NDTV Khabar

Karnataka coalition


'Karnataka coalition' - 20 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • चार दिन तक विश्वास मत पर वोटिंग में 'देरी' भी नहीं आई काम, कुमारस्वामी नहीं बचा पाए सरकार, अब BJP पेश करेगी दावा, 10 बड़ी बातें

    चार दिन तक विश्वास मत पर वोटिंग में 'देरी' भी नहीं आई काम, कुमारस्वामी नहीं बचा पाए सरकार, अब BJP पेश करेगी दावा, 10 बड़ी बातें

    कर्नाटक में कांग्रेस-जद(एस) गठबंधन की सरकार मंगलवार को विधानसभा में विश्वासमत हासिल करने में विफल रहने के बाद गिर गयी. इसी के साथ राज्य में 14 महीने से अस्थिरता के दौर का सामना कर रहे मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी का कार्यकाल खत्म हो गया. कुमारस्वामी ने विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव हारने के तुरंत बाद राज्यपाल वजूभाई वाला को अपना इस्तीफा सौंप दिया. अधिकारियों ने बताया कि परिणाम के तुरंत बाद कुमारस्वामी, उपमुख्यमंत्री जी. परमेश्वर और अन्य वरिष्ठ सहयोगियों के साथ राजभवन गए और इस्तीफा सौंप दिया. त्यागपत्र में कहा गया, ‘अपनी कैबिनेट के साथ मैं कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे रहा हूं और मैं आपसे इसे स्वीकार करने का आग्रह करता हूं. मैं इस मौके पर कार्यकाल के दौरान मुझे और मेरे सहयोगियों को मिले सहयोग के लिए मैं आभारी हूं.’

  • विधायकों के इस्तीफों से लेकर सरकार गिरने तक 23 दिन ऐसे चला कर्नाटक का सियासी ड्रामा

    विधायकों के इस्तीफों से लेकर सरकार गिरने तक 23 दिन ऐसे चला कर्नाटक का सियासी ड्रामा

    राज्य में 14 महीने से अस्थिरता के दौर का सामना कर रहे मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी का कार्यकाल खत्म हो गया. कुमारस्वामी ने विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव हारने के तुरंत बाद राज्यपाल वजूभाई वाला को अपना इस्तीफा सौंप दिया. अधिकारियों ने बताया कि परिणाम के तुरंत बाद कुमारस्वामी, उपमुख्यमंत्री जी. परमेश्वर और अन्य वरिष्ठ सहयोगियों के साथ राजभवन गए और इस्तीफा सौंप दिया. त्यागपत्र में कहा गया, ‘अपनी कैबिनेट के साथ मैं कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे रहा हूं और मैं आपसे इसे स्वीकार करने का आग्रह करता हूं.’ साथ ही कहा गया है कि ‘मैं इस मौके पर कार्यकाल के दौरान मुझे और मेरे सहयोगियों को मिले सहयोग के लिए मैं आभारी हूं.’ कुमारस्वामी को अपने पत्र में राज्यपाल ने कहा, ‘मैंने तत्काल प्रभाव से आपका इस्तीफा स्वीकार कर लिया है. वैकल्पिक व्यवस्था होने तक कार्यवाहक मुख्यमंत्री के पद पर बने रहिए. यह कहने की जरूरत नहीं है कि इस दौरान कोई कार्यकारी फैसले नहीं लिए जाने चाहिए.’

  • कर्नाटक का सियासी ड्रामा जारी, अब तक नहीं हो पाया विश्वास मत, विधानसभा सोमवार तक के लिए स्‍थगित - 10 बातें

    कर्नाटक का सियासी ड्रामा जारी, अब तक नहीं हो पाया विश्वास मत, विधानसभा सोमवार तक के लिए स्‍थगित - 10 बातें

    राज्यपाल के दो-दो बार समय और तारीख़ तय कर देने के बावजूद कर्नाटक विधानसभा में अब तक विश्वास मत नहीं हो पाया है. दोनों पक्ष एक-दूसरे पर विधायकों की ख़रीद-फ़रोख़्त का आरोप लगा रहे हैं. अब जेडीएस कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट पहुंची हैं. मुख्यमंत्री कुमारस्वामी के बड़े भाई किसी ज्योतिषी के कहने पर इन दिनों ख़ाली पांव विधानसभा आते हैं- इस उम्मीद में कि इससे उनके भाई की सरकार बच जाएगी. उधर सरकार बचाने में जुटे कुमारस्वामी ने राज्यपाल वजूभाई वाला की दी हुई दूसरी तारीख भी नाकाम कर दी. राजयपाल वजू भाई वाला ने पहले कहा था कि गुरुवार डेढ़ बजे तक विश्वास मत हो जाए, फिर शुक्रवार का समय दिया. ये भी बताया कि उनके पास विधायकों की ख़रीद-फ़रोख़्त की शिकायत पहुंच रही है. उधर जेडीएस ने सदन में बीजेपी पर 2 गंभीर आरोप लगाए. जेडीएस विधायक श्रीनिवास गौड़ा ने आरोप लगाया कि बीजेपी के 2 विधायकों ने उन्हें पाला बदलने के लिए 5 करोड़ रुपये उनके घर पहुंचाए. पर्यटन मंत्री सारा महेश ने कहा कि जेडीएस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष विश्वनाथ ने उन्हें 30 करोड़ के ऑफर की बात कही. इस बीच प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष देश गुण्डु राव और मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर की है. गुण्डु राव की अपील व्हिप पर लगी शर्तिया रोक पर है और कुमारस्वामी ने राज्यपाल के हस्तक्षेप पर सवाल उठाए हैं. कर्नाटक के राज्यपाल वाजु भाईवाला पर बीजेपी नेता फ्लोर टेस्ट के लिए दबाव बनाते रहे और राज्यपाल नई नई समय सीमा तय करते रहे. सवाल एक बार फिर नए सिरे से उठ खड़ा हुआ है कि राज्यपाल का ऐसे मामलों में हस्तछेप का अधिकार है या नहीं. कर्नाटक सरकार की तरफ से दलील दी गई कि 1999 में वाजपेयी जी सरकार को लेकर बहस और वोटिंग 10 दिन चली जबकि कर्नाटक समेत दूसरे कई राज्यों में 4 दिनों से ज्‍यादा. ऐसे में इस बार जल्दबाजी किस बात की. फिलहाल विधानसभा सोमवार 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई है.

  • नया नहीं है कर्नाटक का 'नाटक': इन राज्यों में मच चुका है सियासी घमासान, पढ़ें ऐसे 5 किस्से

    नया नहीं है कर्नाटक का 'नाटक': इन राज्यों में मच चुका है सियासी घमासान, पढ़ें ऐसे 5 किस्से

    गुरुवार को विश्वासमत प्रस्ताव पेश किया गया, लेकिन एच.डी. कुमारस्वामी ने विश्वासमत हासिल नहीं किया, और स्पीकर ने चर्चा जारी रखी. इसका विरोध करते हुए BJP ने राज्यपाल से गुहार की, जिन्होंने खत लिखकर मुख्यमंत्री से विश्वासमत की प्रक्रिया को गुरुवार को निपटाने के लिए कहा, लेकिन ऐसा नहीं किया गया, और शुक्रवार सुबह विधानसभा की कार्यवाही शुरू हो जाने के बावजूद कांग्रेस ने राज्यपाल द्वारा खत लिखे जाने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा भी खटखटा दिया.

  • कर्नाटक Floor Test: व्हिप के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट जाएंगे कांग्रेस विधायक दल के नेता

    कर्नाटक Floor Test: व्हिप के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट जाएंगे कांग्रेस विधायक दल के नेता

    Karnataka Political Crisis: आंकड़ों के हिसाब से बीजेपी फिलहाल जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन से आगे है. इस्तीफा देने वाले विधायक अगर विश्वास मत से दूर रहते हैं तो सदन में कुल 209 विधायक होंगे, और बहुमत का आंकड़ा 105 रह जाएगा.

  • कांग्रेस-JDS सरकार के लिए राहत: बागी MLA रामालिंगा रेड्डी बोले- वापस लूंगा इस्तीफा, सरकार के पक्ष में करूंगा मतदान

    कांग्रेस-JDS सरकार के लिए राहत: बागी MLA रामालिंगा रेड्डी बोले- वापस लूंगा इस्तीफा, सरकार के पक्ष में करूंगा मतदान

    सत्ताधारी गठबंधन ने दलबदल निरोधक कानून के तहत अयोग्य घोषित करने के प्रावधान का उल्लेख करते हुए बागी विधायकों के खिलाफ व्हिप जारी करने की चेतावनी दी थी. अदालती आदेश के बाद मुम्बई में बागी कांग्रेस-जदएस विधायकों ने कहा कि उनके इस्तीफे या सत्र में हिस्सा लेने को लेकर उनके पीछे हटने का सवाल ही नहीं उठता. कांग्रेस के बागी विधायक बी सी पाटिल ने मीडिया को जारी एक वीडियो में कहा, ‘हम माननीय उच्चतम न्यायालय के निर्णय से खुश हैं, हम उसका सम्मान करते हैं.’

  • क्या खत्म हो जाएगा कर्नाटक का सियासी 'नाटक', क्‍या कुमारस्वामी बहुमत साबित कर पाएंगे, 12 बड़ी बातें

    क्या खत्म हो जाएगा कर्नाटक का सियासी 'नाटक', क्‍या कुमारस्वामी बहुमत साबित कर पाएंगे, 12 बड़ी बातें

    कर्नाटक में 18 जुलाई को विधानसभा में विश्वासमत से पहले बुधवार को कांग्रेस-जदएस सरकार का भविष्य अधर में लटकता दिखा क्योंकि सुप्रीम कोर्ट के फैसले, कि सत्ताधारी गठबंधन के भविष्य के फैसले के लिए बागी विधायकों को विधानसभा सत्र में हिस्सा लेने के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता, के बाद बागी विधायकों के सुर नरम नहीं पड़े. ऐसे में जबकि गठबंधन सरकार जरूरी संख्याबल हासिल करने के प्रयास में थी सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को फैसला सुनाया कि कांग्रेस-जदएस के बागी 15 विधायकों को जारी विधानसभा सत्र की कार्यवाही में भाग लेने के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता. अदालत के फैसले को राजनीतिक हलकों में बागी विधायकों के लिए राहत माना गया क्योंकि इसमें स्पष्ट तौर पर कहा गया है कि उन्हें एक विकल्प दिया जाना चाहिए कि वे विधानसभा की कार्यवाही में हिस्सा लेना चाहते हैं या उससे दूर रहना चाहते हैं.

  • कर्नाटक : CM कुमारस्वामी ने फेंका ऐसा पासा कि बीजेपी को भी भेजने पड़े अपने विधायक होटल के अंदर, 10 बड़ी बातें

    कर्नाटक : CM कुमारस्वामी ने फेंका ऐसा पासा कि बीजेपी को भी भेजने पड़े अपने विधायक होटल के अंदर, 10 बड़ी बातें

    सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक विधानसभा के स्पीकर को मंगलवार तक बाग़ी विधायकों के इस्तीफ़े या उनके निलंबन पर किसी भी तरह का फ़ैसला लेने पर रोक लगा दी है. लेकिन इसी बीच मुख्यमंत्री कुमारास्वामी ने सदन में ये कहकर सबको चौंका दिया कि वो विश्वासमत हासिल करने को तैयार हैं. उनके इतना कहते ही बीजेपी ने अपने विधायकों को होटल में भेजने का फ़ैसला किया ताकि उन्हें खरीद फ़रोख्त से बचाया जा सके. इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक विधान सभा के स्पीकर को मंगलवार तक बागी विधयकों के इस्तीफे या उनके निलंबन पर किसी भी तरह का फैसला लेने पर रोक लगा दी है.

  • कर्नाटक में फिर शुरू हुई 'रिसॉर्ट की राजनीति', विश्वास मत से पहले विधायकों को रिसॉर्ट में ले जाया गया

    कर्नाटक में फिर शुरू हुई 'रिसॉर्ट की राजनीति', विश्वास मत से पहले विधायकों को रिसॉर्ट में ले जाया गया

    कर्नाटक में जारी सियासी उठा-पटक के बीच राज्य में 'रिसॉर्ट की राजनीति' की वापसी हो गई है. सत्ताधारी कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन और विपक्षी दल भाजपा विधानसभा में संभावित विश्वास मत के पहले अपने विधायकों पर नजर रखे हुए हैं. उन्हें विधायकों की खरीद-फरोख्त की आशंका है. 

  • कर्नाटक में बीजेपी की सरकार बनाने पर बोले येदियुरप्पा- अभी इंतजार करो

    कर्नाटक में बीजेपी की सरकार बनाने पर बोले येदियुरप्पा- अभी इंतजार करो

    कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस की सरकार को बचाने की कवायद जारी है और लगातार बागी विधायकों को मनाने की कोशिश हो रही है. उधर सोमवार को गठबंधन के सभी मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है. इससे पहले ही सरकार को समर्थन दे रहे 13 विधायक और दो निर्दलीय विधायक इस्तीफा दे चुके हैं. वहीं ऐसे में बीजेपी की ओर से कहा गया है कि वह अभी सरकार बनाने की दावेदारी को लेकर थोड़ा इंतजार करेगी.

  • संकट में कुमारस्वामी सरकार: कांग्रेस सांसद बोले- BJP नहीं चाहती विपक्षी पार्टी किसी राज्य में चलाए सरकार, हमारे सभी मंत्री देंगे इस्तीफा

    संकट में कुमारस्वामी सरकार: कांग्रेस सांसद बोले- BJP नहीं चाहती विपक्षी पार्टी किसी राज्य में चलाए सरकार, हमारे सभी मंत्री देंगे इस्तीफा

    कर्नाटक कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बीके हरिप्रसाद का कहना है, 'ये सब कुछ बीजेपी, नरेंद्र मोदी और अमित शाह का किया हुआ है. सरकार गिराने की कोशिश की जा रही है. उन्होंने तीसरी बार हमारे विधायकों को लगभग अपहरण करके मुंबई लेकर गए लेकिन सरकार गिरेगी नहीं. वह फिर से वापस आ जाएंगे. कुमारस्वामी के संपर्क में भी बीजेपी विधायक हैं. यह संकट कांग्रेस का अंदरूनी नहीं है.'

  • खतरे में कर्नाटक की कांग्रेस-JDS सरकार? इन 10 प्वाइंट्स में समझे, अब तक क्या-क्या हुआ

    खतरे में कर्नाटक की कांग्रेस-JDS सरकार? इन 10 प्वाइंट्स में समझे, अब तक क्या-क्या हुआ

    कर्नाटक में सत्तारूढ़ कांग्रेस-जद (एस) गठबंधन के 13 विधायकों द्वारा विधानसभा अध्यक्ष को अपना इस्तीफा सौंपने से राज्य में मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली महज साल भर पुरानी सरकार खतरे में पड़ गई है. यदि इन विधायकों का इस्तीफा स्वीकार कर लिया जाता है तो सत्तारूढ़ गठबंधन (जिसके 118 विधायक हैं) 224 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत खो देगा. वहीं, भाजपा के 105 विधायक हैं. कांग्रेस और जद (एस) के विधायकों के समूह के अपना इस्तीफा सौंपने के लिए विधानसभा अध्यक्ष (स्पीकर) के कार्यालय पहुंचने और बाद में राजभवन में राज्यपाल वजुभाई वाला से मुलाकात करने के बाद गठबंधन सरकार की स्थिरता का संकट गहरा गया है. दरअसल, हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में राज्य में भाजपा के शानदार प्रदर्शन के बाद से गठबंधन सरकार पर संकट के बादल मंडरा रहे थे.

  • संकट में कर्नाटक सरकार! कांग्रेस के 8 और जेडीएस के 3 विधायक इस्तीफा देने राजभवन पहुंचे

    संकट में कर्नाटक सरकार! कांग्रेस के 8 और जेडीएस के 3 विधायक इस्तीफा देने राजभवन पहुंचे

    कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस सरकार में संकट में गहरा गया है. कांग्रेस के 8 और जेडीएस के 3 विधायक विधानसभा अध्यक्ष के पास अपना इस्तीफा देने पहुंच गए लेकिन स्पीकर नहीं मिले तो ये सभी राज्यपाल के पास चले गए. इनमें शामिल कांग्रेस विधायक रामलिंग रेड्डी ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा, मैं अपना इस्तीफा स्पीकर सौंपने आया हूं. मैं अपनी बेटी ( कांग्रेस विधायक सौम्या रेड्डी) के बारे में नहीं जानता हूं. वह एक आजाद महिला हैं.' उन्होंने कहा, मैं पार्टी आलाकमान या किसी और नेता को इसके लिए दोष देने नहीं जा रहा हूं. मुझे लगता है कि कुछ मुद्दों पर हमारी उपेक्षा की जा रही है. इसलिए हमने यह फैसला किया है'. 

  • कर्नाटक में फिर खतरे में गठबंधन की सरकार? कांग्रेस के रवैये पर बोले देवेगौड़ा: बहुत हुआ, अब चुप नहीं रह सकता

    कर्नाटक में फिर खतरे में गठबंधन की सरकार? कांग्रेस के रवैये पर बोले देवेगौड़ा: बहुत हुआ, अब चुप नहीं रह सकता

    कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस की गठबंधन वाली सरकार कभी भारतीय जनता पार्टी की वजह से संकट में दिखती है तो कभी कांग्रेस नेता सिद्धारमैय्या और देवेगौड़ा के बीच अंदरूनी कलह की वजह से.

  • लोकसभा चुनाव 2019 : कर्नाटक में सीटों के बंटवारे को लेकर कांग्रेस और जेडी-एस में खींचतान शुरू

    लोकसभा चुनाव 2019 : कर्नाटक में सीटों के बंटवारे को लेकर कांग्रेस और जेडी-एस में खींचतान शुरू

    लोकसभा चुनावों के दौरान सीट शेयरिंग को लेकर कर्नाटक में कांग्रेस और जेडी-एस के बीच खींचतान शुरू हो गई है. कर्नाटक में लोकसभा चुनावों के दौरान कांग्रेस और जेडी-एस के बीच सीट शेयरिंग का फॉर्मूला क्या हो, इस पर जेडी-एस ने अपनी राय कांग्रेस के सामने रख दी है.

  • कर्नाटक के कांग्रेस-जेडीएस सरकार से BSP बाहर, मंत्री एन महेश ने दिया इस्तीफा

    कर्नाटक के कांग्रेस-जेडीएस सरकार से BSP बाहर, मंत्री एन महेश ने दिया इस्तीफा

    कर्नाटक की जनता दल (एस)-कांग्रेस गठबंधन सरकार में बसपा के एकमात्र मंत्री एन महेश ने गुरुवार को इस्तीफा दे दिया. इस्तीफे के पीछे उन्होंने निजी कारणों का हवाला दिया. हालांकि उन्होंने कहा कि सत्तारूढ़ गठबंधन को उनका समर्थन जारी रहेगा. बता दें कि एन महेश का इस्तीफा ऐसे समय हुआ है जब बसपा सुप्रीमो मायावती मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ चुनाव में कांग्रेस से गठबंधन न करके अपने उम्मीदवार अलग से उतारने का ऐलान कर चुकी हैं. एन महेश ने स्वीकार किया कि इस्तीफे से पहले उन्होंने पार्टी प्रमुख मायावती से कोई बात नहीं की है. अभी तक इस बारे में न तो मायावती की तरफ से और नहीं उनकी पार्टी की तरफ से कोई बयान आया है. 

  • गठबंधन की सरकार पर छलके CM कुमारस्वामी के आंसू, कहा- मैं खुश नहीं, विषकंठ बनकर पी रहा हूं जहर

    गठबंधन की सरकार पर छलके CM कुमारस्वामी के आंसू, कहा- मैं खुश नहीं, विषकंठ बनकर पी रहा हूं जहर

    कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी का कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की सरकार पर एक बार फिर से दर्द छलका है. मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने एक बार फिर से गठबंधन की सरकार की मजबूरियों को सार्वजनिक मंच से सबके सामने रखा और इस दौरान उनके मजबूरियों के आंसू भी छलके. अभी कर्नाटक में नई सरकार के बने ज्यादा दिन भी नहीं भी हुए हैं कि कुमारस्वामी ने एक बार फिर से स्वीकार किया कि वह इस गठबंधन वाली सरकार से खुश नहीं हैं. 

  • कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के मायने

    कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के मायने

    कर्नाटक में कांग्रेस जेडीएस गठबंधन ने सबसे पहले अपना विधानसभा अध्यक्ष चुन लिया. केआर रमेश पांच बार जीते विधायक हैं और पिछली सिद्धारमैया सरकार में स्वास्थ्य मंत्री थे. रमेश कुमार 1994 से 1999 के बीच विधानसभा के अध्यक्ष रह चुके हैं. इस तरह आप कह सकते हैं कि कर्नाटक सरकार पर लगातार कांग्रेस अपनी पकड़ बनाए जा रही है.