NDTV Khabar

Chief justice of india


'Chief justice of india' - 71 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • SC के पूर्व चीफ जस्टिस के दोस्त की ईमेल हैक कर ऑनलाइन मंगवाए एक लाख रुपए, फिर ऐसे हुआ खुलासा

    SC के पूर्व चीफ जस्टिस के दोस्त की ईमेल हैक कर ऑनलाइन मंगवाए एक लाख रुपए, फिर ऐसे हुआ खुलासा

    साथ ही अधिकारी ने कहा, 'जब आरएम लोढ़ा ने बीपी सिंह की ओर से ईमेल हैक के बारे में भेजा गया मेल पढ़ा तो उन्होंने बताया कि उनके साथ ठगी हो गई है. और हैकर ने एक लाख रुपए ठग लिए हैं. जस्टिस बीपी सिंह के सुझाव पर आरएम लोढ़ा ने दिल्ली पुलिस से संपर्क किया और शिकायत दर्ज करवाई. हमने आईपीसी की कई धाराओं के साथ केस दर्ज किया है इसमें आईटी एक्ट भी शामिल है. हैकर की पहचान के लिए जांच जारी हैं.'

  • यौन उत्पीड़न मामले में CJI रंजन गोगोई को क्लीनचिट मिलने के बाद सुप्रीम कोर्ट के बाहर प्रदर्शन, पीड़िता बोली- मेरे साथ 'घोर अन्याय' हुआ

    यौन उत्पीड़न मामले में CJI रंजन गोगोई को क्लीनचिट मिलने के बाद सुप्रीम कोर्ट के बाहर प्रदर्शन, पीड़िता बोली- मेरे साथ 'घोर अन्याय' हुआ

    सुप्रीम कोर्ट के सेक्रेटरी जनरल के कार्यालय के एक नोटिस में कहा गया है कि न्यायमूर्ति एस ए बोबडे की अध्यक्षता वाली समिति की रिपोर्ट ‘सार्वजनिक नहीं की जायेगी.’ समिति में दो महिला न्यायाधीश न्यायमूर्ति इन्दु मल्होत्रा और न्यायमूर्ति इन्दिरा बनर्जी भी शामिल थीं. समिति ने एकपक्षीय रिपोर्ट दी क्योंकि इस महिला ने तीन दिन जांच कार्यवाही में शामिल होने के बाद 30 अप्रैल को इससे अलग होने का फैसला कर लिया था.

  • यौन उत्पीड़न का आरोप : सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस जांच समिति के सामने पेश हुए

    यौन उत्पीड़न का आरोप : सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस जांच समिति के सामने पेश हुए

    चीफ जस्टिस रंजन गोगोई सुप्रीम कोर्ट की एक पूर्व महिला कर्मी द्वारा उन पर लगाए गए यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच कर रही तीन सदस्यीय आतंरिक जांच समिति के सामने पेश हुए. एक आधिकारिक सूत्र ने यह जानकारी दी.

  • CJI के खिलाफ साजिश: सुप्रीम कोर्ट ने दिए जांच के आदेश, रिटायर जस्टिस एके पटनायक करेंगे जांच

    CJI के खिलाफ साजिश: सुप्रीम कोर्ट ने दिए जांच के आदेश, रिटायर जस्टिस एके पटनायक करेंगे जांच

    सुप्रीम कोर्ट ने जांच में सीबीआई, आईबी और दिल्ली पुलिस को मदद करने के निर्देश दिए हैं. सुप्रीम कोर्ट के वकील उत्सव बैंस के दावा किया था कि सीजेआई के खिलाफ साजिश रची जा रही है. रिटायर जस्टिस एके पटनायक बैंस के दावों की जांच करेंगे. बैंस ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल करके दावा किया था कि सीजेआई को यौन शोषण के मामले में फंसाकर उनके खिलाफ साजिश रची जा रही है.

  • CJI पर यौन शोषण के आरोप को साजिश बताने वाले वकील ने पेश किए सबूत, SC ने CBI, IB और दिल्ली पुलिस चीफ को किया तलब

    CJI पर यौन शोषण के आरोप को साजिश बताने वाले वकील ने पेश किए सबूत, SC ने CBI, IB और दिल्ली पुलिस चीफ को किया तलब

    सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई डायरेक्टर, दिल्ली पुलिस कमिश्नर और आईबी चीफ को 12.30 बजे मिलने के लिए बुलाया है. इस मामले पर तीन बजे फिर सुनवाई की जाएगी. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वो सभी से मिलकर यह तय करेंगे कि इस मामले की जांच को कैसे आगे बढ़ाया जाए. क्योंकि इस मामले में संस्थान की छवि को खराब करने को लेकर एक बड़ी साजिश है. अटॉर्नी जनरल तुषार मेहता ने कहा कि सीबीआई के डायरेक्टर इस समय दिल्ली से बाहर है, वह नहीं आ पाएंगे. ऐसे में ज्वाइंट डायरेक्टर कोर्ट आ सकते हैं. तुषार मेहता ने कहा कि संस्थान का नाम खराब करने के पीछे बड़ी साजिश है. इसके लिए एसआईटी बनाई जाए.

  • अयोध्‍या मामला : विवादित जमीन पर पूजा की याचिका खारिज, सुप्रीम कोर्ट ने कहा - आप किसी को शांति से रहने नहीं देंगे

    अयोध्‍या मामला : विवादित जमीन पर पूजा की याचिका खारिज, सुप्रीम कोर्ट ने कहा - आप किसी को शांति से रहने नहीं देंगे

    अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले में गैर विवादित जमीन पर पूजा की याचिका सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी है. याचिका को खारिज करते हुए चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि आप देश में किसी को शांति से रहने नहीं देंगे. कुछ ना कुछ अड़चन डालनी है.'

  • CBI चीफ का ऐलान आज: सरकार ने 12 नामों को किया शॉर्टलिस्ट, जानें- रेस में कौन है आगे

    CBI चीफ का ऐलान आज: सरकार ने 12 नामों को किया शॉर्टलिस्ट, जानें- रेस में कौन है आगे

    पीएमओ से जुड़े सूत्रों के मुताबिक 1982 से 1985 बैच के आईपीएस ऑफिसर इस पद की दौड़ में हैं. सरकार ने वरिष्ठता, अखंडता, भ्रष्टचार के केसों की जांच का अनुभव और सीबीआई में काम करने या विजिलेंस मामले संभालने के अनुभव के आधार पर 12 नामों को शॉर्टलिस्ट किया है.

  • CBI के अंतरिम निदेशक के रूप में नागेश्वर राव की नियुक्ति के खिलाफ याचिका पर सुनवाई से CJI ने खुद को अलग किया

    CBI के अंतरिम निदेशक के रूप में नागेश्वर राव की नियुक्ति के खिलाफ याचिका पर सुनवाई से CJI ने खुद को अलग किया

    नागेश्वर राव की नियुक्ति को गैर-सरकारी संगठन 'कॉमन कॉज़' ने याचिका दायर करके सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है. याचिका में कहा गया है कि नियुक्ति मनमानी और गैरकानूनी है. याचिका के अनुसार नागेश्वर राव को अंतरिम निदेशक नियुक्त करने का सरकार का पिछले साल 23 अक्टूबर का आदेश शीर्ष अदालत ने निरस्त कर दिया था. लेकिन सरकार ने मनमाने, गैरकानूनी और दुर्भावनापूर्ण तरीके से कदम उठाते हुए पुन: यह नियुक्ति कर दी.

  • CJI रंजन गोगोई ने सुप्रीम कोर्ट का नया रोस्टर किया जारी, जनहित याचिकाओं की खुद करेंगे सुनवाई

    CJI रंजन गोगोई ने सुप्रीम कोर्ट का नया रोस्टर किया जारी, जनहित याचिकाओं की खुद करेंगे सुनवाई

    सुप्रीम कोर्ट के नये चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने नया रोस्टर जारी कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट में जारी नया रोस्टर आज से प्रभावी हो जाएगा. इस नये रोस्टर के मुताबिक, चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया ही जनहित याचिकाओं पर सुनवाई करेंगे. बता दें कि यह नया रोस्टर सुप्रीम कोर्ट के जजों के लिए है. नये मामलों के लिए भी रोस्टर जारी हुआ है. 

  • देश के 46वें CJI बने जस्टिस रंजन गोगोई, शपथ लेने के बाद छुए मां के पैर

    देश के 46वें CJI बने जस्टिस रंजन गोगोई, शपथ लेने के बाद छुए मां के पैर

    जस्टिस गोगोई इस पद पर पहुंचने वाले पूर्वोत्‍तर भारत के पहले मुख्‍य न्‍यायधीश हैं. जस्टिस गोगोई देश के 46वें प्रधान न्‍यायाधीश हैं और 17 नंवबर 2019 तक उनका कार्यकाल होगा. 

  • राजनीति का अपराधीकरण पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- संसद को इस कैंसर का उपचार करना चाहिए

    राजनीति का अपराधीकरण पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- संसद को इस कैंसर का उपचार करना चाहिए

    राजनीति में अपराधीकरण को लेकर को लेकर पांच जजों का संविधान पीठ ने कहा कि करप्शन एक नाउन है. चीफ जस्टिस ने कहा कि करप्शन राष्ट्रीय आर्थिक आतंक बन गया है.

  • दिल्ली हाईकोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस के घर पर हुई लूट के मामले में छह गिरफ्तार

    दिल्ली हाईकोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस के घर पर हुई लूट के मामले में छह गिरफ्तार

    दक्षिण-पूर्वी दिल्ली की न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में दिल्ली उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश के घर से हुई लूट की वारदात के सिलसिले में घरेलू सहायक समेत छह लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

  • जस्टिस रंजन गोगोई आज लेंगे देश के 46वें CJI पद की शपथ, जानिये उनके बारे में सबकुछ...

    जस्टिस रंजन गोगोई आज लेंगे देश के 46वें CJI पद की शपथ, जानिये उनके बारे में सबकुछ...

    सुप्रीम कोर्ट के सबसे वरिष्‍ठ जज जस्टिस रंजन गोगोई बुधवार को देश के अगले मुख्‍य न्‍यायाधीश का पदभार संभालेंगे. उन्हें राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद शपथ दिलाएंगे. इसके बाद वह सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस केएम जोसेफ के साथ केसों की सुनवाई करेंगे. जस्टिस गोगोई इस पद पर पहुंचने वाले पूर्वोत्‍तर भारत के पहले मुख्‍य न्‍यायधीश होंगे. जस्टिस गोगोई देश के 46वें प्रधान न्‍यायाधीश होंगे और 17 नंवबर, 2019 तक उनका कार्यकाल होगा. जस्जिट गोगोई 10 बजकर 45 मिनट पर देश के 46वें मुख्य न्यायाधीश पद की शपथ लेंगे. बता दें कि न्यायमूर्ति रंजन गोगोई ने न्यायपालिका के शीर्ष पद तक पहुंचने के लिए एक लंबा सफर तय किया है. 18 नवंबर, 1954 को जन्मे न्यायमूर्ति रंजन गोगोई ने डिब्रूगढ़ के डॉन बॉस्को स्कूल से अपनी स्कूली शिक्षा अर्जित की और दिल्ली विश्वविद्यालय के सेंट स्टीफेंस कॉलेज से इतिहास की पढ़ाई की. न्यायमूर्ति रंजन गोगोई (63) जनवरी में सुप्रीम कोर्ट के तीन अन्य वरिष्ठतम न्यायाधीशों के साथ संवाददाता सम्मेलन कर तथा उसके चार महीने बाद अपने एक बयान से सुर्खियों में आए थे.

  • जस्टिस रंजन गोगोई होंगे देश के अगले CJI, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने नियुक्ति को दी मंजूरी

    जस्टिस रंजन गोगोई होंगे देश के अगले CJI, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने नियुक्ति को दी मंजूरी

    जस्टिस रंजन गोगोई (Justice Ranjan Gogoi) देश के नए मुख्य न्याधीश (Chief Justice of India) बनाए गए. ​सुप्रीम कोर्ट में दूसरे सबसे वरिष्‍ठ जज जस्टिस रंजन गोगोई 3 अक्टूबर को भारत के मुख्य न्याधीश पद की शपथ लेंगे.

  • सुप्रीम कोर्ट में कैसे होती है चीफ जस्टिस की नियुक्ति, कौन होता है योग्य, जानें सब कुछ

    सुप्रीम कोर्ट में कैसे होती है चीफ जस्टिस की नियुक्ति, कौन होता है योग्य, जानें सब कुछ

    प्रधान न्‍यायाधीश दीपक मिश्रा ने जस्टिस रंजन गोगोई का नाम अगले CJI के लिए केंद्र सरकार को भेजा है. जस्टिस गोगोई का देश का अगला चीफ जस्टिस बनना तय है. लॉ मिनिस्ट्री ने CJI दीपक मिश्रा को पत्र लिखकर अगले चीफ जस्टिस के नाम का प्रस्ताव मांगा था. इसके बाद CJI दीपक मिश्रा ने मंत्रालय को अपने बाद बनने वाले चीफ जस्टिस का नाम भेजा है. आइये आपको बताते हैं कि भारत में प्रधान न्यायाधीश या चीफ जस्टिस के चयन की प्रक्रिया क्या होती है और कौन इसके लिए योग्य होता है. 

  • जब जस्टिस दीपक मिश्रा ने की आधी रात को सुनवाई, ये हैं उनके 5 ऐतिहासिक फैसले

    जब जस्टिस दीपक मिश्रा ने की आधी रात को सुनवाई, ये हैं उनके 5 ऐतिहासिक फैसले

    चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा दो अक्टूबर को रिटायर होने जा रहे हैं. उन्होंने जस्टिस रंजन गोगोई का नाम अगले CJI के लिए केंद्र सरकार को भेजा है. जस्टिस दीपक मिश्रा ने 14 फरवरी 1977 को उड़ीसा हाई कोर्ट में वकालत की प्रैक्टिस शुरू की थी. इसके बाद 1996 में उन्हें उड़ीसा हाई कोर्ट का एडिशनल जज बनाया गया और बाद में उनका ट्रांसफर मध्य प्रदेश हाई कोर्ट  कर दिया गया. इसके बाद वे दिसंबर 2009 में पटना हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस बने. 24 मई 2010 में दिल्ली हाई कोर्ट में बतौर चीफ जस्टिस उनका ट्रांसफर हुआ और 10 अक्टूबर 2011 को उन्हें सुप्रीम कोर्ट का जज बनाया गया. पिछले साल 28 अगस्त को उन्होंने बतौर चीफ जस्टिस कार्यभार ग्रहण किया. सुप्रीम कोर्ट में अपने कार्यकाल के दौरान जस्टिस दीपक मिश्रा ने कई ऐतिहासिक फैसले सुनाये. बहुचर्चित निर्भया कांड में दोषियों की सजा को बरकरार रखने का उनका फैसला लैंडमार्क माना गया. तो वहीं आतंकी याकूब मेमन की फांसी से ऐन पहले आधी रात को सुनवाई की और सजा बरकरार रखी. आइये आपको चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के ऐसे ही पांच ऐतिहासिक फैसलों के बारे में बताते हैं. 

  • सुप्रीम कोर्ट के अगले चीफ जस्टिस कौन? कानून मंत्रालय ने मांगा प्रस्ताव : सूत्र

    सुप्रीम कोर्ट के अगले चीफ जस्टिस कौन? कानून मंत्रालय ने मांगा प्रस्ताव : सूत्र

    सूत्रों के मुताबिक लॉ मिनिस्ट्री ने CJI दीपक मिश्रा को पत्र लिखकर अगले चीफ जस्टिस के नाम का प्रस्ताव मांगा है. अब CJI मिश्रा मंत्रालय को अपने बाद बनने वाले चीफ जस्टिस का नाम भेजेंगे.

  • CJI ही मास्टर ऑफ़ रोस्टर, SC ने कहा- दुनिया तेजी से बदल रही है लेकिन फंडामेंटल्‍स नहीं बदलेंगे

    CJI ही मास्टर ऑफ़ रोस्टर, SC ने कहा- दुनिया तेजी से बदल रही है लेकिन फंडामेंटल्‍स नहीं बदलेंगे

    संविधान CJI के मुद्दे पर मौन है लेकिन परपंरा और बाद के फैसलों में सभी द्वारा माना गया है कि CJI बराबर में सबसे पहले हैं. वरिष्ठतम होने की वजह से उन्हें ये अधिकार है.