NDTV Khabar

Manas mishra


'Manas mishra' - more than 1000 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • वाराणसी : L-3 अस्पताल बीएचयू में लापरवाही की खबरें, जिले में कोरोना से अब तक 75 की मौत

    वाराणसी : L-3 अस्पताल बीएचयू में लापरवाही की खबरें, जिले में कोरोना से अब तक 75 की मौत

    वाराणसी में कोरोना का कहर जारी है. मरीजों की संख्या रुकने का नाम नहीं ले रही है.  इसके साथ ही L3 के अस्पताल बीएचयू से इलाज में लापरवाही की खबरें भी आ रही हैं. ताज़ा मामला एक वरिष्ठ पत्रकार की मौत से जुड़ा है. कोरोना से हुई इस मौत के बाद मीडियार्मियों में दुखी हैं और उनका कहना है कि यहां भी इलाज ठीक से नहीं हो पा रहा है. हिंदी अखबार में काम करने वाले पत्रकार राकेश चतुर्वेदी का कोरोना की वजह से बीती रात मौत हो गई है. पत्रकार विक्रांत दुबे ने का कहना है कि राकेश को सांस लेने में तकलीफ थी उनके परिवार ने काफी मशक्कत के बाद अस्पताल में भर्ती करवाया पाया था.  

  • किसी के भी साथ भेदभाव नहीं होगा : जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल मनोज सिन्हा

    किसी के भी साथ भेदभाव नहीं होगा : जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल मनोज सिन्हा

    जम्मू-कश्मीर में नियुक्त नए उप राज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा है कि कश्मीर भारत का स्वर्ग है. उनको यहां पर एक भूमिका निभाने की जिम्मेदारी दी गई है. सिन्हा ने कहा कि 5 अगस्त एक अहम तारीख है, सालों तक अलग रहने वाला जम्मू-कश्मीर मुख्य धारा में लौटा है. कई सारे प्रोजेक्ट यहां सालों बाद शुरू हो गए हैं. अब उनकी जिम्मेदारी है कि इनको आगे बढ़ाएं. मनोज सिन्हा ने आश्वासन दिया कि अब यहां किसी के साथ भेदभाव नहीं किया जाएगा. संवैधानिक शक्ति का इस्तेमाल अब लोगों की कल्याण में किया जाएगा.  सिन्हा ने कहा, 'मैं वादा करता हूं कि लोगों की उनकी समस्याएं सुनी जाएंगी और उनका समाधान निकाला जाएगा. मेरा उद्देश्य यहां विकास को आगे बढ़ाना है'. 

  • धार्मिक नेताओं, संगठनों के सम्मान को ठेस पहुंचाने वाली रिपोर्टिंग पर रोक के लिए याचिका

    धार्मिक नेताओं, संगठनों के सम्मान को ठेस पहुंचाने वाली रिपोर्टिंग पर रोक के लिए याचिका

    इलेक्ट्रॉनिक चैनलों मे प्रेस की स्वतंत्रता के नाम पर व्यक्तियों, समुदायों, धार्मिक संतों, धार्मिक और राजनीतिक संगठनों की 'गरिमा की हत्या' को प्रतिबंधित करने के लिए दिशा- निर्देश जारी करने की मांग की गई है. वकील रीपक कंसल ने  याचिका में मांग की है कि सुप्रीम कोर्ट केंद्र सरकार को आदेश दे कि वो चैनलों के लिए दिशा-निर्देश जारी करे. उन्होंने इलेक्ट्रॉनिक चैनलों को 'अनियंत्रित और अनियमित' प्रसारण चैनलों को नियंत्रित करने की भी मांग की है. याचिका में केंद्र सरकार को मीडिया ट्रायल, समानांतर ट्रायल, न्यायिक विचारों और न्याय प्रशासन में दखल देने पर रोक लगाने के लिए उचित आदेश जारी करने की भी मांग की गई.

  • बासमती चावल की वजह से मध्यप्रदेश और पंजाब के मुख्यमंत्रियों में ठनी

    बासमती चावल की वजह से मध्यप्रदेश और पंजाब के मुख्यमंत्रियों में ठनी

    बासमती चावल की वजह से मध्यप्रदेश और पंजाब के मुख्यमंत्रियों में ठन गई है. मामला प्रधानमंत्री दफ्तर तक पहुंच गया है. 'कड़कनाथ' मुर्गे के बाद मध्यप्रदेश ने बासमती चावल के जीआई टैग के लिए फिर अपना दावा ठोका है. जवाब में पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने प्रधानमंत्री को पत्र‍ लिखकर कहा है कि मध्यप्रदेश बासमती उगाने वाले विशेष क्षेत्र में नहीं आता. ऐसे में उसे बासमती का जीआई टैग देना जीआई टैगिंग के उद्देश्य को ही बर्बाद कर देगा. मध्यप्रदेश में तो 27 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हैं, किसानों की कर्जमाफी, बिजली बिल, यूरिया जैसे मुद्दे तो हैं ही, अब दो राज्यों के बीच चावल युद्ध से भी कांग्रेस-बीजेपी के बीच नई लड़ाई शुरू हो गई है.

  • राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 21वीं सदी के नए भारत की नींव रखेगी, PM मोदी ने कहीं 10 बड़ी बातें

    राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 21वीं सदी के नए भारत की नींव रखेगी, PM मोदी ने कहीं 10 बड़ी बातें

    नई शिक्षा नीति पर आयोजित एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि बीते अनेक वर्षों से हमारे शिक्षा व्यवस्था में बड़े बदलाव नहीं हुए थे. परिणाम ये हुआ कि हमारे समाज में उत्सुकता और कल्पनाशीलता को बढ़ावा देने के बजाए भेड़ चाल को प्रोत्साहन मिलने लगा था. पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति के संदर्भ में आज का ये इवेंट बहुत महत्वपूर्ण है. इस कॉन्क्लेव से भारत के शिक्षा जगत को राष्ट्रीय शिक्षा नीति के विभिन्न पहलुओं के बारे में विस्तृत जानकारी मिलेगी. नेशनल एजुकेशन पॉलिसी के संदर्भ में आज का ये कार्यक्रम बहुत महत्वपूर्ण है. इस कार्यक्रम से भारत के शिक्षा जगत को नेशनल एजुकेशन पॉलिसी के बारे में विस्तृत जानकारी मिलेगी. जितनी जानकारी स्पष्ट होगी, उतनी ही आसानी से इसका क्रियान्वयन भी होगा. राष्ट्रीय शिक्षा नीति आने के बाद देश के किसी भी क्षेत्र से, किसी भी वर्ग से ये बात नहीं उठी कि इसमें किसी तरह का भेदभाव है, या किसी एक ओर झुकी हुई है. पीएम मोदी ने कहा कि नई शिक्षा नीति को अमल में लाने के लिए हम सभी को एकसाथ संकल्पबद्ध होकर काम करना है. हम उस युग की तरफ बढ़ रहे हैं, जहां कोई व्यक्ति जीवन भर किसी एक प्रोफेशन में ही नहीं टिका रहेगा.

  • मुंबई पुलिस रिया का साथ दे रही है, जांच में नहीं किया सहयोग : बिहार पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट में कहा

    मुंबई पुलिस रिया का साथ दे रही है, जांच में नहीं किया सहयोग : बिहार पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट में कहा

    बिहार पुलिस ने SC में हलफनामा दायर कर रिया चक्रवर्ती और उनके परिवार के सदस्यों पर सुशांत सिंह राजपूत के साजिशन संपर्क में रहने का आरोप लगाया है. जिसका मकसद अभिनेता के करोड़ों रुपए हड़पना और बाद में उनकी मानसिक बीमारी की झूठी तस्वीर पेश करना बताया गया है । वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा SC में दायर हलफनामे में कहा है कि रिया चक्रवर्ती  सुशांत राजपूत को अपने घर ले गई और उन्हें दवा का ओवरडोज देना शुरू कर दिया. बिहार पुलिस का कहना है कि उसे मुंबई पुलिस के असहयोग के बावजूद जांच में कई सुराग पाए हैं और SC को बताया है कि सुराग भारत में कई स्थानों पर बिखरे हुए हैं। बिहार पुलिस ने राजपूत की रहस्यमय आत्महत्या की मौत की सीबीआई जांच का सुझाव दिया है. 

  • अंग्रेजों के समय से चला आ रहा रेलवे में 'खलासी सिस्टम' होगा खत्म, नहीं होंगी नई भर्तियां

    अंग्रेजों के समय से चला आ रहा रेलवे में 'खलासी सिस्टम' होगा खत्म, नहीं होंगी नई भर्तियां

    भारतीय रेलवे ने खलासी के पद खत्म करने का ऐलान किया है. रेलवे की ओर से कहा गया है कि खलासी के पद औपनिवेशिक काल और अब इन पदों पर कोई भर्ती नहीं होगी. दरअसल खलासी का काम अंग्रेजों के शासन के काल में रेलवे के अधिकारियों के आवासों में तैनात चपरासियों की तरह होती थी. 6 अगस्त को रेलवे बोर्ड की ओर से जारी आदेश के मुताबिक खलासी के पदों की समीक्षा की जा रही है और फैसला लिया गया है कि अब इन पदों पर कोई भर्ती नहीं की जाएगी.  इसके अलावा 1 जुलाई 2020 से इन पदों पर की गई नियुक्तियों को भी समीक्षा की जाएगी.

  • भारत और अमेरिका के विदेश मंत्रियों की फोन पर गुरुवार को क्या बात हुई?

    भारत और अमेरिका के विदेश मंत्रियों की फोन पर गुरुवार को क्या बात हुई?

    चीन के साथ जारी विवाद और कोरोना के संक्रमण को लेकर भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अमेरिका में अपने समकक्ष माइक पोम्पियो से बात की है. दोनों नेताओं ने फोन पर आपसी सहयोग को और बढ़ाने पर जोर दिया है. मिली जानकारी के मुताबिक अंतरराष्ट्रीय चुनौतियों जैसे कोरोना महामारी, हिंद और प्रशांत महासागर इलाके पर  द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर बात हुई है. अमेरिका सरकार के प्रवक्ता केल ब्राउन ने बताया कि दोनों विदेश मंत्रियों ने भारतीय उपमहाद्वीप में शांति, उन्नति और सुरक्षा जैसे मुद्दों को देखते हुए भारत-अमेरिका संबंधों को और मजबूत करने की इच्छा जताई है. 

  • जो नारा प्रियंका गांधी ने लगाया, उसे अयोध्या में PM मोदी ने भी दोहराया! बड़े बदलाव के हैं संकेत?

    जो नारा प्रियंका गांधी ने लगाया, उसे अयोध्या में PM मोदी ने भी दोहराया! बड़े बदलाव के हैं संकेत?

    अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन के साथ ही इस बात के भी संकेत मिल रहे हैं कि देश में अब कुछ राजनीतिक पार्टियों को छोड़ दिया जाए तो कांग्रेस सहित, सपा, बीएसपी राम नाम का जप जपने में पीछे नहीं दिखना चाहती हैं. सबसे बड़ी बात कांग्रेस भी इस अब राम के नाम पर चूकना नहीं चाहती है. राम मंदिर आंदोलन ने जहां बीजेपी को सबसे बड़ा दल बनाया तो कांग्रेस दूसरी ओर रसातल में जाती दिखाई दी. दरअसल इसके पीछे कांग्रेस का कन्फ्यूजन भी बड़ी वजह थी. लेकिन यहां एक बार और ध्यान देने की है कि जब अयोध्या में साल 1986 में उस समय मंदिर का ताला खोला गया तो केंद्र में राजीव गांधी की अगुवाई में कांग्रेस की ही सरकार थी. इसके बाद 6 दिसंबर 1992 की घटना के समय भी केंद्र में पीवी नरसिम्हाराव की अगुवाई में कांग्रेस की सरकार थी. लेकिन इन दो घटनाओं के बीच कांग्रेस हमेशा दोराहे पर खड़ी नजर आई. इसका नतीजा ये हुआ है कि बीजेपी के अलावा उत्तर प्रदेश में सपा और बीएसपी जैसी पार्टियों का उभार हुआ और कांग्रेस पूरी तरह से साफ हो गई.

  • 'जय श्री राम' से 'जय सिया राम': PM मोदी का नया नारा, बीजेपी की नई रणनीति?

    'जय श्री राम' से 'जय सिया राम': PM मोदी का नया नारा, बीजेपी की नई रणनीति?

    अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वहां आए लोगों को संबोधित किया. लेकिन भाषण की शुरुआत में उन्होंने सबसे पहले जानकी माता को याद किया और जय सिया राम का नारा दिया. इस नारे के साथ उनकी पार्टी बीजेपी की ने भी एक अहम पड़ाव तय कर लिया है.. 90 के दशक में लालकृष्ण आडवाणी की सोमनाथ से अयोध्या तक की यात्रा के दम पर 2 सीटों से 85 सीटों तक पहुंची बीजेपी का एक समय प्रमुख नारा 'जय श्री राम' था. इस नारे में आक्रमकता थी जिसने उस समय के युवाओं को खूब लुभाया था.

  • 'भय बिनु होई न प्रीति'.....PM मोदी के 5 बड़े बयान जिन पर हो रही है चर्चा

    'भय बिनु होई न प्रीति'.....PM मोदी के 5 बड़े बयान जिन पर हो रही है चर्चा

    अयोध्या में राम मंदिर के लिए भूमि पूजन के बाद पीएम मोदी ने वहां लोगों को भी संबोधित किया. उन्होंने अपने भाषण की शुरुआत 'जय सिया राम' से की है. उन्होंने कहा कि आज यह पूरे दुनिया में गूंज रहा है और कहा कि आज पूरा देश राममय हो गया है. आज उनके भाषण की खास बात ये रही है कि उन्होंने जय श्री राम की जगह, जय सिया राम का नारा लगाया है. इससे पहले मंदिर आंदोलन से जुड़े नेता जय श्री राम का नारा लगाते थे. प्रधानमंत्री मोदी ने आज परंपरागत धोती-कुर्ता पहन रखा था. उनके साथ राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, संघ प्रमुख मोहन भागवत और सीएम योगी आदित्यनाथ मौजूद थे.

  • 29 साल बाद अयोध्या पहुंचे पीएम मोदी ने रामलला को किया साष्टांग प्रणाम, बने पहले प्रधानमंत्री, देखें Video

    29 साल बाद अयोध्या पहुंचे पीएम मोदी ने रामलला को किया साष्टांग प्रणाम, बने पहले प्रधानमंत्री, देखें Video

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में हनुमानगढ़ी के दर्शन करने के बाद जब सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ भूमि पूजन स्थल पर पहुंचे तो वहां विराजमान रामलला की मूर्तियों के सामने साष्टांग लेटकर प्रणाम किया है. आपको बता दें कि रामलला के दर्शन करने वाले पहले प्रधानमंत्री बन गए हैं. इसके साथ ही वह हनुमान गढ़ी के दर्शन करने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री बन गए हैं. आपको बता दें कि पीएम मोदी 29 साल बाद अयोध्या पहुंचे हैं. इससे पहले वह राम मंदिर आंदोलन के समय यहां आए थे. भूमि पूजन के दौरान पीएम मोदी के साथ यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और सीएम योगी आदित्यनाथ मौजूद थे. इससे पहले हनुमानगढ़ी के दर्शन के दौरान भी पीएम मोदी के साथ सिर्फ सीएम योगी मौजूद थे. 

  • अयोध्या : PM मोदी के प्लेन से उतरते ही CM योगी ने कुछ इस तरह किया स्वागत, देखें Video

    अयोध्या : PM मोदी के प्लेन से उतरते ही CM योगी ने कुछ इस तरह किया स्वागत, देखें Video

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या पहुंच गए हैं और हनुमानगढ़ी में दर्शन करने के बाद अब वह भूमिपूजन स्थल पर पहुंच गए हैं. उन्होंने रामलला के दर्शन करते हुए साष्टांग प्रमाण किया है. इससे पहले जब वह विशेष विमान से अयोध्या पहुंचे तो उनके स्वागत के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ खड़े सहित कई लोग खड़े हुए थे. इसके बाद हनुमानगढ़ी में दर्शन के दौरान पीएम मोदी के साथ सिर्फ सीएम योगी आदित्यनाथ ही नजर आ रहे थे. पीएम मोदी ने रामलला के दर्शन के बाद पारिजात के पौधे का रोपड़ किया. हालांकि आज के भूमि पूजन में अभी नींव नहीं खोदी जाएगी क्योंकि अभी तक मंदिर का नक्शा अयोध्या विकास बोर्ड की ओर से पास नहीं है. 

  • Ayodhya Ram Mandir Bhumi Pujan Updates: अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन पर किसने क्या कहा

    Ayodhya Ram Mandir Bhumi Pujan Updates: अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन पर किसने क्या कहा

    अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन को लेकर तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. इसमें बीजेपी, कांग्रेस, सपा, टीएमसी सहित तमाम दलों के नेता बयान दे रहे हैं. इस सबमें राम मंदिर आंदोलन के प्रमुख पुरोधा लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी इस कार्यक्रम में नहीं पहुंच रहे हैं. हालांकि आडवाणी की ओर से एक संदेश जरूर जारी किया गया है. उन्होंने कहा कि राम मंदिर एक एक शांतिपूर्ण सौहार्दपूर्ण राष्ट्र के रूप में भारत का प्रतिनिधित्व करेगा जहां सबके लिए न्याय होगा और कोई भी बहिष्कृत नहीं होगा, ताकि देश 'राम राज्य' की ओर अग्रसर हो, जो 'सुशासन का प्रतिमान' है. आडवाणी को रामजन्मभूमि आंदोलन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए जाना जाता है.  भाजपा अध्यक्ष के रूप में राम मंदिर निर्माण के लिए जनता को लामबंद करने के मकसद से आडवाणी ने साल 1990 में ‘‘राम रथ यात्रा’’ निकाली थी. 

  • जम्मू-कश्मीर : BJP कार्यकर्ता ने अनंतनाग के लालचौक पर फहराया तिरंगा

    जम्मू-कश्मीर : BJP कार्यकर्ता ने अनंतनाग के लालचौक पर फहराया तिरंगा

    जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 और 35ए को हटाए जाने के एक साल पूरे हो गए हैं. इस मौके पर बीजेपी कार्यकर्ता रोमौसा रफीक ने अनंतनाग के लाल चौक पर तिरंगा फहराकर सलामी दी है. आपको बता दें कि बीते साल इसी आज के ही दिन गृहमंत्री अमित शाह ने संसद में अनुच्छेद 370 हटाने का ऐलान किया था. इस पर संसद में काफी विवाद और बहस हुई थी. लेकिन सरकार ने इसे हटाकर जनसंघ-बीजेपी के अपने एजेंडे को पूरा किया था.

  • अयोध्या में PM मोदी पारिजात के पौधे का करेंगे रोपण, बगल में गाड़ेंगे पानी से भरा मटका

    अयोध्या में PM मोदी पारिजात के पौधे का करेंगे रोपण, बगल में गाड़ेंगे पानी से भरा मटका

    Ayodhya Ram Mandir : पीएम मोदी आज अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन के साथ-साथ एक पारिजात के पौधे का भी रोपण करेंगे. लेकिन इस पौधे को कैसे लगाया जाएगा इस बात की भी जानकारी दी है.

  • आज संविधान की इस मूल भावना को आप सभी से शेयर करने का मन हुआ : रविशंकर प्रसाद

    आज संविधान की इस मूल भावना को आप सभी से शेयर करने का मन हुआ : रविशंकर प्रसाद

    अयोध्या में आज राम मंदिर निर्माण को लेकर होने जा रहे भूमि पूजन के लिए भव्य तैयारियां हैं. पीएम मोदी 11:30 बजे अयोध्या पहुंच जाएंगे. इसके अलावा मुख्य अतिथि के तौर पर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मौजूद रहेंगे. इसके अलावा 200 दूसरे विशिष्ट अतिथियों को आमंत्रित किया गया है जिसमें कई साधु-संत शामिल हैं. इस कार्यक्रम को लेकर सभी राजनीतिक दलों की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं.

  • 1528 से लेकर 5 अगस्त 2020 तक अयोध्या को लेकर क्या-क्या हुआ, पढ़ें पूरी टाइमलाइन

    1528 से लेकर 5 अगस्त 2020 तक अयोध्या को लेकर क्या-क्या हुआ, पढ़ें पूरी टाइमलाइन

    अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए आज भूमिपूजन सहित कई कार्यक्रम हैं. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अलावा तमाम बडे राजनेता और साधु संतों सहित 175 आमंत्रित लोग इस ऐतिहासिक अवसर के साक्षी बनेंगे. पीएम मोदी सुबह 11:30 बजे से लेकर करीब 3 घंटे तक अयोध्या में रहेंगे. स्थानीय लोगों का कहना है कि जो अयोध्या शहर पता नहीं कितने सालों तक विवाद का केंद्र बना रहा आज उसे पहली बार इतनी खूबसूरती सजाया गया है. अयोध्या सालों तक विवाद का केंद्र रही है. करीब 100 साल से ज्यादा तक कानूनी और राजनीतिक लड़ाई के बाद आखिरकार रामलला के लिए आज राम मंदिर निर्माण का काम शुरू कर दिया जाएगा. बीते साल 9 नवंबर 2019 को सुप्रीम कोर्ट की 5 सदस्यीय संवैधानिक पीठ ने इसका फैसला सुनाया था. सुप्रीम कोर्ट ने फैसले में कहा था कि सुन्नी वक्फ बोर्ड इस विवादित जमीन पर अपना मालिकान हक साबित नहीं कर पाया है. वहीं पुरातत्व विभाग की ओर से दी गई रिपोर्ट में भी वहां मंदिर होने के प्रमाण पेश किए गए हैं. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने भी यह कहा कि पुरातत्व विभाग ये बात नहीं बता पाया है कि क्या वहां पर किसी मंदिर को गिराकर मस्जिद बनाई गई थी. सुप्रीम कोर्ट ने कहा मुस्लिम पक्ष को विवादित स्थल से दूर 5 एकड़ जमीन मस्जिद बनाने के लिए देने का भी आदेश दिया.

  • अयोध्या : 'शरीफ चाचा' को भी मिला भूमि पूजन में आने का निमंत्रण

    अयोध्या : 'शरीफ चाचा' को भी मिला भूमि पूजन में आने का निमंत्रण

    पिछले करीब 27 बरस से लावारिस शवों का अंतिम संस्कार कर मानवता की सेवा करने वाले अयोध्या के मकबूल बाशिंदे पद्मश्री मोहम्मद शरीफ उर्फ शरीफ चाचा को भी बुधवार को होने वाले राम मंदिर शिलान्यास कार्यक्रम में शिरकत का न्योता मिला है.  शरीफ के बेटे मोहम्मद सगीर ने मंगलवार को 'भाषा' को बताया कि करीब 82 वर्षीय उनके पिता को श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की ओर से भेजा गया निमंत्रण मंगलवार को दोपहर में मिला है. हालांकि उन्होंने यह कहा कि उनके पिता को पिछले कुछ समय से गुर्दों की बीमारी के कारण काफी परेशानी हो रही है और वह ठीक से चल भी नहीं पा रहे, लिहाजा वह कार्यक्रम में शरीक हो पाएंगे, इसमें संदेह है. 

  • अयोध्या में होने जा रहे भूमि पूजन पर क्या कहा रावण के पुजारी ने?

    अयोध्या में होने जा रहे भूमि पूजन पर क्या कहा रावण के पुजारी ने?

    अयोध्या से 650 किलोमीटर दूर नोएडा में रावण के मंदिर के पुजारी को भी राम नगरी में भव्य मंदिर के शिलान्यास की घड़ी का बेसब्री से इंतजार है. गौतम बुद्ध नगर के बिसरख इलाके में रावण का मंदिर स्थित है. उसके पुजारी महंत रामदास का कहना है कि पांच अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन का उन्हें बेसब्री से इंतजार है और यह रस्म संपन्न होने के बाद वह लोगों में मिठाई बाटेंगे.  महंत रामदास ने ''पीटीआई-भाषा'' से टेलीफोन पर बातचीत में कहा' अगर रावण ना होता, तो कोई भी श्री राम को नहीं जानता और अगर राम नहीं होते तो दुनिया को रावण के बारे में नहीं पता चलता'. उन्होंने कहा कि वह अयोध्या में राम मंदिर के शिलान्यास को लेकर बेहद प्रसन्न हैं. शिलान्यास के बाद वह लोगों में लड्डू बांट कर खुशी मनाएंगे. मंदिर का शिलान्यास एक बहुत शुभ घटनाक्रम है. वहां भव्य राम मंदिर का निर्माण होने पर उन्हें बहुत खुशी होगी. 

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com