NDTV Khabar

Kairana lok sabha bypolls


'Kairana lok sabha bypolls' - 5 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • कैराना उपचुनाव: इस लोकसभा में उत्तर प्रदेश से आने वालीं पहली मुस्लिम सांसद बनीं तबस्सुम हसन

    कैराना उपचुनाव: इस लोकसभा में उत्तर प्रदेश से आने वालीं पहली मुस्लिम सांसद बनीं तबस्सुम हसन

    उत्तर प्रदेश की कैराना लोकसभा सीट के उपचुनाव में जीत के साथ राष्ट्रीय लोकदल (रालोद)-समाजवादी पार्टी (सपा) गठबंधन की प्रत्याशी तबस्सुम हसन 16वीं लोकसभा में इस राज्य से पहली मुस्लिम सांसद बन गयीं.    गोरखपुर और फूलपुर जैसी प्रतिष्ठापूर्ण सीटों पर हाल में हुए उपचुनाव में सपा के हाथों मिली पराजय के बाद हुए कैराना लोकसभा और नूरपुर विधानसभा सीटों के उपचुनाव में भी सत्तारुढ़ भाजपा को झटका लगा है. मुस्लिम और दलित बहुल कैराना सीट पर रालोद-सपा गठबंधन की प्रत्याशी तबस्सुम ने अपनी निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा की मृगांका सिंह को 44618 मतों से पराजित किया.

  • उपचुनाव में 2 सीटें गंवाने के बाद जानिये अब लोकसभा में BJP की क्या है स्थिति ?

    उपचुनाव में 2 सीटें गंवाने के बाद जानिये अब लोकसभा में BJP की क्या है स्थिति ?

    भारतीय जनता पार्टी ने 282 सीटों के साथ 2014 के आम चुनावों में अपने बूते पूर्ण बहुमत जीता था, लेकिन पिछले चार सालों में अब तक हुए उपचुनावों में पार्टी 9 सीट हार चुकी है. गुरुवार को पार्टी दो लोकसभा सीटें हारी, जबकि एक पर जीत हासिल की. इस तरह अब कुल मिलाकर पार्टी के पास लोकसभा में 273 की संख्या है.

  • लोकसभा उपचुनाव: कैराना बना जातियों का अखाड़ा, सभी पार्टियों ने झोंकी पूरी ताकत

    लोकसभा उपचुनाव: कैराना बना जातियों का अखाड़ा, सभी पार्टियों ने झोंकी पूरी ताकत

    कर्नाटक की हार के बाद कैराना का उपचुनाव बीजेपी के लिए और भी अहम हो गया है. सीएम योगी आदित्यनाथ ने खुद यहां चुनावी रैली की और कमान को संभाल लिया है. उधर सपा-बसपा और राष्ट्रीय लोकदल का गठबंधन भी इस उपचुनाव में पूरी ताकत झोंके हुए हैं. 63 साल के बीएसपी कार्यकरत्ता राजेंद्र पाल सिहं, जो खुद को साझा विपक्ष का स्टार कैंपेनर बताते हैं, उनका कहना है कि चुनाव में 75 फीसदी वोट हैंड पंप को मिलेगा. 

  • जयंत चौधरी बोले- गोरखपुर की तरह होगा कैरान का नतीजा, SP के साथ 2019 में भी गठबंधन

    जयंत चौधरी बोले- गोरखपुर की तरह होगा कैरान का नतीजा, SP के साथ 2019 में भी गठबंधन

    उत्तर प्रदेश में भाजपा के खिलाफ बना विपक्षी गठबंधन और मज़बूत हो रहा है. कैराना लोकसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव के मद्देनजर राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी) के उपाध्यक्ष जयन्त चौधरी और समाजवादी पार्टी (एसपी) अध्यक्ष अखिलेश यादव की मुलाकात ने एक नई कहानी शुरू कर दी है. राष्ट्रीय लोक दल के उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने कहा कि कैराना उपचुनाव का नतीजा गोरखपुर और फुलपुर की तरह ही होगा. 

  • कैराना उपचुनाव के लिए अधिसूचना जारी, नामांकन की आखिरी तारीख 10 मई

    कैराना उपचुनाव के लिए अधिसूचना जारी, नामांकन की आखिरी तारीख 10 मई

    उत्तर प्रदेश में कैराना लोकसभा उपचुनाव के लिए जिला प्रशासन ने गुरुवार को अधिसूचना जारी कर दी. जिला चुनाव अधिकारी इंदर विक्रम सिंह ने बताया कि उपचुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख 10 मई है. उन्होंने बताया, '11 मई को नामांकन पत्रों की जांच की जाएगी, जबकि नाम वापस लेने की अंतिम तारीख 14 मई है.' 

Advertisement