NDTV Khabar

Phulpur by election 2018


'Phulpur by election 2018' - 8 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • उपचुनाव में बुआ-बबुआ के साथ से यूपी में कांग्रेस से छूटा वोटर्स का 'हाथ', 6 बातें

    उपचुनाव में बुआ-बबुआ के साथ से यूपी में कांग्रेस से छूटा वोटर्स का 'हाथ', 6 बातें

    सपा ने केन्द्र और उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा को करारा झटका देते हुए गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में जीत हासिल की है. बसपा के साथ हुआ तालमेल और राष्ट्रीय लोकदल, निषाद पार्टी तथा पीस पार्टी समेत कई दलों से मिला समर्थन सपा के लिये फायदे का सौदा साबित हुआ. वहीं, दोनों सीटों पर कांग्रेस की जमानत जब्त हो गई. इन परिणामों ने भाजपा को इस गठजोड के विरूद्ध नये सिरे से रणनीति बनाने पर मजबूर कर दिया है. वहीं कांग्रेस को भी नए सिरे से सोचने को मजबूर कर दिया है कि उन्‍हें गठबंधन के साथ जाना चाहिए या फिर अकेले चुनाव लड़ने की नए तरीके से रणनीति तैयार करनी होगी.

  • 2019 लोकसभा चुनाव से पहले BJP के लिए खतरे की घंटी, 10 बातें

    2019 लोकसभा चुनाव से पहले BJP के लिए खतरे की घंटी, 10 बातें

    बीजेपी को 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले एक चौंका देने वाला झटका लगा क्योंकि लोकसभा की उन तीनों सीटों पर उसके उम्मीदवार हार गए जिनके लिए उपचुनाव हुआ था. इन तीन सीटों में उत्तर प्रदेश में उसका गढ़ रहा गोरखपुर और फूलपुर तथा बिहार में अररिया शामिल है. यूपी की दोनों लोकसभा सीट प्रदेश के सीएम योगी आदित्‍यनाथ और डिप्‍टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या की थी. बीजेपी के लिए यह चौंकाने वाला चुनाव परिणाम त्रिपुरा सहित पूर्वोत्तर के तीन राज्यों में उसकी शानदार जीत के कुछ ही दिन बाद आया है. बीजेपी ने त्रिपुरा में वाम दल के किले को ढहा दिया था जहां वह पिछले 25 वर्ष सत्ता में था. बीजेपी ने अपने क्षेत्रीय सहयोगी दलों के साथ मिलकर नगालैंड और मेघालय में भी सरकार बना ली थी. वहीं बीजेपी के लिए यह हार 2019 के लोकसभा चुनावों के लिए खतरे की घंटी है.

  • सपा-बसपा की ताक़त बीजेपी पर भारी

    सपा-बसपा की ताक़त बीजेपी पर भारी

    बबुआ तो बुआ को लेकर सीरीयस है. तभी तो जीत के बाद बबुआ बुआ के घर पहुंच गया. राजनीति में नारे और प्रतीक कितनी जल्दी बदलते हैं. पिछले साल राहुल और अखिलेश की जोड़ी यूपी के लड़के कहलाए, नहीं चले तो अब बुआ बबुआ नारा चल निकला है. अखिलेश यादव गुलदस्ता लेकर बसपा नेता मायावती के घर मिलने पहुंच गए.

  • फूलपुर लोकसभा उपचुनाव 2018: सपा प्रत्याशी नागेंद्र प्रताप सिंह ने 59,613 मतों से दर्ज की जीत

    फूलपुर लोकसभा उपचुनाव 2018: सपा प्रत्याशी नागेंद्र प्रताप सिंह ने 59,613 मतों से दर्ज की जीत

    उत्तर प्रदेश के फूलपुर लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव के आज परिणाम सामने आएंगे. यूपी के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की वजह से सीट खाली होने पर 11 मार्च को उपचुनाव हुए थे, जिसके वोटों की गिनती आज होगी.

  • यूपी-बिहार में अगले लोकसभा चुनाव की तस्वीर दिखाने वाले उपचुनावों के परिणाम सुबह 8 बजे से

    यूपी-बिहार में अगले लोकसभा चुनाव की तस्वीर दिखाने वाले उपचुनावों के परिणाम सुबह 8 बजे से

    उत्तर प्रदेश की दो लोकसभा सीटों, बिहार की एक लोकसभा सीट और दो विधानसभा सीटों के लिए हुए उपचुनाव की मतगणना आज होगी. मतगणना पूरी होने के साथ ही चुनाव परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे. चुनाव परिणाम दोपहर से पहले ही आ जाने की उम्मीद है. यह परिणाम 2019 के लोकसभा चुनाव के परिदृश्य का संकेत देने वाले माने जा रहे हैं.

  • फूलपुर उपचुनाव : 2014 में सपा-बसपा के कुल वोटों से ज्यादा मत मिले थे बीजेपी को, अब कड़ा संघर्ष

    फूलपुर उपचुनाव :  2014 में सपा-बसपा के कुल वोटों से ज्यादा मत मिले थे बीजेपी को, अब कड़ा संघर्ष

    पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू के लोकसभा चुनाव क्षेत्र रहे फूलपुर के उपचुनाव पर पूरे देश की नजरें टिकीं हैं. केशव प्रसाद मौर्य के उप मुख्यमंत्री बनने के बाद खाली हुई इस सीट के उपचुनाव में 11 मार्च को वोट डाले जाएंगे.

  • उत्तर प्रदेश : गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव के प्रचार अभियान का शोर थमा

    उत्तर प्रदेश : गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव के प्रचार अभियान का शोर थमा

    शुक्रवार को गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों के बेहद प्रतिष्ठापूर्ण उपचुनाव के लिए मैदान में उतरे राजनीतिक दलों के जोरदार प्रचार अभियान का शोर शाम पांच बजे थम गया.

  • फूलपुर लोकसभा उपचुनाव: BJP को मिल रही है जबरदस्त टक्कर, जीत ही एकमात्र विकल्प

    फूलपुर लोकसभा उपचुनाव: BJP को मिल रही है जबरदस्त टक्कर, जीत ही एकमात्र विकल्प

    उत्तर प्रदेश के गोरखपुर और फूलपुर सीट के लिए होने वाले लोकसभा उपचुनाव पर देश भर की नजर लगी हुई है. एक सीट सूबे के मुख्यमंत्री की है और और दूसरी उपमुख्यमंत्री की. इनमें से खासकर फूलपुर की सीट का टकराव कफी अहम माना जा रहा है. माना जा रहा है कि इसके नतीजे 2019 के राजनीतिक समीकरण तय करने के लिहाज से भी अहम होंगे. इसलिये फूलपुर में बीजेपी ने रैलियों की झड़ी लगा दी है. पहली बार हासिल ये सीट वो खोना नहीं चाहती. जबकि बीएसपी ने यहां उम्मीदवार न उतार कर और सपा को समर्थन देने का एलान कर उसकी चुनौती कड़ी कर दी है. 

Advertisement