NDTV Khabar

Kamlesh tiwari murder cctv


'Kamlesh tiwari murder cctv' - 3 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • कमलेश तिवारी के बेटे ने कहा, जो लोग पकड़े गए हैं अगर उनके खिलाफ कोई सबूत हैं तो जांच NIA करे, मुझे इस प्रशासन पर विश्वास नहीं

    कमलेश तिवारी के बेटे ने कहा, जो लोग पकड़े गए हैं अगर उनके खिलाफ कोई सबूत हैं तो जांच NIA करे, मुझे इस प्रशासन पर विश्वास नहीं

    हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की हत्या में हुई गिरफ्तारी पर उनके बेटे सत्यम तिवारी ने कहा है कि उन्हें नहीं पता है कि जो लोग पकड़े गए हैं उन्हीं लोगों ने पिता को मारा है या निर्दोष लोगों को फंसाया जा रहा है. मृतक के बेटे ने कहा कि अगर यही लोग असली दोषी हैं और इनके खिलाफ कोई वीडियो सबूत है तो इसकी जांच एनआईए (NIA) को करनी चाहिए.  सत्यम ने आगे कहा कि अगर उनकी जांच में यह साबित हो जाता है तभी वह लोग संतुष्ट होंगे. उन्होंने आगे कहा, 'मुझे इस प्रशासन पर कोई विश्वास नहीं है'. 

  • कमलेश तिवारी को पहले गोली मारी, फिर गला रेता, पास में मिला गुजरात की दुकान का एक डिब्बा

    कमलेश तिवारी को पहले गोली मारी, फिर गला रेता, पास में मिला गुजरात की दुकान का एक डिब्बा

    लखनऊ में हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी हत्याकांड मामले में कुछ सुराग हाथ लगे हैं. मिली जानकारी के मुताबिक हत्यारे भगवा कपड़े पहने हुए थे और मिठाई के डिब्बे में हाथ में थे जिसमें पिस्टल और चाकू छिपा रखा था. पुलिस को मौके से .32 बोर की पिस्टल, कारतूस का खोखा मिला है.

  • लखनऊ में हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की हत्या करने वाले संदिग्धों का CCTV फुटेज आया सामने

    लखनऊ में हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की हत्या करने वाले संदिग्धों का CCTV फुटेज आया सामने

    अखिल भारत हिन्दू महासभा के खुद को अध्यक्ष बताने वाले कमलेश तिवारी की उनके घर में ही शुक्रवार को हत्या कर दी गई है. इस घटना को अंजाम देने वाले तीन संदिग्धों को CCTV फुटेज में साफ देखा जा सकता है. घटना के बारे में मिली जानकारी के मुताबिक सुबह दो लोग कमलेश तिवारी से मिलने आए थे. जिन्हें तिवारी ने भीतर बुलाया. फिर अपने साथी से कहा कि सिगरेट लेकर आएं. जब वह लौटा तो कमलेश तिवारी की हत्या हो चुकी थी. घर से एक पिस्तौल बरामद हुआ है. अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है. आपको बता दें कि कमलेश तिवारी का संबंध कई तरह के विवादों से रहा है लेकिन पुलिस का कहना है कि आपसी रंज़िश में उनकी हत्या हुई है. ये लोग दिवाली की मिठाई देने के बहाने आए थे. डिब्बे में हथियार थे. पुलिस ने हत्यारों को पकड़ने के लिए एसआईटी का गठन किया है औ दस टीमें बनाईं हैं. 

Advertisement