NDTV Khabar

National Education Policy


'National education policy' - 47 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • मनीष सिसोदिया ने दिल्ली के सरकारी स्कूलों के बच्चों को ‘कोडिंग’ सिखाने का शुरू किया अभियान, जानिए डिटेल

    मनीष सिसोदिया ने दिल्ली के सरकारी स्कूलों के बच्चों को ‘कोडिंग’ सिखाने का शुरू किया अभियान, जानिए डिटेल

    दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Delhi deputy CM Manish Sisodia) ने सरकारी स्कूलों के बच्चों को ‘कोडिंग' सिखाने के लिये बृहस्पतिवार को ''कोड-ए-थॉन'' अभियान शुरू किया, जिसमें 12,000 से अधिक छात्र हिस्सा ले रहे हैं. कालकाजी में वीर सावरकर सर्वोदय कन्या विद्यालय में यह अभियान शुरू करते हुए सिसोदिया ने कहा, ''हमने 'शी कोड्स' फाउंडेशन के साथ मिलकर इस साल जनवरी में कोडिंग परियोजना शुरू की थी, जिसके तहत अब तक 870 छात्राओं को प्रशिक्षण दिया जा चुका है. कोविड-19 महामारी के प्रकोप के चलते हमने इसे ऑनलाइन करने का फैसला किया है. अब हमने इस कार्यक्रम को और विस्तार दिया है.'' 

  • राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा - NEP का मकसद एजुकेशन सिस्टम को नई दिशा देना  

    राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा - NEP का मकसद एजुकेशन सिस्टम को नई दिशा देना  

    समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, राष्ट्रपति कोविंद ने कहा, "2.5 लाख ग्राम पंचायतों, 12,500 से अधिक स्थानीय निकायों और लगभग 675 जिलों की व्यापक भागीदारी और 2 लाख से अधिक सुझावों पर विचार के बाद राष्ट्रीय शिक्षा नीति तैयार की गई है."

  • राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर राज्यों सहित सभी पक्षकारों से चर्चा करेगी सरकार

    राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर राज्यों सहित सभी पक्षकारों से चर्चा करेगी सरकार

    नयी नीति के तहत सबसे पहले राष्ट्रीय पाठ्यचर्या ढांचे पर काम शुरू होगा और फिर राज्य पाठ्चर्या ढांचे पर काम किया जायेगा .इसके बाद केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, केंद्रीय विद्यालय, जवाहर नवोदय विद्यालय में सुधार का काम किया जायेगा .

  • PM मोदी ने कहा- नई शिक्षा नीति 21वीं सदी के भारत को देगी नई दिशा

    PM मोदी ने कहा- नई शिक्षा नीति 21वीं सदी के भारत को देगी नई दिशा

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने कहा है कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP) नए भारत की, नई उम्मीदों की, नई आवश्यकताओं की पूर्ति का माध्यम है और राष्ट्रीय शिक्षा नीति की इस यात्रा के पथ-प्रदर्शक देश के शिक्षक हैं. प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति- 2020 के तहत ‘21वीं सदी में स्कूली शिक्षा' विषय पर एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए शुक्रवार को यह बात कही. उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति से नए युग के निर्माण के बीज पड़े हैं और यह 21वीं सदी के भारत को नई दिशा प्रदान करेगी. प्रधानमंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP) का ऐलान होने के बाद बहुत से लोगों के मन में कई सवाल आ रहे हैं. मसलन, ये शिक्षा नीति क्या है? ये कैसे अलग है, इससे स्कूल और कॉलेजों में क्या बदलाव आएगा.

  • पुरानी शिक्षा व्यवस्था को बदलना क्यों जरूरी था? PM मोदी ने बताया

    पुरानी शिक्षा व्यवस्था को बदलना क्यों जरूरी था? PM मोदी ने बताया

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने आज राष्ट्रीय शिक्षा नीति- 2020 (NEP) के तहत ‘21वीं सदी में स्कूली शिक्षा' पर आयोजित एक सम्मेलन को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से संबोधित किया. इस सम्मेलन के दौरान पीएम मोदी ने कहा, "पुरानी शिक्षा व्यवस्था को बदलना उतना ही आवश्यक था, जितना स्कूल के खराब बोर्ड को बदलना होता है. नई राष्ट्रीय नीति नए भारत की नई उम्मीदों की, नई आवश्यकताओं की पूर्ति का माध्यम है. इसके पीछे पिछले चार-पांच वर्षों की कड़ी मेहनत है, हर क्षेत्र, हर विधा, हर भाषा के लोगों ने इस पर दिन रात काम किया है. लेकिन ये काम अभी पूरा नहीं हुआ है. अब तो काम की असली शुरुआत हुई है. अब हमें राष्ट्रीय शिक्षा नीति को उतने ही प्रभावी तरीके से लागू करना है और ये काम हम सब मिलकर करेंगे. "

  • क्या हैं 21वीं सदी के स्किल? PM मोदी ने शिक्षा पर आयोजित सम्मेलन में बताया

    क्या हैं 21वीं सदी के स्किल? PM मोदी ने शिक्षा पर आयोजित सम्मेलन में बताया

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने शुक्रवार यानी आज राष्ट्रीय शिक्षा नीति- 2020 (NEP) के तहत ‘21वीं सदी में स्कूली शिक्षा' पर आयोजित एक सम्मेलन को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से संबोधित किया. पीएम मोदी ने कहा, "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमें अपने स्टूडेंट्स को 21वीं सदी के स्क्लि्स के साथ आगे बढ़ाना है. ये 21वीं की सदी के स्किल्स क्या होंगे?  इसके बारे में बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा, क्रिटिकल थिंकिंग, क्रिएटिविटी, कोलेबोरेशन, Curiosity और कम्युनिकेशन." 

  • PM मोदी करेंगे राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत स्कूली शिक्षा पर आयोजित सम्मेलन को संबोधित

    PM मोदी करेंगे राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत स्कूली शिक्षा पर आयोजित सम्मेलन को संबोधित

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) शुक्रवार यानी आज राष्ट्रीय शिक्षा नीति- 2020 (NEP) के तहत ‘21वीं सदी में स्कूली शिक्षा' पर आयोजित एक सम्मेलन को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से संबोधित करेंगे. प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) से जारी एक बयान के मुताबिक शिक्षा मंत्रालय ‘‘शिक्षा पर्व'' के एक हिस्से के रूप में 10 और 11 सितंबर को इस दो दिवसीय सम्मेलन का आयोजन कर रहा है. बयान में कहा गया, ‘‘शिक्षकों को सम्मानित करने और नई शिक्षा नीति 2020 को आगे बढ़ाने के लिए 8 सितंबर से 25 सितंबर तक शिक्षा पर्व मनाया जा रहा है. देश भर में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के विभिन्न पहलुओं पर विभिन्न वेबिनार, वर्चुअल सम्मेलन और सभाएं आयोजित की जा रही हैं.'' 

  • Shikshak Parv 2020: शिक्षा मंत्रालय स्कूली शिक्षा पर सम्मेलन कर रहा है आयोजित, PM मोदी करेंगे संबोधित

    Shikshak Parv 2020: शिक्षा मंत्रालय स्कूली शिक्षा पर सम्मेलन कर रहा है आयोजित, PM मोदी करेंगे संबोधित

    केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय शिक्षक पर्व (Shikshak Parv 2020) के तहत 10 और 11 सितंबर को ऑनलाइन माध्यम से ‘21वीं सदी में स्कूल शिक्षा' पर दो दिवसीय सम्मेलन आयोजित कर रहा है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 11 सितंबर को इसे संबोधित करेंगे. मंत्रालय के बयान के अनुसार, सम्‍मेलन के पहले दिन, प्रधानाचार्यों और शिक्षकों पर ध्यान केन्‍द्रित किया जाएगा, जो 21वीं सदी में स्कूल शिक्षा के बारे में चर्चा करेंगे और बतायेंगे कि उन्होंने रचनात्मक तरीकों से नई शिक्षा नीति के कुछ विषयों को पहले से ही कैसे लागू किया है.

  • PM मोदी ने की राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू करने में लचीलापन दिखाने की अपील, बंगाल और दिल्ली ने जताई चिंता

    PM मोदी ने की राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू करने में लचीलापन दिखाने की अपील, बंगाल और दिल्ली ने जताई चिंता

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने सोमवार को कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP) को लागू करने में ‘‘अधिकतम लचीलापन'' अपनाना होगा और इस बारे में सभी पक्षों की राय और सवालों को खुले मन से सुना जा रहा है. उन्होंने कहा कि शिक्षा नीति किसी सरकार की नीति नहीं बल्कि देश की नीति होती है. पश्चिम बंगाल के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि नीति देश के संघीय ढांचे को कमजोर करती है और फिलहाल उनके राज्य में लागू नहीं की जाएगी. वहीं दिल्ली के उनके समकक्ष मनीष सिसोदिया ने दावा किया कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP 2020) में इसे लागू करने का खाका नहीं है और बेहतर योजना की जरूरत है, ताकि यह केवल अद्भुत विचार बनकर नहीं रह जाए.

  • NEP 2020 के जरिए प्रतिभा पलायन रोकने की कवायद, पीएम मोदी ने राज्यपालों से बात की

    NEP 2020 के जरिए प्रतिभा पलायन रोकने की कवायद, पीएम मोदी ने राज्यपालों से बात की

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi ) ने कहा है कि सरकार नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (National Education Policy) के जरिए दुनिया के टॉप कॉल्स यूनिवर्सिटी कैंपस को भारत लाएगी ताकि भारत में होने वाले ब्रेन ड्रेन (Brain Drain) को रोका जा सके. सरकार ने नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP 2020) को लागू करने की कवायद शुरू कर दी है. सोमवार को सभी राज्यों के गवर्नरों से कहा गया कि वो ऑनलाइन कॉन्फ्रेंस करके अपने-अपने अधीन करीब 400 राज्य विश्वविद्यालयों को इसके लिए तैयार करें.

  • नई शिक्षा नीति पर PM मोदी ने कहा- अब हमारे युवा अपनी पसंद के अनुरूप कर सकेंगे शिक्षा प्राप्त

    नई शिक्षा नीति पर PM मोदी ने कहा- अब हमारे युवा अपनी पसंद के अनुरूप कर सकेंगे शिक्षा प्राप्त

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में अध्ययन के बजाय सीखने पर अधिक जोर दिया गया है और यह पाठ्यक्रम से परे गहन चिंतन पर केंद्रित है. उन्होंने कहा कि यह सभी पक्षकारों की सामूहिक जिम्मेदारी है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति को अक्षरश: लागू किया जाए. राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर राज्यपालों के सम्मेलन को डिजिटल माध्यम से संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि नई शिक्षा नीति में छात्रों पर किसी विशेष संकाय को चुनने के दबाव को समाप्त कर दिया गया है. 

  • NEP 2020: अब साधारण परिवारों के छात्र भी पढ़ सकेंगे विदेशी यूनिवर्सिटी में, नई शिक्षा नीति पर PM मोदी की 10 बड़ी बातें

    NEP 2020: अब साधारण परिवारों के छात्र भी पढ़ सकेंगे विदेशी यूनिवर्सिटी में, नई शिक्षा नीति पर PM मोदी की 10 बड़ी बातें

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP 2020) पर आज राज्यपालों के सम्मेलन को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए संबोधित किया. इस सम्मेलन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक समेत सभी राज्यों के शिक्षा मंत्री, राज्य विश्वविद्यालयों के कुलपति और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल रहे. इस सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने नई शिक्षा नीति के कई अहम पहलुओं पर बात की. आइए आपको बताते हैं आज के सम्मेलन से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नई शिक्षा नीति को लेकर कही गई 10 बड़ी बातें.

  • PM मोदी ने कहा- नई शिक्षा नीति में स्टडी पर नहीं, लर्निंग पर दिया गया ज़ोर

    PM मोदी ने कहा- नई शिक्षा नीति में स्टडी पर नहीं, लर्निंग पर दिया गया ज़ोर

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP 2020) पर आज राज्यपालों के सम्मेलन को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए संबोधित किया. इस सम्मेलन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक समेत सभी राज्यों के शिक्षा मंत्री, राज्य विश्वविद्यालयों के कुलपति और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल रहे. इस सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने नई शिक्षा नीति पर बात करते हुए कहा, गांव में कोई शिक्षक हो या फिर बड़े-बड़े शिक्षाविद, सबको राष्ट्रीय शिक्षा नीति, अपनी शिक्षा शिक्षा नीति लग रही है. ये एक बहुत बड़ी वजह है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति की स्वीकारता हुई है. 

  • राष्ट्रपति कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर आज सम्मेलन को करेंगे संबोधित

    राष्ट्रपति कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर आज सम्मेलन को करेंगे संबोधित

    राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ram Nath Kovind) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) सोमवार यानी आज राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP 2020) पर राज्यपालों के सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को वीडियो कॉन्फ्रेंस से संबोधित करेंगे. प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘कल, सात सितंबर सुबह 10.30 बजे, मैं, राष्ट्रपति जी, राज्यपालों और विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के साथ राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 और इसके क्रांतिकारी प्रभाव पर एक सम्मेलन में भाग लूंगा. इस सम्मेलन में होने वाला विचार-विमर्श भारत को ज्ञान का केंद्र बनाने के हमारे प्रयासों को मजबूत करेगा.'' सम्मेलन का विषय ‘‘उच्च शिक्षा के बदलाव में राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 की भूमिका'' रखा गया है.

  • स्वमूल्यांकन के तहत रिपोर्ट कार्ड नहीं बल्कि तैयार होगा बच्चों का प्रोगेस कार्ड: निशंक

    स्वमूल्यांकन के तहत रिपोर्ट कार्ड नहीं बल्कि तैयार होगा बच्चों का प्रोगेस कार्ड: निशंक

    निशंक ने कहा कि हमने 360 डिग्री समग्र मूल्यांकन का प्रावधान रखा है. बच्चों के रिपोर्ट कार्ड के स्वरूप में बदलाव करते हुए समग्र मूल्यांकन पर आधारित रिपोर्ट कार्ड की बात कही गई है.

  • शिक्षा मंत्रालय ने NEP लागू करने के लिए शिक्षकों और प्रिंसिपलों से मांगे सुझाव, जानिए डिटेल

    शिक्षा मंत्रालय ने NEP लागू करने के लिए शिक्षकों और प्रिंसिपलों से मांगे सुझाव, जानिए डिटेल

    केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक' ने रविवार को कहा कि शिक्षा मंत्रालय (Ministry of Education) ने नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP 2020) के क्रियान्वयन पर स्कूलों के शिक्षकों और प्राधानाध्यापकों से सुझाव मांगे हैं. केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘हम मानते हैं कि एनईपी 2020 को लागू करने में शिक्षकों की अहम भूमिका है. इसलिए हमने देशभर के सभी स्कूलों के शिक्षकों और प्रधानाध्यापकों से सुझाव मांगने का फैसला किया है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लागू करने की प्रक्रिया को किस तरह आगे बढ़ाया जाए.'' 

  • राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत सिलेबस और किताबें कब तक होंगी तैयार, NCERT के डायरेक्टर ने बताया

    राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत सिलेबस और किताबें कब तक होंगी तैयार, NCERT के डायरेक्टर ने बताया

    राष्ट्रीय शिक्षा अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (NCERT) के निदेशक हृषिकेश सेनापति ने कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP) पर अमल का सूत्र वाक्य ‘नेशन फ‌र्स्ट- करेक्टर मस्ट’ होगा और इसके अनुरूप पाठ्यक्रम ढांचा, पाठ्यक्रम और पाठ्यपुस्तक तैयार करने की सम्पूर्ण प्रकिया वर्ष 2023-24 तक पूरी कर ली जायेगी. एनसीईआरटी (NCERT) के निदेशक हृषिकेश सेनापति ने कहा, ‘‘ नई शिक्षा नीति के अमल का सूत्रवाक्य 'नेशन फ‌र्स्ट- करेक्टर मस्ट' तय किया गया है. यानी नई पीढ़ी को अब जो भी पढ़ाया जाएगा, उसमें राष्ट्रीय हित के साथ चरित्र निर्माण पर भी फोकस रहेगा.’’

  • NEP 2020: शिक्षा मंत्री ने कहा- विश्वविद्यालय 300 से अधिक कॉलेजों को मान्यता नहीं दे पाएंगे

    NEP 2020: शिक्षा मंत्री ने कहा- विश्वविद्यालय 300 से अधिक कॉलेजों को मान्यता नहीं दे पाएंगे

    केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक' (Union Minister Ramesh Pokhriyal ''Nishank'') ने बुधवार को कहा कि नई शिक्षा नीति (NEP) के तहत विश्वविद्यालय 300 से अधिक महाविद्यालयों को मान्यता नहीं दे पायेंगे. मानव संसाधन विकास मंत्री ने सवाल किया, ‘‘मैं हाल ही में एक विश्वविद्यालय गया था और जब मैंने कुलपति से पूछा कि कितने महाविद्यालय उस विश्वविद्यालय से मान्यता प्राप्त हैं, उन्होंने कहा कि 800 डिग्री कॉलेज. मुझे लगा कि मैंने गलत सुन लिया. मैंने फिर पूछा और उन्होंने कहा 800. यह दीक्षांत समारोह था. मैं चकित था कि क्या कोई कुलपति 800 डिग्री महाविद्यालयों के प्राचार्यों के नाम याद रख सकता है.''

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com