NDTV Khabar

Manas mishra


'Manas mishra' - more than 1000 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • शिवसेना नेता नेता अरविंद सावंत ने मोदी सरकार के मंत्रिमंडल से दिया इस्तीफा, कहा- BJP वादे से मुकर गई

    शिवसेना नेता नेता अरविंद सावंत ने मोदी सरकार के मंत्रिमंडल से दिया इस्तीफा, कहा- BJP वादे से मुकर गई

    महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर जारी राजनीतिक घटनाक्रम के बीच, केंद्र में भारी उद्योग मंत्री एवं शिवसेना नेता अरविंद सावंत ने सोमवार को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार से इस्तीफा दे दिया और भाजपा पर सत्ता में हिस्सेदारी के तय फार्मूले से मुकरने का आरोप लगाया.  सावंत ने दिल्ली में संवाददाताओं से कहा, 'हमने विधानसभा चुनाव गठबंधन में लड़ा था. इसमें कुछ चीजों पर सहमति बनी थी' उन्होंने कहा कि इसमें मुख्यमंत्री पद सहित सीटों के 50-50 के अनुपात में बंटवारे का फार्मूला तय हुआ था लेकिन बीजेपी अब इससे इनकार कर रही है.

  • Maharashtra News: अज्ञात जगह पर मिले शरद पवार और उद्धव ठाकरे, कांग्रेस सैद्धांतिक रूप से समर्थन देने को राजी

    Maharashtra News: अज्ञात जगह पर मिले शरद पवार और उद्धव ठाकरे, कांग्रेस सैद्धांतिक रूप से समर्थन देने को राजी

    शरद पवार और उद्धव ठाकरे की किसी अज्ञात जगह पर मुलाकात हुई है.  कांगेस  सैद्धांतिक तौर पर समर्थन को तैयार है. सिर्फ सरकार में रहकर या बाहर से ये फैसला होना बाकी है. NCP चाहती है कि कांग्रेस सरकार में शामिल हो. वहीं केंद्रीय कैबिनेट में शामिल के एक मात्र मंत्री अरविंद सावंत ने मंत्रिमंडल से अपना त्यागपत्र दे दिया है.

  • कांग्रेस की बैठक खत्म, शिवसेना को समर्थन देने पर कुछ भी साफ नहीं, NCP भी अकेले नहीं लेना चाहती रिस्क, 10 बड़ी बातें

    कांग्रेस की बैठक खत्म, शिवसेना को समर्थन देने पर कुछ भी साफ नहीं, NCP भी अकेले नहीं लेना चाहती रिस्क, 10 बड़ी बातें

    बीजेपी-शिवसेना का क़रीब 30 साल पुराना रिश्ता टूट गया है और वह एनडीए से बाहर आ गई है. शिवसेना के इकलौते केंद्रीय मंत्री अरविंद सावंत ने मोदी मंत्रिमंडल से इस्तीफ़े का ऐलान कर दिया. शिवसेना नेता संजय राउत ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर कहा कि बीजेपी अपने वादे से मुकर गई और विपक्ष में बैठने का फ़ैसला जनता के अपमान जैसा है. इधर राज्य में बदले समीकरण के एनसीपी कोर कमेटी की बैठक भी है. वहीं दिल्ली में सोनिया गांधी के घर कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक शुरू हो गई है. इधर सरकार गठन की कवायद को लेकर उद्धव ठाकरे आज शरद पवार से मिल सकते हैं. वहीं शिवसेना नेता संजय राउत दिल्ली आकर कांग्रेस आलाकमान सोनिया गांधी से मिल सकते हैं.

  • चार्टर प्लेन में जन्मदिन मनाते तेजस्वी यादव की तस्वीरें वायरल, तो JDU ने कहा- शर्म आनी चाहिए

    चार्टर प्लेन में जन्मदिन मनाते तेजस्वी यादव की तस्वीरें वायरल, तो JDU ने कहा- शर्म आनी चाहिए

    आरजेडी नेता तेजस्वी यादव  की कुछ तस्वीरें वायरल हो रही हैं जिसमें वह एक चार्टर प्लेन में शानदार अंदाज में जन्मदिन का केक काटते नजर आ रहे हैं. लेकिन आपको बता दें वह इस प्लेन से रांची से पटना आ रहे थे. तस्वीर में उनके साथ प्लेन में विधायक भोला यादव भी मौजूद हैं

  • अगर BJP,पीडीपी से हाथ मिला सकती है तो शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के साथ क्यों नहीं : संजय राउत

    अगर BJP,पीडीपी  से हाथ मिला सकती है तो शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के साथ क्यों नहीं : संजय राउत

    शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा है कि बीजेपी के मुख्यमंत्री पद साझा ना करने के अहंकार के कारण मौजूदा स्थिति उत्पन्न हुई. उन्होंने कहा कि यह बीजेपी का अहंकार ही है कि वह समझौते की बात न मानकर विपक्ष में बैठने को तैयार है लेकिन सरकार बनाने के लिए राजी नहीं है.

  • झारखंड : भ्रष्टाचार का उजागर करने वाले BJP नेता सरयू राय 'होल्ड' पर, और उसी केस के आरोपी को टिकट

    झारखंड : भ्रष्टाचार का उजागर करने वाले BJP नेता सरयू राय 'होल्ड' पर, और उसी केस के आरोपी को टिकट

    भारतीय जनता पार्टी ने भ्रष्टाचार से समझौता कर लिया है. कम से कम झारखंड में तो यही लगता है. जिस बीजेपी ने वहां मधु कोड़ा और उनके सहयोगियों द्वारा किया गए घोटाले को उजागर किया उसने चुनाव की घोषणा होने से पहले उस घोटाले के एक मुख्य आरोपी भानु प्रताप शाही को पार्टी में शामिल करा लिया.

  • महाराष्ट्र में सरकार बनाने की कवायद का Updates: महाराष्‍ट्र के राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी ने NCP से सरकार गठन के लिए पूछा

    महाराष्ट्र में सरकार बनाने की कवायद का Updates: महाराष्‍ट्र के राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी ने NCP से सरकार गठन के लिए पूछा

    महाराष्ट्र में सियासी समीकरण ने करवट ले ली है. लंबी खींचतान के बाद आख़िरकार बीजेपी ने सरकार बनाने से इनकार कर दिया. अब राज्यपाल ने शिवसेना को चिट्ठी लिखकर सरकार बनाने की इच्छाशक्ति और समर्थता पर जवाब मांगा है. शिवसेना कांग्रेस और एनसीपी के समर्थन से सरकार बनाने को तैयार दिख रही है. लेकिन समर्थन से पहले एनसीपी ने शिवसेना के सामने एनडीए से बाहर आने की शर्त रख दी है, जिसके बाद शिवसेना बीजेपी से 30 साल पुरानी दोस्ती तोड़ दी है. हालांकि शिवसेना की ओर से मोदी सरकार में शामिल एकमात्र मंत्री अरविंद सावंत दोपहर 11 बजे अपने इस्तीफे का ऐलान करने वाले थे लेकिन अब सूत्रों के हवाले खबर मिल रही है कि वह उद्धव ठाकरे की हां का इंतजार कर रहे हैं और उधर उद्धव भी कांग्रेस और एनसीपी से लिखित समर्थन का इंतजार कर रहे हैं.  उद्धव ठाकरे आज शरद पवार से मिल सकते हैं. वहीं शिवसेना नेता संजय राउत आज दिल्ली में सोनिया गांधी से मिल कर सियासी समीकरण साधने की कोशिश कर सकते हैं. महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में बीजेपी को 105 सीटों पर जीत मिली थी वहीं शिवसेना 56 सीटें जीतकर दूसरे नंबर की पार्टी बनी थी. महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को स्पष्ट बहुमत मिला था लेकिन 50-50 फॉर्मूले की वजह से दोनों दलों में मतभेद हो गया. 

  • शिवसेना NDA से बाहर, बीजेपी से 30 साल की दोस्ती भी टूटी, अरविंद सांवत मोदी कैबिनेट से इस्तीफा देंगे

    शिवसेना NDA से बाहर, बीजेपी से 30 साल की दोस्ती भी टूटी, अरविंद सांवत मोदी कैबिनेट से इस्तीफा देंगे

    केंद्र की मोदी सरकार में शामिल शिवसेना के इकलौते मंत्री अरविंद सावंत ने इस्तीफे का ऐलान किया है. ट्विटर पर इस्तीफे के फैसले की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि शिवसेना का पक्ष सच्चाई है. झूठे माहौल के साथ नहीं रहा सकता है. अरविंद सावंत ने कहा कि 11 बजे इस पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे. 

  • 26 नवंबर को सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड अयोध्या में 5 एकड़ जमीन लेने पर फैसला करेगा

    26 नवंबर को सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड अयोध्या में 5 एकड़ जमीन लेने पर फैसला करेगा

    Ayodhya News: सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड उत्तर प्रदेश सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर अयोध्या में 5 एकड़ जमीन लेने के मामले पर 26 नवंबर को प्रस्तावित अपनी बैठक में फैसला करेगा. बोर्ड के अध्यक्ष जफर फारूकी ने रविवार को बातचीत में कहा कि बोर्ड की सामान्य बैठक आगामी 26 नवंबर को संभावित है. उसमें ही यह निर्णय लिया जाएगा कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुसार अयोध्या में सरकार द्वारा दी जाने वाली पांच एकड़ जमीन ली जाए या नहीं.

  • कांग्रेस राज्य की दुश्मन नहीं, पार्टियों में कुछ मुद्दों पर मतभेद होते हैं : संजय राउत

    कांग्रेस राज्य की दुश्मन नहीं, पार्टियों में कुछ मुद्दों पर मतभेद होते हैं : संजय राउत

    शिवसेना के नेता संजय राउत ने रविवार को कहा कि यदि महाराष्ट्र में कोई और सरकार गठित नहीं कर पाता है तो उनकी पार्टी अपनी अगली रणनीतिक की घोषणा करेगी. न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक संजय राउत ने भी यह भी कहा कि कांग्रेस राज्य (महाराष्ट्र) की दुश्मन नहीं है. सभी पार्टियों के कुछ मुद्दों पर मतभेद रहते हैं.  राउत ने यहां संवाददाताओं से कहा कि उनकी पार्टी राज्य में सरकार गठित करने के लिए बीजेपी को आमंत्रित करने के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के निर्णय का स्वागत करती है.

  • आज महाराष्ट्र बीजेपी के कोर ग्रुप की बैठक, शिवसेना के सभी विधायक रिसॉर्ट में

    आज महाराष्ट्र बीजेपी के कोर ग्रुप की बैठक, शिवसेना के सभी विधायक रिसॉर्ट में

    राज्यपाल की ओर से  सरकार बनाने का न्यौता मिलने के बाद आज महाराष्ट्र बीजेपी की अहम बैठक होने जा रही है. बीजेपी को सरकार बनाने का मौका ऐसे समय मिला है जब वह अपने गठबंधन की साथी शिवसेना को मनाने में नाकामयाब रही है. महाराष्ट्र में राज्यपाल ने बीजेपी से पूछा है कि क्या वो सरकार बनाना चाहती है.

  • पहले ही इस नतीजे पर पहुंच चुके थे कि हाईकोर्ट द्वारा विवादित जमीन को तीन हिस्सों में बांटा जाना कानूनी रूप से टिकाऊ नहीं था : सुप्रीम कोर्ट

    पहले ही इस नतीजे पर पहुंच चुके थे कि हाईकोर्ट द्वारा विवादित जमीन को तीन हिस्सों में बांटा जाना कानूनी रूप से टिकाऊ नहीं था : सुप्रीम कोर्ट

    सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को अपने फैसले के दौरान कहा कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय का 2010 का फैसला ‘कानूनी रूप से टिकाऊ’ नहीं था. अदालत ने विवादित 2.77 एकड़ जमीन को सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लल्ला के बीच तीन हिस्सों में बांट दिया था. सामाजिक ताने-बाने को बर्बाद कर रही कानूनी लड़ाई पर पर्दा गिराते हुए शीर्ष अदालत ने अपने फैसले में कहा कि जमीन के बंटवारे से किसी का हित नहीं सधेगा और ना ही स्थायी शांति और स्थिरता आएगी.

  • आज मैं 'दोषमुक्त' महसूस कर रहा हूं, बिलकुल वही फैसला है जैसा सब लोग चाहते थे : केके मोहम्मद

    आज मैं 'दोषमुक्त' महसूस कर रहा हूं, बिलकुल वही फैसला है जैसा सब लोग चाहते थे : केके मोहम्मद

    भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) के पूर्व  निदेशक केके मोहम्मद ने कहा है कि एएसआई की ओर से दिए गए सबूतों के आधार पर ही कोर्ट इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि यहां पर एक भव्य मंदिर था. उन्होंने कहा कि यहां पर एक बार फिर से मंदिर ही बनाना चाहिए. आपको बता दें कि केके मोहम्मद हमेशा से ही विवादित स्थल पर मंदिर होने का दावा करते हैं. न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में उन्होंने कहा कि आज वह खुद को 'दोषमुक्त' महसूस कह रहे हैं क्योंकि मंदिर की बात करने पर उनको कुछ समूहों की ओर धमकी दी गई थी.

  • Ayodhya Verdict: कौन हैं अयोध्या में विवादित जमीन के मालिक बनाए गए 'रामलला विराजमान'

    Ayodhya Verdict: कौन हैं अयोध्या में विवादित जमीन के मालिक बनाए गए 'रामलला विराजमान'

    अयोध्या भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने विवादित जमीन को रामलला को सौंपने का आदेश दिया है. इसके साथ ही कोर्ट ने शिया वक्फ बोर्ड और निर्मोही अखाड़ा की दलीलें खारिज दीं. वहीं मुस्लिम पक्ष को दूसरी जगह मस्जिद बनाने के लिए 5 एकड़ जमीन देने का आदेश सुनाया.  

  • अयोध्या पर फैसला : मुस्लिम पक्ष आखिर कौन सी बात साबित नहीं कर पाया सुप्रीम कोर्ट में

    अयोध्या पर फैसला : मुस्लिम पक्ष आखिर कौन सी बात साबित नहीं कर पाया सुप्रीम कोर्ट में

    सुप्रीम कोर्ट ने सर्वसम्मति के फैसले में अयोध्या में विवादित स्थल पर राम मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त कर दिया और केन्द्र को निर्देश दिया कि मस्जिद निर्माण के लिये सुन्नी वक्फ बोर्ड को पांच एकड़ का भूखंड आबंटित किया जाए.  प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने इस व्यवस्था के साथ ही राजनीतिक दृष्टि से बेहद संवेदनशील 134 साल से भी अधिक पुराने इस विवाद का पटाक्षेप कर दिया.

  • अयोध्या पर फैसला : AIMPLB के सदस्य कमाल फारूकी ने कहा- ये कहां का इंसाफ है

    अयोध्या पर फैसला :  AIMPLB के सदस्य कमाल फारूकी ने कहा- ये कहां का इंसाफ है

    अयोध्या मुद्दे पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य कमाल फारूकी ने कहा, 'इसके बदले हमें 100 एकड़ जमीन भी दे दो तो कोई फायदा नहीं है. हमारी 67 एकड़ जमीन पहले से ही अधिग्रहित की हुई है तो हमको दान में क्‍या दे रहे हैं वो? हमारी 67 एकड़ जमीन लेने के बाद 5 एकड़ दे रहे हैं. ये कहां का इंसाफ है?' गौरतलब है कि इससे पहले सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील जफरयाब जिलानी ने भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर असंतुष्टि जाहिर की है. उन्होंने कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं, लेकिन फैसले पर संतुष्ट नही हैं. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में गलत तथ्य पेश किए गए हैं और इस फैसले पर पुनर्विचार याचिका दाखिल करने पर विचार करेंगे. 

  • Ayodhya Verdict: सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या केस में क्यों खारिज कर दी निर्मोही अखाड़ा दलील

    Ayodhya Verdict: सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या केस में क्यों खारिज कर दी निर्मोही अखाड़ा दलील

    अयोध्या विवाद में सुप्रीम कोर्ट ने एक पक्ष निर्मोही अखाड़े के जमीन पर मालिकाना हक के दावे को खारिज कर दिया है. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि मंदिर के लिए बनाए जाने वाले ट्रस्ट में निर्मोही अखाड़े का प्रतिनिधि भी होना चाहिए. अखाड़े की ओर से दलील दी गई कि विवादित भूमि के अंदरुनी और बाहरी अहाता ही भगवान राम की जन्मभूमि के रूप में मान्य है.

  • अयोध्या : रामलला विराजमान को विवादित जमीन का मालिकाना हक, मस्जिद ढहाना और मूर्तियां रखना गैर-कानूनी था , फैसले की 10 बड़ी बातें

    अयोध्या : रामलला विराजमान को विवादित जमीन का मालिकाना हक, मस्जिद ढहाना और मूर्तियां रखना गैर-कानूनी था , फैसले की 10 बड़ी बातें

    सुप्रीम कोर्ट (SC) ने अयोध्या केस पर फैसला सुनाते हुए कहा है कि विवादित ढांचे की जमीन हिंदुओं को दी जाएगी और मुसलमानों को मस्जिद बनाने के लिए दूसरी जगह मिलेगी. कोर्ट ने शुरू में ही शिया वक्फ बोर्ड और निर्मोही अखाड़ा की याचिकाएं खारिज कर दी हैं. इसके साथ ही कहा है कि मुसलमानों को मस्जिद के लिए दूसरी जगह दी जाएगी. यह फैसला सभी जजों की सहमति से हुआ है. सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई ने कहा कि पुरात्व विभाग ने मंदिर (Ayodhya Case) होने के सबूत पेश किए हैं. सैकड़ों पन्नों का जजमेंट पढ़ते हुए पीठ ने कहा कि हिंदू अयोध्या (Ayodhya Verdict) को राम जन्मस्थल मानते हैं और रंजन गोगोई ने कहा कि कोर्ट के लिए थिओलॉजी में जाना उचित नहीं है. लेकिन पुरातत्व विभाग यह भी नहीं बता पाया कि मंदिर गिराकर मस्जिद बनाई गई थी.