NDTV Khabar

Education system


'Education system' - 65 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • ऐसी लाइब्रेरी और अध्ययन कक्ष आपने किसी हिन्दी प्रदेश में देखी है?

    ऐसी लाइब्रेरी और अध्ययन कक्ष आपने किसी हिन्दी प्रदेश में देखी है?

    हिन्दी प्रदेशों के युवाओं में प्रतिभा की कमी नहीं है बस उनमें निखार न आए इसका इंतज़ाम सिस्टम और समाज ने कर रखा है. सैंकड़ों किलोमीटर तक लाइब्रेरी नज़र नहीं आएगी. इसे बीते ज़माने का बताया जाता है. मैं अमरीका के सैन फ़्रांसिस्को में हूं. यहां यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया, बर्कले की लाइब्रेरी की रीडिंग रूम की तस्वीर दिखाना चाहता हूं. 

  • रोज-रोज स्कूल जाने से परेशान हुई लड़की, पूछा क्या कहना है पीएम मोदी को, बोली- 'एक बार हराना पड़ेगा...' देखें VIDEO

    रोज-रोज स्कूल जाने से परेशान हुई लड़की, पूछा क्या कहना है पीएम मोदी को, बोली- 'एक बार हराना पड़ेगा...' देखें VIDEO

    सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें एक बच्ची रोज-रोज सुबह 6 बजे उठकर स्कल जाने से परेशान है. वो वीडियो में शिक्षा प्रणाली को बदलने की मांग रही हैं और ऐसा सिस्टम बनाने वालों को सजा देना चाहती है.

  • MP और पुदुचेरी के शिक्षा मंत्रियों ने किया दिल्ली के सरकारी स्कूलों का दौरा, कहा- केजरीवाल सरकार ने शिक्षा में अच्छा काम किया

    MP और पुदुचेरी के शिक्षा मंत्रियों ने किया दिल्ली के सरकारी स्कूलों का दौरा, कहा- केजरीवाल सरकार ने शिक्षा में अच्छा काम किया

    कांग्रेस शासन वाले दो राज्य मध्य प्रदेश और पुडुचेरी के शिक्षा मंत्रियों ने मंगलवार को दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया के साथ दिल्ली सरकार के स्कूलों का दौरा किया और शिक्षा के क्षेत्र में किये कामों की तारीफ की. 

  • आनंद कुमार और 'सुपर 30' की कहानी भारतीय शिक्षा प्रणाली में प्रतिष्ठा लाएगी: प्रोफेसर गोपाल वर्मा

    आनंद कुमार और 'सुपर 30' की कहानी भारतीय शिक्षा प्रणाली में प्रतिष्ठा लाएगी: प्रोफेसर गोपाल वर्मा

    दिल्ली के ये प्रोफेसर गोपाल वर्मा ने जरूरतमंद और वंचितों को शिक्षा प्रदान करने के इरादे से अपनी यात्रा शुरू की है. उन्होंने इसकी शुरुआत अपने यूट्यूब चैनल के जरिए जिसका नाम है 'इंग्लिश विथ गोपाल वर्मा' से की है.

  • आसमान छूती बेरोज़गारी, राष्ट्रवाद के सहारे हवा हवाई प्रधानमंत्री मोदी

    आसमान छूती बेरोज़गारी, राष्ट्रवाद के सहारे हवा हवाई प्रधानमंत्री मोदी

    आप समझ सकते हैं कि क्यों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बेरोज़गारी पर बात नहीं कर रहे हैं. पुलवामा के बाद एयर स्ट्राइक उनके लिए बहाना बन गया है. देश प्रेम-देश प्रेम करते हुए चुनाव निकाल लेंगे और अपनी जीत के पीछे भयावह बेरोज़गारी छोड़ जाएंगे. प्रधानमंत्री का एक ही देश प्रेम है जो चुनाव में जीत प्रेम है. मोदी सरकार के पांच साल में शिक्षा क्षेत्र का कबाड़ा हुआ. जो यूपीए के समय से होता चला आ रहा था.

  • देश में शिक्षा और शिक्षक की चिंता किसे है?

    देश में शिक्षा और शिक्षक की चिंता किसे है?

    जब भी ये लगता है कि लोगों को किसी बात से फर्क नहीं पड़ता है तभी कहीं से तस्वीर आ जाती है कि चंद लोग किसी ग़लत के विरोध में धरना प्रदर्शन कर रहे हैं. अफसोस कि उनकी ये लड़ाई उन्हीं की बन कर रह जाती है. वैसे सबसे पहले तो उन्हीं की होनी चाहिए लेकिन सरकार और प्रशासन का बर्ताव ऐसे होता है जैसे किसी दूसरे देश के नागरिक हों.

  • पारदर्शी और ईमानदार परीक्षा व्यवस्था कब आएगी?

    पारदर्शी और ईमानदार परीक्षा व्यवस्था कब आएगी?

    सभी प्रकार की सरकारों से आज तक ये न हुआ कि एक पारदर्शी और ईमानदार परीक्षा व्यवस्था दे सकें जिस पर सबका भरोसा हो. बुनियादी समस्या का समाधान छोड़ कर हर समय एक बड़े और आसान मुद्दे की तलाश ने लाखों की संख्या में नौजवानों को तोड़ दिया है.

  • शिक्षा के मकसद पर प्रधानमंत्री का भाषण

    शिक्षा के मकसद पर प्रधानमंत्री का भाषण

    शनिवार को विज्ञान भवन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण में शिक्षा के पारंपरिक लक्ष्य को दोहराया गया. एक ऐसे लक्ष्य को दोहराया गया, जिसे हासिल करने का तरीका सदियों से तलाशा जा रहा है. लक्ष्य यह कि शिक्षा ऐसी हो जो हमें मनुष्य बना सके, जिससे जीवन का निर्माण हो, मानवता का प्रसार हो और चरित्र का गठन हो. प्रधानमंत्री ने ये लक्ष्य विवेकानंद के हवाले से कहे. इस दोहराव में बस वह बात फिर रह गई कि ये लक्ष्य हासिल करने का तरीका क्या हो? प्रधानमंत्री के इस भाषण से उस तरीके के बारे में कोई विशिष्ट सुझाव तो नहीं दिखा, फिर भी उन्होंने निरंतर नवोन्मेष की जरूरत बताई. हालांकि अपनी तरफ से उन्होंने नवोन्मेष को देश दुनिया में संतुलित विकास से जोड़ा. खैर, कुछ भी हो, शिक्षा और ज्ञान की मौजूदा शक्लोसूरत की आलोचना के बहाने से ही सही, कम से कम शिक्षा और ज्ञान के बारे में कुछ सुनने को तो मिला.

  • SCERT Odisha Result 2018: प्रवेश परीक्षा का परिणाम घोषित, यहां पर देखें scert.samsodisha.gov.in

    SCERT Odisha Result 2018: प्रवेश परीक्षा का परिणाम घोषित, यहां पर देखें scert.samsodisha.gov.in

    SCERT Odisha ने जिन कोर्स के लिए परिणाम घोषित किया है उनमें मुख्य रूप से D.El.Ed., B.Ed., M.Ed., M.Phil (Education) और B.H.Ed. शामिल हैं. विभाग ने Student Academic Management System (SAMS) Odisha की आधिकारिक वेबसाइट पर परिणाम उपलब्ध कराया है.

  • दुनिया के शीर्ष शिक्षा संस्थानों में हम क्यों नहीं?

    दुनिया के शीर्ष शिक्षा संस्थानों में हम क्यों नहीं?

    हिन्दी प्रदेशों में विवाद तो दो ही विश्वविदयालय के चलते हैं एक जेएनयू के और दूसरा एएमयू. चैनलों ने जब चहा यहां से देशद्रोही और हिन्दू-मुस्लिम नेशनल सिलेबस का कोई न कोई चैप्टर मिल ही जाता है.

  • शिक्षा प्रणाली आज केवल डिग्रियां हासिल करने तक सीमित हो गई है: मंत्री

    शिक्षा प्रणाली आज केवल डिग्रियां हासिल करने तक सीमित हो गई है: मंत्री

    उच्च शिक्षा में नैतिकता एवं कार्य संस्कृतिविषय पर आयोजित एक दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए चतुर्वेदी ने कहा कि अंग्रेजों ने इस देश की रीढ़ माने जाने वाली समृद्ध शिक्षा पद्धति को जान-बूझकर कमजोर किया. विशेष रूप से सांस्कृतिक मूल्यों को आघात पहुंचाया.

  • UGC को खत्म करने के बाद ग्रांट के अधिकार पर सरकार ने अभी तक नहीं लिया कोई फैसला

    UGC को खत्म करने के बाद ग्रांट के अधिकार पर सरकार ने अभी तक नहीं लिया कोई फैसला

    मानव संसाधन विकास मंत्रालय UGC को खत्म करने की तैयारी में है. मंत्रालय ने पिछले हफ्ते यूजीसी कानून 1951 को समाप्त कर यूजीसी की जगह हायर एजुकेशन कमीशन ऑफ इंडिया (एचईसीआई) का गठन करने की घोषणा की थी.

  • UGC की जगह HECI लाने की तैयारी में सरकार, जानिए दोनों में क्या है अंतर?

    UGC की जगह HECI लाने की तैयारी में सरकार, जानिए दोनों में क्या है अंतर?

    मानव संसाधन विकास मंत्रालय UGC को खत्म कर एक नए एजुकेशन सिस्टम को शुरू करने की तैयारी में है.DUTA ने सराकार के यूजीसी को खत्म करने के फैसले का विरोध किया है. DUTA ने कहा कि नई संस्था के आने से शिक्षा प्रणाली में सरकार का सीधा अस्तक्षेप बढ़ जाएगा.

  • शिक्षा व्यवस्था को लेकर कितने गंभीर हैं हम?  

    शिक्षा व्यवस्था को लेकर कितने गंभीर हैं हम?  

    कई बार हमें लगता है कि किसी विश्वविद्यालय की समस्या इसलिए है क्योंकि वहां स्वायत्तता नहीं है इसलिए उसे स्वायत्तता दे दी जाए. जब भी उच्च शिक्षा की समस्याओं पर बात होती है, ऑटोनमी यानी स्वायत्तता को एंटी बायेटिक टैबलेट के रूप में पेश किया जाता है. लेकिन आप किसी भी विश्वविद्यालय को देखिए, चाहे वो प्राइवेट हो या पब्लिक यानी सरकारी क्या वहां सरकार या राजनीतिक प्रभाव से स्वायत्त होने की स्वतंत्रता है. सरकार ही क्यों हस्तक्षेप करती है, वो हस्तक्षेप करना बंद कर दे. कभी आपने सुना है कि वाइस चांसलर की नियुक्ति की प्रक्रिया बेहतर की जाएगी, उनका चयन राजनीतिक तौर पर नहीं होगा.

  • मेडिकल कॉलेज के हॉस्टल की एक साल की फीस 21 लाख?

    मेडिकल कॉलेज के हॉस्टल की एक साल की फीस 21 लाख?

    आप लोग बीजेपी बनाम कांग्रेस की लड़ाई में ही रहते हैं. ज़रा बताइये कि इनमें से किसी की सरकार आने पर क्या बदल जाएगा? क्या पुलिस ठीक हो जाएगी, क्या अदालतों का रवैया बदल जाएगा? एक छात्र ने जो लिखा है मैं उसकी जगह आप सभी को रखता हूं. जो कांग्रेस के समर्थक हैं, सपा बसपा के समर्थक हैं और जो बीजेपी संघ के हैं, वे ईमानदारी से बताएं कि इस तरह की लूट को रोकने की हिम्मत किसी में है?

  • नई शिक्षा नीति पर रिपोर्ट जून तक संभव

    नई शिक्षा नीति पर रिपोर्ट जून तक संभव

    केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह ने यह जानकारी देते हुए बताया कि सलाहकार समिति को 31 मार्च को अपनी रिपोर्ट पेश करनी थी.

  • क्यों कॉलेजों को नहीं मिलती सुविधाएं?

    क्यों कॉलेजों को नहीं मिलती सुविधाएं?

    यूनिवर्सिटी सीरीज़ धीरे-धीरे लौटती रहेगी. 27 अंक पर हमने छोड़ा था, अब 28वें से शुरू कर रहा हूं जो यहां से नए तरीके से चलेगी. एक नेता ने कहा है कि हिन्दुओं को मंदिर के लिए शहादत देनी पड़ेगी. उस नेता ने कब कहा कि हिन्दुओं के पढ़ाई लिखाई अस्पताल के लिए हम प्रतिनिधि शहादत देंगे. ये जिस शहादत की बात कर रहे हैं क्या आपको लगता है कि इसमें अच्छे घरों के लोग जाएंगे.

  • अपनी ही पार्टी को घेरते हुए भाजपा के इस विधायक ने कहा, प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था हुई चौपट

    अपनी ही पार्टी को घेरते हुए भाजपा के इस विधायक ने कहा, प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था हुई चौपट

    भाजपा के वरिष्ठ विधायक एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर ने मंगलवार को विधानसभा में अपनी ही पार्टी को घेरते हुए कहा कि प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था चौपट हो गयी है.

Advertisement