NDTV Khabar

India economy


'India economy' - 411 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • 'एक दिन में करोड़ों कमा रहीं फिल्में तो फिर कैसी मंदी', इस बयान को केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने वापस लिया

    'एक दिन में करोड़ों कमा रहीं फिल्में तो फिर कैसी मंदी', इस बयान को केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने वापस लिया

    शनिवार को केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी और विधि मंत्री ने बेरोजगारी पर राष्‍ट्रीय नमूना सर्वेक्षण कार्यालय (एनएसएसओ) की रिपोर्ट को भी "गलत" बताया था. इस रिपोर्ट में कहा गया था कि साल 2017 में बेरोजगारी की दर पिछले 45 साल में सबसे ज्यादा रही. उल्लेखनीय है कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने भी कुछ दिन पहले कहा कि भारत और ब्राजील में आर्थिक सुस्ती इस साल कुछ ज्यादा साफ दिखती है.

  • शरद पवार ने बीजेपी पर कसा तंज, कहा- हर वक्त मेरा नाम जप रहे हैं, ऐसा न हो सोते समय भी...

    शरद पवार ने बीजेपी पर कसा तंज, कहा- हर वक्त मेरा नाम जप रहे हैं, ऐसा न हो सोते समय भी...

    राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) अध्यक्ष शरद पवार ने महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव अभियान में बार-बार उनके नाम का इस्तेमाल करने पर शुक्रवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री समेत बीजेपी के शीर्ष नेताओं की आलोचना की और कहा कि उन्हें अर्थव्यवस्था और किसानों से जुड़े मुद्दों पर बोलना चाहिए.

  • प्रतिस्पर्धिता सूचकांक में 10 स्थान फिसलकर 68वें स्थान पर आया भारत, जानें- कौनसा देश किस नंबर पर है

    प्रतिस्पर्धिता सूचकांक में 10 स्थान फिसलकर 68वें स्थान पर आया भारत, जानें- कौनसा देश किस नंबर पर है

    जिनेवा स्थित विश्व आर्थिक मंच के सालाना वैश्विक प्रतिस्पर्धिता सूचकांक में भारत पिछले साल 58वें स्थान पर रहा था. भारत इस साल BRICS देशों में सबसे खराब प्रदर्शन करने वाली अर्थव्यवस्थाओं में एक है. मंच ने बुधवार को कहा कि वृहद आर्थिक स्थिरता तथा बाजार के आकार के मामले में भारत की रैंकिंग अच्छी है. वित्तीय क्षेत्र भी स्थिर है, लेकिन चूक की दर अधिक होने से बैंकिग प्रणाली प्रभावित हुई है.

  • 'BSNL और MTNL बंद होगा', इन्हें बचाने के लिए सरकार के पास पैसा नहीं, कश्मीर पर फैसले के बाद इस पर जोखिम लेना आसान

    'BSNL और MTNL बंद होगा', इन्हें बचाने के लिए सरकार के पास पैसा नहीं, कश्मीर पर फैसले के बाद इस पर जोखिम लेना आसान

    दोनों कंपनियों को 4 G नहीं देकर किस कंपनी को लाभ दिया गया इस पर बात करने से कोई फ़ायदा नहीं. उन्हें हर बात पर ही लाभ दिया जाता है और लोग इसे सहजता से लेते हैं. अनदेखा करते हैं. अब आप प्राब्लम में आए हैं तो इसका मतलब यह नहीं कि चुप रहने वाले लोग बोल उठेंगे. इन पौने दो लाख लोगों के जीवन में विपदा आने वाली है. ये लोग परेशान होंगे. नौकरी किसी की भी जाय होश उड़ जाते हैं.

  • लिंचिंग और मंदी के लिए दिए गए मोहन भागवत के बयान पर कांग्रेस ने साधा निशाना

    लिंचिंग और मंदी के लिए दिए गए मोहन भागवत के बयान पर कांग्रेस ने साधा निशाना

    महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को भीड़ द्वारा पीट-पीट कर हत्या और अर्थव्यवस्था पर उनकी टिप्पणी के लिए मंगलवार को उन्हें आड़े हाथों लिया.

  • सुस्त अर्थव्यवस्था से लड़ रही सरकार के सामने नई चुनौती, आर्थिक सुधार का कामगार कर रहे विरोध

    सुस्त अर्थव्यवस्था से लड़ रही सरकार के सामने नई चुनौती, आर्थिक सुधार का कामगार कर रहे विरोध

    अर्थव्यवस्था में सुस्ती से जूझ रही मोदी सरकार के सामने चुनौतियां कई मोर्चों पर हैं. सरकार का राजस्व घट रहा है. जीएसटी से उम्मीद के मुताबिक पैसा नहीं जुट रहा है. ऊपर से तमाम योजनाओं को अमली जामा पहनाना है और साथ में वित्तीय घाटे को भी सीमा के अंदर रखना है. ऐसे में अब कई बड़ी कंपनियों में विनिवेश की तैयारी हैं. सरकार पब्लिक सेक्टर कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी बेचकर एक लाख पांच हजार करोड़ रुपये उगाहने की कोशिश में है. अब तक साढ़े बारह हजार करोड़ ही वो विनिवेश से जमा कर पाई है. लेकिन सरकार की इन आर्थिक नीतियों का विरोध तेज होने लगा है. बीस करोड़ से ज़्यादा कामगारों की नुमाइंदगी करने वाले 10 बड़े मजदूर संगठनों ने ऐलान किया है कि वे सरकार की आर्थिक नीतियों के खिलाफ आठ जनवरी को देश व्यापी हड़ताल करेंगे.

  • ईएसटी समूह की भारतीय स्टार्टअप कंपनियों में 25 करोड़ डॉलर निवेश की योजना

    ईएसटी समूह की भारतीय स्टार्टअप कंपनियों में 25 करोड़ डॉलर निवेश की योजना

    स्विटजरलैंड के ईएसटी समूह की देश की स्टार्टअप कंपनियों में अगले 18 महीनों में 25 करोड़ डॉलर (करीब 1,770 करोड़ रुपये) निवेश की योजना है. कंपनी का मुख्य ध्यान वित्त प्रौद्योगिकी और संबंधित क्षेत्र की कंपनियों पर है.  ईएसटी समूह के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और निदेशक सिंधु भास्कर ने एक बयान में कहा कि समूह भारतीय बाजार को लेकर काफी उत्साहित है और उसका मानना है कि इस समय जब बाजार धीमे हैं तो वह नए अवसर उपलब्ध कराते हैं.

  • पंजाब एंड महाराष्ट्र कोआपरेटिव बैंक में जारी संकट पर वित्त मंत्री ने चुप्पी तोड़ी

    पंजाब एंड महाराष्ट्र कोआपरेटिव बैंक में जारी संकट पर वित्त मंत्री ने चुप्पी तोड़ी

    पंजाब एंड महाराष्ट्र कोआपरेटिव बैंक में जारी संकट पर वित्त मंत्री ने गुरुवार को चुप्पी तोड़ी. खाताधारकों की चिंताओं पर पूछे गए सवाल पर कहा कि आरबीआई इस मामले को देख रही है और सरकार इस मामले में फिलहाल दखल नहीं करेगी. मौका था निजी बैंकों के बड़े अफसरों के साथ बैठक का. वित्त मंत्री ने बैठक के बाद साफ़ किया कि बैंकिंग सेक्टर में लिक्विडिटी का कोई संकट नहीं है.

  • आखिर क्यों पीएम इमरान खान ने कहा - आप मेरी जगह होते तो आपको हार्ट अटैक आ जाता

    आखिर क्यों पीएम इमरान खान ने कहा - आप मेरी जगह होते तो आपको हार्ट अटैक आ जाता

    पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) खुद को कितनी परेशानियों से घिरा हुआ पा रहे हैं, यह खुद उनकी बात से स्पष्ट हो रहा है. हल्के-फुल्के अंदाज में ही सही, लेकिन वह यहां तक कह बैठे हैं कि दिक्कतें इतनी हैं कि कोई और उनकी जगह होता तो उसे हार्ट अटैक हो गया होता.

  • बुनियादी सेक्टर में सरकार के बड़े प्रोजेक्टों पर भी आर्थिक मंदी का असर

    बुनियादी सेक्टर में सरकार के बड़े प्रोजेक्टों पर भी आर्थिक मंदी का असर

    आर्थिक मंदी का असर सिर्फ आप पर और हम पर नहीं, बुनियादी सेक्टर में सरकार के बड़े प्रोजेक्टों पर भी पड़ रहा है. सरकार की ताज़ा रिपोर्ट के मुताबिक 150 करोड़ से ज़्यादा बजट वाला हर तीसरा प्रोजेक्ट लटका पड़ा है. अर्थव्यवस्था को दोबारा पटरी पर लाने की जद्दोजहद में जुटी सरकार के सामने एक बड़ी चुनौती है. सांख्यिकी मंत्रालय की तरफ से जारी फ्लैश रिपोर्ट के मुताबिक आर्थिक मंदी के इस दौर में इस साल मई तक लाखों करोड़ रुपये इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर में लटके पड़े हैं.

  • अर्थव्यवस्था को मंदी से बचाने के लिए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के ये 12 फैसले क्या काफी हैं?

    अर्थव्यवस्था को मंदी से बचाने के लिए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के ये 12 फैसले क्या काफी हैं?

    देश की अर्थव्यवस्था को मंदी से बचाने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से कोशिशें जारी हैं. पिछले 2 महीने में वित्तमंत्री की ओर से देश को मंदी की ओर जाने से रोकने के लिए कई ऐलान किए गए हैं. आज हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कारपोरेट टैक्स घटाकर 30 फीसदी से 25.2 फीसदी कर दिया है. उनके इस ऐलान के बाद शेयर बाजार में तगड़ा उछाल आया और सेंसेक्स 1600 अंकों तक पहुंच गया है. गौरतलब है कि इस तिमाही में देश की विकास दर 5 फीसदी पर पहुंच गई है. इसके बाद से मोदी सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई. पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने इसे नोटबंदी और जल्दबाजी में लागू किए जीएसटी को वजह बताया. इसके साथ ही उन्होंने मोदी सरकार को कुछ कदम उठाने की सलाह दी. मंदी का सबसे कारण घरेलू बाजार में मांग की कमी है जिसमें ग्रामीण अर्थव्यवस्था सबसे ज्यादा प्रभावित है. इसका सबसे ज्यादा असर ऑटो सेक्टर पर दिखाई दे रहा है. वहीं मैन्यूफैक्चरिंग और कृषि के हालात भी ठीक नहीं है. सरकार इससे निपटने के लिए पिछले दो महीने में कई बड़े ऐलान कर चुकी है और कई फैसले भी वापस भी लिए हैं जो बजट के दौरान किए गए थे. हालांकि उसकी ओर से अंतरराष्ट्रीय बाजार में मंदी का असर भारत पर बताया जा रहा है. इससे पहले जो ऐलान किए गए थे उसका स्वागत भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (फिक्की) ने भी किया है और उम्मीद जताई कि इससे अर्थव्यवस्था में तेजी आएगी.

  • बिहार के डिप्टी CM सुशील कुमार मोदी ने कहा 'देश में मंदी नहीं, बल्कि...' तो RJD ने ऐसे उड़ाया मजाक

    बिहार के डिप्टी CM सुशील कुमार मोदी ने कहा 'देश में मंदी नहीं, बल्कि...' तो RJD ने ऐसे उड़ाया मजाक

    झारखंड की राजधानी रांची में एक समाचार चैनल के एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने के दौरान सुशील ने कहा कि कोई (आर्थिक) मंदी नहीं है. मीडिया में ऑटोमोबाइल और अन्य क्षेत्रों के बारे में जो रिपोर्ट देखने को मिलती है, वास्तव में यह आद्योगिक घराना लॉबी द्वारा कर की दरों को कम करने के लिए सरकार पर दबाव बनाने की एक चाल है.

  • प्रियंका गांधी ने अर्थव्यस्था में सुस्ती को लेकर एक बार फिर मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा - आप अपनी जिम्मेदारी से...

    प्रियंका गांधी ने अर्थव्यस्था में सुस्ती को लेकर एक बार फिर मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा - आप अपनी जिम्मेदारी से...

    प्रियंका गांधी ने अपने ट्वीट के साथ एक खबर की साझा की है जिसमें महिंद्रा एंड महिंद्रा के संयंत्र में 17 दिनों तक किसी भी तरह का विनिर्माण नहीं होगा. ऐसे में कई और लोगों की छटनी होने की बात कही गई जा रही है.

  • अर्थव्यवस्था की मौजूदा हालत पर बोले केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, कठिन समय बीत जायेगा

    अर्थव्यवस्था की मौजूदा हालत पर बोले केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी,  कठिन समय बीत जायेगा

    केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने अर्थव्यवस्था में सुस्ती के दौर के बीच शनिवार को कहा कि उद्योगों को परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि मुश्किल समय गुजर जायेगा. गडकरी ने विदर्भ उद्योग संघ के 65वें स्थापना दिवस पर यहां कहा, ‘मुझे पता है कि उद्योग काफी कठिन दौर से गुजर रहे है.

  • वैश्विक आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक में भारत की ऊंची छलांग, 162 देशों की सूची में मिला 79वां स्थान

    वैश्विक आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक में भारत की ऊंची छलांग, 162 देशों की सूची में मिला 79वां स्थान

    अर्थव्यवस्था को लेकर चारों तरफ से आ रही नकारात्मक खबरों के बीच मोदी सरकार के लिए एक राहत की खबर आई है. व्यापार करने की सुगमता (ईज ऑफ डूईंग बिजनेस) रैंकिंग में बेहतर प्रदर्शन करने के बाद अब वैश्विक आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक में लंबी छलांग लगाते हुए भारत दुनिया के 162 देशों में 79वें क्रम पर पहुंच गया है. 

  • पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने मोदी सरकार पर बोला हमला,कहा- मंत्रियों के 'अटपटे' बयानों से अर्थव्यवस्था का कल्याण नहीं होगा

    पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने मोदी सरकार पर बोला हमला,कहा- मंत्रियों के 'अटपटे' बयानों से अर्थव्यवस्था का कल्याण नहीं होगा

    सिन्हा ने सवाल किया, 'अगर ओला-उबर जैसी कम्पनियों के चलते यात्री गाड़ियों की बिक्री में गिरावट आई, तो फिर दोपहिया वाहनों और ट्रकों की बिक्री में गिरावट क्यों आयी?' सिन्हा ने बीजेपी के दो अन्य मंत्रियों के बयानों का उल्लेख करते हुए तंज किया, 'बिहार के वित्त मंत्री (सुशील कुमार मोदी) कह रहे हैं कि सावन-भादो के चलते देश में मंदी का माहौल है.

  • TOP 5 NEWS: निर्मला सीतारमण ने निर्यात बढ़ाने पर दिया जोर, गृह मंत्री ने की हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने की अपील

    TOP 5 NEWS: निर्मला सीतारमण ने निर्यात बढ़ाने पर दिया जोर,  गृह मंत्री ने की हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने की अपील

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा, 'महंगाई की दर 4 फीसदी नीचे है. मुद्रास्फीति नियंत्रण में है. आज, हम कर-संबंधी सुधार उपायों, निर्यात और घर-खरीदारों पर विचार करेंगे.'

  • अर्थव्यवस्था में तेजी लाने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने किए कई ऐलान, निर्यात बढ़ाने पर दिया जोर

    अर्थव्यवस्था में तेजी लाने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने किए कई ऐलान, निर्यात बढ़ाने पर दिया जोर

    Nirmala Sitharaman Press Conference: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा, महंगाई की दर 4 फीसदी नीचे है. मुद्रास्फीति नियंत्रण में है. आज, हम कर-संबंधी सुधार उपायों, निर्यात और घर-खरीदारों पर विचार करेंगे.' सीतारमण का कहना है कि अर्थव्यवस्था के पुनरुद्धार का स्पष्ट संकेत है. सीतारमण ने कहा, 'हम रिएल एस्टेट के लिए कदम उठाएंगे. हमारा लक्ष्य अर्थव्यवस्था को बेहतर बनाना है. बैंकिंग क्षेत्र में असर दिख रहा है. 19 को बैंक अधिकारियों की बैठक है. हम निर्यात बढ़ाने के लिए कदम उठाएंगे.