NDTV Khabar

Parliament News in Hindi


'Parliament' - more than 1000 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • संसद में चल रही थी बहस, बच्चे को गोद में लिए दूध पिला रहे थे स्पीकर, Photo वायरल

    संसद में चल रही थी बहस, बच्चे को गोद में लिए दूध पिला रहे थे स्पीकर, Photo वायरल

    न्यूज़ीलैंड के स्पीकर ट्रेवर मलार्ड (Trevor Mallard) पार्लियामेंट में एक MP टमॉती कॉफै (Tamati Coffey) के बेटे को गोद में खिलाते हुए नज़र आए.

  • पीएम मोदी बोले, आजादी के 75 साल पूरे होने पर बदल जाएगा संसद भवन का स्वरूप

    पीएम मोदी बोले, आजादी के 75 साल पूरे होने पर बदल जाएगा संसद भवन का स्वरूप

    आवास समिति, लोकसभा के तत्वावधान में नार्थ ऐवन्यू डूप्लेक्स फ्लैट्स के उद्घाटन कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कहा, 'सरकार ने इसे गंभीरता से लिया है. संसद भवन का अच्छी तरह से उपयोग किया जाए, या कोई और भवन बनाने की जरूरत है. अधिकारी इस पर दिमाग लगा रहे हैं.' उन्होंने कहा कि आजादी के 75 साल पूरा होने पर इस काम को करना चाहिए.

  • संसद भवन में स्वतंत्रता दिवस पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने पहली बार फहराया तिरंगा

    संसद भवन में स्वतंत्रता दिवस पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने पहली बार फहराया तिरंगा

    लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने राष्ट्र के 73वें स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया. ओम बिरला ने आज संसद भवन परिसर में स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा के पास झंडा फहराया. संसद के इतिहास में ये पहला मौका है जब स्वंतत्रता दिवस के मौके पर किसी लोकसभा अध्यक्ष ने संसद भवन परिसर में तिरंगा फहराया. देशवासियों को बधाई देते हुए बिरला ने कहा कि आजादी के इस पर्व पर संपूर्ण देश में उल्लास, उमंग और उत्साह का वातावरण है. लोकसभा अध्यक्ष ने लोगों से अनुरोध किया कि हम सब मिलकर आजादी के इस पर्व पर संकल्प लेकर इस नए भारत के निर्माण में अपना भी सहयोग दें और नए भारत के निर्माण में सहभागी भी बनें. उन्होंने ने यह भी कहा कि अपने जीवन के अंदर इस देश के लिए समर्पण और त्याग का संकल्प लें.

  • लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला बोले- सदन बहुमत से नहीं सर्वसम्मति से चलता है

    लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला बोले- सदन बहुमत से नहीं सर्वसम्मति से चलता है

    शनिवार को सीरी फोर्ट ऑडिटोरियम में आयोजित भव्य अभिनंदन कार्यक्रम में दिल्ली के सभी सातों सांसद मौजूद थे. इस मौके पर दिल्ली के सभी सांसदों की ओर से उनका स्वागत किया गया. साथ ही संसद सदस्य मनोज तिवारी ने एक गीत प्रस्तुत कर उनका स्वागत किया. ओम बिरला ने कहा कि वह अपने सहयोगी सांसदों की वजह से ही सही तरीके से सदन का संचालन कर पाये.

  • संसद के नए भवन के निर्माण पर किया जा रहा है विचार: लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला

    संसद के नए भवन के निर्माण पर किया जा रहा है विचार: लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला

    लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने शनिवार को कहा कि विभिन्न विकल्पों में संसद के नए भवन के निर्माण पर विचार शामिल है. उन्होंने कहा कि अंतिम निर्णय लिया जाना अभी बाकी है.

  • संसद के वर्तमान सत्र में लोकसभा में 137 प्रतिशत, राज्यसभा में 103 प्रतिशत हुआ काम

    संसद के वर्तमान सत्र में लोकसभा में 137 प्रतिशत, राज्यसभा में 103 प्रतिशत हुआ काम

    संसदीय मामलों की समिति द्वारा बुधवार को जारी एक बयान के अनुसार, 17वीं लोकसभा का पहला सत्र कई मायनों में ‘‘ऐतिहासिक’’ रहा क्योंकि सदन में सामाजिक और आर्थिक गतिविधियों से संबंधित लगभग सभी विधेयक पारित किए गए.

  • सत्रहवीं लोकसभा का पहला सेशन सन 1952 से लेकर अब तक का सबसे स्वर्णिम सत्र : ओम बिरला

    सत्रहवीं लोकसभा का पहला सेशन सन 1952 से लेकर अब तक का सबसे स्वर्णिम सत्र : ओम बिरला

    लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने 17वीं लोकसभा के पहले सत्र की समाप्ति के अवसर पर कहा कि इस सत्र के दौरान कुल 37 बैठकें हुईं जो 280 घंटे तक चलीं. इस दौरान कुल 539 सदस्यों ने सदस्यता की शपथ ली तथा कुल 36 विधेयक पारित हुए. जम्मू और कश्मीर राज्य के बारे में संविधान के अनुच्छेद 370 से संबंधित सांविधिक संकल्प तथा जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक 2019 पारित पारित किया गया. इस सत्र का सबसे दिलचस्प तथ्य यह है कि इस बार 265 नवनिर्वाचित सदस्यों को सभा में अपने संसदीय निर्वाचन क्षेत्र से जुड़े मुद्दों को उठाने का अवसर प्राप्त हुआ जो एक बहुत बड़ी उपलब्धि है. उन्होंने कहा कि यह 1952 से लेकर अब तक का सबसे स्वर्णिम सत्र रहा है.

  • सनी देओल लोकसभा में अटेंडेंस से इंप्रेस करने में हुए असफल, जानिए कितने दिन पहुंचे संसद

    सनी देओल लोकसभा में अटेंडेंस से इंप्रेस करने में हुए असफल, जानिए कितने दिन पहुंचे संसद

    सनी देओल (Sunny Deol) इस सेशन में 28 दिन उपस्थित नहीं रहे. लोकसभा अटेंडेस रिकॉर्ड के अनुसार, मॉनसून सेशन बढ़ाए जाने के बाद सनी देओल (Sunny Deol) सदन में लगातार पांच दिन दिखे, लेकिन अगले पूरे हफ्ते वह उपस्थित नहीं रहे.

  • आर्टिकल 370 पर संसद में निराश किया कांग्रेस ने

    आर्टिकल 370 पर संसद में निराश किया कांग्रेस ने

    जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक लोकसभा में भी पास हो गया. राज्यसभा में सोमवार को पास हो गया था. गृह मंत्रालय का विधेयक था इसलिए दोनों ही दिन अमित शाह के रहे. प्रधानमंत्री दोनों दिन मौजूद रहे मगर वे सुनते ही रहे. खबर है कि वे देश को संबोधित करेंगे. अमित शाह ने पूरी तैयारी के साथ भाषण दिया. दोनों दिनों का भाषण एक जैसा ही था फिर भी विपक्ष उन्हें प्रभावशाली तरीके से घेर नहीं सका. शशि थरूर ने सरदार पटेल को लेकर अपनी बात रखी कि धारा 370 पर नेहरू और पटेल सबके दस्तखत थे. कांग्रेस भीतर से बंटती चली गई है. ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ज़रूर संवैधानिक प्रक्रियाओं का सवाल उठाया है लेकिन उन्होंने भी सरकार के विधेयक का समर्थन किया है.

  • आर्टिकल 370 पर जोरदार भाषण से लद्दाख के सांसद ने पीएम मोदी और अमित शाह को बनाया अपना मुरीद

    आर्टिकल 370 पर जोरदार भाषण से लद्दाख के सांसद ने पीएम मोदी और अमित शाह को बनाया अपना मुरीद

    लद्दाख के बीजेपी सांसद जामयांग शेरिंग नामग्याल लोकसभा में अपने भाषण के बाद सोशल मीडिया पर छा गए हैं. अनुच्छेद 370 हटाकर जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा समाप्त करने और राज्य में दो केंद्र शासित राज्यों के गठन के मामलों पर लोकसभा में हुई बहस में भाग लेते हुए नामग्याल ने सभी का ध्यान खींचा. यहां तक कि पीएम नरेंद्र मोदी भी नामग्याल की तारीफ करने में पीछे नहीं रहे. उन्होंने लोकसभा की कार्यवाही खत्म होने के बाद ट्वीट किया कि लद्दाख के भाजपा सांसद ने अपने भाषण में क्षेत्र के लोगों की आंकाक्षा को सुसंगत तरीके से पेश किया.

  • J&K पुनर्गठन बिल को कांग्रेस ने संवैधानिक त्रासदी बताया, अमित शाह बोले- जम्‍मू-कश्‍मीर भारत का अभिन्‍न अंग

    J&K पुनर्गठन बिल को कांग्रेस ने संवैधानिक त्रासदी बताया, अमित शाह बोले- जम्‍मू-कश्‍मीर भारत का अभिन्‍न अंग

    कांग्रेस की ओर से अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि जो अनुच्‍छेद 370 को हटाया जा रहा है वह नियम के खिलाफ है. संविधान के खिलाफ है. रातों रात नियमों की अनदेखी की जा रही है. ऐसे में अमित शाह ने पूछा कि किस नियम की अनदेखी हो रही है. अधीर रंजन चौधरी का कहना था कि यह मामला यून में है ऐसे में हमें यह कदम नहीं उठाना चाहिए. कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी के इस बयान पर गृहमंत्री अमित शाह ने सवाल खड़े कर दिए और पूछा कि क्‍या कांग्रेस जम्‍मू-कश्‍मीर को देश का आंतरिक मामला नहीं मानती है? अमित शाह ने कहा कि जब देश जम्‍मू-कश्‍मीर की बात करता है तो उसमें पीओके और अक्‍साई चीन भी शामिल है.

  • जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने के लिए मोदी सरकार ने क्यों चुना यही समय?

    जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने के लिए मोदी सरकार ने क्यों चुना यही समय?

    मोदी सरकार को अनुच्छेद 370 पर राज्य सभा में आम आदमी पार्टी और बसपा जैसी पार्टियों का भी अप्रत्याशित रूप से समर्थन मिला. जबकि अन्य मुद्दों पर इन दलों की अक्सर ही भाजपा नीत सरकार से तकरार रही है.

  • लोकसभा में J&K पुनर्गठन बिल: कांग्रेस ने कहा- रातों रात नियमों की अनदेखी हुई, तो गृहमंत्री बोले- बताइए, कौनसे नियम तोड़े

    लोकसभा में J&K पुनर्गठन बिल: कांग्रेस ने कहा- रातों रात नियमों की अनदेखी हुई, तो गृहमंत्री बोले- बताइए, कौनसे नियम तोड़े

    इसमें कहा गया है कि 19 दिसंबर 2018 को राष्ट्रपति की अधिघोषणा के बाद जम्मू कश्मीर राज्य विधायिका की शक्ति इस सदन को है. यह सदन जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक 2019 को विचार के लिये स्वीकार करता है. उन्होंने कहा कि हम दो केंद्रशासित प्रदेश बना रहे हैं जिसमें जम्मू कश्मीर केंद्र शासित क्षेत्र में अपनी विधायिका होगी जबकि लद्दाख बिना विधायी वाला केंद्रशासित क्षेत्र होगा. गृह मंत्री ने कहा, ‘राष्ट्रपति के अनुमोदन के बाद अनुच्छेद 370 के सभी खंड लागू नहीं होंगे.’ कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी और द्रमुक के टी आर बालू ने संकल्प पेश किये जाने का विरोध किया. बालू ने कहा कि 'यह अघोषित आपातकाल है.’ शाह ने सदन में जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक, 2019 और जम्मू कश्मीर आरक्षण दूसरा संशोधन विधेयक 2019 भी पेश किये. इससे पहले राज्यसभा ने सोमवार को अनुच्छेद 370 की अधिकतर धाराओं को खत्म कर जम्मू कश्मीर एवं लद्दाख को दो केन्द्र शासित क्षेत्र बनाने संबंधी सरकार के दो संकल्पों को मंजूरी दे दी.

  • सबसे विशाल लोकतंत्र का संसद भवन सर्वाधिक भव्य और आकर्षक बने : ओम बिरला

    सबसे विशाल लोकतंत्र  का संसद भवन सर्वाधिक भव्य और आकर्षक बने :  ओम बिरला

    लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि आज सबकी आकांक्षा है कि सबसे विशाल लोकतंत्र का संसद भवन सबसे भव्य और सबसे आकर्षक बने. उन्होंने कहा कि भारतीय गणराज्य के सबसे बड़े मंदिर संसद भवन से, जो अपने 92 स्वर्णिम वर्ष पूरे कर चुका है, सभी राजनैतिक निर्णय लिए जाते हैं.

  • धारा 370 खत्म होने के बाद जम्मू-कश्मीर में आतंकियों और पाक की तरफ से खतरा, सेना सतर्क

    धारा 370 खत्म होने के बाद जम्मू-कश्मीर में आतंकियों और पाक की तरफ से खतरा, सेना सतर्क

    जम्मू-कश्मीर में धारा 35 ए और धारा 370 को खत्म किए जाने पर आतंकियों और पाकिस्तान की तरफ से बदले की कार्रवाई की आशंका बरकरार है. साथ ही राज्य में विरोध प्रदर्शनों के नाम पर हालात बिगड़ने की आशंका भी बनी हुई है. सूत्रों के मुताबिक इस बारे में ठोस इनपुट मिले हैं कि 15 अगस्त से पहले आतंकी IED ब्लास्ट, फिदायीन हमला और निशाना बनाकर आतंकी हमले जैसी कार्रवाई को अंजाम दे सकते हैं. सूत्रों के अनुसार जैश-ए-मोहम्मद के करीब पांच आतंकियों का एक गुट इस तरह की कार्रवाई को अंजाम देने के लिए 30-31 जुलाई को भारत में दाखिल हुआ है.

  • कांग्रेस के इस राज्यसभा सांसद ने धारा 370 पर नेहरू के विचार बताए और पार्टी छोड़ दी

    कांग्रेस के इस राज्यसभा सांसद ने धारा 370 पर नेहरू के विचार बताए और पार्टी छोड़ दी

    कांग्रेस (Congress) के राज्यसभा के व्हिप भुभनेश्वर कलीटा (Bhubaneswar Kalita)पर अपने सांसदों को व्हिप जारी कर उनकी उपस्थिति सुनिश्चित करने की ज़िम्मेदारी थी लेकिन धारा 370 (Article 370) पर कांग्रेस के रुख का विरोध करते हुए वे पार्टी छोड़ गए. अब खबर है कि आर्टिकल 370 को खत्म करने पर मतदान में कई कांग्रेसी सांसद गैरहाजिर रहेंगे. कांग्रेस के सांसद भुभनेश्वर कलीटा ने एक पत्र में कहा है कि 'आज कांग्रेस ने मुझे कश्मीर मुद्दे के बारे में व्हिप जारी करने को कहा है. जबकि सच्चाई ये है कि देश का मिजाज पूरी तरह से बदल चुका है और ये व्हिप देश की जनभावना के खिलाफ है.'

  • आर्टिकल 370 खत्म करने की जम्मू-कश्मीर संविधान सभा की शक्ति ऐसे मिली संसद को

    आर्टिकल 370 खत्म करने की जम्मू-कश्मीर संविधान सभा की शक्ति ऐसे मिली संसद को

    जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में अनुच्छेद 370 (Article 370) को समाप्त करने का आधिकार जम्मू-कश्मीर की संविधान सभा को है लेकिन मौजूदा हालात में अनुच्छेद 370 में ही निहित एक व्यवस्था के तहत यह अनुच्छेद समाप्त कर दिया गया. जम्मू-कश्मीर की संविधान सभा भंग करके उसके अधिकार राज्य विधानसभा (Jammu-Kashmir Assembly) को दिए गए. चूंकि जम्मू-कश्मीर की विधानसभा की शक्तियां मौजूदा समय में संसद (Parliament) के पास हैं इसलिए संसद में अनुच्छेद 370 की दो धाराओं को समाप्त करने का प्रस्ताव लाया गया.

  • मोदी सरकार ने 1486 पुराने कानूनों को समाप्त किया

    मोदी सरकार ने 1486 पुराने कानूनों को समाप्त किया

    सत्रहवीं लोकसभा में अब तक रिकार्ड बिल पास हुए हैं और दोनों सदनों में कामकाज अप्रत्याशित तरीके से बढ़ा भी है. मोदी सरकार इसी बीच पुराने और बेकार हो चुके कानूनों को भी तेज़ी से खत्म कर रही है. 58 और कानूनों को खत्म करने के लिए शुक्रवार को राज्यसभा में लाए गए रिपीलिंग एंड एमेंडिंग बिल (The Repealing and Amending Bill) को मंजूरी दे दी गई. अब तक मोदी सरकार ने 1824 पुराने कानूनों की पहचान की है. इनमें से 1428 पहले ही खत्म किए जा चुके हैं, 58 और कानून खत्म होने के साथ ही मोदी सरकार अब तक 1486 पुराने कानूनों को हटा चुकी है.

12345»

Advertisement

 

Parliament फोटो

Parliament वीडियो

Parliament से जुड़े अन्य वीडियो »