NDTV Khabar

Employment generation


'Employment generation' - 9 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • ऊंची आर्थिक वृद्धि दर के बाद भी रोजगार सृजन में राष्ट्रीय औसत से पीछे रहे 12 बड़े राज्य: रिपोर्ट

    ऊंची आर्थिक वृद्धि दर के बाद भी रोजगार सृजन में राष्ट्रीय औसत से पीछे रहे 12 बड़े राज्य: रिपोर्ट

    एक रिपोर्ट के अनुसार इन राज्यों की जीडीपी में वृद्धि मुख्यत: ऐसे क्षेत्रों में हुई है जिनमें रोजगार के कम अवसर होते हैं. क्रिसिल की यह रिपोर्ट ऐसे समय में आयी है जब सेंटर फोर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी ने सिर्फ 2018 में ही 1.10 करोड़ नौकरियां समाप्त होने की बात कही है.

  • मोदी सरकार में कितने लोगों को मिला रोजगार, दो महीनों में हो जाएगा साफ

    मोदी सरकार में कितने लोगों को मिला रोजगार, दो महीनों में हो जाएगा साफ

    देश में रोजगार सृजन के प्रति सरकार के गंभीर होने का दावा करते हुए श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने राज्यसभा में कहा कि 2016 से बेरोजगारी के संबंध में रिपोर्ट अगले दो महीने में सामने आ जाएगी. गंगवार ने उच्च सदन में प्रश्नकाल के दौरान पूरक सवालों के जवाब में यह जानकारी दी. उन्होंने इस बात से इनकार कि देश में रोजगार के अवसरों में कमी आयी है. उन्होंने कहा कि वैश्विक आंकड़े भी दिखाते हैं कि भारत में बेरोजगारी की दर कम है.

  • मार्च तक सात महीने में 39 लाख रोजगार के अवसरों का सृजन : ईपीएफओ आंकड़े

    मार्च तक सात महीने में 39 लाख रोजगार के अवसरों का सृजन : ईपीएफओ आंकड़े

    कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के रोजगार आंकड़ों के अनुसार मार्च तक समाप्त सात माह की अवधि में 39.36 लाख नए रोजगार के अवसरों का सृजन हुआ है. ताजा आंकड़़ों के अनुसार मार्च में 6.13 लाख नए रोजगार का सृजन हुआ. यह फरवरी की तुलना में अधिक है. फरवरी में 5.89 लाख नए रोजगार के अवसर पैदा हुए थे. 

  • सेवा क्षेत्र की गतिविधियों में अप्रैल में सुधार, रोजगार सृजन सात वर्ष के उच्च स्तर पर

    सेवा क्षेत्र की गतिविधियों में अप्रैल में सुधार, रोजगार सृजन सात वर्ष के उच्च स्तर पर

    देश के सेवा क्षेत्र में अप्रैल महीने में सुधार जारी रहा. कारोबारी गतिविधियां बढ़ने और रोजगार सृजन के सात वर्ष से अधिक समय से उच्च स्तर पर बने रहने के चलते तेजी रही. एक मासिक सर्वेक्षण में यह बात कही गई. निक्केई इंडिया सर्विसेज बिजनेस एक्टिविटी इंडेक्स अप्रैल माह में 51.4 पर पहुंच गया जो मार्च में 50.3 पर था. नए कारोबारी ऑर्डरों में वृद्धि और मुद्रास्फीति दबाव कम होने से भी मांग में सुधार आया. यह सेवा क्षेत्र की कंपनियों के उत्पादन में तेजी को दर्शाता है. 

  • रोजगार सृजन सात वर्ष के उच्च स्तर पर : सर्वेक्षण

    रोजगार सृजन सात वर्ष के उच्च स्तर पर : सर्वेक्षण

    देश के सेवा क्षेत्र में अप्रैल महीने में सुधार जारी रहा. कारोबारी गतिविधियां बढ़ने और रोजगार सृजन के सात वर्ष से अधिक समय से उच्च स्तर पर बने रहने के चलते तेजी रही. एक मासिक सर्वेक्षण में यह बात कही गई. निक्केई इंडिया सर्विसेज बिजनेस एक्टिविटी इंडेक्स अप्रैल माह में 51.4 पर पहुंच गया जो मार्च में 50.3 पर था. नए कारोबारी ऑर्डरों में वृद्धि और मुद्रास्फीति दबाव कम होने से भी मांग में सुधार आया. यह सेवा क्षेत्र की कंपनियों के उत्पादन में तेजी को दर्शाता है. 

  • श्रम क्षेत्र में सुधारों से तीन साल में एक करोड़ रोजगार पैदा होने का अनुमान

    श्रम क्षेत्र में सुधारों से तीन साल में एक करोड़ रोजगार पैदा होने का अनुमान

    एक रपट के अनुसार अगर भारत श्रम कानूनों में सुधार सहित विभिन्न नियामकीय सुधारों को आगे बढ़ाता है तो आने वाले तीन साल में बिक्री कारोबार के क्षेत्र में एक करोड़ रोजगार सृजित हो सकते हैं. स्टाफिंग फर्म टीमलीज सर्विसेज ने एक रपट में यह निष्कर्ष निकाला है. फर्म की कार्यकारी उपाध्यक्ष ऋतुपर्णा चक्रवर्ती ने कहा, केवल दस नियामकीय सुधार करते हुए हम अगले तीन साल में बिक्री करने के काम में एक करोड़ नौकरियां सृजित कर सकते हैं. यह भारत के लिये एक अवसर है, जो कि इस समय अहम् जनसांख्यकीय मोड़ पर पहुंच चुका है. ’ 

  • रिपोर्ट के अनुसार, श्रम क्षेत्र में सुधारों से तीन साल में एक करोड़ रोजगार पैदा होने का अनुमान

    रिपोर्ट के अनुसार, श्रम क्षेत्र में सुधारों से तीन साल में एक करोड़ रोजगार पैदा होने का अनुमान

    एक रपट के अनुसार अगर भारत श्रम कानूनों में सुधार सहित विभिन्न नियामकीय सुधारों को आगे बढ़ाता है तो आने वाले तीन साल में बिक्री कारोबार के क्षेत्र में एक करोड़ रोजगार सृजित हो सकते हैं. स्टाफिंग फर्म टीमलीज सर्विसेज ने एक रपट में यह निष्कर्ष निकाला है. फर्म की कार्यकारी उपाध्यक्ष ऋतुपर्णा चक्रवर्ती ने कहा, केवल दस नियामकीय सुधार करते हुए हम अगले तीन साल में बिक्री करने के काम में एक करोड़ नौकरियां सृजित कर सकते हैं. यह भारत के लिये एक अवसर है, जो कि इस समय अहम् जनसांख्यकीय मोड़ पर पहुंच चुका है. ’ 

  • कितने लोगों को मिली नौकरी, अब इस तरह से पता लगाएगी सरकार

    कितने लोगों को मिली नौकरी, अब इस तरह से पता लगाएगी सरकार

    सांख्यिकी मंत्रालय ने अपनी एक रपट में कहा है कि औपचारिक क्षेत्र में रोजगार सृजन को मापने के लिए वेतन भुगतान रजिस्टर (पेरोल) आंकड़ों का इस्तेमाल किया जा सकता है. मंत्रालय ने बताया कि सरकार द्वारा गठित कार्यबल की सिफारिशों पर अमल करते हुए यह पहल की गई. एक रपट तैयार की गई जो औपचारिक क्षेत्र में रोजगार निर्माण की प्रगति को दिखाती है. इसके लिए प्रशासनिक रिकॉर्डों या वेतन रजिस्टर के आंकड़ों का आकलन किया गया. 

  • अब इस तरह से पता लगाएगी सरकार कि कितने लोगों को मिली नौकरी

    अब इस तरह से पता लगाएगी सरकार कि कितने लोगों को मिली नौकरी

    सांख्यिकी मंत्रालय ने अपनी एक रपट में कहा है कि औपचारिक क्षेत्र में रोजगार सृजन को मापने के लिए वेतन भुगतान रजिस्टर (पेरोल) आंकड़ों का इस्तेमाल किया जा सकता है. मंत्रालय ने बताया कि सरकार द्वारा गठित कार्यबल की सिफारिशों पर अमल करते हुए यह पहल की गई. एक रपट तैयार की गई जो औपचारिक क्षेत्र में रोजगार निर्माण की प्रगति को दिखाती है. इसके लिए प्रशासनिक रिकॉर्डों या वेतन रजिस्टर के आंकड़ों का आकलन किया गया.