NDTV Khabar

Indias growth rate


'Indias growth rate' - 84 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • अर्थव्यवस्था को मंदी से बचाने के लिए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के ये 12 फैसले क्या काफी हैं?

    अर्थव्यवस्था को मंदी से बचाने के लिए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के ये 12 फैसले क्या काफी हैं?

    देश की अर्थव्यवस्था को मंदी से बचाने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से कोशिशें जारी हैं. पिछले 2 महीने में वित्तमंत्री की ओर से देश को मंदी की ओर जाने से रोकने के लिए कई ऐलान किए गए हैं. आज हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कारपोरेट टैक्स घटाकर 30 फीसदी से 25.2 फीसदी कर दिया है. उनके इस ऐलान के बाद शेयर बाजार में तगड़ा उछाल आया और सेंसेक्स 1600 अंकों तक पहुंच गया है. गौरतलब है कि इस तिमाही में देश की विकास दर 5 फीसदी पर पहुंच गई है. इसके बाद से मोदी सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई. पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने इसे नोटबंदी और जल्दबाजी में लागू किए जीएसटी को वजह बताया. इसके साथ ही उन्होंने मोदी सरकार को कुछ कदम उठाने की सलाह दी. मंदी का सबसे कारण घरेलू बाजार में मांग की कमी है जिसमें ग्रामीण अर्थव्यवस्था सबसे ज्यादा प्रभावित है. इसका सबसे ज्यादा असर ऑटो सेक्टर पर दिखाई दे रहा है. वहीं मैन्यूफैक्चरिंग और कृषि के हालात भी ठीक नहीं है. सरकार इससे निपटने के लिए पिछले दो महीने में कई बड़े ऐलान कर चुकी है और कई फैसले भी वापस भी लिए हैं जो बजट के दौरान किए गए थे. हालांकि उसकी ओर से अंतरराष्ट्रीय बाजार में मंदी का असर भारत पर बताया जा रहा है. इससे पहले जो ऐलान किए गए थे उसका स्वागत भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (फिक्की) ने भी किया है और उम्मीद जताई कि इससे अर्थव्यवस्था में तेजी आएगी.

  • भारतीय रिजर्व बैंक ने रेपो रेट 0.35 प्रतिशत घटाई, लगातार चौथी बार घटी रेपो रेट

    भारतीय रिजर्व बैंक ने रेपो रेट 0.35 प्रतिशत घटाई, लगातार चौथी बार घटी रेपो रेट

    इस कटौती के बाद रेपो दर 5.40 प्रतिशत रह गयी है. रिजर्व बैंक की ओर से रेपो रेट में इस कटौती के बाद बैंकों पर कर्ज और सस्ता करने का दबाव बढ़ गया है.

  • TOP 5 NEWS : देश की आर्थिक वृद्धि दर सात फीसदी रहने का अनुमान, राहुल गांधी को जमानत

    TOP 5 NEWS : देश की आर्थिक वृद्धि दर सात फीसदी रहने का अनुमान, राहुल गांधी को जमानत

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को आर्थिक सर्वे को ऊपरी सदन राज्यसभा में पेश किया. आर्थिक सर्वेक्षण में वर्ष 2019-20 के लिए वास्तविक आर्थिक वृद्धि दर सात फीसदी रहने का अनुमान लगाया गया है. महाराष्ट्र में एक विधायक ने इंजीनियर पर कीचड़ फेंका और फिर उसे नदी के ऊपर पुल पर बांध दिया. इसका वीडियो वायरल हो गया है.

  • भारत की आर्थिक वृद्धि दर को लेकर विश्वबैंक ने लगाया पूर्वानुमान, कही ये खास बातें

    भारत की आर्थिक वृद्धि दर को लेकर विश्वबैंक ने लगाया पूर्वानुमान, कही ये खास बातें

    विश्वबैंक ने यह पूर्वानुमान व्यक्त किया है. विश्वबैंक ने मंगलवार को जारी अपने वैश्विक आर्थिक परिदृश्य में कहा कि वित्त वर्ष 2018-19 में भारत के 7.20 प्रतिशत की दर से वृद्धि करने का अनुमान है.

  • नीतीश कुमार ने क्‍यों कहा कि हम पिछड़ा ही रहना चाहते हैं...

    नीतीश कुमार ने क्‍यों कहा कि हम पिछड़ा ही रहना चाहते हैं...

    बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि हाल में जो विकास दर का आंकड़ा आया है उससे एक बार फिर साबित हुआ है कि विकास दर के मामले में बिहार अव्वल है.

  • ऊंची आर्थिक वृद्धि दर के बाद भी रोजगार सृजन में राष्ट्रीय औसत से पीछे रहे 12 बड़े राज्य: रिपोर्ट

    ऊंची आर्थिक वृद्धि दर के बाद भी रोजगार सृजन में राष्ट्रीय औसत से पीछे रहे 12 बड़े राज्य: रिपोर्ट

    एक रिपोर्ट के अनुसार इन राज्यों की जीडीपी में वृद्धि मुख्यत: ऐसे क्षेत्रों में हुई है जिनमें रोजगार के कम अवसर होते हैं. क्रिसिल की यह रिपोर्ट ऐसे समय में आयी है जब सेंटर फोर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी ने सिर्फ 2018 में ही 1.10 करोड़ नौकरियां समाप्त होने की बात कही है.

  • रवीश कुमार का BLOG: पकौड़े के पीछे नौकरी के सवाल से भागती मोदी सरकार

    रवीश कुमार का BLOG: पकौड़े के पीछे नौकरी के सवाल से भागती मोदी सरकार

    अगस्त 2018 से जनवरी 2019 आ गया लेकिन इस रिपोर्ट का कुछ पता नहीं है. 25 दिसंबर को बिजनेस स्टैंडर्ड में वित्त मंत्री अरुण जेटली का इंटरव्यू छपता है. इस इंटरव्यू में सवाल पूछा जाता है कि क्या आप मौजूदा 7.5 प्रति वर्ष की विकास दर से संतुष्ट हैं, इसी से जुड़ा सवाल है नौकरियों को लेकर. जवाब में वित्त मंत्री कहते हैं, 'मैं मानता हूं कि जब अर्थव्यवस्था लगातार विस्तार कर रही हो, यहां तक कि 7.5 प्रतिशत की दर से, नौकरियों में वृद्धि तो होनी ही है.

  • इस साल GDP ग्रोथ रेट 7.2 प्रतिशत रहने का अनुमान, पिछले साल 6.7 फीसदी की थी रफ्तार

    इस साल GDP ग्रोथ रेट 7.2 प्रतिशत रहने का अनुमान, पिछले साल 6.7 फीसदी की थी रफ्तार

    केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) ने सोमवार को यह कहा है. इससे पिछले वित्त वर्ष में आर्थिक वृद्धि दर 6.7 प्रतिशत रही थी.

  • अब नए आंकड़े, एनडीए के पहले चार साल में विकास की रफ्तार यूपीए के दौर से ज़्यादा रहने का दावा

    अब नए आंकड़े, एनडीए के पहले चार साल में विकास की रफ्तार यूपीए के दौर से ज़्यादा रहने का दावा

    नोटबंदी के असर को लेकर कृषि मंत्रालय के यू टर्न के बाद भारत सरकार का एक और यू टर्न दिख रहा है. सरकार ने अगस्त में जारी आंकड़ों को ख़ारिज कर दिया और नए आंकड़े देकर बताया कि 2014 से 2018 के बीच एनडीए के पहले चार साल में विकास की रफ़्तार यूपीए के दौर से ज़्यादा रही है.

  • रघुराम राजन बोले- नोटबंदी और GST से भारत की आर्थिक वृद्धि को लगे झटके, मौजूदा ग्रोथ रेट पर्याप्त नहीं

    रघुराम राजन बोले- नोटबंदी और GST से भारत की आर्थिक वृद्धि को लगे झटके, मौजूदा ग्रोथ रेट पर्याप्त नहीं

    उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि सात प्रतिशत की मौजूदा वृद्धि दर देश की जरूरतों के हिसाब से पर्याप्त नहीं है.

  • मनमोहन सिंह सरकार में ज़्यादा थी विकास दर, मोदी सरकार ने फजीहत के बाद हटाया डाटा

    मनमोहन सिंह सरकार में ज़्यादा थी विकास दर, मोदी सरकार ने फजीहत के बाद हटाया डाटा

    एक आधिकारिक रिपोर्ट के मुताबिक, मनमोहन सिंह के कार्यकाल के दौरान भारत ने सर्वाधिक विकास दर हासिल की थी, जिसे सरकार की वेबसाइट पर जारी किया गया. मगर अब फजीहत की वजह से केंद्रीय सांख्यिकी एवं कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय की वेबसाइट से इसे हटा लिया गया है. देश के सकल आर्थिक उत्पाद (जीडीपी) की पीछे की श्रृंखला के आंकड़ों को लेकर उठे विवाद के बीच केंद्रीय सांख्यिकी एवं कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि ‘ये पक्के अनुमान नहीं है’ तथा आधिकारिक आंकड़े बाद में जारी किए जाएंगे. 

  • इस वित्त वर्ष में 7.5 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि की राह पर लौटेगा भारत : अरविंद विरमानी

    इस वित्त वर्ष में 7.5 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि की राह पर लौटेगा भारत : अरविंद विरमानी

    देश की आर्थिक वृद्धि दर सुधार की राह पर है. चालू वित्त वर्ष में इसके 7.5 प्रतिशत से अधिक रहने की उम्मीद है. पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद विरमानी ने आज यह बात कही. विरमानी ने कहा कि अमेरिका चीन के बीच शुल्कों को लेकर छिड़े युद्ध से भारत के पास अमेरिका को अपना निर्यात बढ़ाने का मौका है. 

  • रिपोर्ट में खुलासा: पूर्व PM मनमोहन सिंह के कार्यकाल में भारत ने हासिल की थी सर्वाधिक विकास दर

    रिपोर्ट में खुलासा: पूर्व PM मनमोहन सिंह के कार्यकाल में भारत ने हासिल की थी सर्वाधिक विकास दर

    देश की आर्थिक वृद्धि दर का आंकड़ा 2006-07 में 10.08 प्रतिशत रहा जो कि उदारीकरण शुरू होने के बाद का सर्वाधिक वृद्धि आंकड़ा है. यह आंकड़ा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल का है. आधिकारिक आंकड़ों में यह जानकारी दी गयी है. आजादी के बाद देखा जाए तो सर्वाधिक 10.2 प्रतिशत आर्थिक वृद्धि दर 1988-89 में रही। उस समय प्रधानमंत्री राजीव गांधी थे. 

  • भारत की वृद्धि दर भविष्य में तेज बनी रहेगी : IMF

    भारत की वृद्धि दर भविष्य में तेज बनी रहेगी : IMF

    कच्चे तेल की ऊंची कीमतों और कड़ी मौद्रिक नीति के चलते 2018-19 में भारत की वृद्धि दर के अपने पहले के पूर्वानुमान को हल्का कम करने के बावजूद अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने कहा है कि भारत की वृद्धि दर भविष्य में काफी मजबूत रहेगी. आईएमएफ ने सोमवार को 2018 में भारत की वृद्धि दर 7.3% रहने और 2019 में 7.5% रहने का अनुमान जताया जो उसके अप्रैल में जताए गए अनुमान से क्रमश : 0.1% और 0.3% कम है. 

  • भारत की विकास दर 2018-19 में 7.3 फीसदी रहने का अनुमान : विश्व बैंक

    भारत की विकास दर 2018-19 में 7.3 फीसदी रहने का अनुमान : विश्व बैंक

    विश्व बैंक का अनुमान है कि भारत विश्व की सबसे तेज गति से बढ़ रही अर्थव्यवस्था के रूप में अपनी स्थिति को कायम रख सकता है. विश्व बैंक का कहना है कि इस वित्त वर्ष भारत की विकास दर 7.3 फीसदी जबकि यह अगले दो वर्षो में 7.5 फीसदी रह सकती है.

  • भारत की विकास दर 2018-19 में 7.3-7.7 फीसदी रहने का अनुमान : सीआईआई

    भारत की विकास दर 2018-19 में 7.3-7.7 फीसदी रहने का अनुमान : सीआईआई

    भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई CII) ने सोमवार को कहा कि निरंतर संस्थागत सुधारों की वजह से देश की अर्थव्यवस्था 2018-2019 में 7.3-7.7 फीसदी की दर से बढ़ने का अनुमान है. वैश्विक बाजारों के संभलने और सामान्य मानसून की वजह से भी घरेलू अर्थव्यवस्था को बल मिलेगा.

  • देश की जीडीपी 2017-18 की चौथी तिमाही में 7.4% पर पहुंचने की उम्मीद: इक्रा

    देश की जीडीपी 2017-18 की चौथी तिमाही में 7.4% पर पहुंचने की उम्मीद: इक्रा

    कंपनियों के बेहतर लाभ और रबी की अच्छी फसल से 2017-18 की जनवरी - मार्च तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि सुधरकर 7.4 प्रतिशत रहने की उम्मीद है , जो कि तीसरी तिमाही के 7.2 प्रतिशत से अधिक है. रेटिंग एजेंसी इक्रा ने यह अनुमान जताया. केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) 2017-18 की चौथी तिमाही के लिए जीडीपी अनुमान और वित्त वर्ष 2017-18 के लिए अस्थायी वार्षिक अनुमान 31 मई को जारी करेगा. 

  • RBI ने CSO पर उठाए सवाल, कहा - जीडीपी वृद्धि का अग्रिम आकलन कम किया

    RBI ने CSO पर उठाए सवाल, कहा - जीडीपी वृद्धि का अग्रिम आकलन कम किया

    केन्द्रीय साख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) ने पिछले 14 साल में से 12 सालों के दौरान सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का अग्रिम अनुमान उस साल की वास्तविक वृद्धि दर के मुकाबले कम लगाया. केवल दो साल ही इस तरह का मौका आया जब अग्रिम अनुमान वर्ष की जीडीपी वृद्धि दर से ज्यादा रहा. रिजर्व बैंक के एक शोध पत्र में यह कहा गया है.

Advertisement