NDTV Khabar

Mj akbar resigns


'Mj akbar resigns' - 14 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • एमजे अकबर ने कोर्ट में दर्ज कराया बयान: मेरी कही गई सारी बातें सत्य हैं, मुझ पर लगाए गए सारे आरोप झूठे

    एमजे अकबर ने कोर्ट में दर्ज कराया बयान: मेरी कही गई सारी बातें सत्य हैं, मुझ पर लगाए गए सारे आरोप झूठे

    भारत में #MeToo अभियान की जद में आने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर ने पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ मानहानि मामले में आज यानी बुधवार को दिल्ली की एक अदालत में अपना बयान दर्ज कराया. एमजे अकबर ने कोर्ट में अपना बयान दर्ज कराया. उन्होंने अपने स्टेटमेंट में कहा कि मैं कल्कत्ता के बॉयस स्कूल और प्रेसिडेंसी कॉलेज से पढ़ा. कॉलेज के बाद मैं पत्रकारिता के क्षेत्र में आ गया. बहुत कम समय में मैं संडे नामक पत्रिका का संपादक बना. 1983 में मैंने द टेलिग्राफ़ शुरू किया. फिर मैं 1993 तक एशियन ऐज का संपादक रहा. फिर इंडिया टुडे का एडिटोरियल डारेक्टर रहा. फिर संडे गार्डियन का फ़ाउंडिंग एडिटर रहा. इसके साथ ही मैंने कई किताबें लिखीं (कोर्ट में अपनी लिखीं किताबें पेश कीं ).

  • #MeToo: पूर्व केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर कोर्ट में दर्ज कराएंगे अपना बयान, पत्रकार के खिलाफ मानहानि का है मामला

    #MeToo: पूर्व केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर कोर्ट में दर्ज कराएंगे अपना बयान, पत्रकार के खिलाफ मानहानि का है मामला

    भारत में #MeToo अभियान की जद में आने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ मानहानि मामले में आज यानी बुधवार को दिल्ली की एक अदालत में अपना बयान दर्ज कराएंगे. दरअसल, 18 अक्टूबर को मामले की सुनवाई में एमजे अकबर कोर्ट के समक्ष पेश नहीं हुए थे. अगर अदालत एमजे अकबर के बयान से संतुष्ट हो जाती है तो फिर कोर्ट के सामने पेश होने के लिए पत्रकार प्रिया रमानी को नोटिस भेजा जाएगा. बता दें कि 18 अक्टूबर को दिल्ली की एक अदालत ने पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ एम.जे. अकबर के आपराधिक मानहानि मुकदमे को स्वीकार कर लिया और कहा कि 31 अक्टूबर को भाजपा नेता का बयान दर्ज किया जाएगा. अतिरिक्त मुख्य महानगर दंडाधिकारी समर विशाल ने कहा, "मैं आईपीसी की धारा 500 (मानहानि के लिए सजा) के तहत अपराध का संज्ञान लेता हूं."

  • #MeToo : सरकारी वेबसाइट से हटाया गया एमजे अकबर का नाम, इस्तीफे के बाद भी नाम होने पर उठे थे सवाल

    #MeToo : सरकारी वेबसाइट से हटाया गया एमजे अकबर का नाम, इस्तीफे के बाद भी नाम होने पर उठे थे सवाल

    #MeToo मुहिम के तहत यौन शोषण में फंसने के बाद इस्तीफा देने वाले एमजे अकबर(M J Akbar) का नाम आखिरकार भारत सरकार की वेबसाइट से हटा दिया गया.

  • एमजे अकबर 31 अक्टूबर को दर्ज कराएंगे बयान, वकील ने कहा, 'प्रिया रमानी के ट्वीट से मेरे क्‍लाइंट की पिछले 40 साल की छवि हुई खराब'

    एमजे अकबर 31 अक्टूबर को दर्ज कराएंगे बयान, वकील ने कहा, 'प्रिया रमानी के ट्वीट से मेरे क्‍लाइंट की पिछले 40 साल की छवि हुई खराब'

    मोदी सरकार में केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर ने #MeToo अभियान के तहत अपने ऊपर लगे सेक्सुअल हैरासमेंट (यौन शोषण) के आरोपों के बाद अपने पद से बुधवार को इस्तीफा दे दिया. एमजे अकबर के इस्तीफे को सरकार ने स्वीकार कर लिया है. हालांकि, इस्तीफा देने के बाद एमजे अकबर ने कहा कि वह अपने दम पर आगे की कानूनी लड़ाई लड़ेंगे. आज यानी गुरुवार को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ एम जे अकबर के आपराधिक मानहानि मामले पर सुनवाई हुई.

  • #MeToo के आरोपों से घिरे एमजे अकबर ने दिया इस्तीफा, मानहानि केस में आज सुनवाई, मामले से जुड़ी 10 बड़ी बातें

    #MeToo के आरोपों से घिरे एमजे अकबर ने दिया इस्तीफा, मानहानि केस में आज सुनवाई, मामले से जुड़ी 10 बड़ी बातें

    केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर ने भारत में चल रहे #MeToo कैंपेन के तहत अपने ऊपर लगे सेक्सुअल हैरासमेंट (यौन शोषण) के आरोपों के बाद अपने पद से बुधवार को इस्तीफा दे दिया. हालांकि, एमजे अकबर ने यह इस्तीफा आरोप लगने के तुरंत बाद नहीं दिया है, बल्कि पहले तो उन्होंने अपने ऊपर लगे आरोपों के खिलाफ पत्रकार रमानी पर मानहानि का मुकदमा किया, उसके बाद बात को आगे बढ़ता देख उन्होंने इस्तीफे का फैसला किया. यही वजह है कि आज यानी गुरुवार को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ एम जे अकबर के आपराधिक मानहानि मामले पर सुनवाई होगी. रमानी ने अकबर पर यौन दुर्व्यवहार के आरोप लगाये हैं. MeToo कैंपेन के तहत यौन उत्पीड़न के आरोपों के चलते उन्होंने प्रधानमंत्री कार्यालय को अपना इस्तीफा भेज दिया है. दरअसल, अकबर पर 20 महिलाओं ने यौन शोषण का आरोप लगाया है. इससे पहले एजमे अकबर ने इस्तीफा देने के बाद कहा कि वह न्याय के लिए व्यक्तिगत लड़ाई लड़ते रहेंगे. उन्होंने कहा कि अब वह निजी तौर पर केस लड़ेंगे. उनहोंने पीएम मोदी और सुषमा स्वराज का शुक्रिया अदा भी किया.

  • अकबर मामले में राज्यसभा के सभापति-उपसभापति को रवीश कुमार का पत्र

    अकबर मामले में राज्यसभा के सभापति-उपसभापति को रवीश कुमार का पत्र

    जब से एमजे अकबर का मामला सामने आया है, NDTV इंडिया के रवीश कुमार भी उसपर लगातार लिखते रहे हैं. उन्‍होंने अपने कार्यक्रम प्राइम टाइम में इस मुद्दे पर बात की. वो लगातार अपने फेसबुक वॉल पर भी इसे जुड़े लेख लिखते रहे. अब जब अकबर का इस्‍तीफा हो गया है, उन्‍होंने राज्‍यसभा के सभापति और उपसभापति को पत्र लिखा है.

  • कांग्रेस ने एमजे अकबर के इस्तीफे को 'सच की जीत' बताया, AAP ने दिया यह बयान, जानिये किसने क्या कहा...

    कांग्रेस ने एमजे अकबर के इस्तीफे को 'सच की जीत' बताया, AAP ने दिया यह बयान, जानिये किसने क्या कहा...

    एमजे अकबर (MJ Akbar) ने विदेश राज्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया है. #MeToo अभियान में यौन शोषण का आरोप लगने के बाद एमजे अकबर ने यह कदम उठाया है. इस्तीफे के बाद उन्होंने कहा कि, 'चूंकि मैंने निजी तौर पर कानून की अदालत में न्याय पाने का फैसला किया है, इसलिए मुझे यह उचित लगा कि मैं अपने पद से इस्तीफा दे दूं.' मुझे यह उचित लगा कि पद छोड़ दूं और अपने ऊपर लगे झूठे इल्ज़ामों का निजी स्तर पर ही जवाब दूं. इसलिए मैंने विदेश राज्य मंत्री के पद से अपना इस्तीफ़ा दे दिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एमजे अकबर का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है. बता दें कि अकबर पर 20 महिला पत्रकारों ने यौन शोषण का आरोप लगाया है. अकबर के इस्तीफे के बाद कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, समाजवादी पार्टी के नेताओं के साथ-साथ सामाजिक कार्यकर्ताओं ने कहा कि अकबर को पहले ही इस्तीफा देना चाहिए था. 

  • क्यों गया अकबर का ताज? जानें अंदर की पूरी कहानी...

    क्यों गया अकबर का ताज? जानें अंदर की पूरी कहानी...

    जो काम रविवार को हो सकता था वो तीन दिन बाद बुधवार को हुआ. सरकार की किरकिरी हुई वो अलग. बीजेपी पर महिला विरोधी होने के आरोप लगे. पार्टी के प्रवक्ता सवालों से मुंह छिपाते फिरे. लेकिन आखिरकार हुआ वही, जो पहले भी हो सकता था. यानी एम जे अकबर का इस्तीफा.

  • एमजे अकबर का इस्तीफा: आरोप लगाने वाली पत्रकार प्रिया रमानी ने कही यह बात, जानिये किसने क्या कहा...

    एमजे अकबर का इस्तीफा: आरोप लगाने वाली पत्रकार प्रिया रमानी ने कही यह बात, जानिये किसने क्या कहा...

    एमजे अकबर ने विदेश राज्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया है. #MeToo अभियान में यौन शोषण का आरोप लगने के बाद एमजे अकबर ने यह कदम उठाया है. इस्तीफे के बाद उन्होंने कहा कि, 'चूंकि मैंने निजी तौर पर कानून की अदालत में न्याय पाने का फैसला किया है, इसलिए मुझे यह उचित लगा कि मैं अपने पद से इस्तीफा दे दूं.' एमजे अकबर ने बयान जारी करके कहा कि मैंने निजी तौर पर अदालत में न्याय पाने का फ़ैसला किया है, मुझे यह उचित लगा कि पद छोड़ दूं और अपने ऊपर लगे झूठे इल्ज़ामों का निजी स्तर पर ही जवाब दूं. इसलिए मैंने विदेश राज्य मंत्री के पद से अपना इस्तीफ़ा दे दिया है. बता दें कि अकबर पर 20 महिला पत्रकारों ने यौन शोषण का आरोप लगाया है.

  • #MeToo: एमजे अकबर के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कही यह बात...

    #MeToo: एमजे अकबर के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कही यह बात...

    MeToo अभियान के तहत आरोप लगने के बाद एमजे अकबर (MJ Akbar) ने विदेश राज्य मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया. उनके इस्तीफा देने के फैसले को केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले (Ramdas Athawale) ने सही ठहराया. अठावले ने कहा कि विपक्ष उन्हें नैतिक आधार पर इस्तीफा देने के लिए कह रहा था. इस्तीफा देने का उनका फैसला बिल्कुल सही है. उनके ऊपर जो भी आरोप लगे हैं उसकी ठीक से जांच होनी चाहिए. बता दें कि 20 महिला पत्रकारों द्वारा यौन शोषण का आरोप लगने के बाद एमजे अकबर ने बुधवार शाम अपने पद से इस्तीफा दे दिया. 

  • #MeToo: विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर ने यौन शोषण के आरोपों के बाद दिया इस्तीफा

    #MeToo: विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर ने यौन शोषण के आरोपों के बाद दिया इस्तीफा

    MeToo कैंपेन के तहत यौन उत्पीड़न का आरोप लगने के बाद केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर (MJ Akbar Resigns) ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया. एमजे अकबर (MJ Akbar) ने प्रधानमंत्री कार्यालय को अपना इस्तीफा भेज दिया है. बता दें कि अकबर पर कई महिलाओं ने यौन शोषण का आरोप लगयाा था. एजमे अकबर ने इस्तीफा देने के बाद कहा कि वह न्याय के लिए व्यक्तिगत लड़ाई लड़ते रहेंगे. उन्होंने कहा कि अब वह निजी तौर पर केस लड़ेंगे.

  • अकबर की ख़बर रोको, आयकर छापे की लाओ, कुछ करो, जल्दी भटकाओ...

    अकबर की ख़बर रोको, आयकर छापे की लाओ, कुछ करो, जल्दी भटकाओ...

    आप अकबर की ख़बर को लेकर फेसबुक पोस्ट और YouTube वीडियो पर गौर कीजिए. इनके शेयर होने की रफ्तार धीमी हो गई है. प्रिंट मीडिया में अकबर की ख़बर को ग़ायब कर दिया गया है. अख़बारों के जिला संस्करणों में अकबर की ख़बर तीन-चार लाइन की है. दो-तीन दिन तो छपी ही नहीं. उन ख़बरों में कोई डिटेल नहीं है. एक पाठक के रूप में क्या यह आपका अपमान नहीं है कि जिस अख़बार को आप बरसों से ख़रीद रहे हैं, वह एक विदेश राज्यमंत्री स्तर की ख़बर नहीं छाप पा रहा है...?

  • #MeToo: यौन उत्पीड़न के आरोपों में घिरे एमजे अकबर पर बढ़ा इस्तीफे का दबाव, NDTV से सरकारी सूत्रों ने कही यह बात

    #MeToo: यौन उत्पीड़न के आरोपों में घिरे एमजे अकबर पर बढ़ा इस्तीफे का दबाव, NDTV से सरकारी सूत्रों ने कही यह बात

    भारत में जारी ‘मी टू’ अभियान ने ऐसी तूल पकड़ी कि इसकी जद में बड़े-बड़े नाम सामने आ रहे हैं. मीटू कैंपने के तहत पत्रकार रह चुके केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर भी यौन उत्पीड़न के आरोप लगे हैं. अपने समय के मशहूर संपादक व वर्तमान में केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एम.जे.अकबर पर दो महिला पत्रकारों ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं. जिसे लेकर मोदी सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई है और कांग्रेस एमजे अकबर के इस्तीफे की मांग कर रही है. हालांकि, सरकारी सूत्र इस मुद्दे पर खुद एमजे अकबर के बयान का इंतजार कर रहे हैं. मीडिया में ऐसी खबरें हैं कि सरकार पर इस्तीफे का दवाब बढ़ रहा है और सरकार एमजे अकबर से इस्तीफे की मांग कर सकती है. मगर सरकार के टॉप सूत्रों ने ऐसी खबरों को सिरे से खारिज किया है. सरकार के टॉप सूत्रों का कहना है कि एमजे अकबर के इस्तीफे को लेकर जितने भी खबरें हैं, सभी काल्पनिक हैं. 

  • #Metoo: एमजे अकबर पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों पर कांग्रेस नेता जयपाल रेड्डी बोले- सफाई दें या फिर इस्तीफा

    #Metoo: एमजे अकबर पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों पर कांग्रेस नेता जयपाल रेड्डी बोले- सफाई दें या फिर इस्तीफा

    फिल्म इंडस्ट्री से 'मी टू' अभियान (यौन उत्पीड़न के खिलाफ अभियान) की शुरुआत होने के बाद इसकी चपेट में मीडिया जगत भी आ गया है और इसकी लपटें मोदी सरकार के एक मंत्री को अपने लपेटे में ले रही हैं. केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों से उनकी मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. अब कांग्रेस ने भी एमजे अकबर के मामले में न सिर्फ कांग्रेस ने मामले की जांच की मांग की है, बल्कि उनके इस्तीफे की भी मांग की है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयपाल रेड्डी ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि एमजे अकबर खुद आकर मामले पर सफाई दें या फिर इस्तीफा दें. उन्होंने कहा कि इस मामले की जांच होनी चाहिए.