंधन को उम्मीद के मुताबिक कामयाबी नहीं मिली. बसपा के खाते में 10 सीटें आईं, जबकि सपा को 5 सीट से ही संतोष करना पड़ा. हालांकि गठबंधन तोड़ने का ऐलान अभी तक बसपा प्रमुख मायावती ने औपचारिक रूप से नहीं किया है. इन सबके बाद अब पीएम नरेंद्र मोदी की यह भविष्यवाणी सच साबित हो गई कि चुनाव बात यह गठबंधन टूट जाएगा. पीएम मोदी के साथ-साथ यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी चुनाव बाद इस गठबंधन के टूटने की बात कही थी.

  • सपा-बसपा की राह हुई अलग? इन 5 वजहों से टूट गया गठबंधन

    सपा-बसपा की राह हुई अलग? इन 5 वजहों से टूट गया गठबंधन

    समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के बीच लोकसभा चुनाव से पहले हुए गठबंधन का अंत हो गया है. हालांकि इसकी कोई अभी तक औपचारिक घोषणा नहीं हुई है लेकिन मायावती ने 11 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में अकेले दम पर चुनाव लड़ने की घोषणा कर गठबंधन की स्‍थ‍िति साफ कर दी है. इस मसले पर अभी सपा की ओर से कोई बयान नहीं आया है. सपा-बसपा गठबंधन को पहले भी राजनीतिक विश्‍लेषक बेमेल समझौता बताते आ रहे थे. इस दौरान मायावती की चालाकी का भी जिक्र आया कि कैसे उन्‍होंने अखिलेश यादव के खाते में उन सीटों को दे दिया जिस पर उनकी जीत की कोई गुंजाइश नहीं बन पा रही थी. लखनऊ, गोरखपुर, बनारस, गाजियाबद जैसी लोकसभा सीटें इसके उदाहरण हैं. गठबंधन को लेकर सपा के संस्‍थापक और पूर्व मुख्‍यमंत्री मुलायम सिंह यादव खुश नहीं थे. अपनी नाराजगी उन्‍होंने साफ जाहिर कर दी थी. सपा से अलग होकर शिवपाल सिंह यादव ने अपनी पार्टी बनाई और अपने उम्‍मीदवार सभी सीटों पर उतारे. शिवपाल यादव ने भी इस गठबंधन का मजाक उड़ाया था. गेस्‍ट हाउस कांड का भी जिक्र आया लेकिन कहा गया कि दोनों पार्टियां अब इस हादसे से उबर चुकी हैं. मंच पर मायावती के साथ मुलायम और अखिलेश की कई तस्‍वीरें सामने आईं. हालांकि एक चुनावी भाषण में मायावती यह कहने से नहीं चूकीं कि सपा के कार्यकर्ताओं को बसपा के लोगों से काफी कुछ सीखने की जरूरत है.

  • मायावती ने तोड़ा सपा से गठबंधन? कहा- यादव वोट ट्रांसफर नहीं हुए, विधानसभा उप चुनाव अकेले लड़ेगी बीएसपी

    मायावती ने तोड़ा सपा से गठबंधन? कहा- यादव वोट ट्रांसफर नहीं हुए, विधानसभा उप चुनाव अकेले लड़ेगी बीएसपी

    SP BSP alliance: बीएसपी सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने कहा है कि लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections 2019) में यादव वोट बीएसपी (BSP) के पक्ष में ट्रांसफर नहीं हुए हैं इसलिए बीएसपी अब उत्तर प्रदेश में 11 सीटों पर होने वाले विधानसभा उप चुनाव में अकेले लड़ेगी.

  • Results 2019: ...तो इन वजहों से यूपी में फेल हो गया सपा-बसपा गठबंधन

    Results 2019: ...तो इन वजहों से यूपी में फेल हो गया सपा-बसपा गठबंधन

    लोकसभा चुनावों में सपा-बसपा गठबंधन यूपी में फेल हो गया. सपा को सिर्फ 5 सीटें मिलीं और बसपा को 10, जबकि यूपी में दलित, ओबीसी और मुस्लिम वोट करीब 78 फीसदी हैं लेकिन करीब 37 फीसद दलित और पिछड़ा वोट बीजेपी में चला गया.

  • UP Election Results 2019: यूपी में हाथी को रास आई साइकिल की सवारी, नुकसान में अखिलेश, कांग्रेस को केवल एक सीट

    UP Election Results 2019: यूपी में हाथी को रास आई साइकिल की सवारी, नुकसान में अखिलेश, कांग्रेस को केवल एक सीट

    2009 के चुनाव में 21 सीट जीतने वाली बसपा के लिये 2014 के चुनाव में शून्य पर सिमटने के बाद बसपा के लिये 2019 का लोकसभा चुनाव वजूद की लड़ाई बन गया था. बसपा उम्मीदवारों ने गाजीपुर, मेरठ और सहारनपुर सहित पूर्वी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश की दर्जन भर सीटों पर बढ़त बना ली है. वहीं सपा को पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव की आजमगढ़ सीट के अलावा अपने परंपरागत गढ़ रामपुर, फिरोजाबाद और मैनपुरी सहित छह सीटों पर निर्णायक बढ़त के आधार इन सीटों को जीतने की उम्मीद है. गाजीपुर में बसपा के उम्मीदवार अफजाल अंसारी ने केन्द्रीय मंत्री और भाजपा उम्मीदवार मनोज सिन्हा से लगभग 40 हजार मतों से बढ़त बनायी हुयी. वहीं रामपुर से सपा के आजम खान भाजपा की जयाप्रदा से आगे हैं.

  • मेरठ में SP-BSP कार्यकर्ताओं ने स्‍ट्रॉंग रूम के बाहर लगाया तंबू, दूरबीन और कैमरों से कर रहे हैं EVM की निगरानी

    मेरठ में SP-BSP कार्यकर्ताओं ने स्‍ट्रॉंग रूम के बाहर लगाया तंबू, दूरबीन और कैमरों से कर रहे हैं EVM की निगरानी

    इस बीच आयोग के दिल्ली स्थित मुख्यालय में ईवीएम संबंधी शिकयातों के तत्काल निस्तारण के लिए एक नियंत्रण कक्ष (कंट्रोल रूम) ने भी मंगलवार को काम करना शुरु कर दिया. आयोग द्वारा जारी बयान के मुताबिक, निर्वाचन सदन से संचालित कंट्रोल रूम चुनाव परिणाम आने तक 24 घंटे कार्यरत रहेगा. इसके जरिये ईवीएम की शिकायतों पर तत्काल कार्रवाई की जायेगी. लोकसभा चुनाव के लिये रविवार को सात चरण में संपन्न हुये मतदान के बाद 23 मई को सुबह आठ बजे से मतगणना होगी.

  • यूपी में कागज पर गठबंधन और जमीन पर बीजेपी क्यों मजबूत है?

    यूपी में कागज पर गठबंधन और जमीन पर बीजेपी क्यों मजबूत है?

    ये लोकसभा चुनाव खासा असमंजस से भरा है. लोकसभा चुनाव के दौरान मैंने बीजेपी या गठबंधन के कोर वोटरों से बात करने के बजाए नॉन यादव ओबीसी और नॉन जाटव दलितों से ज्यादा बात करने की कोशिश की है. इसमें पाया कि नॉन यादव ओबीसी का बड़ा वर्ग बीजेपी और खासतौर से मोदी से प्रभावित है.

  • क्‍या फिल्‍म स्‍टार के दम पर योगी आदित्‍यनाथ बीजेपी की झोली में फिर से डाल पाएंगे गोरखपुर?

    क्‍या फिल्‍म स्‍टार के दम पर योगी आदित्‍यनाथ बीजेपी की झोली में फिर से डाल पाएंगे गोरखपुर?

    हद जटिल जातिवादी संरचना वाले गोरखपुर में 20 लाख वोटर हैं, जिसमें निषाद जाति के सबसे ज्‍यादा (2.63 लाख वोटर) लोग श‍ामिल हैं. इसके बाद दूसरे नंबर पर दलित (2.6 लाख वोटर) और फिर यादव (2.40 लाख वोटर) हैं.

  • क्या आप चाहेंगे मायावती PM बनें और आप उनका समर्थन करेंगे? अखिलेश यादव ने डॉ प्रणय रॉय को दिया यह जवाब

    क्या आप चाहेंगे मायावती PM बनें और आप उनका समर्थन करेंगे? अखिलेश यादव ने डॉ प्रणय रॉय को दिया यह जवाब

    लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) की सरगर्मियों के बीच NDTV के डॉ. प्रणव रॉय ने यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) और उनकी पत्नी डिंपल यादव (Dimple Yadav) से खास बातचीत की. सपा प्रमुख और यूपी के कन्नौज से सांसद डिंपल यादव ने महिलाओं के लिए पार्टी की नीतियों, अगर चुनाव में विपक्ष की जीत होती है तो कौन बनेगा प्रधानमंत्री और यूपी में सपा-बसपा के गठबंधन के प्रभाव को लेकर अपनी बात कही. क्‍या प्रधानमंत्री पद के लिए वो मायावती का समर्थन करेंगे, इसके जवाब में अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav News) ने कहा, 'मेरे बारे में सब जानते हैं कि मैं किसके साथ रहूंगा. मैं ये चाहता हूं कि यूपी से प्रधानमंत्री बने.

  • SP सांसद धर्मेंद्र यादव बोले- अखिलेश, मायावती जिसे चाहेंगे, वही बनेगा अगला PM, यूपी में दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू पाएगी BJP

    SP सांसद धर्मेंद्र यादव बोले- अखिलेश, मायावती जिसे चाहेंगे, वही बनेगा अगला PM, यूपी में दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू पाएगी BJP

    बदायूं से सांसद धर्मेंद्र यादव ने कहा, 'उत्तर प्रदेश की जनता व्यापक समर्थन देने जा रही है. बड़ी जिम्मेदारी से कहना चाहता हूं कि हमारे गठबंधन के सहयोग के बिना कोई प्रधानमंत्री बनने वाला नहीं है.' उन्होंने यह भी दावा किया कि भाजपा उत्तर प्रदेश में दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू पाएगी. धर्मेंद्र यादव ने मोदी सरकार पर दलितों एवं पिछड़ों के आरक्षण को निशाना बनाने का आरोप लगाते हुए कहा, 'सरकार बनने के बाद सबसे पहले हम लोग जाति आधारित जनगणना के आंकड़ों को सामने रखकर पूरी तस्वीर साफ करेंगे कि कितने एससी हैं, कितने एसटी हैं और कितने ओबीसी हैं?'

  • मायावती ने किया खुलासा: SP-BSP गठबंधन ने कांग्रेस के लिए क्यों छोड़ी अमेठी और रायबरेली सीट

    मायावती ने किया खुलासा: SP-BSP गठबंधन ने कांग्रेस के लिए क्यों छोड़ी अमेठी और रायबरेली सीट

    मायावती ने शनिवार को कांग्रेस पर मध्य प्रदेश की गुना लोकसभा सीट के बसपा उम्मीदवार को डरा-धमकाकर और खरीद-फरोख्त के जरिये अपने पक्ष में करने का आरोप लगाते हुए उनकी पार्टी में तोड़फोड़ न करने की चेतावनी दी थी. मुरैना के मेला ग्राउंड में मुरैना लोकसभा क्षेत्र से बसपा उम्मीदवार और हरियाणा सरकार के पूर्व मंत्री करतार सिंह भड़ाना के समर्थन में चुनावी सभा को सम्बोधित करते हुए मायावती ने आरोप लगाया, ‘हाल ही में मध्य प्रदेश के गुना संसदीय क्षेत्र से बसपा के प्रत्याशी को कांग्रेस ने डरा धमकाकर और खरीद फरोख्त के जरिये अपने पक्ष में किया है, जो एक बड़ा धोखा है.’

Advertisement