NDTV Khabar

Gujarat assembly eleciton 2017


'Gujarat assembly eleciton 2017' - 31 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • दोबारा गुजरात की कुर्सी पर बैठने वाले विजय रूपाणी के सामने ये होंगी 5 चुनौतियां

    दोबारा गुजरात की कुर्सी पर बैठने वाले विजय रूपाणी के सामने ये होंगी 5 चुनौतियां

    भारतीय जनता पार्टी गुजरात में किसी तरह एक बार फिर से सत्ता बचाने में कामयाब हो गई और छठी बार अपनी सरकार बना ली. विजय रूपाणी भले ही दूसरी बार गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ले चुके हैं, मगर गुजरात चुनाव के नतीजों ने बीजेपी को सबक दे दी है कि अगर समय रहते नहीं चेते तो कांग्रेस का पलड़ा कभी भी भारी हो सकता है.

  • तो इस तरह से गुजरात में बीजेपी ने हारी बाजी जीत ली

    तो इस तरह से गुजरात में बीजेपी ने हारी बाजी जीत ली

    महीनों चले सियासी घमासान के बाद आखिर 18 दिसंबर को हिमाचल और गुजरात में 'विजेता' की घोषणा हो ही गई. गुजरात का चुनावी अभियान काफी राजनीतिक उठा-पटक वाला रहा. यह चुनावी घमासान दर्शक के नजरिये से भले ही काफी दिलचस्प रहा हो, मगर एक लोकतंत्र के लिहाज से इसे कभी भी आदर्श चुनाव कैंपेन नहीं माना जा सकता.

  • विधानसभा चुनाव परिणाम 2017 : गुजरात-हिमाचल में खिला कमल, जीत के जश्न में शामिल हुए अमित शाह, 10 बातें

    विधानसभा चुनाव परिणाम 2017 : गुजरात-हिमाचल में खिला कमल, जीत के जश्न में शामिल हुए अमित शाह, 10 बातें

    बीजेपी अभी गुजरात में बहुमत प्राप्त कर चुकी है. हालांकि, जीत का अंतर कांग्रेस से काफी ज्यादा नहीं है. भाजपा गुजरात की 182 सीटों में से 92 से अधिक पर जीत दर्ज कर चुकी है और बहुमत के लिए 92 सीटों की जरूरत होती है. वहीं, हिमाचर प्रदेश में ने बीजेपी ने कांग्रेस की सरकार को उखाड़ फेंका है और सत्ता की कुर्सी पंजे से छीन ली है. बीजेपी की गुजरात और हिमाचल में जीत के बाद सभी जगह कार्यकर्ताओं में जश्न का माहौल है. इस जश्न में सरीख होने के लिए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी दिल्ली के पार्टी कार्यालय में पहुंच चुके हैं और यहां उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस किया.

  • गुजरात, हिमाचल में BJP की जीत का कर्नाटक चुनाव पर होगा असर: मुरलीधर राव

    गुजरात, हिमाचल में  BJP की जीत का कर्नाटक चुनाव पर होगा असर: मुरलीधर राव

    बीजेपी ने कहा है कि गुजरात और हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनावों में पार्टी की जीत से साबित हो गया है कि कठोर आर्थिक सुधारों के बावजूद पीएम नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता में कोई कमी नहीं आई है. पार्टी के अनुसार, इन दोनों राज्‍यों में बीजेपी की जीत का कांग्रेस शासित कर्नाटक के चुनावों पर भी सीधा असर होगा.कर्नाटक में अगले वर्ष की शुरुआत में चुनाव होने हैं.

  • गुजरात में जीत के बाद निगाहें अब CM के चेहरे पर, जानें कौन मार सकता है बाजी!

    गुजरात में जीत के बाद निगाहें अब CM के चेहरे पर, जानें कौन मार सकता है बाजी!

    गुजरात चुनाव में बीजेपी के बहुमत के आंकड़े को पार करने के बाद लोगों की निगाहें अब इस बात पर टिकी हैं कि राज्‍य का अगला मुख्‍यमंत्री कौन होगा. उत्‍सुकता इस बात की है कि सीएम की कमान फिर विजय रूपानी संभालेंगे या फिर शीर्ष नेतृत्‍व किसी नए चेहरे को मौका देगा. एक तरह से यह चुनाव रूपाणी सरकार के प्रदर्शन का 'टेस्‍ट' था, जिसमें मुश्किलों के बाद ही वे सफल हो पाए.

  • राहुल गांधी को लेकर शशि थरूर बोले, पहले ही टेस्ट मैच में शतक की उम्मीद करना बेमानी है

    राहुल गांधी को लेकर शशि थरूर बोले, पहले ही टेस्ट मैच में शतक की उम्मीद करना बेमानी है

    गुजरात और हिमाचल प्रदेश के चुनाव में बीजेपी जीतती नजर आ रही है. हिमाचल में कांग्रेस के हाथ से सत्ता जाती दिख रही है, वहीं गुजरात में कंग्रेस ने अब तक का सबसे बेहतरीन प्रदर्शन किया है. यही वजह है कि हार-जीत पर नेताओं के बायनों का सिलसिला जारी हो चुका है. कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने गुजरात विधानसभा चुनाव परिणाम के बारे में कहा कि इस चुनाव का सफ़र अच्छा रहा, भले ही मंजिल तक ना पहुंचे हों.

  • गुजरात विधानसभा चुनाव : राहुल राज में कांग्रेस पार्टी ने गुजरात में जीती सबसे ज्यादा सीटें

    गुजरात विधानसभा चुनाव : राहुल राज में कांग्रेस पार्टी ने गुजरात में जीती सबसे ज्यादा सीटें

    राज्य में पार्टी की इस जीत को काग्रेसी नेता बड़ी उपलब्धि मान रहे हैं. कई बड़े कांग्रेसी नेता तो पार्टी के इस प्रदर्शन का श्रेय पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को दे रहे हैं.

  • विधानसभा चुनावों के वोटों की गिनती के बीच बोले नीतीश, हार के डर से EVM की आलोचना हो रही

    विधानसभा चुनावों के वोटों की गिनती के बीच बोले नीतीश, हार के डर से EVM की आलोचना हो रही

    गुजरात में भाजपा एक बार जीतती नजर आ रही है. रुझानों के मुताबिक, भाजपा ने गुजरात और हिमाचल में जीत दर्ज कर चुकी है. यही वजह है कि कई जगह भाजपा कार्यकर्ताओं में जश्न का माहौल दिख रहा है. गुजरात चुनाव में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) में गड़बड़ियों को लेकर कांग्रेस सहित कई नेताओं के आरोप पर प्रतिक्रिया देते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि हार के डर से कुछ लोग ईवीएम की आलोचना कर रहे हैं.

  • हिमाचल प्रदेश और गुजरात में बीजेपी की जीत पर पीएम मोदी ने कुछ यूं जाहिर की खुशी

    हिमाचल प्रदेश और गुजरात में बीजेपी की जीत पर पीएम मोदी ने कुछ यूं जाहिर की खुशी

    गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों की मतगणना के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को संसद भवन में प्रवेश के दौरान हाथों से विजय चिह्न् (विक्टरी साइन) बनाकर खुशी जाहिर की. बता दें कि पीएम मोदी को भी पता है कि ये जीत उनके लिए कितना मायने रखती है. 

  • गुजरात विधानसभा चुनाव : प्रभारी अशोक गहलोत बोले- नतीजे कुछ भी हों, जीत कांग्रेस की ही मानी जाएगी

    गुजरात विधानसभा चुनाव : प्रभारी अशोक गहलोत बोले- नतीजे कुछ भी हों, जीत कांग्रेस की ही मानी जाएगी

    रुझानों के मुताबिक, बीजेपी को 103 और कांग्रेस 77 सीटों पर बनी हुई है. यानी ये बात तय है कि बीजेपी ने बहुमत पा लिया है और फिर से सरकार बनाने की स्थिति में दिख रही है. कांग्रेस एक बार फिर से 22 सालों का सूखा खत्म करने में नाकामयाब दिख रही है. गुजरात चुनाव के परिणामों को लेकर अब बयानों का सिलसिला जारी हो गया है. 

  • गुजरात विधानसभा चुनाव परिणाम : तो क्या इस वजह से कांग्रेस गुजरात में हारती नजर आ रही है

    गुजरात विधानसभा चुनाव परिणाम : तो क्या इस वजह से कांग्रेस गुजरात में हारती नजर आ रही है

    गुजरात विधानसभा की 182 सीटों और हिमाचल की 68 विधानसभा सीटों पर वोटों की गिनती जारी है. गुजरात चुनावों के शुरुआती रुझानों में बीजेपी और कांग्रेस के बीच आगे जाने की होड़ मची हुई है. मगर अब बीजेपी कांग्रेस से काफी आगे चल रही है. रुझान में इन दोनों की सीटों में करीब 25 से 30 सीटों का अंतर है. यानी बीजेपी को बहुमत का आंकड़ा पार कर चुकी है और कांग्रेस एक बार फिर से हारती नजर आ रही है. पिछले चुनावों के नतीजों पर गौर करें तो इस बार गुजरात के चुनावी पिच पर कांग्रेस अच्छा खेलती नजर आ रही है. मगर जीत तो जीत होती है, जो अभी भाजपा की झोली में जाती दिख रही है. 

  • गुजरात-हिमाचल में वोटों की गिनती जारी, मुख्य चुनाव आयुक्त बोले- EVM से छेड़छाड़ नहीं हो सकती

    गुजरात-हिमाचल में वोटों की गिनती जारी, मुख्य चुनाव आयुक्त बोले- EVM से छेड़छाड़ नहीं हो सकती

    गुजरात और हिमाचल प्रदेश में वोटों की गिनती शुरू हो चुकी है. अभी से धीरे-धीरे ये साफ होता चला जाएगा कि हिमाचल और गुजरात में बीजेपी की जीत होती है या कांग्रेस सरकार बनाने में कामयाब होती है. इससे पहले ईवीएम से छेड़छाड़ के संबंध में मुख्य चुनाव आयुक्त अचल कुमार जोति का बयान आया है. उन्होंने कहा कि मीडिया में ईवीएम के बारे में उठाये गये सवालों के पहले ही उत्तर दिये जा चुके हैं. गुजरात में हर मतदान केंद्रों पर वीवीपीएटी मौजूद था, जिससे वोटर्स को ये देखने की इजाजत थी कि उन्होंने किसे वोट किया है. इसलिए जो सवाल उठाये गये हैं, वो सही नहीं हैं. 

  • Assembly Election Results 2017: हिमाचल में खिलेगा कमल और गुजरात में मोदी लहर? 10 बातें

    Assembly Election Results 2017: हिमाचल में खिलेगा कमल और गुजरात में मोदी लहर? 10 बातें

    हिमाचल प्रदेश और गुजरात विधानसभा चुनाव के वोटों की गिनती 8 बजे से शुरू होगी. आज ये साफ हो जाएगा कि हिमाचल और गुजरात के गढ़ में कौन सी पार्टी परचम लहराने में कामयाब होती है. हिमाचल में जहां 62 सीटों के लिए 337 उम्‍मीदवारों के भाग्‍य का फैसला होगा, वहीं गुजरात में 1828 उम्मीदवारों का भाग्य दांव पर है. वोटों की गिनती शुरू होते ही शुरुआती रुझानों और परिणामों से तस्वीरें साफ होने लगेंगी. गुजरात चुनाव को 2019 के फाइनल से पहले सेमीफाइनल के रूप में देखा जा रहा है. तो चलिए जानते हैं नतीजों से पहले हिमाचल और गुजरात चुनाव के बारे में 10 बड़ी बातें.

  • गुजरात में छह मतदान केंद्रों पर दोबारा मतदान, 70 फीसदी पड़े वोट

    गुजरात में छह मतदान केंद्रों पर दोबारा मतदान, 70 फीसदी पड़े वोट

    गुजरात विधानसभा चुनाव के मद्देनजर चुनाव आयोग की शनिवार को की गई घोषणा के मद्देनजर गुजरात में चार विधानसभा क्षेत्रों के छह मतदान केंद्रों पर आज फिर से मतदान कराया जाएगा. वीरमगाम में दो और सावली में दो तथा वडगाम और दास्करोई क्षेत्रों की एक-एक मतदान केंद्र पर फिर से मतदान होगा.

  • अगर गुजरात में कांग्रेस एक बार फिर से हारी तो इसके पीछे होंगे ये 5 बड़े कारण

    अगर गुजरात में कांग्रेस एक बार फिर से हारी तो इसके पीछे होंगे ये 5 बड़े कारण

    लाख कोशिशों के बाद कांग्रेस गुजरात में 22 साल बाद भी सरकार बनाने में नाकामयाब दिख रही है, बशर्ते 18 दिसंबर को कोई चमत्कार न हो. गुजरात चुनाव के पूरे घटनाक्रम को देखें तो गुजरात में बीजेपी जीत नहीं रही है, बल्कि कांग्रेस हार रही है. यानी कि कांग्रेस के पास 22 साल के सरकार विरोधी लहर को भुनाने का जबरदस्त मौका था, मगर कुछ वजहों से वो ऐसा करने में सफल नहीं हो पाई. एग्जिट पोल्स ने गुजरात में कांग्रेस के हार की पटकथा लिख दी है. इसलिए अब सभी उसके कारणों की तलाश में जुट गये होंगे. तो चलिए जानते हैं कि आखिर कांग्रेस गुजरात चुनाव में जीत का परचम नहीं लहरा पा रही है तो इसके पीछे कौन-कौन से कारण होंगे. 

  • अगर एग्जिट पोल सही साबित हुए तो गुजरात में बीजेपी की जीत के ये होंगे 5 बड़े कारण

    अगर एग्जिट पोल सही साबित हुए तो गुजरात में बीजेपी की जीत के ये होंगे 5 बड़े कारण

    एग्जिट पोल की भविष्यवाणी में कितना दम है इसका फैसला 18 दिसंबर को वोटों की गिनती के बाद ही होगा. मगर जिस तरह से तमाम न्यूज चैनलों और एजेंसियों ने गुजरात में भाजपा को बढ़त दी है, उससे ये साफ नजर आने लगा है कि अगर कोई हैरान करने वाला वाकया नहीं होता है, तो भारतीय जनता पार्टी गुजरात में पिछले 22 सालों की सत्ता को एक बार फिर से बचाने में कामयाब हो जाएगी. गुजरात में अगर बीजेपी सच में सरकार बनाती है तो इसकी एक वजह नहीं, बल्कि कई वजहें होंगी. इस बार सिर्फ मोदी मैजिक ही नहीं चला है, बल्कि ऐसी बहुत सी चीजें हैं जिसे भुनाने में बीजेपी कामयाब हो गई है. 

  • क्या सच में गुजरात चुनाव ने पीएम मोदी का कद छोटा कर दिया, ये हैं 6 कारण

    क्या सच में गुजरात चुनाव ने पीएम मोदी का कद छोटा कर दिया, ये हैं 6 कारण

    न्यूज चैनलों और एजेंसियों द्वारा जारी एग्जिट पोल ने ये संकेत दे दिये हैं कि गुजरात और हिमाचल प्रदेश भवगा रंग में रंगने को तैयार है. हालांकि, पूरी तस्वीर तो 18 दिसंबर को ही साफ होगी, जब दोनों राज्यों का जनादेश सामने आएगा. गुजरात पीएम मोदी का गृह राज्य है और 22 सालों से यहां बीजेपी की सरकार रही है. यही वजह है कि इस चुनाव को बीजेपी और पीएम मोदी की प्रतिष्ठा की नजर से देखा जा रहा है.

  • कांग्रेस गुजरात जीते या हारे, मगर बीजेपी को राहुल गांधी से ये 5 बातें जरूर सीखनी चाहिए

    कांग्रेस गुजरात जीते या हारे, मगर बीजेपी को राहुल गांधी से ये 5 बातें जरूर सीखनी चाहिए

    गुजरात विधानसभा चुनाव कई मायनों में याद रखा जाएगा. कभी नेताओं के विवादित बयानों को लेकर तो कभी आरोप-प्रत्यारोपों को लेकर. हार-जीत लगी रहती है और इस चुनाव का भी परिणाम आएगा. कांग्रेस जीतेगी या फिर भाजपा फिर से सत्ता बरकरार रखने में कामयाब होगी, ये 18 दिसंबर को ही साफ होगा. मगर इस चुनाव में एक बात जो सबसे अचंभित करने वाली दिखी है वो राहुल गांधी का व्यक्तित्व.