NDTV Khabar

Cow slaughter


'Cow slaughter' - 84 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • SP-BSP गठबंधन पर आदित्यनाथ का हमला, कहा- नंदी बाबा सपा की सभाओं में पूछते हैं कसाइयों के मित्र कहां हैं?

    SP-BSP गठबंधन पर आदित्यनाथ का हमला, कहा- नंदी बाबा सपा की सभाओं में पूछते हैं कसाइयों के मित्र कहां हैं?

    लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections 2019) के छह चरण पूरे हो चुके हैं. 7वें और अंतिम चरण से पहले सभी पार्टियां पूरे दमखम से प्रचार में जुटी हुई हैं. आखिरी चरण में कुल 59 सीटों पर मतदान होने हैं. नतीजे 23 मई को आएंगे. इन सबके बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी लगातार जारी है. इसी कड़ी में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने सोमवार को कुशीनगर में सपा-बसपा गठबंधन (SP-BSP Alliance) पर जमकर हमला बोला. हाल ही में कन्नौज में सपा-बसपा गठबंधन की रैली में सांड घुसने की घटना का जिक्र करते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि नंदी बाबा भी सपा की सभा में पूछते हैं कि कसाइयों के मित्र कहां हैं, उन्हें ठीक कर देता हूं?

  • गोहत्या में NSA लगाने पर अपनों से घिरी कमलनाथ सरकार, अब चिदंबरम ने भी कहा- फैसला गलत था

    गोहत्या में NSA लगाने पर अपनों से घिरी कमलनाथ सरकार, अब चिदंबरम ने भी कहा- फैसला गलत था

    मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार की ओर से गोहत्या (Cow Slaughter) और गायों की अवैध तस्करी के दो अलग-अलग मामलों में रासुका (NSA) के तहत कार्रवाई से खुद कांग्रेक के कई नेता संतुष्ट नजर नहीं आ रहे हैं.

  • गोहत्या पर कमलनाथ सरकार ने लगाया रासुका, तो दिग्विजय सिंह ने ही उठा दिए सवाल

    गोहत्या पर कमलनाथ सरकार ने लगाया रासुका, तो दिग्विजय सिंह ने ही उठा दिए सवाल

    मध्य प्रदेश के खंडवा जिले में गोहत्या (गौहत्या) के आरोप में तीन लोगों पर राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (रासुका) के तहत की गई कार्रवाई पर पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने सवाल उठाए हैं.

  • मध्यप्रदेश में NSA के तहत एक और कार्रवाई, अवैध गौ वंश परिवहन मामले में दो गिरफ्तार

    मध्यप्रदेश में NSA के तहत एक और कार्रवाई, अवैध गौ वंश परिवहन मामले में दो गिरफ्तार

    आगर मालवा में गौ वंश के अवैध परिवहन के दो आरोपियों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) की कार्रवाई की गई है. दोनों आरोपियों को उज्जैन जेल भेजा गया है.

  • मध्यप्रदेश : खंडवा में गौहत्या के मामले में तीन पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई

    मध्यप्रदेश : खंडवा में गौहत्या के मामले में तीन पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई

    मध्यप्रदेश के खंडवा शहर में गौहत्या के आरोप में तीन लोगों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) लगाया गया है. राज्य में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद इस तरह की यह पहली कार्रवाई है.

  • जंगल में बेसुध पड़ी मिली गायें, नशे का इंजेक्शन लगाकर तस्करी के फिराक में था गिरोह, देखें VIDEO

    जंगल में बेसुध पड़ी मिली गायें, नशे का इंजेक्शन लगाकर तस्करी के फिराक में था गिरोह, देखें VIDEO

    मामले का पता तब लगा, जब इन गायों को नशे का इंजेक्शन लगा कर दो युवक इन्हें जबरन ले जाने का प्रयास कर रहे थे. कुछ ग्रामीणों ने इनको ऐसा करता देख पुलिस को सूचना दे दी. मौके पर पहुंची पुलिस ने एक युवक को दबोच लिया जबकि दूसरा युवक मौके से फरार होने में सफल हो गया. पुलिस के अनुसार उन्हें शिकायत मिली थी कि कुछ लोग गायों को इंजेक्शन लगा कर उन्हें तस्करी कर कहीं ले जाने की फिराक में है.

  • बजरंग दल और VHP के पोस्टर्स में बुलंदशहर हिंसा का मुख्य आरोपी योगेश राज, दे रहा है मकर संक्रांति और गणतंत्र दिवस की बधाई

    बजरंग दल और VHP के पोस्टर्स में बुलंदशहर हिंसा का मुख्य आरोपी योगेश राज, दे रहा है मकर संक्रांति और गणतंत्र दिवस की बधाई

    योगेश राज हिंसा के बाद एक महीने तक फरार रहा, हालांकि, इस दौरान उसने वीडियो भी जारी किए, जिसमें उसने खुद को बेगुनाह बताया था. वीडियो सामने आने के बाद प्रदेश की पुलिस पर उसको लेकर सॉफ्ट नजरिया रखने का आरोप लगा था. इतना ही नहीं, बल्कि सीएम योगी आदित्यनाथ का भी सुरक्षा समीक्षा बैठक में हिंसा की घटना पर कम ध्यान देते हुए गोकशी के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने पर जोर रहा.

  • बुलंदशहर गोकशी मामला: पहले बताया 'बेगुनाह' तो पुलिस नहीं मानी, अब 17 दिन बाद खुद पुलिस बोली- ये निर्दोष है

    बुलंदशहर गोकशी मामला: पहले बताया 'बेगुनाह' तो पुलिस नहीं मानी, अब 17 दिन बाद खुद पुलिस बोली- ये निर्दोष है

    सर्फुद्दीन को यूपी पुलिस ने 3 दिसंबर की रात हिरासत में ले लिया था, इसके बाद उसे पांच दिसंबर को गिरफ्तार कर लिया गया. जब सर्फुद्दीन को गिरफ्तार किया गया तो उसने खुद को 'निर्दोष' बताया था. लेकिन पुलिस ने उसकी एक बात भी नहीं मानी और उसे गिरफ्तार कर लिया.

  • बुलंदशहर गोकशी मामले में 4 निर्दोषों को यूपी पुलिस ने पकड़ा, 17 दिन रहना पड़ा जेल, अब हुई असल गिरफ्तारी

    बुलंदशहर गोकशी मामले में 4 निर्दोषों को यूपी पुलिस ने पकड़ा, 17 दिन रहना पड़ा जेल, अब हुई असल गिरफ्तारी

    बुलंदशहर में गोकशी के मामले में यूपी पुलिस ने पूरी तरह यू-टर्न ले लिया है. पुलिस ने पहले जिन चार लोगों सर्फ़ुद्दीन, नन्हे, साजिद और आसिफ़ को गिरफ़्तार किया था, अब 17 दिन बाद पुलिस उन्हें निर्दोष बता रही है और पुलिस इनकी रिहाई के लिए कोर्ट जाएगी.  पुलिस के मुताबिक़ मंगलवार को जो तीन लोग नदीम, रईस और काला गिरफ़्तार किए गए हैं, वो असली गुनहगार हैं. हालांकि हिंसा मामले में मुख्य आरोपी योगेश राज ने जो FIR दर्ज कराई थी, उनमें इन तीनों का नाम नहीं है.

  • बुलंदशहर में गोहत्या के मामले में 3 गिरफ्तार, हिंसा का मुख्य आरोपी अब भी फरार

    बुलंदशहर में गोहत्या के मामले में 3 गिरफ्तार, हिंसा का मुख्य आरोपी अब भी फरार

    बुलंदशहर हिंसा मामले में पुलिस ने गोहत्या के आरोप में तीन लोगों को गिरफ़्तार किया है.  हालांकि, इंस्पेक्टर सुबोध की हत्या और हिंसा फैलाने के मुख्य आरोपी अब तक पुलिस की गिरफ़्त से बाहर हैं. पुलिस ने इस मामले में एक प्रेस रीलीज़ जारी कर कहा है कि ये आरोपी पहले गायों को मारते थे और उसके बाद उसका मांस आपस में बांट लेते थे. इन सब के बीच पुलिस ने इंस्पेक्टर सुबोध की हत्या मामले में भी दो लोगों को गिरफ़्तार किया है.. लेकिन दो हफ़्ते बीत जाने के बाद भी मुख्य आरोपी बजरंग दल के योगेश राज और शिखर अग्रवाल को पुलिस पकड़ नहीं पाई है.. हांलाकि ये दोनों ही आरोपी सोशल मीडिया और टीवी चैनल पर दिखाई दे रहे हैं. 

  • बुलंदशहर हिंसा: मुख्य आरोपियों में से एक ने किया सरेंडर, बजरंग दल का नेता योगेश राज अभी भी फरार

    बुलंदशहर हिंसा: मुख्य आरोपियों में से एक ने किया सरेंडर, बजरंग दल का नेता योगेश राज अभी भी फरार

    बुलंदशहर जिले के एक गांव में कथित रूप से गायों के अवशेष मिलने के बाद करीब 400 लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई थी. भीड़ को जब समझाने पुलिस पहुंची तो उसने पुलिस पर ही हमला कर दिया. इसके बाद भड़की हिंसा में एक पुलिस इंस्पेक्टर और एक नागरिक की मौत हो गई. घटना के दो सप्ताह बाद भी पुलिस अभी मुख्य आरोपी योगेश राज की तलाश कर रही है.

  • बुलंदशहर हिंसा: गोकशी रोकने को लेकर यूपी पुलिस का अनोखा अभियान, गांव-गांव जाकर लोगों को दिलाएंगे शपथ

    बुलंदशहर हिंसा: गोकशी रोकने को लेकर यूपी पुलिस का अनोखा अभियान, गांव-गांव जाकर लोगों को दिलाएंगे शपथ

    कुछ दिन पहले ही बुलंदशहर में हुई ऐसी ही हिंसा (Bulandshahr Violence) में एक पुलिस इंस्पेक्टर और एक आम नागरिक की हत्या कर दी गई थी. पुलिस के इस अभियान के तहत मेरठ जिले के किठौर थाने के प्रभारी (UP Police) का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें वह गांव के लोगों को गोकशी (Cow slaughtering)  रोकने के लिए शपथ खिलाते दिख रहे हैं.

  • बुलंदशहर हिंसा: गोकशी के आरोप में गिरफ्तारी पर उठे सवाल, जिनके नाम FIR में नहीं उन्हें किया अरेस्ट

    बुलंदशहर हिंसा: गोकशी के आरोप में गिरफ्तारी पर उठे सवाल, जिनके नाम FIR में नहीं उन्हें किया अरेस्ट

    गोकशी के मामले में बुधवार सुबह पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया. सरफुद्दीन का नाम एफआईआर में था, जो गारमेंट का काम करते हैं. सरफुद्दीन के परिवार का दावा है कि जिस दिन गांव में गोवंश के अवशेष मिले थे, उस दिन वह वहां से 40 किलोमीटर दूर इज्तिमा में थे. उनके भाई मोहम्मद हुसैन का कहना है, 'वह उस दिन इज्तिमा में थे और उनकी पार्किंग में ड्यूटी लगी हुई थी. मेरे पास सबूत हैं कि वह उस दिन वहां नहीं था. उसकी जीपीएस लोकेशन ट्रैक की जा सकती है और यह जांचा जा सकता है कि वह महाव में उस दिन थे या नहीं.'

  • क्या सुलझेगी इंस्पेक्टर सुबोध की हत्या की गुत्थी? 10 प्वाइंट में जानें बुलंदशहर मामले में अब तक क्या हुआ

    क्या सुलझेगी इंस्पेक्टर सुबोध की हत्या की गुत्थी? 10 प्वाइंट में जानें बुलंदशहर मामले में अब तक क्या हुआ

    उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर (Bulandshahr mob violence) में बीते सोमवार को गोकशी के शक में भड़की हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या का मामला अभी भी नहीं सुलझ पाया है. हालांकि, इंस्पेक्टर की हत्या का मुख्य संदिग्ध आर्मी जवान जीतू फौजी (Jitu Fauji) को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है और आज उसे कोर्ट में पेश किया जाएगा. मगर जीतू ने हत्या करने की बात से साफ तौर पर इनकार कर दिया है. बताया जा रहा है कि सेना ने जीतू को रात करीब साढ़े बारह बजे पुलिस के हवाले कर दिया. एनडीटीवी से सूत्रों ने कहा कि वह पिछले 36 घंटे से पुलिस की रडार पर था. पुलिस की हिरासत में जीतू से पुछताछ हुई. पुलिस के सामने जीतू ने स्वीकार किया है कि वह भीड़ का हिस्सा था. दरअसल, बुलंदशहर में गोकशी के शक में भड़की हिंसा में दो लोगों की मौत हो गई थी, जिनमें एक पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध सिंह थे और एक सुमित नाम का युवक था. चलिए अब तक इस मामले में क्या-क्या हुआ जानते हैं.

  • बुलंदशहर हिंसा: जीतू की गिरफ्तारी पर बोले यूपी पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी- आखिर क्यों भीड़ को उकसा रहा था सेना का जवान

    बुलंदशहर हिंसा: जीतू की गिरफ्तारी पर बोले यूपी पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी- आखिर क्यों भीड़ को उकसा रहा था सेना का जवान

    यूपी के बुलंदशहर हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या का मुख्य संदिग्ध आर्मी जवान जितेंद्र मलिक उर्फ जीतू को यूपी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. जितेंद्र मलिक को रविवार की रात सेना ने पुलिस के हवाले कर दिया. एनडीटीवी से सूत्रों ने कहा कि वह बीते 36 घंटों से पुलिस की रडार पर था. पुछताछ में पुलिस के सामने जीतू ने स्वीकार किया है कि वह भीड़ का हिस्सा था. दरअसल, यूपी के बुलंदशहर में बीते सोमवार को गोकशी के शक में भड़की हिंसा में दो लोगों की मौत हो गई थी, जिनमें एक पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध सिंह थे और एक सुमित नाम का युवक था. 

  • बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या का मुख्य संदिग्ध जीतू फौजी 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

    बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या का मुख्य संदिग्ध जीतू फौजी 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

    उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर (Bulandshahr mob violence) में बीते सोमवार को गोकशी के शक में भड़की हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या का मुख्य संदिग्ध आर्मी जवान जीतू फौजी (Jitu Fauji) को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. गिरफ्तारी के बाद उसे कोर्ट में पेश किया गया था, जहां से उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया.

  • Bulandshar Violance: आरोपी जीतू फौजी के बचाव में उतरा भाई, कहा- साजिश के तहत फंसाया जा रहा  

    Bulandshar Violance: आरोपी जीतू फौजी के बचाव में उतरा भाई, कहा- साजिश के तहत फंसाया जा रहा  

    उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर हिंसा (Bulandshahr Violence) में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या का आरोपी जितेंद्र मलिक (Jitendra malik) उर्फ जीतू फौजी (Jitu Fauji) को हिरासत में ले लिया गया है. बताया जा रहा है कि जीतू फौजी राष्ट्रीय राइफल्स में तैनात है और हिंसा के दिन मौके पर भी मौजूद था. हालांकि, जीतू के हिरासत की खबर सूत्रों ने दी है. उधर, धर्मेंद्र मलिक (जीतू के भाई) ने ANI से कहा कि उसके भाई को साजिश के तहत फंसाया जा रहा है.

  • योगी सरकार के मंत्री बोले- बुलंदशहर हिंसा BJP की साजिश, 2019 में वोट बैंक के चक्कर में करवा रही

    योगी सरकार के मंत्री बोले- बुलंदशहर हिंसा BJP की साजिश, 2019 में वोट बैंक के चक्कर में करवा रही

    उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने शनिवार को कहा कि बहराइच से भाजपा सांसद सावित्रीबाई फुले का इस्तीफा देना बहुत सही निर्णय है. उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार में सांसदों और विधायकों की सुनी नहीं जा रही है. ऐसे में उन्होंने जो निर्णय लिया है वह बिल्कुल ठीक है. बता दें कि बीते दिनों दलित नेता सावित्रीबाई फुले बीजेपी से इस्तीफा दिया था और यह आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी समाज को बांटने की कोशिश कर रही है.