NDTV Khabar

Prabhat upadhyay News in Hindi


'Prabhat upadhyay' - 127 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • नामवर सिंह : मरेंगे हम किताबों पर, वरक होगा कफ़न अपना...

    नामवर सिंह : मरेंगे हम किताबों पर, वरक होगा कफ़न अपना...

    बनारस की 'ऊसर भूमि' जीयनपुर से निकल नामवर सिंह (Namwar Singh) ने बीएचयू, सागर और जेएनयू में हिंदी साहित्य की जो पौध रोपी, उनमें से तमाम अब ख़ुद बरगद बन गए हैं. 93 साल...एक सदी में सिर्फ 7 बरस कम. पिछले दो ढाई महीनों को छोड़कर नामवर सिंह लगातार सक्रिय रहे और हिंदी की थाती संजोते-संवारते रहे. आखिरी घड़ी तक लगे रहे.

  • अखिलेश यादव का वह कदम, जो लोकसभा चुनाव से ठीक पहले बन गया है मायावती के 'गले की हड्डी'

    अखिलेश यादव का वह कदम, जो लोकसभा चुनाव से ठीक पहले बन गया है मायावती के 'गले की हड्डी'

    चुनाव की दहलीज पर खड़ी बसपा सुप्रीमो मायावती के लिए समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) द्वारा उठाया गया एक मुद्दा ही 'गले की हड्डी' बनता दिखाई दे रहा है. यह मामला मायावती (Mayawati) के मुख्यमंत्री रहते बने पार्को और स्मारकों में कथित भ्रष्टाचार से जुड़ा है और एक बार फिर चर्चा में है. 

  • राफेल डील में नया खुलासा, PMO का दखल था नियमों के खिलाफ

    राफेल डील में नया खुलासा, PMO का दखल था नियमों के खिलाफ

    राफ़ेल सौदे के समय रक्षा मंत्रालय के वित्तीय सलाहकार सुधांशु मोहंती का कहना है कि रक्षा सौदों की बातचीत में किसी तरह की दख़लअंदाज़ी नियमों के ख़िलाफ़ है. आपको बता दें कि राफेल डील पर द हिंदू की रिपोर्ट सामने आने के बाद यह मामला फिर गरमा गया है और कांग्रेस को इस मामले में सत्तारूढ़ बीजेपी को घेरने का एक और मौका मिल गया है.

  • लोकसभा चुनाव से ठीक पहले आखिर क्यों बिखर रहा है NDA का कुनबा?

    लोकसभा चुनाव से ठीक पहले आखिर क्यों बिखर रहा है NDA का कुनबा?

    लोकसभा चुनाव (General Election 2019) में अब कुछ महीने बचे हैं. केंद्र में सत्तारूढ़ बीजेपी की अगुवाई वाला एनडीए वापसी के लिए जोरशोर से प्रयास में जुटा है, लेकिन अब चुनाव की दहलीज पर आकर बीजेपी के लिए एनडीए (National Democratic Alliance) का कुनबा संभालना मुश्किल हो रहा है.

  • IAS बी चंद्रकला ने सोशल मीडिया से क्यों बनाई दूरी?

    IAS बी चंद्रकला ने सोशल मीडिया से क्यों बनाई दूरी?

    चर्चित आईएएस अधिकारी बी चंद्रकला (IAS B Chandrakala) ने अब सोशल मीडिया से पूरी तरह दूरी बना ली है. अवैध खनन मामले में जांच का सामना कर रहीं बी चंद्रकला फेसबुक और ट्विटर से तो दूर थीं ही, अब अपना लिंकडिन प्रोफाइल भी बंद कर दिया है.

  • जब 28 साल की युवा ममता बनर्जी ने दिया कांग्रेस के कद्दावर नेता कमलापति त्रिपाठी को 'चकमा'

    जब 28 साल की युवा ममता बनर्जी ने दिया कांग्रेस के कद्दावर नेता कमलापति त्रिपाठी को 'चकमा'

    ममता बनर्जी ने सुब्रत दा के निर्देशों को जस का तस अनिमा चटर्जी के सामने रख दिया, जो खानपान की जिम्मेदारी संभाल रही थीं. चूंकि अधिवेशन में सैकड़ों लोग थे, इसलिये अनिमा की व्यस्तता अलग थी. उन्होंने ममता से कहा कि मुझे मदद के लिए दो लोगों की जरूरत पड़ेगी. इधर ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) के दिमाग में कुछ और ही चल रहा था. उन्होंने कमलापति त्रिपाठी (Kamalapati Tripathi) की मान्यताओं को चुनौती देने की ठान ली थी. 

  • Exclusive : देशभर में SBI के कितने एटीएम, बैंक को भी नहीं पता है

    Exclusive :  देशभर में SBI के कितने एटीएम, बैंक को भी नहीं पता है

    एक आरटीआई में SBI से देशभर में लगी बैंक की ATM मशीनों का ब्योरा मांगा गया था, लेकिन बैंक की तरफ से कहा गया कि उनके पास इसकी सूचना ही उपलब्ध नहीं है. चौंकाने वाली बात यह है कि बैंक को यह भी नहीं पता है कि पिछले 5 वित्तीय वर्षों में एटीएम में तैनात सुरक्षा गार्डों की सैलरी और भत्ते पर कितने पैसे खर्च हुए. 

  • क्या आपका बैंक भी आपको 'चूना' लगा रहा है?

    क्या आपका बैंक भी आपको 'चूना' लगा रहा है?

    कुछ दिनों पहले ही खबर आई कि सार्वजनिक क्षेत्र के 21 बैंकों और निजी क्षेत्र के तीन प्रमुख बैकों ने वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान खाते में सिर्फ न्यूनतम राशि न रख पाने की वजह से ग्राहकों से 5,000 करोड़ रुपये से ज्यादा वसूल लिये. आप जानकर चौंक जाएंगे कि इसमें से स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने अकेले 2,433.87 करोड़ रुपये वसूले.

  • Exclusive: PNB में फिर सैकड़ों करोड़ का घपला, नीरव मोदी केस से भी नहीं चेता बैंक प्रबंधन

    Exclusive: PNB में फिर सैकड़ों करोड़ का घपला, नीरव मोदी केस से भी नहीं चेता बैंक प्रबंधन

    PNB में फ्रॉड का नया मामला सामने आया है. वर्तमान वित्तीय वर्ष यानी 2018-19 की पहली छमाही में ही पीएनबी (Punjab National Bank) के 1500 करोड़ रुपए से ज्यादा धोखाधड़ी की भेंट चढ़ गए. यह खुलासा एक आरटीआई से हुआ है.

  • Exclusive: नीट काउंसिलिंग के नाम पर सरकार ने छात्रों से वसूले करोड़ों, शुल्क निर्धारण पर उठे सवाल

    Exclusive: नीट काउंसिलिंग के नाम पर सरकार ने छात्रों से वसूले करोड़ों, शुल्क निर्धारण पर उठे सवाल

    देशभर के मेडिकल कॉलेजों में दाखिले के लिए आयोजित नीट (राष्ट्रीय पात्रता व प्रवेश परीक्षा) में पिछले साल (2018-19 सत्र) पहली बार अभ्यर्थियों से काउंसिलिंग के लिए पंजीकरण शुल्क लिया गया. अकेले पीजी की काउंसिलिंग के लिए 1,14,198 अभ्यर्थियों ने पंजीकरण किया और इसके जरिये सरकार के खाते में 6.72 करोड़ (6,72,19,000) रुपये आए, लेकिन इस पंजीकरण शुल्क का निर्धारण किस आधार पर किया गया, इसका कुछ अता-पता ही नहीं हैं.

  • FlashBack 2018: साल 2018 की वो 5 चर्चित किताबें, जो आपको जरूर पढ़नी चाहिए

    FlashBack 2018: साल 2018 की वो 5 चर्चित किताबें, जो आपको जरूर पढ़नी चाहिए

    5 Most Popular Books of 2018: साल 2018 किताबों के लिए महत्वपूर्ण रहा. इस साल कहानी, उपन्यास, कविता, कथेतर और तमाम विधाओं में किताबें प्रकाशित हुईं और इन किताबों की खूब चर्चा भी हुई.

  • पीवी नरसिम्हा राव का अंतिम संस्कार दिल्ली की जगह हैदराबाद में क्यों हुआ?

    पीवी नरसिम्हा राव का अंतिम संस्कार दिल्ली की जगह हैदराबाद में क्यों हुआ?

    PV Narasimha Rao Death Anniversary: पीएम बनने के बाद कांग्रेस और खासकर सोनिया गांधी को राव (PV Narasimha Rao) से जिस तरह की अपेक्षाएं थी, वे उसके विपरीत काम कर रहे थे. इसका ब्योरा विनय सीतापति ने राव की बायोग्राफी 'द हाफ लायन' में दिया है. वे लिखते हैं, ''बकौल के. नटवर सिंह Natwar Singh (कांग्रेसी नेता) नरसिम्हा राव को लगा कि बतौर प्रधानमंत्री उन्हें सोनिया गांधी को रिपोर्ट करने की जरूरत नहीं है. और उन्होंने ऐसा ही किया.

  • अगर राजीव गांधी सरकार ने मान ली होती चंद्रशेखर की यह बात, तो रुक सकते थे 1984 के दंगे

    अगर राजीव गांधी सरकार ने मान ली होती चंद्रशेखर की यह बात, तो रुक सकते थे 1984 के दंगे

    चंद्रशेखर, Chandra Shekhar  (जो बाद में देश के प्रधानमंत्री बने) और गांधी जी के पोते राजमोहन गांधी खुद तत्कालीन गृह मंत्री के घर व्यक्तिगत तौर पर मदद मांगने के लिए गए. उन्होंने गृह मंत्री से मांग की कि दंगा रोकने और लोगों की सुरक्षा के लिए सेना बुलाई जाए, लेकिन सरकार ने कुछ नहीं किया'. 

  • ...तो राहुल गांधी ने 7 महीने पहले ही लिख दी थी कमलनाथ को मुख्यमंत्री बनाने की पटकथा

    ...तो राहुल गांधी ने 7 महीने पहले ही लिख दी थी कमलनाथ को मुख्यमंत्री बनाने की पटकथा

    अध्यक्ष पद के लिए ग्वालियर राजघराने के वंशज और पार्टी के युवा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) का पलड़ा भारी दिख रहा था. उनके पक्ष में गोलबंदी भी थी, लेकिन राहुल गांधी ने अनुभव को तरजीह देते हुए कमलनाथ  (Kamal Nath) को राज्य की बागडोर सौंपी थी.

  • बीजेपी शासन के दौरान 6 महीने जेल में रहा यह किसान नेता, अब बीजेपी प्रत्याशी को ही दी चुनाव में पटखनी

    बीजेपी शासन के दौरान 6 महीने जेल में रहा यह किसान नेता, अब बीजेपी प्रत्याशी को ही दी चुनाव में पटखनी

    बलवान पूनिया ने राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले के भद्रा विधान सभा क्षेत्र से बीजेपी प्रत्याशी संजीव कुमार को लगभग 23 हजार वोटों से मात दी है. आपको बता दें कि संजीव कुमार 2013 में बीजेपी टिकट से यहां चुनाव जीते थे, जबकि 1998 में कांग्रेस केे टिकट से जीत हासिल की थी, लेकिन इस बार बलवान पूनिया ने धूल चटा दी. 

  • Election Results 2018: कभी विदेशों में लगवाते थे नौकरी, इस तरह तेलंगाना के 'किंग' बने चंद्रशेखर राव

    Election Results 2018: कभी विदेशों में लगवाते थे नौकरी, इस तरह तेलंगाना के 'किंग' बने चंद्रशेखर राव

    Assembly Election Results 2018:के. चंद्रशेखर राव (K. Chandrashekar Rao) का पहली बार सियासी दुनिया से साबका हुआ और वे छात्र राजनीति के अखाड़े में कूद पड़े. चूंकि घर भी चलाना था तो उन्होंने बतौर एंप्लॉयमेंट कंसल्टेंट (रोजगार सलाहकार) एक नई पारी शुरू की.

  • अगर इंदिरा की चलती तो सोनिया की जगह इस बॉलीवुड स्टार की बेटी होती गांधी परिवार की बहू, जानें-पूरा किस्सा

    अगर इंदिरा की चलती तो सोनिया की जगह इस बॉलीवुड स्टार की बेटी होती गांधी परिवार की बहू, जानें-पूरा किस्सा

    अगर सबकुछ इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) के मनमुताबिक हुआ होता तो राजीव की पत्नी सोनिया (Sonia Gandhi) नहीं बल्कि उस जमाने में बॉलीवुड के सरताज राज कपूर (Raj Kapoor) की बड़ी बेटी ऋतु होतीं. दरअसल, गांधी-नेहरू परिवार की बॉलीवुड के दिग्गज 'कपूर परिवार' से अच्छी दोस्ती थी. पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) इस संबंध को 'रिश्ते' में बदलना चाहती थीं. उनकी दिली इच्छा थी कि बड़े बेटे राजीव गांधी  (Rajiv Gandhi) की शादी राज कपूर (Raj Kapoor) की बेटी से हो.

  • Birthday Special: जब सोमनाथ मंदिर बना डॉ. राजेंद्र प्रसाद और जवाहरलाल नेहरू के बीच तकरार की वजह, जानें- पूरा किस्सा

    Birthday Special: जब सोमनाथ मंदिर बना डॉ. राजेंद्र प्रसाद और जवाहरलाल नेहरू के बीच तकरार की वजह, जानें- पूरा किस्सा

    पटेल के निधन के साल भर के अंदर ही पंडित नेहरू और डॉ. प्रसाद (Rajendra Prasad) के बीच मतभेद सतह पर आ गए. इसके पीछे था सोमनाथ मंदिर. 1951 में जब मंदिर का पुननिर्माण पूरा हुआ तो राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद (Rajendra Prasad) को मंदिर का उद्घाटन करने का न्योता दिया गया और उन्होंने इसे स्वीकार भी लिया, लेकिन जवाहरलाल नेहरू को यह पसंद नहीं आया.  

12345»

Advertisement