NDTV Khabar

Magsaysay award


'Magsaysay award' - 32 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • रैमॉन मैगसेसे अवार्ड मिलने के बाद रवीश कुमार ने यूं किया दर्शकों का शुक्रिया अदा

    रैमॉन मैगसेसे अवार्ड मिलने के बाद रवीश कुमार ने यूं किया दर्शकों का शुक्रिया अदा

    मुझे 25 साल के इस पेशे में यह बात आपके बीच रहकर समझ आई है कि दर्शक या पाठक होना पत्रकार के होने से भी बड़ी ज़िम्मेदारी का काम है. जीवन भर लोगों को सुबह उठकर आदतन आधे अधूरे मन से अख़बार पलटते देखा करता था. कइयों को अख़बार लपेट कर शौच के लिए जाते देखा करता था. कुछ लोगों के लिए अखबार यहां से वहां उठाकर रख देने के बीच कुछ पलट कर देख लेने का माध्यम हो सकता है, रिमोट से एक न्यूज़ चैनल से दूसरे न्यूज़ चैनल बदल कर अपनी बोरियत दूर करने का ज़रिया हो सकता है मगर निश्चित रूप से यह दर्शक या पाठक होना नहीं है.

  • रैमन मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित रवीश कुमार ने NDTV के दर्शकों से कहा, शुक्रिया दिल से...

    रैमन मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित रवीश कुमार ने NDTV के दर्शकों से कहा, शुक्रिया दिल से...

    रैमन मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित होने के बाद रवीश कुमार ने एनडीटीवी के दर्शकों का धन्यवाद अदा किया.

  • हर जंग जीतने के लिए नहीं, सिर्फ इसलिए लड़ी जाती है, ताकि दुनिया को बताया जा सके, कोई है, जो लड़ रहा है : रवीश कुमार

    हर जंग जीतने के लिए नहीं, सिर्फ इसलिए लड़ी जाती है, ताकि दुनिया को बताया जा सके, कोई है, जो लड़ रहा है : रवीश कुमार

    हिंदी पत्रकारिता के लिए गौरव का दिन है. आज फिलीपीन्स की राजधानी मनीला में एनडीटीवी इंडिया के रवीश कुमार को रेमॉन मैगसेसे सम्मान प्रदान किया गया है. उनको सम्मान देने वालों ने माना है कि रवीश कुमार उन लोगों की आवाज़ बनते हैं जिनकी आवाज़ कोई और नहीं सुनता. पिछले दो दशकों में एनडीटीवी में अलग-अलग भूमिकाओं में और अलग-अलग कार्यक्रमों के ज़रिए रवीश कुमार ने पत्रकारिता के नए मानक बनाए हैं. एक दौर में रवीश की रिपोर्ट देश की सबसे मार्मिक टीवी पत्रकारिता का हिस्सा बनता रहा. बाद में प्राइम टाइम की उनकी बहसें अपने जन सरोकारों के लिए जानी गईं. और जब सत्ता ने उनके कार्यक्रम का बहिष्कार कर दिया तो रवीश ने जैसे प्राइम टाइम को ही नहीं, टीवी पत्रकारिता को ही नई परिभाषा दे डाली. सरकारी नौकरियों और इम्तिहानों के बहुत मामूली समझे जाने वाले मुद्दों को, शिक्षा और विश्वविद्यालयों के उपेक्षित परिसरों को उन्होंने प्राइम टाइम में लिया और लाखों-लाख छात्रों और नौजवानों की नई उम्मीद बन बैठे. जिस दौर में पूरी की पूरी टीवी पत्रकारिता तमाशे में बदल गई है- राष्ट्रवादी उन्माद के सामूहिक कोरस का नाम हो गई है, उस दौर में रवीश की शांत-संयत आवाज़ हिंदी पत्रकारिता को उनकी गरिमा लौटाती रही है. मनीला में रेमॉन मैगसेसे सम्मान से पहले अपने व्याख्यान में उन्होंने कहा कि अब लोकतंत्र को नागरिक पत्रकार की बचाएंगे और वे ख़ुद ऐसे ही नागरिक पत्रकार की भूमिका में हैं.

  • हिंदी पत्रकारिता के लिए गर्व का दिन : NDTV के मैनेजिंग एडिटर रवीश कुमार रैमॉन मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित

    हिंदी पत्रकारिता के लिए गर्व का दिन :  NDTV के मैनेजिंग एडिटर रवीश कुमार रैमॉन मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित

    आज हिंदी पत्रकारिता के लिए गर्व का दिन है. फिलीपींस की राजधानी मनीला में एनडीटीवी के मनैजिंग एडिटर रवीश कुमार को रैमॉन मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. इस मौके पर आयोजनकर्ताओं की ओर से रवीश कुमार के जीवन और पत्रकारिता करियर के बारे में बताया गया. पुरस्कार लेने के बाद रवीश कुमार वहां आए लोगों को संबोधित करते हुए कहा "हर जंग जीतने के लिए नहीं लड़ी जाती... कुछ जंग सिर्फ इसलिए लड़ी जाती हैं, ताकि दुनिया को बताया जा सके, कोई है, जो लड़ रहा है..." 

  • आज दोपहर 2 बजे रवीश कुमार को मनीला में रैमॉन मैगसेसे पुरस्कार से किया जाएगा सम्मानित

    आज दोपहर 2 बजे रवीश कुमार को मनीला में रैमॉन मैगसेसे पुरस्कार से किया जाएगा सम्मानित

    आज दोपहर 2 बजे NDTV के मैनेजिंग एडिटर रवीश कुमार को मनीला में रैमॉन मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा. रवीश कुमार को यह सम्मान हिन्दी टीवी पत्रकारिता में उनके योगदान के लिए मिला है.

  • सोशल मीडिया का इस्तेमाल बंद कर देंगी, तो सवाल कौन पूछेगा? रवीश कुमार ने दिया ये जवाब

    सोशल मीडिया का इस्तेमाल बंद कर देंगी, तो सवाल कौन पूछेगा? रवीश कुमार ने दिया ये जवाब

    मंच से स्पीच देने के बाद सवाल-जवाब सेशन में रवीश कुमार से ऑडियंस में से अनिकेत ने पूछा, ''अगर आप और फिल्मकार अनुराग कश्यप जैसी हस्तियां, जो सवाल पूछती हैं, सोशल मीडिया का इस्तेमाल बंद कर देंगी, तो सवाल कौन पूछेगा?'' इस पर रवीश कुमार ने कहा, ''सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म सरकार को जवाबदेह नहीं बना रहे हैं, बल्कि सरकार को गैर-जवाबदेह बने रहने में मदद कर रहे हैं. ट्विटर और फेसबुक 'पार्टिसिपेटरी डेमोक्रेसी' का भ्रम पैदा करते हैं, लेकिन वास्तव में ये डेमोक्रेसी को मार रहे हैं.''

  • रैमॉन मैगसेसे पुरस्कार : रवीश कुमार ने कहा- पीएम मोदी का बधाई न देना भी बधाई है, कोई बात नहीं

    रैमॉन मैगसेसे पुरस्कार : रवीश कुमार ने कहा- पीएम मोदी का बधाई न देना भी बधाई है, कोई बात नहीं

    रैमॉन मैगसेसे पुरस्कार ग्रहण करने के लिए मनीला पहुंचे NDTV के रवीश कुमार से जब एक सवाल पूछा गया कि उनको पीएम मोदी ने अभी तक बधाई नहीं दी है तो इस पर उन्होंने कहा, कोई बात नहीं पीएम मोदी ने बधाई नहीं दी. उनका बधाई नहीं देना भी बधाई है.' आपको बता दें कि रवीश कुमार को 9 सितंबर को रैमॉन मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा. इस सम्मान को पाने वाले रवीश कुमार हिंदी मीडिया के पहले पत्रकार हैं.

  • मैं रोजाना 2000 से 5000 शब्द लिखता हूं क्योंकि यह मेरे माइंडसेट को क्लियर रखता है: रवीश कुमार

    मैं रोजाना 2000 से 5000 शब्द लिखता हूं क्योंकि यह मेरे माइंडसेट को क्लियर रखता है: रवीश कुमार

    उन्होंने कहा, ''मैं रोजाना 2000 से 5000 शब्द लिखता हूं क्योंकि यह आपके माइंडसेट को क्लियर रखता है. मुझे ऐसा दिवंगत पत्रकार प्रभास जोशी ने कहा था. उन्होंने ही मुझे सुझाव दिया था कि रोजाना 2000 शब्द लिखने चाहिए. मुझे लगा कि वह मजाकिया लहजे में कह रहे हैं और मैंने पलटकर उनसे पूछा कि क्या आप ऐसा करते हैं तो उनका जवाब हां में था. उसके बाद से मैं आज भी रोजाना 2000 शब्द से ज्यादा लिखता हूं. कई बार 5000 से ज्यादा बार कई मुद्दों पर लिखता रहता हूं.''

  • रैमॉन मैगसेसे के मंच से रवीश कुमार का संबोधन, पढ़ें पूरी स्पीच

    रैमॉन मैगसेसे के मंच से रवीश कुमार का संबोधन, पढ़ें पूरी स्पीच

    दुनियाभर में सूरज की आग में तपते लोकतंत्र को चांद की ठंडक तो चाहिए. यह ठंडक आएगी कहां से...? सूचनाओं की वास्तविकता से, प्रामाणिकता से, पवित्रता से, और साहस से, न कि नेताओं की ऊंची आवाज़ से. सूचना जितनी पवित्र होगी, प्रामाणिक होगी, नागरिकों के बीच भरोसा उतना ही गहरा होगा. देश सही सूचनाओं से बनता है. फ़ेक न्यूज़, प्रोपेगंडा और झूठे इतिहास से हमेशा भीड़ बनती है.

  • अब न्यूज चैनलों के पास सिर्फ जिम जाने वाले और चॉकलेटी चेहरे वाले एंकर हैं, रिपोर्टर नहीं : रवीश कुमार

    अब न्यूज चैनलों के पास सिर्फ जिम जाने वाले और चॉकलेटी चेहरे वाले एंकर हैं, रिपोर्टर नहीं : रवीश कुमार

    रेमॉन मैगसेसे के मंच से स्पीच देने के बाद सवाल-जवाब सेशन में रवीश कुमार ने मौजूदा पत्रकारिता के स्वरूप पर भी चिंता जताई उन्होंने कहा कि आज न्यूज चैनलों से रिपोर्टर खत्म किए गए जा चुके हैं और अब कोई भी इन्विस्टिगेट करके खबर निकालने वाला नहीं है. रवीश कुमार ने कहा कि अब न्यूज चैनलों के पास जिम जाने वाले और चॉकलेटी चेहरे वाले एंकर बचे हैं जो कार्यक्रम के दौरान अपनी 'मसल पावर' दिखाते हैं.

  • UPDATE: NDTV के करोड़ों दर्शकों का शुक्रिया: रैमॉन मैगसेसे अवॉर्ड पर रवीश कुमार

    UPDATE: NDTV के करोड़ों दर्शकों का शुक्रिया: रैमॉन मैगसेसे अवॉर्ड पर रवीश कुमार

    NDTV इंडिया के मैनेजिंग एडिटर रवीश कुमार रेमॉन मैगसेसे अवार्ड लेने के लिए फिलीपीन्स की राजधानी मनीला पहुंच चुके हैं. इस अवार्ड की घोषणा 2 अगस्‍त को हुई थी. NDTV के रवीश कुमार को यह सम्मान हिन्दी टीवी पत्रकारिता में उनके योगदान के लिए मिला है. 'रैमॉन मैगसेसे' को एशिया का नोबेल पुरस्कार भी कहा जाता है. यह पुरस्कार फिलीपीन्स के भूतपूर्व राष्ट्रपति रैमॉन मैगसेसे की याद में दिया जाता है.

  • रेमॉन मैगसेसे अवॉर्ड लेने मनीला पहुंचे रवीश कुमार, कुछ ही देर में सिटिज़न जर्नलिज़्म पर देंगे स्‍पीच

    रेमॉन मैगसेसे अवॉर्ड लेने मनीला पहुंचे रवीश कुमार, कुछ ही देर में सिटिज़न जर्नलिज़्म पर देंगे स्‍पीच

    NDTV के रवीश कुमार को यह सम्मान हिन्दी टीवी पत्रकारिता में उनके योगदान के लिए मिला है. 'रैमॉन मैगसेसे' को एशिया का नोबेल पुरस्कार भी कहा जाता है. यह पुरस्कार फिलीपीन्स के भूतपूर्व राष्ट्रपति रैमॉन मैगसेसे की याद में दिया जाता है. 6 सितंबर को रवीश कुमारकी स्‍पीच होगी, जिसे आप NDTV इंडिया की वेबसाइट (https://ndtv.in) और फेसबुक पेज (https://www.facebook.com/NDTVIndia/) पर सुबह 6:30 बजे से देख सकते हैं. रवीश कुमार 'लोकतंत्र को आगे बढ़ाने में सिटिज़न जर्नलिज़्म की ताकत' विषय पर अपनी बात रखेंगे.

  • बधाई का शुक्रिया नहीं हो सकता है : रवीश कुमार

    बधाई का शुक्रिया नहीं हो सकता है : रवीश कुमार

    आपका लिखा हुआ मिटाया नहीं जा रहा है. सहेजा भी नहीं जा रहा है. दो दशक से मेरा हिस्सा आपके बीच जाने किस-किस रूप में गया होगा, आज वो सारा कुछ इन संदेशों में लौट कर आ गया है. जैसे महीनों यात्रा के बाद कोई बड़ी सी नाव लौट किनारे लौट आई हो. आपके हज़ारों मैसेज में लगता है कि मेरे कई साल लौट आए हैं. हर मेसेज में प्यार, आभार और ख़्याल भरा है. उनमें ख़ुद को धड़कता देख रहा हूं. जहां आपकी जान हो, वहां आप डिलिट का बटन कैसे दबा सकते हैं. चाहता हूं मगर सभी को जवाब नहीं दे पा रहा हूं.

  • रैमॉन मैगसेसे पुरस्‍कार मिलने पर रवीश कुमार ने दर्शकों को कहा शुक्रिया

    रैमॉन मैगसेसे पुरस्‍कार मिलने पर रवीश कुमार ने दर्शकों को कहा शुक्रिया

    हर चैनल पर एक ही कटेंट है, एक ही ख़बर है, आप चैनल बदल सकते हैं मगर चैनल के बदलने से डिबेट का टॉपिक नहीं बदल जाता

  • डराती है रवीश कुमार की पत्रकारिता, उन्हें भी, जो सत्तासीन हैं...

    डराती है रवीश कुमार की पत्रकारिता, उन्हें भी, जो सत्तासीन हैं...

    रवीश ने 19 साल पहले रिपोर्टिंग करना शुरू किया था, और शुरुआत से ही पहचान लिया था कि टेलीविज़न किस्सों का माध्यम है, सो, रवीश ने उन ख़बरों को चुना जो शर्तिया वैसी ही थीं. वैसे किस्से, जिनके चरित्र अपने जैसे लगते थे, जिनकी शुरुआत होती थी, मध्य होता था, अंत होता था. यही खोजी और सच्चाई के पक्षधर के रूप में रवीश की कामयाबी का राज़ है, और यही वजह है मैगसेसे पुरस्कार के रूप में उनकी बड़ी कामयाबी की.

  • रवीश कुमार को मिला रैमॉन मैगसेसे पुरस्कार तो प्रियंका गांधी ने किया ट्वीट, लिखा- आलोचना के विवेक की मशाल को जिंदा रखने वाले पत्रकार...

    रवीश कुमार को मिला रैमॉन मैगसेसे पुरस्कार तो प्रियंका गांधी ने किया ट्वीट, लिखा- आलोचना के विवेक की मशाल को जिंदा रखने वाले पत्रकार...

    प्रियंका गांधी ट्वीट किया: "सच कहने का साहस और आलोचना के विवेक की मशाल को जिंदा रखने वाले पत्रकार रवीश कुमार को रैमॉन मैग्सेसे पुरस्कार मिलने पर बधाई. मैं उनके धैर्य का आदर करती हूं."

  • रवीश कुमार को 'रैमॉन मैगसेसे' पुरस्कार मिलने पर महबूबा मुफ्ती, अशोक गहलोत और डेरेक ओब्रायन ने ट्विटर पर दी बधाई

    रवीश कुमार को 'रैमॉन मैगसेसे' पुरस्कार मिलने पर महबूबा मुफ्ती, अशोक गहलोत और डेरेक ओब्रायन ने ट्विटर पर दी बधाई

    एनडीटीवी के रवीश कुमार को ये सम्मान हिंदी टीवी पत्रकारिता में उनके योगदान के लिए मिला है. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री व पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती और ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस के सांसद डेरेक ओब्रायन ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट के जरिए रवीश कुमार को बधाई दी है. सभी ने पत्रकारिता जगत में उनके योगदान के लिए सराहा है.

  • 'रैमॉन मैगसेसे' पुरस्कार से सम्मानित रवीश कुमार पहले देखते थे NDTV में चिट्ठियों का काम, 10 बातें

    'रैमॉन मैगसेसे' पुरस्कार से सम्मानित रवीश कुमार पहले देखते थे NDTV में चिट्ठियों का काम, 10 बातें

    एनडीटीवी के रवीश कुमार को 'रैमॉन मैगसेसे' पुरस्कार 2019 से शुक्रवार को सम्मानित किया गया है. इस पुरस्कार को नोबेल पुरस्कार का एशियाई संस्करण माना जाता है. प्रशस्ति पत्र में 44 वर्षीय कुमार को भारत के सबसे प्रभावी टीवी पत्रकारों में से एक बताया गया है. वह एनडीटीवी इंडिया में पत्रकार हैं. उनका नाम उन पांच व्यक्तियों में शुमार है जिन्हें इस पुरस्कार का विजेता घोषित किया गया है. प्रशस्ति पत्र में कहा गया कि कुमार का कार्यक्रम “प्राइम टाइम” “आम लोगों की वास्तविक, अनकही समस्याओं को उठाता है.’’ साथ ही इसमें कहा गया, “अगर आप लोगों की अवाज बन गए हैं, तो आप पत्रकार हैं.” इस साल के रमन मैगसेसे पुरस्कार के चार अन्य विजेताओं में म्यामां के ‘को स्वे विन’, थाइलैंड की ‘अंगखाना नीलापाइजित’, फिलीपीन के ‘रैयमुंडो पुजंते कायाबायऐब’ और दक्षिण कोरिया के ‘किम जोंग की’ शामिल हैं. 1957 में शुरू हुए इस पुरस्कार को एशिया का सर्वोच्च सम्मान माना जाता है.

Advertisement