Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

Payal tadvi


'Payal tadvi' - 8 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • रोहित वेमुला-पायल तड़वी की मां की याचिका पर SC ने जारी किया नोटिस, केंद्र सरकार, UGC और NABH से मांगा जवाब

    रोहित वेमुला-पायल तड़वी की मां की याचिका पर SC ने जारी किया नोटिस, केंद्र सरकार, UGC और NABH से मांगा जवाब

    केंद्र सरकार, UGC और NABH को नोटिस जारी कर जवाब मांगा. कॉलेजों और शैक्षणिक संस्थानों में जातिगत भेदभाव को ज़िम्मेदार बताकर आत्महत्या करने वाले रोहित वेमुला और पायल तड़वी की मां ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर गुहार लगाई है कि शैक्षिक और अन्य संस्थानों में जातिगत भेदभाव खत्म करने का सशक्त और कारगर मैकेनिज़्म बनाया जाये.

  • शिक्षा संस्थानों में जातीय भेदभाव खत्म करने के लिए रोहित वेमुला और पायल तड़वी की मांओं ने लगाई गुहार

    शिक्षा संस्थानों में जातीय भेदभाव खत्म करने के लिए रोहित वेमुला और पायल तड़वी की मांओं ने लगाई गुहार

    कॉलेज में जातिगत भेदभाव को जिम्मेदार बताकर आत्महत्या करने वाले रोहित वेमुला और पायल तड़वी की मांओं ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर गुहार लगाई है कि शैक्षणिक और अन्य संस्थानों में जातिगत भेदभाव खत्म करने का सशक्त और कारगर मैकेनिज़्म बनाया जाए.

  • पायल तड़वी आत्महत्या : डॉक्टरों ने कारण बताया रैगिंग, कर्मचारियों ने कहा- जातीय टिप्पणी

    पायल तड़वी आत्महत्या : डॉक्टरों ने कारण बताया रैगिंग, कर्मचारियों ने कहा- जातीय टिप्पणी

    मुंबई के नायर अस्पताल में मेडिकल की छात्रा पायल तड़वी की आत्महत्या के मामले में क्राइम ब्रांच की ओर से दाखिल 1200 पन्नों की चार्जशीट में जहां कई चौंकाने वाली बातें सामने आई हैं वहीं पायल के साथ काम करने वाले अन्य डॉक्टरों और सीनियर डॉक्टरों ने रैगिंग और मानसिक उत्पीड़न की बात कही है. जातिगत टिप्पणी का जिक्र सिर्फ चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों ने किया है. ऐसे में एक बड़ा सवाल यह है कि पायल तड़वी की आत्महत्या की मुख्य वजह उसके साथ हुई रैगिंग है या फिर जातीय टिप्पणी?

  • डॉक्टर पायल तड़वी का सुसाइड नोट आया सामने, 'जातिसूचक' टिप्पणी से परेशान होकर कर ली थी खुदकुशी

    डॉक्टर पायल तड़वी का सुसाइड नोट आया सामने, 'जातिसूचक' टिप्पणी से परेशान होकर कर ली थी खुदकुशी

    मुंबई की डॉक्टर पायल तड़वी ख़ुदकुशी केस में एक सुसाइड नोट सामने आया है. ये सुसाइड नोट इस केस में दाख़िल की गई चार्जशीट में है. तीन पन्ने के इस सुसाइड नोट में पायल ने अपने ख़ुदकुशी की पूरी दास्तान लिखी है और अपने माता-पिता से माफ़ी मांगी है. गुरुवार को बॉम्बे हाइकोर्ट में इस मामले की सुनवाई हुई जिसमें कोर्ट ने निर्देश दिए हैं कि गिरफ़्तार आरोपियों की ज़मानत याचिका पर सुनवाई की वीडियो रिकॉर्डिंग की जाएगी. अब इस याचिका पर 30 जुलाई को सुनवाई होगी. इस मामले में हेमा आहुजा, भक्ति मेहर और अंकिता खंडेलवाल को 29 मई को गिरफ़्तार किया गया था. घटना 22 मई की है जब नायर अस्पताल की सेकेंड ईयर की छात्रा पायल तड़वी ने ख़ुदकुशी कर ली थी जिसके बाद पायल के परिवारवालों ने आरोप लगाया था कि तीन सीनियर डॉक्टर आए दिन उसपर जातिसूचक टिप्पणी करती थी. इसी वजह से पायल ने ख़ुदकुशी कर ली. 

  • पायल तड़वी खुदकुशी मामला: 10 जून तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेजी गईं तीनों आरोपी डॉक्टर

    पायल तड़वी खुदकुशी मामला: 10 जून तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेजी गईं तीनों आरोपी डॉक्टर

    मुंबई में नायर अस्पताल में जूनियर डॉक्टर पायल तड़वी को आत्महत्या के लिए उकसाने वाली तीन डॉक्टरों को शुक्रवार को अदालत ने न्यायिक हिरासत में भेज दिया है.

  • आरक्षण को लेकर बॉलीवुड एक्ट्रेस ने किया ट्वीट, बोलीं- दुश्मनी पैदा करने के लिए...

    आरक्षण को लेकर बॉलीवुड एक्ट्रेस ने किया ट्वीट, बोलीं- दुश्मनी पैदा करने के लिए...

    पायल (Payal Rohatgi) की ट्विटर टाइम लाइन पर नजर डाली जाए तो समझ आता है कि वह खुलकर सनातन धर्म की वकालत करती हैं. पायल ने एक बार फिर सनतान धर्म की वकालत करते हुए आरक्षण व्यवस्था (Reservation System) पर सवाल उठाए हैं

  • भारतीय समाज में जातिवाद का जहर

    भारतीय समाज में जातिवाद का जहर

    मुंबई में डॉ. पायल तड़वी की आत्महत्या को लेकर नागरिक समाज के एक हिस्से में बहुत बेचैनी है. पायल तड़वी के लिए इंसाफ की मांग कर रहे इन लोगों को देखकर आपको लग सकता होगा कि यह एक रूटीन विरोध प्रदर्शन है. मेरी यही गुज़ारिश है कि जिस कारण से पायल ने आत्महत्या की है, हम उसे पुलिस की कार्रवाई तक न सीमित रखें. अब तो पायल के अस्पताल ने भी अपनी रिपोर्ट में माना है कि उसे उसकी जाति को लेकर प्रताड़ित किया जा रहा था.

  • पायल की खुदकुशी का मामला: तीनों आरोपी डॉक्टरों को 31 तक पुलिस हिरासत में भेजा गया

    पायल की खुदकुशी का मामला: तीनों आरोपी डॉक्टरों को 31 तक पुलिस हिरासत में भेजा गया

    अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश आर एम सडरानी के समक्ष अभियोजन ने दलील दी कि यह पता लगाने के लिए आरोपियों को हिरासत में लेकर पूछताछ करने की जरूरत है कि उन्होंने तड़वी का कथित सुसाइड नोट गुमा दिया है या नष्ट कर दिया. अदालत ने उन्हें 31 मई तक पुलिस हिरासत में भेजने का निर्देश दिया.

Advertisement