NDTV Khabar

Pm modi speech at red fort


'Pm modi speech at red fort' - 4 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • Independence Day 2018: स्वतंत्रता दिवस पर लालकिले से PM मोदी के संबोधन पर BSP प्रमुख मायावती ने कही यह बात

    Independence Day 2018: स्वतंत्रता दिवस पर लालकिले से PM मोदी के संबोधन पर BSP प्रमुख मायावती ने कही यह बात

    स्वतंत्रता दिवस (Independence Day 2018) पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi Independence Day address) के लाल किले से दिए गए संबोधन को बसपा प्रमुख मायावती (Mayawati ) ने पूर्ण रूप से राजनीतिक शैली का चुनावी भाषण बताया. बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने कहा कि इस लम्बे-चौड़े भाषण से सवा सौ करोड़ आबादी वाले देश को ना तो नई ऊर्जा मिली और ना ही कोई नई उम्मीद. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री देश की आम जनता को उसके जान-माल व मज़हब की सुरक्षा की अति-महत्त्वपूर्ण संवैधानिक गारंटी का आश्वासन देना भी भूल गए, जबकि यह आज देश की आवश्यकता नंबर-1 बन गई है.

  • Independence Day: लाल किले की प्राचीर से PM नरेंद्र मोदी ने पेश की 'सबल भारत की बुलंद तस्‍वीर'

    Independence Day: लाल किले की प्राचीर से PM नरेंद्र मोदी ने पेश की 'सबल भारत की बुलंद तस्‍वीर'

    "हम मक्‍खन पर लकीर खींचने वाले लोग नहीं हैं, हम पत्‍थर पर लकीर खींचने वाले लोग हैं..." प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 72वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर ऐतिहासिक लाल किले के प्राचीर से यह कहकर अपने चट्टानी इरादों को जता दिया है. प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत एक सोया हुआ हाथी है, जो अब जाग गया है, चल पड़ा है.

  • लाल किले की प्राचीर से पीएम मोदी ने कहा- 2022 तक भारत का बेटा या बेटी अंतरिक्ष में जाएगा

    लाल किले की प्राचीर से पीएम मोदी ने कहा-  2022 तक भारत का बेटा या बेटी अंतरिक्ष में जाएगा

    लाल किले की प्राचीर से राष्ट्र को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, ‘‘ आज मेरा सौभाग्य है कि इस पावन अवसर पर मुझे देश को एक और खुशखबरी देने का अवसर मिला है. साल 2022, यानि आजादी के 75वें वर्ष में और संभव हुआ तो उससे पहले ही, भारत ‘गगनयान’ के जरिये अंतरिक्ष में तिरंगा लेकर जा रहा है.

  • राजीव रंजन की कलम से : 'प्रधानसेवक' हैं तो सेवा करते नजर भी आइए

    राजीव रंजन की कलम से : 'प्रधानसेवक' हैं तो सेवा करते नजर भी आइए

    एक बात तो साफ है कि ब्रान्डिंग में मोदी और उनकी टीम का कोई मुकाबला नहीं कर सकता। लालकिले से न कोई बड़ी घोषणा हुई, और न भविष्य को लेकर कोई स्पष्ट विज़न नजर आया, फिर भी इस भाषण की मार्केटिंग ऐसी हुई कि हर कोई वाह-वाह कर रहा है।