NDTV Khabar

Inflation


'Inflation' - 353 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी का मोदी सरकार पर हमला- Tweet कर पूछा इस सवाल का जवाब...

    AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी का मोदी सरकार पर हमला- Tweet कर पूछा इस सवाल का जवाब...

    AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने एक बार फिर केंद्र की मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा.

  • अप्रैल के महीने में खुदरा महंगाई की दर 3.07 प्रतिशत रही

    अप्रैल के महीने में खुदरा महंगाई की दर 3.07 प्रतिशत रही

    अप्रैल के महीने में खुदरा महंगाई की दर 3.07 प्रतिशत रही है जो कि मार्च के महीने में तीन माह के उच्चतम स्तर  पर पहुंच गई 3.18 प्रतिशत से कम है. यह आंकड़े मंगलवार को सरकार की ओर से जारी किए गए हैं. वहीं सोमवार को आए एक और आंकड़े बताते हैं कि खुदरा महंगाई दर पिछले महीने बढ़कर 2.92 प्रतिशत बढ़ गई है.आंकड़ों से एक बार फिर उम्मीद बढ़ी है कि रिजर्व बैंक अगली मौद्रिक नीति में ब्याज दरें घटा सकती है.  

  • थोक महंगाई फरवरी में 2.9 फीसदी बढ़ी

    थोक महंगाई फरवरी में 2.9 फीसदी बढ़ी

    देश में थोक मूल्य आधारित सालाना महंगाई दर इस साल फरवरी में 2.93 फीसदी दर्ज की गई, जबकि पिछले साल के फरवरी महीने में थोक महंगाई दर 2.74 फीसदी रही थी. थोक मूल्य आधारित मुद्रा स्फीति दर के आंकड़े गुरुवार को जारी किए गए. वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय द्वारा प्रस्तुत थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) आधारित महंगाई इस साल फरवरी में पिछले महीने जनवरी से भी अधिक दर्ज की गई है.

  • खाद्य वस्तुओं के दाम बढ़ने से फरवरी में खुदरा मुद्रास्फीति बढ़कर 2.57 प्रतिशत पर पहुंची

    खाद्य वस्तुओं के दाम बढ़ने से फरवरी में खुदरा मुद्रास्फीति बढ़कर 2.57 प्रतिशत पर पहुंची

    उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति की दर इससे पहले जनवरी में 1.97 प्रतिशत तथा एक साल पहले फरवरी में 4.44 प्रतिशत पर रही थी

  • तेल की कीमतों घटने का असर, दिसंबर में खुदरा और थोक महंगाई की दर में गिरावट

    तेल की कीमतों घटने का असर, दिसंबर में खुदरा और थोक महंगाई की दर में गिरावट

    ईंधन कीमतों में कमी की वजह से थोक कीमतों पर आधारित देश की सालाना महंगाई दर दिसंबर में घटकर 3.80 फीसदी रही है. यह नवंबर में 4.64 फीसदी थी. आधिकारिक आंकड़ों में सोमवार को यह जानकारी दी गई है.

  • थोक कीमतों पर आधारित देश की सालाना महंगाई दर नवंबर में घटकर 4.64 फीसदी

    थोक कीमतों पर आधारित देश की सालाना महंगाई दर नवंबर में घटकर 4.64 फीसदी

    थोक कीमतों पर आधारित देश की सालाना महंगाई दर नवंबर में घटकर 4.64 फीसदी रही है. यह अक्टूबर में 5.28 फीसदी थी. आधिकारिक आंकड़ों में शुक्रवार को यह जानकारी दी गई.

  • चार महीने के उच्च स्तर पर पहुंची थोक महंगाई, दरें यथावत रख सकता है रिजर्व बैंक

    चार महीने के उच्च स्तर पर पहुंची थोक महंगाई, दरें यथावत रख सकता है रिजर्व बैंक

     थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति अक्टूबर महीने में बढ़कर चार माह के उच्च स्तर 5.28 प्रतिशत पर पहुंच गई. हालांकि कच्चा तेल के नरम पड़ने तथा रुपये की स्थिरता लौटने के कारण रिजर्व बैंक अगली मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक में दरें यथावत रख सकता है.

  • अक्तूबर में खुदरा मुद्रास्फीति घटकर एक साल के निचले स्तर 3.31 प्रतिशत पर

    अक्तूबर में खुदरा मुद्रास्फीति घटकर एक साल के निचले स्तर 3.31 प्रतिशत पर

    उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति सितंबर, 2018 में 3.7 प्रतिशत पर और अक्तूबर, 2017 में 3.58 प्रतिशत पर थी.

  • सितंबर में बढ़ी थोक महंगाई दर, दो महीने के उच्च स्तर पर पहुंची

    सितंबर में बढ़ी थोक महंगाई दर, दो महीने के उच्च स्तर पर पहुंची

    डब्ल्यूपीआई आधारित मुद्रास्फीति अगस्त में 4.53 प्रतिशत तथा पिछले साल सितंबर में 3.14 प्रतिशत थी.

  • खुदरा मुद्रास्फीति बढ़कर 3.77 प्रतिशत हुई, औद्योगिक उत्पादन तीन माह के निचले स्तर पर

    खुदरा मुद्रास्फीति बढ़कर 3.77 प्रतिशत हुई, औद्योगिक उत्पादन तीन माह के निचले स्तर पर

    दूसरी तरफ ईंधन एवं खाद्य कीमतें बढ़ने से सितंबर महीने की खुदरा मुद्रास्फीति बढ़कर 3.77 प्रतिशत पर पहुंच गयी. इससे निकट भविष्य में रिजर्व बैंक द्वारा नीतिगत दरें बढ़ाने की संभावनाएं बढ़ गई हैं.

  • कहां खो गए वो धरना प्रदर्शन

    कहां खो गए वो धरना प्रदर्शन

    राम नाम सत्य है... राम का नाम तब भी सत्य था अब भी सत्य है मगर जो साल था तब भी झूठ था अब भी झूठ है. वो 2013 का साल था. अजीब साल था वह. किसी भूत की तरह श्मशान से निकल आता है. सिलेंडर की अरथी निकली थी. दाम 600 के आस पास था. अब उसी सिलेंडर का दाम 833 रुपया हो चुका है, मगर शवयात्रा निकालने वाले गायब हैं. दरअसल वो अरथी का अर्थ समझ चुके हैं. वो जानते हैं कि राजनीति झूठी है, राम का नाम सत्य है.

  • नोटबंदी के समय उल्लू बने लोग हाज़िर हों, 99.3 पैसा बैंक में आ गया है

    नोटबंदी के समय उल्लू बने लोग हाज़िर हों, 99.3 पैसा बैंक में आ गया है

    कल्पना कीजिए, आज रात आठ बजे प्रधानमंत्री मोदी टीवी पर आते हैं और नोटबंदी के बारे में रिज़र्व बैंक की रिपोर्ट पढ़ने लगते हैं. फिर थोड़ा रूक कर वे 8 नवंबर 2016 का अपना भाषण चलाते हैं, फिर से सुनिए मैंने क्या क्या कहा, उसके बाद रिपोर्ट पढ़ते हैं. आप देखेंगे कि प्रधानमंत्री का गला सूखने लगता है. वे खांसने लगते हैं और लाइव टेलिकास्ट रोक दिया जाता है. वैसे कभी उनसे पूछिएगा कि आप अपने उस ऐतिहासिक कदम के बारे में क्यों नहीं बात करते हैं?

  • इस वित्त वर्ष में औसत मुद्रास्फीति 4.4 प्रतिशत रहने का अनुमान: रिपोर्ट

    इस वित्त वर्ष में औसत मुद्रास्फीति 4.4 प्रतिशत रहने का अनुमान: रिपोर्ट

    कोटक इकोनॉमिक रिसर्च की रिपोर्ट में यह कहा गया है. कोटक इकोनॉमिक रिसर्च के मुताबिक, उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित मुद्रास्फीति के वर्ष के दौरान 5 प्रतिशत के स्तर से नीचे रहने का अनुमान है लेकिन घरेलू और वैश्विक मोर्च पर जारी अनिश्चिततायें इसे बढ़ा सकती हैं.

  • खुदरा महंगाई जुलाई में घटकर 9 महीने के निचले स्तर 4.17 प्रतिशत पर, खाने-पीने की चीजों के दाम घटे

    खुदरा महंगाई जुलाई में घटकर 9 महीने के निचले स्तर 4.17 प्रतिशत पर, खाने-पीने की चीजों के दाम घटे

    सब्जियों और फलों की कीमतों में गिरावट से जुलाई में खुदरा मुद्रास्फीति घटकर 4.17 प्रतिशत रह गई, जो इसका पिछले नौ महीने का निचला स्तर है. सरकार द्वारा जारी आंकड़ों से यह जानकारी मिली है. केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार जून महीने की उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित (सीपीआई) मुद्रास्फीति को भी नीचे की ओर संशोधित कर 4.92 प्रतिशत कर दिया गया है.

  • पूर्व वित्त मंत्री पी.चिदंबरम ने कहा- लगता है अच्छे दिन आने वाले हैं!

    पूर्व वित्त मंत्री पी.चिदंबरम ने कहा-  लगता है अच्छे दिन आने वाले हैं!

    कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्तमंत्री पी.चिदंबरम ने खुदरा महंगाई दर बढ़ने और औद्योगिक उत्पादन में आई गिरावट को लेकर आज सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि लगता है कि अच्छे दिन आने वाले हैं. उन्होंने निवर्तमान मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम के एक बयान का हवाला दिया और कहा कि नोटबंदी से अर्थव्यवस्था को होने वाले नुकसान संबंधी कांग्रेस नेताओं का अनुमान सच साबित हुआ है. 

  • खुदरा महंगाई दर बढ़ने पर चिदंबरम का तंज: अच्छे दिन आने वाले हैं

    खुदरा महंगाई दर बढ़ने पर चिदंबरम का तंज: अच्छे दिन आने वाले हैं

    कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने खुदरा महंगाई दर बढ़ने और औद्योगिक उत्पादन में आई गिरावट को लेकर आज सरकार पर तंज करते हुए कहा कि लगता है कि अच्छे दिन आने वाले हैं. उन्होंने निवर्तमान मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम के एक बयान का हवाला दिया और कहा कि नोटबंदी से अर्थव्यवस्था को होने वाले नुकसान संबंधी कांग्रेस नेताओं का अनुमान सच साबित हुआ है. 

  • जून में खुदरा महंगाई 5 फीसदी बढ़ी, मई में औद्योगिक उत्पादन गिरा

    जून में खुदरा महंगाई 5 फीसदी बढ़ी, मई में औद्योगिक उत्पादन गिरा

    देश में खुदरा मुद्रास्फीति जून में बढ़कर 5 फीसदी रही, जोकि मई में 4.87 फीसदी थी. वहीं, औद्योगिक उत्पादन मई में पिछले साल की समान अवधि की तुलना में बढ़कर जबकि पिछले महीने की तुलना में घटकर 3.2 फीसदी रहा. पिछले महीने औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर 4.9 फीसदी थी. आधिकारिक आंकड़ों से गुरुवार को यह जानकारी मिली. 

  • जीडीपी, खुदरा मुद्रास्फीति की गणना के आधार वर्ष को बदलेगी सरकार

    जीडीपी, खुदरा मुद्रास्फीति की गणना के आधार वर्ष को बदलेगी सरकार

    सरकार सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) और खुदरा मुद्रास्फीति की गणना के लिए आधार वर्ष को बदलकर क्रमश : 2017-18 और 2018 करेगी. यह व्यवस्था 2019-20 से प्रभाव में आएगी. सांख्यिकी एवं कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्री सदानंद गौड़ा ने  यह जानकारी दी.