NDTV Khabar

Oil crisis in india


'Oil crisis in india' - 3 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • ड्रोन हमले के बाद सऊदी अरब के तेल संकट से भारत में भी पेट्रोल-डीजल हो सकते हैं महंगे

    ड्रोन हमले के बाद सऊदी अरब के तेल संकट से भारत में भी पेट्रोल-डीजल हो सकते हैं महंगे

    सऊदी तेल प्लांट पर हमले के बाद अंतरराष्ट्रीय तेल बाज़ार में उथल-पुथल बढ़ती जा रही है. मंगलवार को कच्चा तेल 13 फीसदी से ज़्यादा महंगा हो गया. ये संकट भारत के लिए एक नई चुनौती है. मंगलवार को शेयर बाज़ार 600 अंकों से ज़्यादा गिरा. सऊदी अरब के सबसे बड़े तेल कारख़ाने पर हुआ ये हमला भारत की आर्थिक सेहत पर भी असर डालता दिख रहा है. फ़िक्र तेल आपूर्ति की नहीं, तेल की क़ीमतों की है. भारत को आश्वासन मिल चुका है कि तेल की सप्लाई नहीं रुकेगी, लेकिन अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चा तेल मंगलवार को 7.84 डॉलर प्रति बैरल महंगा हो गया. हालांकि सरकार का दावा है कि भारत 70 से 75 डॉलर बैरल के दाम से निबटने की क्षमता रखता है. लेकिन अगर संकट लंबा खिंचा तो एक डॉलर प्रति बैरल बढ़ने का मतलब भारत पर सालाना, 10,700 करोड़ डॉलर का बोझ बढ़ना है.

  • कच्चे तेल के खेल में फंसा भारत, आज से खत्म हो रही अमेरिकी छूट- पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर पड़ेगा असर! 

    कच्चे तेल के खेल में फंसा भारत, आज से खत्म हो रही अमेरिकी छूट- पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर पड़ेगा असर! 

    ईरान पर पाबंदी के बाद तेल संकट भारत के गले की फांस बन सकता है. अमेरिका ने ईरान से कच्चा तेल खरीदने की जो छूट भारत को दी थी उसे एक मई से हटाने का एलान कर दिया है. भारत अपनी ज़रूरत का करीब 12% कच्चा तेल ईरान से आयात करता है. ऐसे में ईरान से आयात पर रोक के बाद भारत को नए देशों से तेल के आयात का करार करना होगा जो महंगा सौदा साबित हो सकता है. पहले से ही ईरान से तेल का आयात घटा चुके भारत की मुश्किलें अमेरिकी पाबंदी से मिली छूट के ख़त्म होने के साथ बढ़ने वाली है. अमेरिकी प्रतिबंध से पहले ईरान से भारत करीब 25 मिलियन टन ईरान से ख़रीदता था. प्रतिबंधों के बाद पिछले कुछ महीनों में 1.25 मिलियन टन ख़रीद प्रति माह रह गई.

  • कच्चे तेल की कीमत 77 डॉलर प्रति बैरल के पार, देश में भाव स्थिर

    कच्चे तेल की कीमत 77 डॉलर प्रति बैरल के पार, देश में भाव स्थिर

    अमेरिका और ईरान के बीच बढ़ते तनाव की वजह से अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की कीमत बढ़ती जा रही है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के ईरान के साथ न्यूक्लियर डील तोड़ने के फैसले के ऐलान के बाद बुधवार को ब्रेन्ट क्रूड की कीमत प्रति बैरल 77 डॉलर के पार चली गई. यह नवंबर 2014 के बाद पहली बार है जब कच्चे तेल की कीमत 77 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर चली गई है.