NDTV Khabar

Dussehra 2018


'Dussehra 2018' - 47 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • सिद्धू की पत्नी के खिलाफ बिहार में मामला दायर, रेलवे और पंजाब सरकार को NHRC का नोटिस

    सिद्धू की पत्नी के खिलाफ बिहार में मामला दायर, रेलवे और पंजाब सरकार को NHRC का नोटिस

    बिहार के मुजफ्फरपुर की एक अदालत में अमृतसर हादसे को लेकर कार्यक्रम की मुख्य अतिथि नवजोत कौर सिद्धू के खिलाफ मामला दायर किया गया है. वहीं, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने रेलवे और पंजाब सरकार को नोटिस जारी किया है. अमृतसर में दशहरा के दिन रावण दहन के दौरान करीब 60 लोगों की मौत ट्रेन की चपेट में आने से हो गई थी. मृतकों में बिहार के प्रवासी भी शामिल थे. सिद्धू के बचाव में कांग्रेस सांसद सुनील जाखड़ और पंजाब के मंत्री तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा आगे आए और उन्होंने घटना के लिए रेल अधिकारियों को दोषी ठहराने का प्रयास किया.

  • अमृतसर ट्रेन हादसा: रावण दहन के आयोजक सौरभ मदान मिट्ठू का VIDEO आया सामने, कही यह बात...

    अमृतसर ट्रेन हादसा: रावण दहन के आयोजक सौरभ मदान मिट्ठू का VIDEO आया सामने, कही यह बात...

    पंजाब के अमृतसर (Amritsar train accident) में दशहरा के दिन ट्रेन हादसे ने खुशी के पल को ऐसे मातम में बदल दिया कि पल भर में 61 जिंदगियां काल के गाल में समा गईं. दरअसल, रावण दहन को देखने के लिए लोग पटरियों पर खड़े थे, तभी ट्रेन गुजरी और उसकी चपेट में आने से 61 लोगों की मौत हो गई और 100 से अधिक लोग घायल हो गए. हादसे के बाद आरोप- प्रत्यारोप का दौर जारी है और पुलिस को रामलीला के आयोजक और कांग्रेस नेता के बेटे सौरभ मदान मिट्ठू की तलाश जारी है, जो घटना के बाद से फरार बताया जा रहा है. इस बीच सौरभ मदान मिट्ठू ने एक वीडियो जारी कर खुद को निर्दोष बताया है. वीडियो में सौरभ मदान ने कहा कि यह एक बेहद दुखद घटना है. मुझे इसके लिए दर्द है. मैं इस घटना से बेहद दुखी हूं. मैं यह बयान नहीं कर सकता कि मेरा क्या हाल है. मैंने सभी को एक साथ लाने के लिए दशहरा उत्सव का आयोजन किया था. मैंने आयोजन के लिए जरूरी सभी अनुमति ली थी. मेरी तरफ से कोई प्रयास नहीं बचा था. 

  • Exclusive: 'मैडम, 500 ट्रेन गुजर जाए, तब भी 5000 लोग ट्रैक पर खड़े रहेंगे', जानिये इसके बारे में क्या कहा नवजोत कौर ने...

    Exclusive: 'मैडम, 500 ट्रेन गुजर जाए, तब भी 5000 लोग ट्रैक पर खड़े रहेंगे', जानिये इसके बारे में क्या कहा नवजोत कौर ने...

    पंजाब के अमृतसर (Amritsar Train Accident) में दशहरा के दिन एक ट्रेन हादसे ने खुशी के पल को ऐसे मातम में बदला कि पल भर में 61 जिंदगियां काल के गाल में समा गईं. दरअसल, रावण दहन को देखने के लिए लोग पटरियों पर खड़े थे, तभी ट्रेन गुजरी और उसकी चपेट में आने से इतने सारे लोग मर गये. हालांकि, इस हादसे के बाद आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है. दशहरा कार्यक्रम की मुख्य अतिथि और पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर पर भी आरोप लगे कि उन्होंने हादसे के बाद लोगों की मदद करने के बजाय वहां से भाग गईं. नवजोत कौर से जब NDTV संवाददाता ने इस बारे में विस्तार से बात की. नवजोत कौर ने बताया कि मैं वहां से तुरंत इसलिए निकल गई थी, क्योंकि मुझे दूसरे प्रोग्राम में जाना था. लोग मेरे साथ सेल्फी ले रहे थे. मुझे हादसे का पता होता तो मैं सेल्फी नहीं देती. उन्होंने कहा कि मैं आयोजन में सिर्फ 10 मिनट की देरी से पहुंची थी. मुझे 6:30 बजे का समय दिया गया था, मैं सिर्फ 10 मिनट देरी से पहुंची थी.

  • अमृतसर ट्रेन हादसा: CCTV में देखें कैसे हादसे के बाद फरार हुआ रावण दहन का आयोजक सौरभ मदान

    अमृतसर ट्रेन हादसा: CCTV में देखें कैसे हादसे के बाद फरार हुआ रावण दहन का आयोजक सौरभ मदान

    पंजाब के अमृतसर (Amritsar train accident) में दशहरा के दिन एक ट्रेन हादसे ने खुशी के पल को ऐसे मातम में बदला कि 61 जिंदगियां काल के गाल में समा गईं. दरअसल, रावण दहन को देखने के लिए लोग पटरियों की ट्रैक पर खड़े थे , तभी ट्रेन गुजरी और उसकी चपेट में आने से इतने सारे लोग मर गये. हालांकि, इस हादसे के बाद आरोप- प्रत्यारोप का दौर जारी है. पुलिस को रामलीला के आयोजक की तलाश अब भी जारी है, जो घटना के बाद से फरार बताया जा रहा है. पुलिस की मानें तो घटना के बाद से कांग्रेस नेता का बेटा अमृतसर के जोड़ा फाटक में रामलीला का आयोजक सौरभ मदान मिट्ठू फरार है. मगर अब एनडीटीवी को जो सीसीटीवी फुटेज मिला है, उसमें दिख रहा है कि अमृतसर हादसे के तुरंत बाद सौरभ मदान गाड़ी में बैठकर भाग जाता है. बता दें कि शुक्रवार को दशहरा के दिन अमृतसर में जोड़ा फाटक के पास रावण दहन के दौरान ट्रेन की चपेट में आने से 61 लोगों की मौत हो गई और 50 से अधिक घायल हो गये. 

  • अमृतसर ट्रेन हादसा: 'रावण दहन' के आयोजक के घर पर पथराव, प्रशासन पर फूटा लोगों का गुस्सा

    अमृतसर ट्रेन हादसा: 'रावण दहन' के आयोजक के घर पर पथराव, प्रशासन पर फूटा लोगों का गुस्सा

    पंजाब के अमृतसर में हुए रेल हादसे के बाद से स्थानीय लोगों का गुस्सा लगातार फूट रहा है. अमृसर ट्रेन हादसे में सुरक्षा व्यवस्थआ में पुलिस की खामियों को लेकर यहां के स्थानीय लोग आक्रोशित हैं और वे लोग घटना स्थल पर लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं. इतना ही नहीं, शनिवार की रात को भी इनका प्रदर्शन जारी रहा. बताया जा रहा है कि रविवार को भी ये लोग बड़ी संख्या में घटनास्थल यानी की रेलवे ट्रैक के पास जमा हैं. इनका कहना है कि सरकार लोगों की मौत के आंकड़े को कम बता रही है. साथ ही मामले में कार्रवाई करने में देरी की जी रही है. इसके अलावा रावण दहन के दौरान सुरक्षा व्यवस्था के संबंध में पुलिस की खामियों को लेकर भी लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है. बताया जा रहा है कि घटनास्थल और आसपास के इलाके में तनाव की स्थिति है. यही वजह है कि भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है.

  • अमृतसर ट्रेन हादसा: अब भी अपनों के इंतजार में है 10 माह का मासूम, अस्पताल ने हेल्पलाइन नंबर जारी कर मांगी मदद

    अमृतसर ट्रेन हादसा: अब भी अपनों के इंतजार में है 10 माह का मासूम, अस्पताल ने हेल्पलाइन नंबर जारी कर मांगी मदद

    पंजाब के अमृतसर में रावण दहन के दौरान हुए ट्रेन हादसे से अब भी लोग नहीं उबर पाए हैं. अमृतसर ट्रेन हादसे में 61 लोगों की जान चली गई और कुछ लोग अपनों से बिछड़ भी गए. एक ओर जहां, अभी भी ऐसे कई परिवार अथवा लोग हैं, जिन्हें अपनों का इंतजार है और वहीं, हादसे में घायल मिला एक बच्चा ऐसा भी है, जिसे अब तक उनके अपने लेने नहीं आए हैं. दरअसल, रावण दहन के दौरान अमृतसर ट्रेन हादसे में घायलों में एक ऐसा बच्चा भी है, जिसे लेने के लिए अभी तक उसका परिवार सामने नहीं आया है. बता दें कि दशहरा के दिन रावण दहन देखने के दौरान लोग ट्रैक पर खड़े थे और ट्रेन आई और उन्हें कुचलती हुई चली गई. इस घटना में अब तक 61 की मौत हुई है और 50 से अधिक घायल हैं.

  • Amritsar Train Accident: 61 लोगों की मौत का कोई जिम्मेदार नहीं? हर किसी ने झाड़ा पल्ला

    Amritsar Train Accident: 61 लोगों की मौत का कोई जिम्मेदार नहीं? हर किसी ने झाड़ा पल्ला

    पंजाब के अमृतसर शहर (Amritsar train accident) में दशहरा के दिन एक ट्रेन हादसे ने खुशी के पल को पूरी तरह से मातम में बदल दिया. अमृतसर के जोड़ा फाटक के पास दशहरे के दिन (Dussehra 2018) रावण दहन देखने के दौरान हुए अमृतसर ट्रेन हादसे (Train accident in Amritsar) में 61 लोगों की जान चली गई और 50 से अधिक लोग घायल हो गये, मगर आश्चर्य है कि इस बड़ी त्रासदी की जिम्मेवारी लेने वाला कोई नहीं है. राज्य सरकार से लेकर रेलवे तक हर कोई इस घटना से पल्ला झाड़ने में लगा है. पुलिस कभी आयोजकों को जिम्मेदार मान रही है तो कभी आयोजक पुलिस को. हालांकि, सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने न्यायिक जांज के आदेश दे दिए हैं, जिसकी रिपोर्ट चार हफ्ते में मिल जाएगी. तो चलिए जानते हैं कि कौन क्या कह कर इस  पूरे मामले से अपना पल्ला झाड़ने की कोशिश में है.

  • अमृतसर ट्रेन हादसे में खुलासा: पुलिस ने दी थी 'रावण दहन' कार्यक्रम के लिए NOC, जानें घटना से जुड़ी 10 बातें

    अमृतसर ट्रेन हादसे में खुलासा: पुलिस ने दी थी 'रावण दहन' कार्यक्रम के लिए NOC, जानें घटना से जुड़ी 10 बातें

    पंजाब के अमृतसर शहर (Amritsar train accident) में एक ट्रेन हादसे ने खुशी के पल को पूरी तरह से मातम में बदल दिया. ट्रेन हादसा भले ही अमृतसर में हुआ, मगर इसके शोक पूरा देश डूब गया. दरअसल, अमृतसर शहर (Amritsar train accident) के जोड़ा फाटक इलाके में दशहरे (Dussehra 2018) के दौरान हुए अमृतसर ट्रेन हादसे (Train accident in Amritsar) में एक नया खुलासा सामने आया है. ट्रेन हादसे में आरोप-प्रत्यारोप के दौर के बीच पुलिस ने स्वीकार किया कि उसने आयोजकों को अनापत्ति प्रमाण पत्र दिया था लेकिन कहा कि कार्यक्रम के लिये नगर निगम की भी मंजूरी की जरूरत थी. इस बीच सामने आए एक खत से संकेत मिले हैं कि आयोजकों - स्थानीय कांग्रेस पार्षद के परिवार ने कार्यक्रम स्थल पर सुरक्षा इंतजाम की भी मांग की थी जहां पंजाब के मंत्री नवजोत सिद्धु और उनकी पूर्व विधायक पत्नी नवजोत कौर सिद्धु के आने की उम्मीद थी. प्रत्यक्षदर्शियों ने हालांकि शिकायत की कि जोड़ा फाटक के पास पटरियों के साथ लगे मैदान में लोगों की सुरक्षा के लिये इंतजाम पर्याप्त नहीं थे. दरअसल, दशहरा के दिन रावण देखने आए लोग ट्रैक पर खड़े होकर रावण दहन देख रहे थे, तभी ट्रेन से कटकर करीब 61 लोगों की मौत हो गई और पचास से अधिक घायल हो गये. हालांकि, इस घटना की न्यायिक जांच के आदेश दे दिये गए हैं.

  • Amritsar Train Accident: पटरी पर रेलवे के इतिहास का सबसे बड़ा हादसा, जानिये कब और कहां कितने लोगों ने गंवाई जान...

    Amritsar Train Accident: पटरी पर रेलवे के इतिहास का सबसे बड़ा हादसा, जानिये कब और कहां कितने लोगों ने गंवाई जान...

    पंजाब के अमृतसर (Amritsar train accident) में दशहरे के दिन रावण दहन देखने आए लोगों के लिए किसी खौफनाक दिन से कम नहीं रहा. शुक्रवार की शाम रावन दहन के दौरान ट्रेन की चपेट में आने से अब तक 61 लोगों की मौत हो गई है और 100 से अधिक लोग घायल हैं, जिनमें कुछ की हालत गंभीर बनी हुई है. दरअसल, अमृतसर के जोड़ा फाटक के पास शुक्रवार की शाम दशहरा (dussehra 2018) के मौके पर रावण दहन देखने के लिए बड़ी संख्या में भीड़ उमड़ी थी. लोग रेल की पटरियों पर खड़े होकर रावण दहन देख रहे थे, तभी अचानक तेज रफ्तार में ट्रेन आई और सैकड़ों लोगों को कुचलती हुई चली गई. ट्रेन जालंधर से अमृतसर आ रही थी तभी जोड़ा फाटक पर यह हादसा हुआ. बता दें कि रेल पटरी पर होने वाला यह हादसा रेलवे के इतिहास की सबसे भीषण दुर्घटनाओं में शामिल हो गई है.  

  • Indian Railway का अमृतसर ट्रेन हादसे पर बड़ा बयान - ना होगी जांच और ना कार्रवाई, रेलवे की कोई गलती नहीं

    Indian Railway का अमृतसर ट्रेन हादसे पर बड़ा बयान -  ना होगी जांच और ना कार्रवाई, रेलवे की कोई गलती नहीं

    Amritsar Train Accident: रेलवे के तरफ से कहा गया है कि किसी भी प्रकार की कोई जांच नहीं की जाएगी. भूमि रेलवे की नहीं थी न ही रेलवे से को आज्ञा ली गई थी, पढ़िए पूरा बयान

  • Amritsar train accident: 32 सेकेंड तक 'मौत का तांडव, VIDEO में देखें जब लोगों को कुचल कर निकल गई ट्रेन

    Amritsar train accident: 32 सेकेंड तक 'मौत का तांडव, VIDEO में देखें जब लोगों को कुचल कर निकल गई ट्रेन

    पंजाब के अमृतसर (Amritsar train accident) में दशहरे के दिन रावण दहन देखने आए लोगों के लिए किसी खौफनाक दिन से कम नहीं रहा और अमृतसर ट्रेन हादसे ने देखते ही देखते पल भर में खुशियों के पल को मातम में बदल दिया. दरअसल, अमृतसर में जोड़ा फाटक के पास शुक्रवार की शाम रावन दहन के दौरान ट्रेन की चपेट में आने से 59 लोगों की मौत हो गई है और 50 से अधिक लोग घायल बताए जा रहे हैं, जिनमें कुछ की हालत गंभीर बनी हुई है.

  • Amritsar train accident: हादसे की होगी न्यायिक जांच, CM अमरिंदर बोले- 4 हफ्ते में जांच रिपोर्ट मांगी

    Amritsar train accident: हादसे की होगी न्यायिक जांच, CM अमरिंदर बोले- 4 हफ्ते में जांच रिपोर्ट मांगी

    पंजाब (Punjab Train Mishap) के अमृतसर (Amritsar train accident) में दशहरे के दिन रावण दहन के दौरान 59 लोगों की मौत के मामले पर मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने दुख जताया है. घटना के एक दिन बाद शनिवार को अमृतसर पहुंच कर मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की और इस मामले की न्यायिक जांच के आदेश दिए. बता दें कि अमृतसर में शुक्रवार की शाम रावन दहन के दौरान ट्रेन की चपेट में आने से 59 लोगों की मौत हो गई है और 50 से ज़्यादा लोग घायल बताए जा रहे हैं, जिनमें कुछ की हालत गंभीर बनी हुई है. 

  • Amritsar Train Accident : मरते-मरते यूं 'रावण' ने बचाई कइयों की जान, पीछे छोड़ गया विधवा मां, पत्नी और 8 महीने का मासूम

    Amritsar Train Accident : मरते-मरते यूं 'रावण' ने बचाई कइयों की जान, पीछे छोड़ गया विधवा मां, पत्नी और 8 महीने का मासूम

    Amritsar Train Hadsa: दलबीर के पीछे उनकी विधवा मां, उनकी पत्नी और 8 महीने का बेटा ही बचे हैं. दलबीर के परिवार की मांग है कि दलबीर की पत्नी को सरकारी नौकरी मिले और हादसे के लिए ज़िम्मेदार लोगों को सज़ा दी जाए.

  • Amritsar train accident: 'मौत की ट्रेन' का चालक बोला- मुझे ग्रीन सिग्नल मिला और रास्ता क्लियर

    Amritsar train accident: 'मौत की ट्रेन' का चालक बोला- मुझे ग्रीन सिग्नल मिला और रास्ता क्लियर

    पंजाब के अमृतसर (Amritsar train accident) में दशहरे के दिन शुक्रवार को रावण दहन के दौरान ट्रेन हादसे में 59 लोगों की मौत हो गई. पंजाब और रेलवे पुलिस ने शनिवार को अमृतसर में 59 लोगों को कुचलने वाली ट्रेन के चालक को हिरासत में लेकर पूछताछ की. पंजाब पुलिस अधिकारियों का कहना है कि डीएमयू (डीजल मल्टीपल यूनिट) के ड्राइवर को लुधियाना रेलवे स्टेनशन से हिरासत में लिया गया और शुक्रवार रात को हुई इस घटना के संदर्भ में पूछताछ की गई. 

  • Amritsar Train Accident: नवजोत कौर सिद्धू अगर समय से पहुंचतीं तो टल सकता था हादसा

    Amritsar Train Accident: नवजोत कौर सिद्धू अगर समय से पहुंचतीं तो टल सकता था हादसा

    पंजाब के अमृतसर (Amritsar train accident) में दशहरे के दिन रावण दहन के दौरान एक रेल हादसे ने खुशी के पल को मातम में बदल दिया. अमृतसर में जोड़ा फाटक के पास शुक्रवार की शाम रावन दहन के दौरान ट्रेन की चपेट में आने से 59 लोगों की मौत हो गई है और 50 से अधिक लोग घायल बताए जा रहे हैं, जिनमें कुछ की हालत गंभीर बनी हुई है. दरअसल, अमृतसर के जोड़ा फाटक के पास शुक्रवार की शाम दशहरा (dussehra 2018) के मौके पर रावण दहन देखने के लिए बड़ी संख्या में भीड़ उमड़ी थी. लोग रेल की पटरियों पर खड़े होकर रावण दहन देख रहे थे, तभी अचानक तेज रफ्तार में ट्रेन आई और सैकड़ों लोगों को कुचलती हुई चली गई. ट्रेन जालंधर से अमृतसर आ रही थी तभी जोड़ा फाटक पर यह हादसा हुआ. हालांकि, इसके लिए लोग यह मान रहे हैं कि अगर आयोजन समय पर होता तो यह हादसा टल सकता था और इसके लिए पंजाब कांग्रेस नेता नवजोत कौर सिद्धू को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है.

  • Amritsar train accident: अमृतसर ट्रेन हादसे की वो 7 वजहें, जिसने खुशी के पल को मातम में बदल दिया

    Amritsar train accident: अमृतसर ट्रेन हादसे की वो 7 वजहें, जिसने खुशी के पल को मातम में बदल दिया

    पंजाब के अमृतसर (Amritsar train accident) में दशहरे के दिन रावण दहन के दौरान मौत की रेल ने करीब 59 जिंदगिंयां छीन ली. अमृतसर में जोड़ा फाटक के पास शुक्रवार की शाम रावन दहन के दौरान ट्रेन की चपेट में आने से 59 लोगों की मौत हो गई है और 50 से अधिक लोग घायल बताए जा रहे हैं, जिनमें कुछ की हालत गंभीर बनी हुई है. अमृतसर के जोड़ा फाटक के पास शुक्रवार की शाम दशहरा (dussehra 2018) के मौके पर रावण दहन देखने के लिए बबड़ी संख्या में भीड़ उमड़ी थी. लोग रेल की पटरियों पर खड़े होकर रावण दहन देख रहे थे, तभी अचानक तेज रफ्तार में ट्रेन आई और सैकड़ों लोगों को कुचलती हुई चली गई. ट्रेन जालंधर से अमृतसर आ रही थी तभी जोड़ा फाटक पर यह हादसा हुआ. इस हादसे को लेकर कई तरह की बातें की जा रही हैं. तो चलिए जानते हैं कि आखिर इन हादसों की वजहें क्या थीं...

  • साढ़े चार साल और 2 रेल मंत्री, लेकिन नहीं सुधरा सिस्टम और विभाग, 10 बड़े हादसे

    साढ़े चार साल और 2 रेल मंत्री, लेकिन नहीं सुधरा सिस्टम और विभाग, 10 बड़े हादसे

    पंजाब के अमृतसर (Train accident in Amritsar) में शुक्रवार की शाम दर्दनाक रेल हादसा हुआ. अमृतसर के जोड़ा फाटक के पास शुक्रवार शाम दशहरा (dussehra 2018) के मौके पर रावण दहन देखने के लिए बड़ी संख्या में भीड़ उमड़ी थी. लोग रेल की पटरियों पर खड़े होकर रावण दहन देख रहे थे, तभी अचानक तेज रफ्तार में ट्रेन आई और सैकड़ों लोगों को कुचलती हुई चली गई. रेल पटरियों पर खड़े लोगों के ट्रेन की चपेट में आने से कम से कम 59 लोगों की मौत हो गई, जबकि 72 अन्य घायल हो गए. यह पहला मौका नहीं है जब रेल दुर्घटना में लोगों को जान गंवानी पड़ी है. अकेले मोदी सरकार के कार्यकाल में ही आधा दर्जन से ज्यादा रेल दुर्घटनाओं में सैकड़ों लोग असमय काल के गाल में समा गए. रेल दुर्घटना के चलते ही सुरेश प्रभु की कुर्सी गई और उनकी जगह पीयूष गोयल को लाया गया, लेकिन सिस्टम और रेलवे की लापरवाही से दुर्घटनाओं पर लगाम नहीं लग सकी.

  • Amritsar train accident: अमृतसर से पहले पटना में भी दशहरे के दिन हुआ था हादसा, भगदड़ में गई थी कई लोगों की जान

    Amritsar train accident: अमृतसर से पहले पटना में भी दशहरे के दिन हुआ था हादसा, भगदड़ में गई थी कई लोगों की जान

    पंजाब के अमृतसर (Amritsar train accident) में दशहरे के दिन रावण दहन के दौरान मौत की रेल ने करीब 61 जिंदगिंयां छीन ली. अमृतसर (Amritsar train tragedy LIVE updates) में जोड़ा फाटक के पास शुक्रवार की शाम रावन दहन के दौरान ट्रेन की चपेट में आने से 61 लोगों की मौत हो गई है और 50 से ज़्यादा लोग घायल बताए जा रहे हैं.