NDTV Khabar

Environment minister anil dave


'Environment minister anil dave' - 5 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • अनिल दवे की रगों में बहती थी नर्मदा नदी

    अनिल दवे की रगों में बहती थी नर्मदा नदी

    अनिल माधव दवे एक राजनीतिज्ञ से ज्यादा समाजसेवी थे. उनका जन्म स्थान उज्जैन शिप्रा के तट पर स्थित है लेकिन उनकी अगाध श्रद्धा नर्मदा नदी में थी. उनमें नर्मदा और इसकी नदी सभ्यता को जानने-समझने की उत्कट आकांक्षा थी. वे प्रकृति के प्रति अनन्य अनुराग से भरे हुए थे.

  • अनिल माधव दवे से आखिरी मुलाकात

    अनिल माधव दवे से आखिरी मुलाकात

    दिल्ली में बुधवार को चिलचिलाती गर्मी में कोई 50 कार्यकर्ता और किसान पर्यावरण मंत्रालय के बाहर जीएम सरसों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे थे. प्रदर्शनकारियों के पर्यावरण भवन पहुंचने के कुछ ही मिनट बाद मंत्री अनिल माधव दवे का पैगाम उन तक आ गया. 'मंत्री जी मिलना चाहते हैं. कुछ लोग भीतर आकर उनसे बात कर सकते हैं.'

  • जीएम सरसों को तुरंत मंज़ूरी की संभावना नहीं, संघ के विरोध से सरकार पर दबाव बढ़ा

    जीएम सरसों को तुरंत मंज़ूरी की संभावना नहीं, संघ के विरोध से सरकार पर दबाव बढ़ा

    जेनेटिक मोडिफाइड यानी जीएम सरसों को भले ही सरकार की एक्सपर्ट कमेटी ने पिछले हफ्ते मंज़ूरी दे दी हो लेकिन, अभी इसके खेतों में उगाए जाने और बाज़ार में आने की संभावना कम ही है. सामाजिक कार्यकर्ताओं ने बुधवार को जीएम सरसों को लेकर दिल्ली में पर्यावरण मंत्रालय के सामने विरोध-प्रदर्शन किया.

  • पर्यावरण मंजूरी देने के समय को कम करके 50-60 दिन करने पर विचार कर रही सरकार : दवे

    पर्यावरण मंजूरी देने के समय को कम करके 50-60 दिन करने पर विचार कर रही सरकार : दवे

    केंद्रीय पर्यावरण एवं वन मंत्री अनिल माधव दवे ने रविवार को कहा कि सरकार वन और पर्यावरण संबंधी मंजूरी देने के लिए समय को कम करके 50-60 दिन तक करने पर विचार कर रही है.

  • वन्य जीवन को बचाने के लिए लाया जा रहा कैम्पा बिल फिर अटका, राज्यसभा में हंगामा

    वन्य जीवन को बचाने के लिए लाया जा रहा कैम्पा बिल फिर अटका, राज्यसभा में हंगामा

    जंगलों के कटाव के बदले खाली ज़मीन पर पेड़ लगाने और वन्य जीवन को बचाने के लिये लाया जा रहा कैम्पा कानून सोमवार को एक बार फिर से हंगामे के कारण अटक गया। बिल पर बहस नहीं हो सकी।

Advertisement