NDTV Khabar

Mp assembly elections


'Mp assembly elections' - 144 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • भाजपा झारखंड में एनआरसी, धर्मांतरण और विकास को मुद्दा बनाएगी

    भाजपा झारखंड में एनआरसी, धर्मांतरण और विकास को मुद्दा बनाएगी

    झारखंड में 65 प्लस सीटों का आंकड़ा लेकर चल रही भाजपा को उम्मीद है कि वह पांच महीने पूर्व हुए लोकसभा चुनाव का प्रदर्शन विधानसभा चुनाव में भी दोहराएगी.

  • झाबुआ विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी कांतिलाल भूरिया को मिली जीत, सीएम कमलनाथ ने दी बधाई

    झाबुआ विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी कांतिलाल भूरिया को मिली जीत, सीएम कमलनाथ ने दी बधाई

    मध्यप्रदेश की झाबुआ विधानसभा सीट के उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी पूर्व केन्द्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया को जीत हासिल हुई है. कांग्रेस के कांतिलाल भूरिया ने भानू भूरिया को 27 हजार से ज्यादा वोटों के अंतर से हराया है. कांतिलाल भूरिया की जीत पर एमपी के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट कर उन्हें बधाई दी. कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा, '' झाबुआ उपचुनाव में कांग्रेस की जीत पर कांग्रेस प्रत्याशी कांतिलाल भुरिया को बहुत-बहुत बधाई. क्षेत्र के मतदाताओं व कांग्रेस कार्यकर्ताओं का आभार.

  • आजम खान के घर के बाहर पुलिस ने चिपकाए 27 नोटिस, अब तक दर्ज हो चुके हैं 85 मामले

    आजम खान के घर के बाहर पुलिस ने चिपकाए 27 नोटिस, अब तक दर्ज हो चुके हैं 85 मामले

    आजम खान पर 85 से ज्यादा मुकदमे अब तक दर्ज हो चुके हैं. आज प्रशासन ने आजम खान के आवास पर 27 नोटिस चस्पा किए हैं. नोटिस लगाने के कुछ देर बाद ही नोटिसों को फाड़ दिया गया. अब यह जांच का विषय है कि नोटिस किसने फाड़े हैं.

  • अब शिवराज सरकार के 'टारगेटों' का ऑडिट कराएगी कमलनाथ सरकार, बीजेपी ने कहा- कोई फिक्र नहीं

    अब शिवराज सरकार के 'टारगेटों' का ऑडिट कराएगी कमलनाथ सरकार, बीजेपी ने कहा- कोई फिक्र नहीं

    शिवराज सरकार के वक्त हुए कामों की अब परीक्षा होगी. मध्यप्रदेश में छह महीने कुर्सी पर बैठने के बाद कमलनाथ सरकार ने विधानसभा चुनाव के ऐन पहले कई कार्यों के लक्ष्य पूरे घोषित होने का ऑडिट करने का मन बनाया है, फिर चाहे मामला खुले में शौच से मुक्ति का हो, हर घर बिजली का या फिर पीएम आवास का.

  • मध्यप्रदेश की झाबुआ विधानसभा सीट पर टिकी नजरें, उपचुनाव से जुड़ा बड़ा सियासी गणित

    मध्यप्रदेश की झाबुआ विधानसभा सीट पर टिकी नजरें, उपचुनाव से जुड़ा बड़ा सियासी गणित

    झाबुआ-रतलाम लोकसभा सीट से चुनाव जीते बीजेपी के जीएस डामोर सांसद बने रहेंगे. उन्होंने विधायक पद से इस्तीफा देने का फैसला किया है. डामोर झाबुआ सीट से विधायक थे. उनके इस ऐलान के साथ ही मध्यप्रदेश में अब झाबुआ विधानसभा सीट पर उप चुनाव होना तय है.

  • सांसदों का टिकट काटने पर अखिलेश यादव का BJP पर तंज- यह फॉर्मूला टीम के कप्तान पर भी लागू हो

    सांसदों का टिकट काटने पर अखिलेश यादव का BJP पर तंज- यह फॉर्मूला टीम के कप्तान पर भी लागू हो

    मंगलवार को भाजपा (BJP) ने कहा था कि इस बार राज्य में किसी भी मौजूदा सांसद को टिकट नहीं दिया जाएगा, उनकी जगह नए चेहरों को उतारा जाएगा. दिल्ली में केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक (CEC) के बाद अनिल जैन ने यह जानकारी दी. बताया जा रहा है कि हालिया विधानसभा चुनाव में पार्टी की हार के मद्देनजर यह फैसला लिया गया है. केंद्रीय समिति में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी के अन्य शीर्ष नेता शामिल हुए.

  • शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में MP के बीजेपी विधायक मिले राष्ट्रपति से, विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव में धांधली का आरोप

    शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में MP के बीजेपी विधायक मिले राष्ट्रपति से, विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव में धांधली का आरोप

    मध्य प्रदेश के बीजेपी के विधायक दल के प्रतिनिधिमंडल ने शनिवार को दिल्ली में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलकर मध्यप्रदेश विधानसभा अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष के चुनाव में धांधली की शिकायत की.

  • राजनीति की भट्टी में पिघलाया जा रहा स्टील प्रेम...

    राजनीति की भट्टी में पिघलाया जा रहा स्टील प्रेम...

    पहले देश के तीन राज्य के लोगों ने सत्ता में बैठे राजनीतिक दलों में बदलाव किया. नई पार्टी सत्ता पर आसीन हुई, और गद्दी पर आने के बाद उसने जो दूसरा बड़ा काम किया, वह था - बड़ी संख्या में प्रशासनिक फेरबदल. मीडिया में इसे 'प्रशासनिक सर्जरी' कहा गया. 'सर्जरी' किसी खराबी को दुरुस्त करने के लिए की जाती है. ज़ाहिर है, इससे ऐसा लगता है कि इनके आने से पहले प्रशासन में जो लोग थे, वे सही नहीं थे. अब उन्हें ठिकाने (बेकार के पद) लगाया जा रहा है, जैसा व्यक्तिगत रूप से बातचीत के दौरान एक नेता ने थोड़ा शर्माते हुए कहा था, "पहले उनके लोगों ने मलाई खाई, अब हमारे लोगों की बारी है..."

  • मध्यप्रदेश: CM कमलनाथ ने किया कैबिनेट विस्तार, 28 मंत्रियों ने ली शपथ, जातिगत और श्रेत्रीय संतुलन का रखा गया ख्याल

    मध्यप्रदेश: CM कमलनाथ ने किया कैबिनेट विस्तार, 28 मंत्रियों ने ली शपथ, जातिगत और श्रेत्रीय संतुलन का रखा गया ख्याल

    मध्यप्रदेश में कमलनाथ (Kamal Nath) सरकार का आज विस्तार किया गया (Kamal Nath Cabinet Expands). आज 28 मंत्रियों को शपथ दिलाई गई. 17 दिसंबर को अकेले मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शपथ ली थी. कांग्रेस हाईकमान से चर्चा के बाद मंत्रियों की लिस्ट फ़ाइनल हुई और आज राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने उन्हें शपथ दिलाई. मंत्रिमंडल में क्षेत्रीय और जातिगत संतुलन का पूरा ख्याल रखा गया है. साथ ही तीनों बड़े नेता कमलनाथ, दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक विधायकों को मंत्रिमंडल में जगह दी गई है. मध्य प्रदेश मंत्रिमंडल में मुख्यमंत्री कमल नाथ के 11, दिग्विजय सिंह के 9, ज्योतिरादित्य सिंधिया के 7 और अरुण यादव के एक मंत्री शामिल किए गए हैं. मंत्रिमंडल में क्षेत्रीय संतुलन बनाने की कोशिश भी कई गई है. 

  • PHOTOS: तीन राज्यों में जीत के बाद राहुल गांधी छुट्टियां मनाने पहुंचे शिमला, बच्चों के साथ खेला चेस तो ढाबे पर खाई मैगी

    PHOTOS: तीन राज्यों में जीत के बाद राहुल गांधी छुट्टियां मनाने पहुंचे शिमला, बच्चों के साथ खेला चेस तो ढाबे पर खाई मैगी

    राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के शिमला ट्रिप (Rahul Gandhi-Priyanka Gandhi Shimla Trip) की बात सुन वहां के स्थानीय नेता मिलने पहुंचे.

  • दफ्तर संभालते ही कमलनाथ ने राहुल गांधी के कर्ज माफी के वायदे पर किया दस्तखत, 5 खास बातें... 

    दफ्तर संभालते ही कमलनाथ ने राहुल गांधी के कर्ज माफी के वायदे पर किया दस्तखत, 5 खास बातें... 

    कमलनाथ (Kamal Nath) मध्यप्रदेश के 18वें मुख्यमंत्री बन गए हैं. पद और गोपनियता की शपथ (Kamal Nath Oath Ceremony) लेने के तुरंत बाद ही उन्होंने अपने वादे के मुताबिक किसानों के कर्ज़ माफ (Loan Waiver) करने वाली फाइल पर दस्तखत कर दिए. बता दें कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शपथ लेने से पहले ही कहा कि था कि वे 10 दिनों से पहले ही किसानों का कर्ज माफ करेंगे. मुख्यमंत्री कमलनाथ ने दस्तखत के बाद किसानों के दो लाख रुपये तक के ऋण माफ हो गए. मध्यप्रदेश के किसान कल्याण एवं कृषि विकास विभाग के प्रमुख सचिव डॉ. राजेश राजोरा ने बताया कि मुख्यमंत्री द्वारा कर्जमाफी की फाइल पर हस्ताक्षर करने के बाद इस संबंध में आदेश जारी कर दिये गए हैं. उन्होंने कहा, 'सोमवार शाम जारी आदेश में कहा गया है कि मध्यप्रदेश शासन एतद् द्वारा निर्णय लिया जाता है कि मध्यप्रदेश राज्य में स्थित राष्ट्रीयकृत तथा सहकारी बैंकों में अल्पकालीन फसल ऋण के रूप में शासन द्वारा पात्रता अनुसार पात्र पाए गए किसानों के दो लाख रुपये की सीमा तक का 31 मार्च 2018 की स्थिति में बकाया फसल ऋण माफ किया जाता है.'

  • मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही कमलनाथ ने वादे के मुताबिक सबसे पहले किया यह काम...

    मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही कमलनाथ ने वादे के मुताबिक सबसे पहले किया यह काम...

    कमलनाथ (Kamal Nath) मध्यप्रदेश के 18वें मुख्यमंत्री बन गए हैं. राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कमलनाथ को पद और गोपनियता की शपथ (Kamal Nath Oath Ceremony) दिलाई. शपथ लेने के तुरंत बाद ही अपने वादे के मुताबिक मध्यप्रदेश के नवनियुक्त मुख्यमंत्री कमलनाथ ने राजधानी भोपाल में किसानों के कर्ज़ माफ (Loan Waiver) करने वाली फाइल पर दस्तखत कर दिए. बता दें कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शपथ लेने से पहले ही कहा कि था कि वे 10 दिनों से पहले ही किसानों का कर्ज माफ करेंगे.

  • BJP कहीं पलट न दे बाजी, इसलिए कांग्रेस ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को नहीं बनाया MP का सीएम!

    BJP कहीं पलट न दे बाजी, इसलिए कांग्रेस ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को नहीं बनाया MP का सीएम!

    मध्य प्रदेश में सत्ता से दूर रहने का वनवास खत्म होने के बाद बीजेपी को हराने वाली कांग्रेस के सामने सबसे बड़ी चुनौती थी कि आखिर वह सूबे का मुख्यमंत्री किसे बनाए? मगर काफी माथापच्ची और सियासी बैठकों के बाद आखिरकार गुरुवार की रात यह फैसला हो गया कि कमलनाथ ही राज्य के मुख्यमंत्री होंगे. दरअसल, मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री पद के दो दावेदार थे. एक कमलनाथ और दूसरे ज्योतिरादित्य सिंधिया. मगर कांग्रेस हाईकमान ने काफी सोच-समझने के बाद कमलनाथ के नाम पर मंजूरी दे दी. हालांकि, ऐसा माना जा रहा है कि कांग्रेस ने यह फैसला आगे की रणनीति को भी ध्यान में रखकर लिया है. 

  • मुख्यमंत्री पर मंथन : राजस्थान के मुख्यमंत्री होंगे अशोक गहलोत, सचिन पायलट डिप्टी सीएम, छत्तीसगढ़ पर सस्‍पेंस

    मुख्यमंत्री पर मंथन : राजस्थान के मुख्यमंत्री होंगे अशोक गहलोत, सचिन पायलट डिप्टी सीएम, छत्तीसगढ़ पर सस्‍पेंस

    मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में मुख्यमंत्री के नाम पर बना सस्पेंस खत्म हो गया है और लोकसभा चुनाव 2019 से पहले अनुभव को तरजीह देते हुए कांग्रेस ने कमलनाथ के नाम को मुख्यमंत्री पद लिए हरी झंडी दे दी है. हालांकि, राजस्थान (Rajasthan) और छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) पर फैसला अभी भी बाकी है. राजस्थान में मुख्यमंत्री के नाम को लेकर सुबह से शुरू हुआ सियासी ड्रामा देर रात तक चला. मगर तब भी किसी एक नाम पर सहमति नहीं बनी. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राजस्थान और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्रियों पर फैसला शुक्रवार के लिए टाल दिया है क्योंकि वह इस विषय पर पार्टी नेताओं से और चर्चा करना चाहते हैं. सूत्रों के अनुसार गांधी ने छत्तीसगढ़ के नये मुख्यमंत्री पर फैसला करने के लिए गुरुवार को प्रदेश के पार्टी नेताओं से चर्चा की मगर दावेदारों से और चर्चा करने के लिए फैसला शुक्रवार के लिए टाल दिया. कांग्रेस अध्यक्ष ने राजस्थान के मुख्यमंत्री पद के दावेदारों अशोक गहलोत और सचिन पायलट के साथ कई बैठकें कीं, लेकिन उनके बीच कोई सहमति नहीं बन पायी. पायलट ने इस शीर्ष पद के लिए दावा किया. राहुल गांधी के निवास के बाहर पायलट के समर्थकों ने उनके समर्थन में नारे भी लगाए.

  • मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री चुने जाने पर बोले कमलनाथ, यह पद मेरे लिए एक मील के पत्थर की तरह है

    मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री चुने जाने पर बोले कमलनाथ, यह पद मेरे लिए एक मील के पत्थर की तरह है

    उन्होंने कहा कि वह मध्य प्रदेश के मतदाताओं के आभारी हैं जिन्होंने मध्य प्रदेश में कांग्रेस (Congress) पार्टी की सरकार बनाने के लिए अपना समर्थन दिया. मेरा विश्वास है कि मध्य प्रदेश का भविष्य कांग्रेस के हाथों में सुरक्षित रहेगा. हम अपने वचन पत्र को पूरा करेंगे और जनता की उम्मीदों पर खरे उतरेंगे. कमलनाथ (Kamal Nath) ने कहा कि मैं मध्य प्रदेश के लोगों को आश्वस्त करता हूं कि हम अपने वायदे पूरे करेंगे, नई शुरुआत हो चुकी है.

  • CM Of Madhya Pradesh: कांग्रेस ने सस्पेंस किया खत्म, मध्यप्रदेश की कमान कमलनाथ के हाथ

    CM Of Madhya Pradesh: कांग्रेस ने सस्पेंस किया खत्म, मध्यप्रदेश की कमान कमलनाथ के हाथ

    मध्यप्रदेश में कौन बनेगा मुख्यमंत्री (CM Of Madhya Pradesh) इसे लेकर सस्पेंस खत्म हो गया है. कमलनाथ (Kamal Nath) मध्यप्रदेश के अगले मुख्यमंत्री होंगे.  कांग्रेस ने ट्वीट कर कमलनाथ को मुख्यमंत्री बनने की बधाई दी.

  • राजस्थान, MP में सीएम पर अब भी सस्पेंस, जानिये कौन है सोनिया गांधी की पसंद...

    राजस्थान, MP में सीएम पर अब भी सस्पेंस, जानिये कौन है सोनिया गांधी की पसंद...

    राजस्थान और मध्यप्रदेश में कौन बनेगा मुख्यमंत्री इसे लेकर सस्पेंस अभी बना हुआ है. ज्योतिरादित्य सिंधिया अभी दिल्ली में ही हैं. इस संकट का हल निकालने के लिए बैठकों का दौर अब भी जारी है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने अशोक गहलोत (Ashok gehlot) और सचिन पायलट (Sachin Pilot) के साथ आज बैठक भी की, लेकिन अभी कोई हल नहीं निकल सका है. सचिन पायलट जहां राहुल गांधी की पसंद बताए जा रहे हैं, वहीं सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) चाहती हैं गहलोत मुख्यमंत्री बनें.

  • मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने कमलनाथ को क्यों बनाया मुख्यमंत्री, ये रहे पांच कारण

    मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने कमलनाथ को क्यों बनाया मुख्यमंत्री, ये रहे पांच कारण

    मध्य प्रदेश में कमलनाथ (Kamal Nath) को कांग्रेस ने क्यों बनाया मुख्यमंत्री, जानिए पांच कारण.

Advertisement