NDTV Khabar

Government of jharkhand


'Government of jharkhand' - 4 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • खेतों की मिट्टी को सेहतमंद बनाने की कोशिश में जुटी झारखंड सरकार

    खेतों की मिट्टी को सेहतमंद बनाने की कोशिश में जुटी झारखंड सरकार

    मुख्यमंत्री रघुवर दास ने बुधवार को कहा कि मिट्टी को मिले जान, बढ़े झारखंड की शान, समृद्ध हों किसान. खेत की मिट्टी को सेहतमंद बनाने में राज्य सरकार जुट गई है. यही वजह है कि आज मिट्टी की डॉक्टर दीदियों को पहचान पत्र व मिट्टी जांच के लिए मिनी लैब किट दिया जा रहा है. ताकि किसानों के खेतों की मिट्टी की जांच उनकी ही पंचायत व गांव में हो सके. किसानों को उस मिट्टी में किस फसल की खेती करनी चाहिए, कौन से खनिज की मात्रा बढ़ानी चाहिए, इसकी जानकारी मिट्टी की डॉक्टर दीदियां उपलब्ध कराएंगी. उन्होंने कहा कि इसके दो फायदे हैं पहला किसानों के खेतों की उत्पादकता बढ़ेगी, जिससे किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य पूरा कर सकेंगे. वहीं दूसरी ओर डॉक्टर दीदियों के आर्थिक स्वावलंबन का मार्ग प्रशस्त होगा. इस कार्य से हर माह डॉक्टर दीदियां करीब 14 हजार रुपये कमा सकेंगी.

  • जम्मूकश्मीर में शहीद झारखंड के जवान के परिजनों को दस लाख रुपये देगी झारखंड सरकार

    जम्मूकश्मीर में शहीद झारखंड के जवान के परिजनों को दस लाख रुपये देगी झारखंड सरकार

    एक सरकारी विज्ञप्ति में बताया गया है कि मुख्यमंत्री रघुवर दास ने ईश्वर से शहीद के परिवार को इस दुख की घड़ी में हिम्मत दने की प्रार्थना की.

  • झारखंड में एक बार फिर बढ़ी मुख्यमंत्री, मंत्रियों, विधायकों की सैलरी

    झारखंड में एक बार फिर बढ़ी मुख्यमंत्री, मंत्रियों, विधायकों की सैलरी

    झारखंड सरकार ने बीते ढाई साल में दूसरी बार विधायकों, मंत्रियों, विधानसभा अध्यक्ष व मुख्यमंत्री का वेतन बढ़ा दिया है. कैबिनेट सचिव एस.के.जी. रहाटे ने संवाददाताओं से कहा, "झारखंड कैबिनेट ने विधायकों, मंत्रियों, विधानसभा अध्यक्ष, विपक्ष के नेता व मुख्यमंत्री के वेतन में बढ़ोतरी को मंजूरी दी है."

  • आईआईएम में दाखिला लेकर चुनावी वादे पूरा करना सीख रहे हैं झारखंड के मंत्री

    आईआईएम में दाखिला लेकर चुनावी वादे पूरा करना सीख रहे हैं झारखंड के मंत्री

    आईआईएम अहमदाबाद के प्रोफेसर अरविंद सहाय ने बताया कि मंत्रियों का तीन-दिवसीय अध्ययन दौरा सोमवार से शुरू हुआ. इस दौरान आईआईएम-ए के संकाय सदस्य उन्हें नेतृत्व और नैतिकता, सहकारी आंदोलन, स्वास्थ्य संबंधी देखरेख, शिक्षा और सार्वजनिक-निजी भागीदारी के बारे में संवाद सत्रों के ज़रिये जानकारी दे रहे हैं.