NDTV Khabar

Indo china war 1962


'Indo china war 1962' - 5 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • Birthday Special: चीन से हार के बाद जवाहरलाल नेहरू ने क्या कहा था?

    Birthday Special: चीन से हार के बाद जवाहरलाल नेहरू ने क्या कहा था?

    जब जवाहरलाल नेहरू (Jawaharlal Nehru) ने बोलना शुरू किया तो करीब डेढ़ घंटे बोलते रहे. प्रेस कांफ्रेंस में चीनी प्रधानमंत्री के प्रति उन्होंने अपनी भड़ास जमकर निकाली'. हार पर नेहरू ने कहा, 'चीन एक सैनिक मानसिकता का राष्ट्र है जो हमेशा सैन्य साजो-सामान को मजबूत करने पर जोर देता है....यह उनके अतीत के गृहयुद्ध की ही एक निरंतरता है. इसलिये आमतौर पर वे मजबूत स्थिति में हैं'. नेहरू ने अपनी प्रेस कांफ्रेंस में विपक्षी नेताओ पर भी निशाना साधा और यहां तक कह डाला कि 'हमारे विपक्षी नेताओं की आदत है कि वे बिना किसी सिद्धांत के हर किसी से गठजोड़ कर लेते हैं. ऐसा भी हो सकता है कि वे चीनियों से गठजोड़ कर लें'.

  • VIDEO: रिलीज हुआ 'सूबेदार जोगिंदर सिंह' का टीजर, इस पंजाबी एक्टर ने निभाया रोल

    VIDEO: रिलीज हुआ 'सूबेदार जोगिंदर सिंह' का टीजर, इस पंजाबी एक्टर ने निभाया रोल

    फिल्म में मरणोपरांत सर्वोच्च सैनिक सम्मान परमवीर चक्र से सम्मानित सूबेदार जोगिंदर सिंह की शौर्य गाथा बड़े पर्दे पर दिखाई जाएगी.

  • 1962 की हार के लिए नेहरू सरकार की नीति जिम्मेदार : रिपोर्ट

    1962 की हार के लिए नेहरू सरकार की नीति जिम्मेदार : रिपोर्ट

    1962 में भारत और चीन के बीच हुई लड़ाई में भारत की हार की जांच करने वाली कमेटी ने जवाहर लाल नेहरू को जिम्मेदार ठहराया था। जवाहरलाल नेहरू उस वक्त भारत के प्रधानमंत्री थे। इस बात का खुलासा एक ऑस्ट्रेलियाई पत्रकार नैविल मैक्सवेल ने किया है।

  • दोहराया नहीं जा सकता 1962 का युद्ध : सेना प्रमुख

    दोहराया नहीं जा सकता 1962 का युद्ध : सेना प्रमुख

    सेना प्रमुख जनरल बिक्रम सिंह ने बुधवार को कहा कि चीन के साथ 1962 में हुआ युद्ध दोहराया नहीं जा सकता। इस युद्ध में भारत को पराजय का सामना करना पड़ा था।

  • भारत पर आक्रमण अमेरिकी, रूस को सबक सिखाना था : चीनी अखबार

    भारत पर आक्रमण अमेरिकी, रूस को सबक सिखाना था : चीनी अखबार

    सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के अखबार ने लिखा है कि वर्ष 1962 का युद्ध पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को एक झटका देकर अमेरिका और पूर्व सोवियत संघ के प्रभाव से जगाने के लिए था।