NDTV Khabar

Manas mishra


'Manas mishra' - 339 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • केजरीवाल का धरना, दिल्ली में ममता बनर्जी की 'अतिसक्रियता' और यह तस्वीर, आखिर क्या है इसके पीछे की राजनीति

    केजरीवाल का धरना, दिल्ली में ममता बनर्जी की 'अतिसक्रियता' और यह तस्वीर, आखिर क्या है इसके पीछे की राजनीति

    क्या दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के धरना राष्ट्रीय राजनीति में पर्दे के पीछे खेले जा रहे खेल का एक जरिया बन गया है जिसका नतीजा 2019 के लोकसभा चुनाव में देखने को मिल सकता है. एक और जहां कांग्रेस, एनडीए के सामने बड़ा गठबंधन बनाने की कोशिश में सभी क्षेत्रीय पार्टियों के साथ समझौता करने के राजी है वहीं टीएमसी नेता ममता बनर्जी ने पिछले दो दिनों में जिस तरह की सक्रियता दिखाई है उससे लगता है कि वह खुद को तीसरे मोर्चे की नेता के तौर प्रोजेक्ट रही रही हैं

  • नीति आयोग की बैठक LIVE : विशेष राज्य का दर्जा देने के मुद्दे पर नीतीश कुमार ने आंध्र के सीएम का किया समर्थन

    नीति आयोग की बैठक LIVE : विशेष राज्य का दर्जा देने के मुद्दे पर नीतीश कुमार ने आंध्र के सीएम का किया समर्थन

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में  नीति आयोग कि संचालन समिति की बैठक शुरू हो गई है. इस बैठक में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सहित दिल्ली, गोवा, जम्मू-कश्मीर, ओडिशा, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा के मुख्यमंत्री शामिल नहीं हुये हैं. आज बैठक का पहला दिन है. ​​पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में शनिवार को कहा , ‘‘ नीति आयोग की गवर्निंग काउन्सिल की कल होने वाली चतुर्थ बैठक का इंतजार है. विभिन्न क्षेत्रों से संबंधित महत्वपूर्ण नीतियों को लागू करने पर बैठक में चर्चा की जाएगी.’’ एक आधिकारिक वक्तव्य में कल बताया गया था कि किसानों की आय दोगुनी करने के लिये उठाए गए कदमों और सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजनाओं पर हुई प्रगति समेत विभिन्न मुद्दों पर चर्चा होगी.​

  • अखिलेश यादव की एक चाल ने तय कर दी BJP की हार, क्या आगे कामयाब होगा यह फॉर्मूला?

    अखिलेश यादव की एक चाल ने तय कर दी BJP की हार, क्या आगे कामयाब होगा यह फॉर्मूला?

    कैराना लोकसभा उपचुनाव  में जीत के साथ ही एक तरह से अजित सिंह की पार्टी राष्ट्रीय लोकदल का एक बार फिर से पुर्नजन्म हुआ है. इसके साथ ही आरएलडी प्रत्याशी तबस्सुम हसन इस लोकसभा के लिये यूपी से पहली मुस्लिम सांसद बन गई हैं. सपा, बीएसपी, कांग्रेस और आरएलडी की संयुक्त ताकत के आगे बीजेपी की सारी रणनीति फेल होती नजर आई और कैराना, नूरपुर में की सीटें बीजेपी के हाथ से निकल गई.

  • कर्नाटक में सरकार बनाने से पहले कांग्रेस और जेडीएस में मतभेद, कितने दिन चलेगी सरकार, 15 खास बातें

    कर्नाटक में सरकार बनाने से पहले कांग्रेस और जेडीएस में मतभेद, कितने दिन चलेगी सरकार, 15 खास बातें

    कर्नाटक के नामित मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के साथ सोमवार को यूपीए की अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ मुलाकात के बाद कांग्रेस ने संदेश दिये हैं कि वह इस जेडीएस के साथ इस गठबंधन को विस्तार देगी. कांग्रेस इस गठबंधन को 2019 के लोकसभा चुनाव के हिसाब से आगे बढ़ाना चाहती है. लेकिन कर्नाटक में इस सरकार के गठन से पहले कांग्रेस और जेडीएस के बीच मतभेद की खबरें आने रही हैं. ऐसे में लोगों का कहना है कि आखिर यह सरकार कितनी चलेगी. दूसरी ओर एचडी कुमारस्वामी अपने शपथ ग्रहण को विपक्षी एकता का मेगा शो बनाने की तैयारी में हैं. उन्होंने कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों और नेताओं को आमंत्रित किया है.

  • गठबंधन सरकारों का इतिहास : स्वार्थ, सौदेबाजी और धोखा...

    गठबंधन सरकारों का इतिहास : स्वार्थ, सौदेबाजी और धोखा...

    कर्नाटक में कांग्रेस और JDS मिलकर सरकार बनाने जा रही है. 23 मई को कुमारस्वामी राज्य के CM पद की शपथ लेंगे. खबर मिल रही है कि राज्य में मुख्यमंत्री को मिलाकर कुल 34 मंत्री होने की उम्मीद है, जिनमें 20 कांग्रेस के, और मुख्यमंत्री को मिलाकर 14 मंत्री JDS से होंगे.

  • ये हैं वो 5 रास्ते, जिससे बीएस येदियुरप्पा कर्नाटक विधानसभा में साबित कर सकते हैं बहुमत

    ये हैं वो 5 रास्ते, जिससे बीएस येदियुरप्पा कर्नाटक विधानसभा में साबित कर सकते हैं बहुमत

    सीएम के तौर पर अपना कई भी कार्यकाल पूरा नहीं कर सके बीएस येदियुरप्पा शनिवार को कर्नाटक विधानसभा में बहुमत साबित करना है. राज्यपाल की ओर से पहले उन्हें 15 दिन का समय दिया था. उन्होंने शुक्रवार की सुबह ही कर्नाटक के नये सीएम के तौर पर शपथ ली है. आज इस मामले में सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि शनिवार को ही बहुमत साबित किया जाए. हालांकि बीजेपी की ओर से पेश हुए वकील मुकुल रोहतगी ने सोमवार तक का समय माना था. बात करें अभी विधायकों की संख्या की तो बीजेपी के पास 104 विधायक हैं और बहुमत के लिये 112 विधायक चाहिये. वहीं कांग्रेस के 78 और जेडीएस के 38 मिलाकर 116 विधायक हैं. इसके अलावा कांग्रेस का दावा है कि 2 निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन है. इन हालात में सीएम येदियुरप्पा के पास 5 विकल्प हो सकते हैं.

  • कर्नाटक चुनाव : जेडीएस हमारे साथ सरकार बनाने को तैयार, शाम को राज्यपाल को देंगे चिट्ठी- गुलाम नबी आजाद

    कर्नाटक चुनाव : जेडीएस हमारे साथ सरकार बनाने को तैयार, शाम को राज्यपाल को देंगे चिट्ठी- गुलाम नबी आजाद

    कर्नाटक विधानसभा चुनाव में बीजेपी को अब बहुमत से पीछे जाती दिखाई दे रही है. अब कांग्रेस की कोशिश की है कि किसी भी तरीके से बीजेपी को सत्ता से बाहर रखा जाये. इसी बीच सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि कांग्रेस नेता सोनिया गांधी ने जेडीएस के नेता एचडी देवेगौड़ा से बात की है और एचडी कुमारस्वामी को मुख्यमंत्री पद का ऑफर दिया है.

  • कर्नाटक चुनाव परिणाम: सिद्धारमैया का सबसे बड़ा दांव क्या कांग्रेस पर ही पड़ा भारी? BJP की जीत के 10 बड़े कारण

    कर्नाटक चुनाव परिणाम: सिद्धारमैया का सबसे बड़ा दांव क्या कांग्रेस पर ही पड़ा भारी? BJP की जीत के 10 बड़े कारण

    कर्नाटक में बीजेपी ने काफी बढ़त रही थी लेकिन एक बार फिर आंकड़े बदल रहे हैं और ऐसा लग रहा है कि बीजेपी बहुमत से थोड़ा पीछे रह जायेगी. लेकिन इतना तय हो गया है कि बीजेपी ही राज्य में सबसे बड़ी पार्टी की रूप में उबर ही है. आज शाम बीजेपी संसदीय बोर्ड की बैठक है और बताया जा रहा है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और येदियुरप्पा थोड़ी देर शाम को प्रेस कांन्फ्रेंस करेंगे. कर्नाटक चुनाव में बीजेपी की जीत के कारण रहे हैं. गौरतलब है कि कर्नाटक विधानसभा की 224 सीटों में से 222 सीटों पर मतदान हुआ था. दो सीटों पर चुनाव स्थगित कर दिया गया था. बहुमत के लिए 112 सीटें चाहिये और अभी मिल रहे रुझानों के मुताबिक बीजेपी को 100 से ज्यादा सीटें मिल रही हैं. ऐेसे हालात में जेडीएस को एक बार फिर से किंगमेकर बनने का मौका मिल सकता है.

  • कर्नाटक विधानसभा चुनाव परिणाम : 'हाथ' से कर्नाटक भी फिसला, कांग्रेस की हार की हैं ये 11 वजहें

    कर्नाटक विधानसभा चुनाव परिणाम : 'हाथ' से कर्नाटक भी फिसला, कांग्रेस की हार की हैं ये 11 वजहें

    कर्नाटक विधानसभा चुनाव कांग्रेस हार गई है. कांग्रेस ने भी इस हार को मान लिया है. लेकिन राहुल की अगुवाई में कांग्रेस का जीतना बहुत जरूरी था क्योंकि इसके नतीजों का असर राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ सहित लोकसभा के चुनाव में भी पड़ना तय है. इस चुनाव के बाद बीजेपी निश्चित तौर पर दक्षिण में और मजबूती हासिल करेगी. अभी तक के विश्लेषण के मुताबिक कांग्रेस का कोई भी दांव कर्नाटक में कारगर साबित नहीं हुआ. वहीं जेडीएस किंग और किंगमेकर की भूमिका का दावा कर रही अब किस ओर जायेगी ये देखने वाली बात होगी. गौरतलब है कि कर्नाटक की 224 विधानसभा सीटों में से 222 सीट के लिए मतदान 12 मई को हुआ था. इसमें 2 सीटों का चुनाव रद्द करना पड़ा था. कर्नाटक में बहुमत के लिए 112 सीटें चाहिये. सीएम सिद्धारमैया ने यहां पर साल 2013 में हुये चुनाव में बीजेपी सरकार को हरा दिया था.

  • Karnataka Election : कर्नाटक के नतीजे तय करेंगे 2019 की तस्वीर, इन 130 सीटों पर पड़ सकता है असर

    Karnataka Election : कर्नाटक के नतीजे तय करेंगे 2019 की तस्वीर, इन 130 सीटों पर पड़ सकता है असर

    कर्नाटक विधानसभा चुनाव  के नतीजे आज आने वाले हैं. चुनाव आयोग से मिली जानकारी के मुताबिक मतगणना 8 बजे शुरू हो जायेगी. राष्ट्रीय राजनीति के हिसाब से देखें तो बीजेपी और कांग्रेस दोनों के लिए यह चुनाव अहम साबित होगा. उपचुनाव में लगातार का हार का सामना कर रही बीजेपी की पूरी कोशिश है कि कर्नाटक में हर हाल में कमल जरूर खिले. वहीं कांग्रेस राज्य में सत्ता में बचाकर पूरे देश में साबित करना चाहती है कि वही देश में अच्छी और प्रभावी सरकार दे सकती है.

  • कर्नाटक विधानसभा चुनाव 2018: त्रिशंकु विधानसभा के बाद सभी की नजरें राज्यपाल पर, येदियुरप्‍पा बोले - सरकार तो बीजेपी की ही बनेगी

    कर्नाटक विधानसभा चुनाव 2018: त्रिशंकु विधानसभा के बाद सभी की नजरें राज्यपाल पर, येदियुरप्‍पा बोले - सरकार तो बीजेपी की ही बनेगी

    कर्नाटक विधानसभा चुनाव (Karnataka Election Results) नतीजों के मुताबिक, 222 सीटों के चुनाव परिणाम आ चुके हैं. जिसमें बीजेपी 104, कांग्रेस 78, जेडीएस 38, केपीजेपी व अन्‍य एक सीट पर चुनाव जीत चुके हैं.

  • पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव : बाप-बेटा, मां-बेटी, दामाद-ससुर, भाई-बहन एक दूसरे खिलाफ मैदान में, पत्नी भी बोली-पति को सबक सिखाऊंगी

    पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव : बाप-बेटा, मां-बेटी, दामाद-ससुर, भाई-बहन एक दूसरे खिलाफ मैदान में, पत्नी भी बोली-पति को सबक सिखाऊंगी

    पश्चिम बंगाल  में पंचायत चुनावों में कई जगहों पर परिवार के लोग एक-दूसरे को शिकस्त देने के लिए चुनावी मैदान में खड़े हैं और ऐसी जगहों पर मुकाबला काफी रोचक दिखता है. राज्य में 58,000 सीटों पर त्रिस्तरीय चुनाव हो रहा है.  ऐसी कई जगह हैं जहां बाप के खिलाफ बेटा और मां के खिलाफ बेटी चुनाव लड़ रही है. दामाद ससुर के खिलाफ चुनाव लड़ रहा है और भाई बहन के खिलाफ मैदान में है.

  • कर्नाटक : BJP के घोषणापत्र में ऐलान, कैबिनेट की पहली बैठक में किसानों का 1 लाख रुपये तक का कर्ज होगा माफ, 10 बड़ी बातें

    कर्नाटक : BJP के घोषणापत्र में ऐलान, कैबिनेट की पहली बैठक में किसानों का 1 लाख रुपये तक का कर्ज होगा माफ, 10 बड़ी बातें

    कर्नाटक विधानसभा चुनाव को लेकर आज बीजपी के सीएम पद के प्रत्याशी बीएस येदियुरप्पा की अगुवाई में पार्टी का घोषणापत्र जारी कर दिया गया है. इस मौके पर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर सहित राज्य के कई बड़े नेता मौजूद थे. पार्टी के घोषणापत्र में किसानों, महिलाओं का विशेष ध्यान रखा गया है. आपको बता दें कि कर्नाटक की 224 सदस्यीय विधानसभा चुनाव के लिए 12 मई को मतदान होगा और मतों की गणना 15 मई को होगी.

  • कर्नाटक चुनाव : पीएम मोदी के सामने इस बार कोई नेता नहीं, एक वजह बन सकती है सबसे बड़ी चुनौती, 10 बड़ी बातें

    कर्नाटक चुनाव : पीएम मोदी के सामने इस बार कोई नेता नहीं, एक वजह बन सकती है सबसे बड़ी चुनौती, 10 बड़ी बातें

    कर्नाटक विधानसभा चुनाव प्रचार में आज पीएम नरेंद्र मोदी पहली बार मैदान में होंगे. पीएम मोदी आज चामराजनगर जिले के सानतेमराहाली और बेलगावी के उडुपी तथा चिक्कोडी में रैलियों को संबोधित करेंगे. इससे पहले वह फरवरी में कर्नाटक आये थे. उडुपी रैली से पहले मोदी कृष्ठा मठ जा सकते हैं और वहां के मठाचार्य से मिल सकते हैं. कर्नाटक विधानसभा चुनाव बीजेपी के लिए काफी अहम है क्योंकि इसके नतीजे इसी साल होने वाले कई राज्यों के चुनाव जैसे राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में असर डाल सकते हैं क्योंकि पिछले कुछ उपचुनावों में बीजेपी के पक्ष में नतीजे नहीं आये हैं जो लोकसभा चुनाव को लेकर अच्छे संकेत नही हैं. दूसरी ओर कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजे दक्षिण के राज्यों में भी असर डालेंगे.

  • शत्रुघ्न सिन्हा पर पूरी बीजेपी क्यों है खामोश, इन 10 बयानों से पार्टी की खूब कराई है फजीहत

    शत्रुघ्न सिन्हा पर पूरी बीजेपी क्यों है खामोश, इन 10 बयानों से पार्टी की खूब कराई है फजीहत

    बिहार की पटना साहिब लोकसभा सीट से सांसद शत्रुघ्न सिन्हा अपनी ही पार्टी के सबसे बड़े 'शत्रु' हैं. उनकी हर राय पार्टी से अलग होती है फिर चाहे जीत हो या हार. कुछ दिन पहले तक वह पीएम मोदी पर सीधे निशाना नहीं साधते थे. लेकिन अब वह पीएम मोदी पर भी तंज कसने से नहीं चूकते नही हैं. हैरानी वाली बात यह है कि बीजेपी के तेज-तर्रार प्रवक्ता ही नहीं आलाकमान भी उनके बयानों पर पूरी तरह से खामोश है. हालांकि सूत्रों के हवाले से खबर है कि पार्टी अब ज्यादा बर्दाश्त करने के मूड में नहीं हैं और उचित समय पर कार्रवाही करने का मन बना चुकी है. इसी बीच शत्रुघ्न सिन्हा ने चुनौती भी दे डाली है कि कोई उन्हें पार्टी से निकालकर दिखाये. उन्होंने बीजेपी छोड़ चुके यशवंत सिन्हा के साथ मिलकर राष्ट्रीय मंच भी बना डाला है.

  • क्या है आपके शहर का हाल : मुंबई में पेट्रोल की कीमत 81 रुपये 93 पैसे प्रतिलीटर, डीजल ने भी तोड़ा रिकॉर्ड

    क्या है आपके शहर का हाल : मुंबई में पेट्रोल की कीमत 81 रुपये 93 पैसे प्रतिलीटर, डीजल ने भी तोड़ा रिकॉर्ड

    डीज़ल-पेट्रोल के दाम नए रिकॉर्ड बना रहे हैं. राजधानी दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 74 रुपये 8 पैसे प्रति लीटर पहुंच गए हैं. ये सितंबर 2014 के बाद ये सबसे ज़्यादा क़ीमत है. वहीं डीज़ल की क़ीमत दिल्ली में 65 रुपये 31 पैसे प्रति लीटर तक पहुंच गई है. डीज़ल इतना महंगा पहले कभी नहीं हुआ है.

  • अब एटा में मासूम के साथ रेप और हत्या, दरिंदगी की इन 9 घटनाओं पर हर कोई शर्मसार

    अब एटा में मासूम के साथ रेप और हत्या, दरिंदगी की इन 9 घटनाओं पर हर कोई शर्मसार

    देश में मासूम बच्चियों के साथ दरिंदगी थमने का नाम नहीं ले रही है. उत्तर प्रदेश के एटा में भी 8 साल की बच्ची के साथ रेप और हत्या का मामला सामने आया है. इस घटना में आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और पुलिस आगे की जांच कर रही है. अब समाजशास्त्रियों और मनोवैज्ञानिकों के लिए यह सवाल बन गया है कि आखिर मासूम बच्चियों के साथ रेप की वारदातें क्यों बढ़ती जा रही हैं

  • योगी सरकार की छवि को ये 8 मुद्दे पहुंचा रहे हैं नुकसान, 2019 में बीजेपी कैसे बचाएगी अपना गढ़

    योगी सरकार की छवि को ये 8 मुद्दे पहुंचा रहे हैं नुकसान, 2019 में बीजेपी कैसे बचाएगी अपना गढ़

    उत्तर प्रदेश में प्रचंड बहुमत के साथ जीतकर आई बीजेपी को सरकार बनाए एक साल से ज्यादा का वक्त हो गया है. अब पार्टी के सामने सबसे बड़ी चुनौती है 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव. 2014 में 71 सीटें जीतने वाली बीजेपी को इन सीटों को बचाना है. इसका सारा दारोमदार सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ के कंधों पर है.

Advertisement