NDTV Khabar

Pslv


'Pslv' - 52 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • एक और कामयाबी: 'मिशन शक्ति' के बाद अब ISRO ने लॉन्च किया दुश्मन की रडार का पता लगाने वाला सैटेलाइट

    एक और कामयाबी: 'मिशन शक्ति' के बाद अब ISRO ने लॉन्च किया दुश्मन की रडार का पता लगाने वाला सैटेलाइट

    ISRO launches EMISAT: ISRO ने इतिहास रच दिया है.  एमिसैट सैटेलाइट लॉन्च कर दिया गया है. एमिसैट (EMISAT) का प्रक्षेपण रक्षा अनुसंधान विकास संगठन (डीआरडीओ) के लिए किया गया है.

  • ASAT मिसाइल टेस्‍ट के बाद अब दुश्‍मनों के रडार का पता लगाने वाले सैटेलाइट के लॉन्‍च की तैयारी में भारत

    ASAT मिसाइल टेस्‍ट के बाद अब दुश्‍मनों के रडार का पता लगाने वाले सैटेलाइट के लॉन्‍च की तैयारी में भारत

    स्‍पेस मिसाइल का इस्तेमाल कर एक लो अर्थ ऑर्बिट (LEO) सैटेलाइट को मार गिराने के बाद भारत अब पोलर सैटेलाइट लॉन्‍च व्‍हीकल (पीएसएलवी) के मिशन के जरिए एक ऐसे निगरानी उपग्रह को लॉन्‍च करना चाहता है जिसमें कई बातें पहली बार होंगी.

  • ISRO ने छात्रों द्वारा बनाए दुनिया के सबसे हल्के सैटेलाइट को सफलतापूर्वक किया लॉन्च

    ISRO ने छात्रों द्वारा बनाए दुनिया के सबसे हल्के सैटेलाइट को सफलतापूर्वक किया लॉन्च

    इसरो के पीएसएलवी-सी44 रॉकेट ने गुरुवार को श्रीहरिकोटा से भारतीय सेना का उपग्रह माइक्रोसैट और छात्रों का उपग्रह कलामसैट लेकर अंतरिक्ष के लिए उड़ान भरी थी.

  • इसरो की बड़ी कामयाबी, भारत ने PSLV-C43 की मदद से अमेरिका के 23 समेत लॉन्च किए 31 सैटेलाइट

    इसरो की बड़ी कामयाबी, भारत ने PSLV-C43 की मदद से अमेरिका के 23 समेत लॉन्च किए 31 सैटेलाइट

    भारत  ने आज यानी गुरुवार को एक और कामयाबी अपने नाम कर ली. इसरो ने श्रीहरिकोटा से अपने पीएसएलवी-सी43 राकेट का प्रक्षेपण किया. यह राकेट पृथ्वी का निरीक्षण करने वाले भारतीय उपग्रह एचवाईएसआईएस और 30 अन्य सेटेलाइटों को अपने साथ अंतरिक्ष ले गया, जिनमें 23 अमेरिका के हैं.  दरअसल, आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्पेस सेंटर से इसरो ने हाइपरस्पेक्ट्रल इमेजिंग सैटलाइट लॉन्च किया. इस सैटलाइट को PSLV C-43 द्वारा लॉन्च किया गया है. इसके साथ इसरो ने अलग-अलग देशों के 29 सैटलाइट स्पेस में भेजे हैं. इसरो द्वारा भेजे जा रहे है 29 सैटलाइटों में से 23 सैटलाइट अमेरिका के हैं.

  • ISRO ने आज ब्रिटेन के दो सैटेलाइट को लॉन्च किया, ये है इस प्रोजेक्ट का मकसद

    ISRO ने आज ब्रिटेन के दो सैटेलाइट को लॉन्च किया, ये है इस प्रोजेक्ट का मकसद

    दोनों उपग्रहों को लेकर पीएसएलवी-सी42 अंतरिक्षयान सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से रात 10:08 बजे प्रथम लांचपैड से रवाना हुआ.

  • मोदी सरकार ने 30 PSLV और 10 GSLV एमके III लॉन्‍च के लिए 10,000 करोड़ की मंजूरी दी, कैबिनेट ने लिए ये 6 फैसले

    मोदी सरकार ने 30 PSLV और 10 GSLV एमके III लॉन्‍च के लिए 10,000 करोड़ की मंजूरी दी, कैबिनेट ने लिए ये 6 फैसले

    इस कदम से इसरो को हल्के और भारी वजन के उपग्रहों के प्रक्षेपण में मदद मिलेगी. पीएसएलवी के परिचालन से देश पृथ्‍वी अवलोकन, आपदा प्रबंधन, दिशा सूचक और अंतरिक्ष विज्ञान के लिए उपग्रह प्रक्षेपण क्षमता में आत्‍मनिर्भर बना है. 

  • ISRO के GSAT-6A संचार उपग्रह की उल्टी गिनती शुरू

    ISRO के GSAT-6A संचार उपग्रह की उल्टी गिनती शुरू

    भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो ने संचार उपग्रह जीसैट6 ए के साथ इसरो के जीएसएलवी- एफ08 मिशन के चेन्नई से करीब 110 किलोमीटर दूर श्रीहरिकोटा के अंतरिक्ष केन्द्र से प्रक्षेपण की गुरुवार की 27 घंटे की उल्टी गिनती शुरू हो गई.

  • अंतरिक्ष में भारत की 'आंख' बनेगी कार्टोसैट-2 सैटेलाइट, पीएम मोदी ने कहा-वैज्ञानिकों को तहे दिल से बधाई

    अंतरिक्ष में भारत की 'आंख' बनेगी कार्टोसैट-2 सैटेलाइट, पीएम मोदी ने कहा-वैज्ञानिकों को तहे दिल से बधाई

    पीएम मोदी ने कहा है कि आज PSLV के सफल लॉन्च पर इसरो और उसके वैज्ञानिकों को तहे दिल से बधाई. नए साल पर देश की स्पेस टेक्नोलॉजी को और आगे ले जाने वाली इस कामयाबी से देश के नागरिकों, किसानों, मछुआरों आदि को फ़ायदा होगा. इसरो के द्वारा 100वां सैटेलाइट लॉन्च इसकी गरिमामयी उपलब्धियों और भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के उज्ज्वल भविष्य दोनों को दिखाता है.

  • ISRO कभी रॉकेट ढोने के लिए करता था बैलगाड़ी का इस्तेमाल, अब बनाया इतिहास

    ISRO कभी रॉकेट ढोने के लिए करता था बैलगाड़ी का इस्तेमाल, अब बनाया इतिहास

    इसरो का 100वां सैटेलाइट लॉन्च हुआ. आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने अंतरिक्ष में सेंचुरी लगा दी है. इसरो ने एक साथ 31 सैटेलाइट अंतरिक्ष में लॉन्‍च किए.

  • ISRO का 100वां सैटेलाइट लॉन्च, भारत को अब डिफेंस और कृषि क्षेत्र की मिलेगी तत्‍काल जानकारी, जानें 10 बातें

    ISRO का 100वां सैटेलाइट लॉन्च, भारत को अब डिफेंस और कृषि क्षेत्र की मिलेगी तत्‍काल जानकारी, जानें 10 बातें

    आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने अंतरिक्ष में सेंचुरी लगा दी है. थोड़ी देर पहले श्रीहरिकोटा से इसरो का 100वां सैटेलाइट लॉन्च हुआ. इसरो ने एक साथ 31 सैटेलाइट अंतरिक्ष में लॉन्‍च किए. PSLV C-40 अपने साथ सबसे भारी कार्टोसैट 2 सीरीज के उपग्रह के अलावा 30 दूसरी सैटलाइट भी अंतरिक्ष में ले गया है. इसमें एक भारतीय माइक्रो सैटेलाइट और एक नैनो सैटेलाइट के अलावा 28 छोटे विदेशी उपग्रह हैं. इसरो के वैज्ञानिक एएस किरण ने बताया कि पिछले पीएसएलवी लॉन्च के दौरान हमें समस्याएं हुईं थी और आज जो हुआ है उससे यह साबित होता है कि समस्या को ठीक से देखा गया और उसमें सुधार किया गया. देश को इस नए साल का उपहार देने के लिए शुभकामनाएं. आपको बता दें कि चार महीने पहले 31 अगस्त 2017 इसी तरह का एक प्रक्षेपास्त्र पृथ्वी की निम्न कक्षा में देश के आठवें नेविगेशन उपग्रह को वितरित करने में असफल रहा था. पीएसएलवी-सी40 वर्ष 2018 की पहली अंतरिक्ष परियोजना है.

  • ISRO की शतकीय उड़ान: 100वें सैटेलाइट समेत 31 उपग्रह अंतरिक्ष की ओर रवाना, 10 खास बातें

    ISRO की शतकीय उड़ान: 100वें सैटेलाइट समेत 31 उपग्रह अंतरिक्ष की ओर रवाना, 10 खास बातें

    भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) आज अंतरिक्ष में शतक लगाया है. सुबह 9.28 पर श्रीहरिकोटा के अंतरिक्ष केंद्र से इसरो अपने 100वें उपग्रह को लॉन्च किया. कार्टोसैट 2 सैटेलाइट से 710 किलो वजनी है. यह निगरानी उपग्रह है और इससे तटीय क्षेत्रों और शहरों की निगरानी के लिए इस्‍तेमाल किया जाएगा. इसमें हाईरेजुलेशन कैमरा लगा है जिससे खींची फोटो का इस्‍तेमाल किया जाएगा. चार स्‍तर पर लॉन्‍च किया जाएगा. ढाई घंटे की ये प्रक्रिया है. सह-यात्री उपग्रहों में भारत का एक माइक्रो और एक नैनो उपग्रह शामिल है जबकि छह अन्य देशों - कनाडा, फिनलैंड, फ्रांस, कोरिया, ब्रिटेन और अमेरिका के तीन माइक्रो और 25 नैनो उपग्रह शामिल किए जा रहे हैं. आपको बता दें कि चार महीने पहले 31 अगस्त 2017 इसी तरह का एक प्रक्षेपास्त्र पृथ्वी की निम्न कक्षा में देश के आठवें नेविगेशन उपग्रह को वितरित करने में असफल रहा था. पीएसएलवी-सी40 वर्ष 2018 की पहली अंतरिक्ष परियोजना है.

  • युवा दिवस के मौके पर शुक्रवार को एक साथ 31 सैटेलाइट लॉन्च करेगा इसरो, उल्टी गिनती शुरू

    युवा दिवस के मौके पर शुक्रवार को एक साथ 31 सैटेलाइट लॉन्च करेगा इसरो, उल्टी गिनती शुरू

    भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन यानी इसरो आसमान में एक और नई उड़ान भरने को तैयार है. नये साल में इसरो की 100वें उपग्रह के प्रक्षेपण के लिए 28 घंटों की उलटी गिनती आज से शुरू हो गई. चेन्नई से 110 किलोमीटर दूर स्थित श्रीहरिकोटा अंतरिक्ष केंद्र से इस 100वें उपग्रह के साथ 30 अन्य उपग्रह भी अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किये जायेंगे. यानी शुक्रवार को कुल 31 उपग्रह प्रक्षेपित किये जाएंगे. 

  • पीएसएलवी सी 38 की सफल लॉन्चिंग पर इसरो को बधाइयों का तांता लगा

    पीएसएलवी सी 38 की सफल लॉन्चिंग पर इसरो को बधाइयों का तांता लगा

    भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) द्वारा शुक्रवार को अपने पृथ्वी अवलोकन उपग्रह काटरेसैट, नैनो उपग्रह एनआईयूएसएटी तथा 14 देशों के 29 विदेशी उपग्रहों को सफलतापूर्वक छोड़े जाने के बाद अंतरिक्ष एजेंसी को बधाइयों का तांता लगा हुआ है. राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर एजेंसी को बधाई दी है.

  • खास बातें : इसरो ने पीएसएलवी सी 38 का सफल लॉन्च किया, जानें सरहद पर कैसे रखेगा नजर

    खास बातें : इसरो ने पीएसएलवी सी 38 का सफल लॉन्च किया, जानें सरहद पर कैसे रखेगा नजर

    कार्टोसैट 2 श्रृंखला के उपग्रह और 30 अन्य उपग्रहों को ले जा रहे पीएसएलवी-सी 38 का श्रीहरिकोटा से सफल प्रक्षेपण किया गया है.

  • वैज्ञानिक माधवन नायर की चिंता, 'नैनो उपग्रहों का कचरा बन सकता है सक्रिय उपग्रहों के लिए खतरा'

    वैज्ञानिक माधवन नायर की चिंता, 'नैनो उपग्रहों का कचरा बन सकता है सक्रिय उपग्रहों के लिए खतरा'

    भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने हाल ही में एकसाथ 104 उपग्रह प्रक्षेपित कर इतिहास रच दिया है लेकिन, इस अभियान का एक नकारात्मक पहलू भी है, जो चिंता का विषय है. वरिष्ठ अंतरिक्ष वैज्ञानिक माधवन नायर का कहना है कि नैनो उपग्रह अंतरिक्ष में कचरा बढ़ा रहे हैं और यह कचरा सक्रिय उपग्रहों के लिए खतरा हो सकते हैं.

  • जब 104 सैटेलाइट भेजकर विश्वरिकॉर्ड बना रहा था भारत, पीएसएलवी ने खींची थीं ये बेहद खूबसूरत सेल्फी...

    जब 104 सैटेलाइट भेजकर विश्वरिकॉर्ड बना रहा था भारत, पीएसएलवी ने खींची थीं ये बेहद खूबसूरत सेल्फी...

    बुधवार को जिस समय इसरो ने श्रीहरिकोटा से एक साथ 104 उपग्रहों को अंतरिक्ष में भेजकर विश्वरिकॉर्ड स्थापित किया, और देशभर के विज्ञानियों का सिर फख्र से ऊंचा कर दिया, उसी समय स्पेस मिशन की सेल्फी खींची गईं, जो किसी और ने नहीं, सैटेलाइटों को ले जा रहे पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल, यानी पीएसएलवी ने ही खींची थीं...

  • इसरो की कामयाबी का डंका पूरी दुनिया में बजा, विश्व के प्रमुख अखबारों ने दी यह प्रतिक्रिया

    इसरो की कामयाबी का डंका पूरी दुनिया में बजा, विश्व के प्रमुख अखबारों ने दी यह प्रतिक्रिया

    भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने मेगा मिशन के जरिए विश्व रिकॉर्ड बना लिया है. पीएसएलवी के जरिए एक साथ 104 सैटेलाइट को सफल तरीके से लांच कर इतिहास रच दिया है. अब तक यह रिकार्ड रूस के नाम है, जो 2014 में 37 सैटेलाइट एक साथ भेजा था. भारत के इसरो की इस कामयाबी का जश्न और डंका पूरी दुनिया में बना. दुनियाभर के प्रमुख अखबारों ने इस खबर को तरजीह दी और यह प्रतिक्रिया दी.

  • अंतरि‍क्ष विज्ञान की दुनिया में इतिहास रचने वाले इसरो (ISRO) से जुड़ीं 10 खास बातें, सवाल और उनके जवाब

    अंतरि‍क्ष विज्ञान की दुनिया में इतिहास रचने वाले इसरो (ISRO) से जुड़ीं 10 खास बातें, सवाल और उनके जवाब

    अंतरि‍क्ष विज्ञान की दुनिया में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने बुधवार को दुनियाभर में एक नया इतिहास रच दिया. इतिहास ऐसा कि अन्‍य विकसित देश भी इसरो की इस सफलता से आश्‍चर्यचकित हैं. दरअसल, इसरो ने मेगा मिशन के तहत PSLV के जरिए एक साथ 104 सैटेलाइट का सफल लॉन्च कर विश्व रिकॉर्ड कायम किया.