Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

India s gdp


'India s gdp' - 11 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • Budget 2020: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट में क्या-क्या किया ऐलान, हिंदी में पढ़ें पूरा भाषण

    Budget 2020: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट में क्या-क्या किया ऐलान, हिंदी में पढ़ें पूरा भाषण

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने बजट (Budget 2020-21) भाषण में कई बड़े ऐलान किए. वित्त मंत्री ने टैक्‍स स्‍लैब में बड़े बदलाव का ऐलान किया. साथ ही बजट में जब वित्त मंत्री ने 2020-21 में GDP की अनुमानित विकास दर 10 फीसदी का अनुमान जताया तो संसद में हूटिंग जमकर हूटिंग भी हुई. बता दें कि बजट में एलआईसी, टैक्स पेयर चार्टर, नेशनल भर्ती एजेंसी, किसानों के कर्ज को लेकर, रेलवे, शिक्षा समेत तमाम योजनाओं पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कई बड़े ऐलान किए हैं. इसके लिए आप हिंदी पढ़ सकते हैं पूरा भाषण...

  • भारतीय अर्थव्यवस्था की रफ्तार और हो सकती है मंद, मूडीज ने विकास दर का अनुमान घटाया

    भारतीय अर्थव्यवस्था की रफ्तार और हो सकती है मंद, मूडीज ने विकास दर का अनुमान घटाया

    भारतीय अर्थव्यवस्था के और सुस्त होने का अंदेशा बढ़ता जा रहा है. सोमवार को अंतरराष्ट्रीय रेटिंग एजेंसी मूडीज ने 2019-20 के लिए भारत की जीडीपी विकास दर 5.8% से घटाकर 4.9% कर दी है.

  • मूडीज ने भारत की GDP वृद्धि दर का अनुमान घटाया, कहा- आर्थिक नरमी के असर दीर्घकालिक वाले हैं

    मूडीज ने भारत की GDP वृद्धि दर का अनुमान घटाया, कहा- आर्थिक नरमी के असर दीर्घकालिक वाले हैं

    मूडीज का कहना है कि भारतीय अर्थव्यवस्था नरमी से काफी प्रभावित है और इसके कुछ कारक दीर्घकालिक असर वाले हैं. रिजर्व बैंक ने भी हालिया मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक के बाद जीडीपी वृद्धि दर का अनुमान घटाकर 6.10 प्रतिशत कर दिया है. मूडीज ने एक रिपोर्ट में कहा कि नरमी का कारण निवेश में कमी है जो बाद में रोजगार सृजन में नरमी तथा ग्रामीण क्षेत्र में वित्तीय संकट के कारण उपभोग में भी प्रभावी हो गया.

  • अर्थव्यवस्था को मंदी से बचाने के लिए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के ये 12 फैसले क्या काफी हैं?

    अर्थव्यवस्था को मंदी से बचाने के लिए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के ये 12 फैसले क्या काफी हैं?

    देश की अर्थव्यवस्था को मंदी से बचाने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से कोशिशें जारी हैं. पिछले 2 महीने में वित्तमंत्री की ओर से देश को मंदी की ओर जाने से रोकने के लिए कई ऐलान किए गए हैं. आज हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कारपोरेट टैक्स घटाकर 30 फीसदी से 25.2 फीसदी कर दिया है. उनके इस ऐलान के बाद शेयर बाजार में तगड़ा उछाल आया और सेंसेक्स 1600 अंकों तक पहुंच गया है. गौरतलब है कि इस तिमाही में देश की विकास दर 5 फीसदी पर पहुंच गई है. इसके बाद से मोदी सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई. पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने इसे नोटबंदी और जल्दबाजी में लागू किए जीएसटी को वजह बताया. इसके साथ ही उन्होंने मोदी सरकार को कुछ कदम उठाने की सलाह दी. मंदी का सबसे कारण घरेलू बाजार में मांग की कमी है जिसमें ग्रामीण अर्थव्यवस्था सबसे ज्यादा प्रभावित है. इसका सबसे ज्यादा असर ऑटो सेक्टर पर दिखाई दे रहा है. वहीं मैन्यूफैक्चरिंग और कृषि के हालात भी ठीक नहीं है. सरकार इससे निपटने के लिए पिछले दो महीने में कई बड़े ऐलान कर चुकी है और कई फैसले भी वापस भी लिए हैं जो बजट के दौरान किए गए थे. हालांकि उसकी ओर से अंतरराष्ट्रीय बाजार में मंदी का असर भारत पर बताया जा रहा है. इससे पहले जो ऐलान किए गए थे उसका स्वागत भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (फिक्की) ने भी किया है और उम्मीद जताई कि इससे अर्थव्यवस्था में तेजी आएगी.

  • सांख्यिकी सचिव ने माना कि जीडीपी में गिरावट चिंताजनक

    सांख्यिकी सचिव ने माना कि जीडीपी में गिरावट चिंताजनक

    प्रधानमंत्री जब अपनी पहली कैबिनेट बैठक कर रहे थे, तभी सांख्यिकी मंत्रालय ने बताया कि विकास दर गिर गई है.आंकड़ों के मुताबिक ये पांच साल की सबसे कम विकास दर है.

  • चीन से पिछड़ा भारत, छिन गया रुतबा; जीडीपी विकास दर पांच साल के सबसे निचले स्तर पर

    चीन से पिछड़ा भारत, छिन गया रुतबा; जीडीपी विकास दर पांच साल के सबसे निचले स्तर पर

    भारत के सकल घरेलू उत्पाद (gross domestic product) यानी कि GDP में जनवरी से मार्च की अवधि में 5.8 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. शुक्रवार को जारी सरकारी आंकड़ों से यह जाहिर हुआ है. इसके साथ ही भारत चीन से पिछड़ गया. भारत ने डेढ़ साल में पहली बार दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था का रुतबा खो दिया. जबकि चीन आगे बढ़ गया. चीन की अर्थव्यवस्था ने मार्च तिमाही में 6.4 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की है.

  • वर्ल्ड बैंक ने भारत को बताया दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ रही बड़ी अर्थव्यवस्था, 2018-19 में 7.3% बढ़ेगी GDP

    वर्ल्ड बैंक ने भारत को बताया दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ रही बड़ी अर्थव्यवस्था, 2018-19 में 7.3% बढ़ेगी GDP

    विश्व बैंक के मुताबिक भारत की जीडीपी वीत्तीय वर्ष 2018-19 में 7.3 प्रतिशत की दर से बढ़ेगी.

  • रिपोर्ट में खुलासा: पूर्व PM मनमोहन सिंह के कार्यकाल में भारत ने हासिल की थी सर्वाधिक विकास दर

    रिपोर्ट में खुलासा: पूर्व PM मनमोहन सिंह के कार्यकाल में भारत ने हासिल की थी सर्वाधिक विकास दर

    देश की आर्थिक वृद्धि दर का आंकड़ा 2006-07 में 10.08 प्रतिशत रहा जो कि उदारीकरण शुरू होने के बाद का सर्वाधिक वृद्धि आंकड़ा है. यह आंकड़ा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल का है. आधिकारिक आंकड़ों में यह जानकारी दी गयी है. आजादी के बाद देखा जाए तो सर्वाधिक 10.2 प्रतिशत आर्थिक वृद्धि दर 1988-89 में रही। उस समय प्रधानमंत्री राजीव गांधी थे. 

  • बीएनपी ने भारत की जीडीपी का अनुमान घटाकर 3.7 प्रतिशत किया

    वित्तीय सेवा प्रदाता कंपनी बीएनपी परिबा ने चालू वित्त वर्ष के लिए भारत की जीडीपी वृद्धि दर का अनुमान बुधवार को घटाकर 3.7 प्रतिशत कर दिया। उसने कहा कि देश की ‘वृहद आर्थिक परिस्थितियां’ तेजी से संकट की तरफ बढ़ रही हैं।

  • अक्टूबर-दिसंबर में भारत की वृद्धि दर चीन से ज्यादा : एचएसबीसी

    दुनिया के उभरते बाजारों में आर्थिक वृद्धि की रफ्तार अक्टूबर से दिसंबर तिमाही में बेहतर रही। इस दौरान ब्रिक देशों में भारत की वृद्धि दर चीन से तेज रही। यह बात एचएसबीसी के सर्वेक्षण में कही गई।

  • मूडीज की भविष्यवाणी चिंता का विषय, लेकिन बुनियाद मजबूत : पीएम

    मूडीज की भविष्यवाणी चिंता का विषय, लेकिन बुनियाद मजबूत : पीएम

    मनमोहन ने कहा कि मूडीज द्वारा भारत की आर्थिक वृद्धि दर की भविष्यवाणी को कम करना चिंता की बात है, लेकिन उम्मीद जताई कि देश पिछले साल की 6.5 फीसदी की तुलना में बेहतर आर्थिक वृद्धि हासिल करेगा।

Advertisement