NDTV Khabar

Mahatma gandhi death anniversary 2019


'Mahatma gandhi death anniversary 2019' - 5 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • इन कारणों से महात्मा गांधी को 5 बार नामित होने के बाद भी नहीं मिला था शांति का नोबेल पुरस्कार

    इन कारणों से महात्मा गांधी को 5 बार नामित होने के बाद भी नहीं मिला था शांति का नोबेल पुरस्कार

    महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) को पूरी दुनिया में अहिंसा के सबसे बड़े पुजारी के रूप में जाना जाता है. अहिंसा के बल पर देश को आजादी दिलाने वाले गांधी जी (Gandhi ji) को 5 बार शांति के नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize) के लिए नामित किया गया था. लेकिन बापू को 1 बार भी शांति पुरस्कार नहीं दिया गया. महात्मा गांधी  को शांति के नोबेल पुरस्कार के लिए पहली बार 1937 में नामिक किया गया था. Nobelprize.org पर दी गई जानकारी के मुताबिक 1937 में पहली बार नॉर्वे की संसद “स्टॉर्टिंग” के लेबर पार्टी सदस्य ओले कोल्बजोर्नसन ने एमके गांधी का नाम सुझाया था.

  • Mahatma Gandhi: 'व्यक्ति की पहचान उसके कपड़ों से नहीं, उसके चरित्र से होती है', महात्मा गांधी के दमदार कोट्स

    Mahatma Gandhi: 'व्यक्ति की पहचान उसके कपड़ों से नहीं, उसके चरित्र से होती है', महात्मा गांधी के दमदार कोट्स

    Mahatma Gandhi Death Anniversary 30 January: अहिंसा को अपना सबसे बड़ा हथियार बनाकर अंग्रेजों को देश से बाहर का रास्ता दिखाने वाले महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) उस दिन भी रोज की तरह शाम की प्रार्थना के लिए जा रहे थे, तभी नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) ने उन्हें बहुत करीब से गोली मारी और साबरमती का संत 'हे राम' कहकर दुनिया से विदा हो गया.

  • Mahatma Gandhi Death Anniversary: जब दांडी मार्च के दौरान बापू 24 दिनों तक रोज 16 से 19 किलोमीटर चलते थे पैदल

    Mahatma Gandhi Death Anniversary: जब दांडी मार्च के दौरान बापू 24 दिनों तक रोज 16 से 19 किलोमीटर चलते थे पैदल

    महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की आज पुण्यतिथि (Mahatma Gandhi Death Anniversary 2019) है. महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की 30 जनवरी 1948 को नाथूराम ने गोली मारकर हत्या (Mahatma Gandhi Death) कर दी थी. भारत की आजादी के लिए महात्मा गांधी ने कई आंदोलन किए थे. महात्मा गांधी को इसी कारण कई बार जेल जाना पड़ा था. महात्मा गांधी किसी साधन की बजाय पैदल चलने को तरजीह देते थे. नमक सत्याग्रह के दौरान गांधीजी ने 24 दिनों तक रोज औसतन 16 से 19 किलोमीटर पैदल यात्रा की.

  • Mahatma Gandhi: महात्मा गांधी की हत्या के बाद नाथूराम गोडसे ने बापू के बेटे से कही थी ये बात

    Mahatma Gandhi: महात्मा गांधी की हत्या के बाद नाथूराम गोडसे ने बापू के बेटे से कही थी ये बात

    राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की 30 जनवरी 1948 को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. बापू की हत्या नाथूराम विनायक गोडसे (Nathuram Godse) ने की थी. गोडसे ने 30 जनवरी 1948 को बापू का सीना उस वक्‍त छलनी कर दिया जब वे दिल्‍ली के बिड़ला भवन में शाम की प्रार्थना सभा से उठ रहे थे. गोडसे ने बापू के साथ खड़ी महिला को हटाया और अपनी सेमी ऑटोमेटिक पिस्टल से एक बाद के एक तीन गोली मारकर उनकी हत्‍या कर दी. नाथूराम गोडसे को महात्मा गांधी की हत्या करने के तुरंत बाद ही गिरफ्तार कर लिया गया.

  • Mahatma Gandhi Death Anniversary 2019 (Martyrs' Day): क्या सचपुच 'पेटू थे' बापू! पढ़ें बापू की खाने से जुड़ी आदतों के बारे में

    Mahatma Gandhi Death Anniversary 2019 (Martyrs' Day): क्या सचपुच 'पेटू थे' बापू! पढ़ें बापू की खाने से जुड़ी आदतों के बारे में

    Mahatma Gandhi Death Anniversary 2019: आज राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि है. हम हर साल अलग-अलग दिन पर शहीद दिवस (Shaheed Diwas or Martyrs' Day) मनाते हैं. इन्हीं में से एक दिन 30 जनवरी (30th January) भी है. इस दिन राष्ट्रपति महात्मा गांधी (Rashtrapita Mahatma Gandhi)  की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.